तौरैत: निर्गमन में यीशु हैं- भाग-2

तौरैत: निर्गमन में यीशु हैं- भाग-2

 तौरैत: निर्गमन में यीशु हैं- भाग-2 । बाइबिल की सभी पुस्तकों में यीशु हैं-भाग-2 तौरैत (निर्गमन)-निर्गमन- फसह का मेम्ना के रूप में-मूसा के द्वारा जीवन – उद्धार, फसह मेमने (निर्गमन 12, यूहन्ना 1: 29,36), स्वर्ग से मन्ना (निर्गमन 16, जॉन 6) रॉक होरेब पर मारा (पूर्व 17, 1 कोर 10: 4) निवास (ब्रेजन वेदी, दीवट, showbread की मेज, वाचा आदि के आर्क) (उत्पत्ति 25-30) तुम्हारा मेम्ना निर्दौष

यीशु किस रूप में प्रतिबिंबित हैं? भाग-2 तौरैत (निर्गमन)

 फसह का मेम्ना मूसा के जीवन – उद्धार- फसह मेमने (निर्गमन 12, यूहन्ना 1: 29,36)

  • तुम्हारा मेम्ना निर्दौष और पहिले वर्ष का नर हो, और उसे चाहे भेड़ों में से लेना चाहे बकरियों में से।  निर्गमन 12:5
  • और इस महीने के चौदहवें दिन तक उसे रख छोड़ना,
  • और उस दिन गोधूलि के समय इस्राएल की सारी मण्डली के लोग उसे बलि करें।  निर्गमन 12:6
  • तब वे उसके लोहू में से कुछ ले कर जिन घरों में मेम्ने को खाएंगे उनके द्वार के दोनों अलंगोंऔर चौखट के सिरे पर लगाएं।  निर्गमन 12:7

और जिन घरों में तुम रहोगे उन पर वह लोहू तुम्हारे निमित्त चिन्ह ठहरेगा;

  • अर्थात मैं उस लोहू को देखकर तुम को छोड़ जाऊंगा,
  • और जब मैं मिस्र देश के लोगों को मारूंगा, तब वह विपत्ति तुम पर न पड़ेगी और तुम नाश न होगे।  निर्गमन 12:13
  • उसका लोहू जो तसले में होगा उस में जूफा का एक गुच्छा डुबाकर उसी तसले में के लोहू से द्वार के चौखट के सिरे और दोनों अलंगों पर कुछ लगाना;
  • और भोर तक तुम में से कोई घर से बाहर न निकले।  निर्गमन 12:22
  • क्योंकि यहोवा देश के बीच हो कर मिस्रियों को मारता जाएगा;
  • इसलिये जहां जहां वह चौखट के सिरे, और दोनों अलंगों पर उस लोहू को देखेगा,
  • वहां वहां वह उस द्वार को छोड़ जाएगा, और नाश करने वाले को तुम्हारे घरों में मारने के लिये न जाने देगा।  निर्गमन 12:23
  • दूसरे दिन उस ने यीशु को अपनी ओर आते देखकर कहा,
  • देखो, यह परमेश्वर का मेम्ना है, जो जगत के पाप उठा ले जाता है।  यूहन्ना 1:29
  • और उस ने यीशु पर जो जा रहा था दृष्टि करके कहा, देखो, यह परमेश्वर का मेम्ना है।  यूहन्ना 1:36

स्वर्ग से मन्ना (निर्गमन 16, यूहन्ना 6)

  • तब यहोवा ने मूसा से कहा, देखो, मैं तुम लोगों के लिये आकाश से भोजन वस्तु बरसाऊंगा;
  • और ये लोग प्रतिदिन बाहर जा कर प्रतिदिन का भोजन इकट्ठा करेंगे,
  • इस से मैं उनकी परीक्षा करूंगा, कि ये मेरी व्यवस्था पर चलेंगे कि नहीं।  निर्गमन 16:4
  • यह देखकर इस्राएली, जो न जानते थे कि यह क्या वस्तु है, सो आपस में कहने लगे यह तो मन्ना है।
  • तब मूसा ने उन से कहा, यह तो वही भोजन वस्तु है जिसे यहोवा तुम्हें खाने के लिये देता है। निर्गमन 16:15

और इस्राएल के घराने वालों ने उस वस्तु का नाम मन्ना रखा;

  •  वह धनिया के समान श्वेत था, और उसका स्वाद मधु के बने हुए पुए का सा था।  निर्गमन 16:31
  • फिर मूसा ने कहा, यहोवा ने जो आज्ञा दी वह यह है, कि इस में से ओमेर भर अपने वंश की पीढ़ी पीढ़ी के लिये रख छोड़ो,
  • जिससे वे जानें कि यहोवा हम को मिस्र देश से निकाल कर जंगल में कैसी रोटी खिलाता था।  निर्गमन 16:32
  • यीशु ने कहा, कि लोगों को बैठा दो।
  • उस जगह बहुत घास थी: तब वे लोग जो गिनती में लगभग पांच हजार के थे, बैठ गए:  यूहन्ना 6:10
  • तब यीशु ने रोटियां लीं, और धन्यवाद करके बैठने वालों को बांट दी:
  • और वैसे ही मछिलयों में से जितनी वे चाहते थे बांट दिया। यूहन्ना 6:11
  • जब वे खाकर तृप्त हो गए तो उस ने अपने चेलों से कहा,
  • कि बचे हुए टुकड़े बटोर लो, कि कुछ फेंका न जाए।  यूहन्ना 6:12

सो उन्होंने बटोरा, और जव की पांच रोटियों के टुकड़े जो खाने वालों से बच रहे थे उन की बारह टोकिरयां भरीं।  यूहन्ना 6:13

  • तब जो आश्चर्य कर्म उस ने कर दिखाया उसे वे लोग देखकर कहने लगे;
  • कि वह भविष्यद्वक्ता जो जगत में आनेवाला था निश्चय यही है।  यूहन्ना 6:14
  • यीशु ने उन्हें उत्तर दिया, कि मैं तुम से सच सच कहता हूं,
  • तुम मुझे इसलिये नहीं ढूंढ़ते हो कि तुम ने अचम्भित काम देखे,
  • परन्तु इसलिये कि तुम रोटियां खाकर तृप्त हुए।  यूहन्ना 6:26
  • यीशु ने उन से कहा, मैं तुम से सच सच कहता हूं कि मूसा ने तुम्हें वह रोटी स्वर्ग से न दी,

परन्तु मेरा पिता तुम्हें सच्ची रोटी स्वर्ग से देता है।  यूहन्ना 6:32

  • क्योंकि परमेश्वर की रोटी वही है, जो स्वर्ग से उतरकर जगत को जीवन देती है।  यूहन्ना 6:33
  • तब उन्होंने उस से कहा, हे प्रभु, यह रोटी हमें सर्वदा दिया कर।  यूहन्ना 6:34
  • यीशु ने उन से कहा, जीवन की रोटी मैं हूं:

  • जो मेरे पास आएगा वह कभी भूखा न होगा
  • और जो मुझ पर विश्वास करेगा, वह कभी प्यासा न होगा।  यूहन्ना 6:35
  • मैं तुम से सच सच कहता हूं, कि जो कोई विश्वास करता है, अनन्त जीवन उसी का है।  यूहन्ना 6:47

बाइबिल की सभी पुस्तकों में यीशु-उत्पत्ति से प्रकाशित वाक्य तक-भाग-2 तौरैत (निर्गमन)

जीवन की रोटी मैं हूं।  यूहन्ना 6:48

  • तुम्हारे बाप दादों ने जंगल में मन्ना खाया और मर गए।  यूहन्ना 6:49
  • यह वह रोटी है जो स्वर्ग से उतरती है ताकि मनुष्य उस में से खाए और न मरे।  यूहन्ना 6:50
  • जीवन की रोटी जो स्वर्ग से उतरी मैं हूं।
  • यदि कोई इस रोटी में से खाए, तो सर्वदा जीवित रहेगा,
  • और जो रोटी मैं जगत के जीवन के लिये दूंगा, वह मेरा मांस है।  यूहन्ना 6:51
  • यीशु ने उन से कहा; मैं तुम से सच सच कहता हूं जब तक मनुष्य के पुत्र का मांस न खाओ,
  • और उसका लोहू न पीओ, तुम में जीवन नहीं।  यूहन्ना 6:53

जो मेरा मांस खाता, और मेरा लोहू पीता है, अनन्त जीवन उसी का है,

और मैं अंतिम दिन फिर उसे जिला उठाऊंगा।  यूहन्ना 6:54

  • क्योंकि मेरा मांस वास्तव में खाने की वस्तु है और मेरा लोहू वास्तव में पीने की वस्तु है।  यूहन्ना 6:55
  • जो मेरा मांस खाता और मेरा लोहू पीता है, वह मुझ में स्थिर बना रहता है, और मैं उस में। यूहन्ना 6:56
  • जैसा जीवते पिता ने मुझे भेजा और मैं पिता के कारण जीवित हूं वैसा ही वह भी जो मुझे खाएगा मेरे कारण जीवित रहेगा।  यूहन्ना 6:57
  • जो रोटी स्वर्ग से उतरी यही है, बाप दादों के समान नहीं कि खाया, और मर गए:
  • जो कोई यह रोटी खाएगा, वह सर्वदा जीवित रहेगा।  यूहन्ना 6:58

बाइबिल की सभी पुस्तकों में यीशु-उत्पत्ति से प्रकाशित वाक्य तक-भाग-2 तौरैत (निर्गमन)

रॉक होरेब पर मारा (निर्गमन 17, 1 कुरिन्थियों 10: 4)

  • और सब ने एक ही आत्मिक जल पीया, क्योंकि वे उस आत्मिक चट्टान से पीते थे,
  • जो उन के साथ-साथ चलती थी; और वह चट्टान मसीह था।  1 कुरिन्थियों 10:4
  • फिर इस्राएलियों की सारी मण्डली सीन नाम जंगल से निकल चली,
  • और यहोवा के आज्ञानुसार कूच करके रपीदीम में अपने डेरे खड़े किए;
  •  वहां उन लोगों को पीने का पानी न मिला। निर्गमन 17:1
  •  यहोवा ने मूसा से कहा, इस्राएल के वृद्ध लोगों में से कुछ को अपने साथ ले ले;

और जिस लाठी से तू ने नील नदी पर मारा था,

उसे अपने हाथ में ले कर लोगों के आगे बढ़ चल।  निर्गमन 17:5

  • देख मैं तेरे आगे चलकर होरेब पहाड़ की एक चट्टान पर खड़ा रहूंगा;
  • और तू उस चट्टान पर मारना, तब उस में से पानी निकलेगा जिससे ये लोग पीएं।
  • तब मूसा ने इस्राएल के वृद्ध लोगों के देखते वैसा ही किया।  निर्गमन 17:6
  • तब मूसा ने यहोशू से कहा, हमारे लिये कई एक पुरूषों को चुनकर छांट ले, ओर बाहर जा कर अमालेकियों से लड़;
  • और मैं कल परमेश्वर की लाठी हाथ में लिये हुए पहाड़ी की चोटी पर खड़ा रहूंगा।  निर्गमन 17:9

तब मूसा ने एक वेदी बनाकर उसका नाम यहोवानिस्सी रखा ;  निर्गमन 17:15

बाइबिल की सभी पुस्तकों में यीशु-उत्पत्ति से प्रकाशित वाक्य तक-भाग-2 तौरैत (निर्गमन)

निवास (ब्रेजन वेदी, दीवट, showbread की मेज, वाचा आदि के आर्क) (उत्पत्ति 25-30)

  • फिर यहोवा ने मूसा से कहा, तू उन लोगों को जिन्हें मिस्र देश से छुड़ा लाया है संग ले कर उस देश को जा,
  • जिसके विषय मैं ने इब्राहीम, इसहाक, और याकूब से शपथ खाकर कहा था, कि मैं उसे तुम्हारे वंश को दूंगा।  निर्गमन 33:1
  • मूसा तम्बू को छावनी से बाहर वरन दूर खड़ा कराया करता था, और उसको मिलापवाला तम्बू कहता था।
  • और जो कोई यहोवा को ढूंढ़ता वह उस मिलाप वाले तम्बू के पास जो छावनी के बाहर था निकल जाता था। निर्गमन 33:7
  • और जब मूसा उस तम्बू में प्रवेश करता था, तब बादल का खम्भा उतर के तम्बू के द्वार पर ठहर जाता था,

 यहोवा मूसा से बातें करने लगता था।  निर्गमन 33:9

  •  सब लोग जब बादल के खम्भे को तम्बू के द्वार पर ठहरा देखते थे,
  • तब उठ कर अपने अपने डेरे के द्वार पर से दण्डवत करते थे।  निर्गमन 33:10
  • फिर यहोवा ने कहा, सुन, मेरे पास एक स्थान है, तू उस चट्टान पर खड़ा हो;  निर्गमन 33:21
  • और जब तक मेरा तेज तेरे साम्हने होके चलता रहे तब तक मैं तुझे चट्टान के दरार में रखूंगा,
  • और जब तक मैं तेरे साम्हने हो कर न निकल जाऊं तब तक अपने हाथ से तुझे ढांपे रहूंगा; निर्गमन 33:22
  • फिर मैं अपना हाथ उठा लूंगा, तब तू मेरी पीठ का तो दर्शन पाएगा,
  • परन्तु मेरे मुख का दर्शन नहीं मिलेगा॥  निर्गमन 33:23