google.com, pub-9683471800292205, DIRECT, f08c47fec0942fa0 परमेश्वर को धन्यवाद ही का बलिदान चढ़ा | 70 PLUS BIBLE VERSES

परमेश्वर को धन्यवाद ही का बलिदान चढ़ा | 70 PLUS BIBLE VERSES ABOUT GRATITUDE

परमेश्वर को धन्यवाद ही का बलिदान चढ़ा | 70 PLUS BIBLE VERSES ABOUT GRATITUDE

परमेश्वर को धन्यवाद ही का बलिदान चढ़ा | 70 PLUS BIBLE VERSES ABOUT GRATITUDE। प्रिय पाठको, नमस्कार, अपने अच्छे अनुभवों को सांझा करते हुये मुझे खुशी हो रही है, कुछ-कुछ सुझाव और बातें WISDOM AND KNOWLEDGE आपको पसंद आते हैं, और आप इन लेखों को पढ़ने में रुचि लेते हैं, मुझे भी अच्छा लगता है, जब कोई पुस्तक प्रेमी मिल जाता है। मेरा मानना है कि सभी को सही करने की कोशिश मत करो। लोगों से प्रेम करना है, उन्हें सुधारना नहीं है। लोगों के साथ दीनता और प्रेम से पेश आयें और अपने आप को बेहतर करते जाएँ, लोग आपको देख कर खुद सुधर जायेंगे।

हमेशा की तरह, महान पवित्र शर्तें, बुद्धि और चेतना से।

पवित्र शास्त्र के अनुसार:

:(1) सब से मेल मिलाप रखने, और उस पवित्रता के खोजी हो जिस के बिना कोई प्रभु को कदापि न देखेगा।
इब्रानियों 12:14
Follow peace with all men, and holiness: without which no man shall see God.
Hebrews 12:14

(2) ध्यान से देखते रहो, ऐसा न हो, कि कोई परमेश्वर के अनुग्रह से वंचित रह जाए, या कोई कड़वी जड़ फूट कर कष्ट दे, और उसके द्वारा बहुत से लोग अशुद्ध हो जाएं।
इब्रानियों 12:15
Looking diligently, lest any man is wanting to the grace of God; lest any root of bitterness springing up to do hinder, and by it, many are defiled.
Hebrews 12:15

(3) क्योंकि जो कोई यह कहता है, कि मैं ज्योति में हूं; और अपने भाई से बैर रखता है, वह अब तक अन्धकार ही में है।
1 यूहन्ना 2:9
He that saith he is in the light, and hateth his brother, is in darkness even until now.
1 John 2:9

(4) जो कोई अपने भाई से प्रेम रखता है, वह ज्योति में रहता है, और ठोकर नहीं खा सकता।
1 यूहन्ना 2:10
He that loveth his brother, abideth in the light, and there is no scandal in him.
1 John 2:10

(5) पर जो कोई अपने भाई से बैर रखता है, वह अन्धकार में है, और अन्धकार में चलता है; और नहीं जानता, कि कहां जाता है, क्योंकि अन्धकार ने उस की आंखे अन्धी कर दी हैं॥
1 यूहन्ना 2:11
But he that hateth his brother, is in darkness, and walketh in darkness, and knoweth not whither he goeth; because the darkness hath blinded his eyes.
1 John 2:11

(6) और हे भाइयों, हम तुम्हें समझाते हैं, कि जो ठीक चाल नहीं चलते, उन को समझाओ, कायरों को ढाढ़स दो, निर्बलों को संभालो, सब की ओर सहनशीलता दिखाओ।
1 थिस्सलुनीकियों 5:14
14 And we beseech you, brethren, rebuke the unquiet, comfort the feeble minded, support the weak, be patient towards all men.
1 Thessalonians 5:14

(7) सावधान! कोई किसी से बुराई के बदले बुराई न करे; पर सदा भलाई करने पर तत्पर रहो आपस में और सब से भी भलाई ही की चेष्टा करो।
1 थिस्सलुनीकियों 5:15
See that none render evil for evil to any man, but ever follow that which is good towards each other, and towards all men.
1 Thessalonians 5:15

(8) सदा आनन्दित रहो।
1 थिस्सलुनीकियों 5:16
Always rejoice.
1 Thessalonians 5:16

THE BIBLE VERSES ABOUT ATTITUDE OF GRATITUDE

(9) निरन्तर प्रार्थना मे लगे रहो।
1 थिस्सलुनीकियों 5:17
Pray without ceasing.
1 Thessalonians 5:17

(10) सब प्रकार की बुराई से बचे रहो॥
1 थिस्सलुनीकियों 5:22
From all appearance of evil refrain yourselves.
1 Thessalonians 5:22

(11) धन्यवाद करो- परमेश्वर के भक्त कहते अपने भजन में कहते हैं “इस कारण, हे यहोवा, मैं जाति जाति के साम्हने तेरा धन्यवाद करूंगा, और तेरे नाम का भजन गाऊंगा”।

2 शमूएल 22:50
(12) यहोवा का धन्यवाद करो, उस से प्रार्थना करो; देश देश में उसके कामों का प्रचार करो।

1 इतिहास 16:8
(13) यहोवा का धन्यवाद करो, क्योंकि वह भला है; उसकी करुणा सदा की है।

1 इतिहास 16:34
(14) और प्रति भोर और प्रति सांझ को यहोवा का धन्यवाद और उसकी स्तुति करने के लिये खड़े रहा करें।

1 इतिहास 23:30
(15) क्योंकि मृत्यु के बाद तेरा स्मरण नहीं होता; अधोलोक में कौन तेरा धन्यवाद करेगा?

भजन संहिता 6:5
(16) मैं यहोवा के धर्म के अनुसार उसका धन्यवाद करूंगा, और परमप्रधान यहोवा के नाम का भजन गाऊंगा॥

भजन संहिता 7:17
(17) हे यहोवा परमेश्वर मैं अपने पूर्ण मन से तेरा धन्यवाद करूंगा; मैं तेरे सब आश्चर्य कर्मों का वर्णन करूंगा।

भजन संहिता 9:1
(18) इस कारण मैं जाति जाति के साम्हने तेरा धन्यवाद करूंगा, और तेरे नाम का भजन गाऊंगा।

भजन संहिता 18:49
(19) ताकि तेरा धन्यवाद ऊंचे शब्द से करूं,

GREAT KNOWLEDGEABLE AND WISDOM QUOTES FOR REAL DIRECTION OF LIFE

भजन संहिता 26:7
(20) यहोवा मेरा बल और मेरी ढ़ाल है; उस पर भरोसा रखने से मेरे मन को सहायता मिली है; इसलिये मेरा हृदय प्रफुल्लित है; और मैं गीत गाकर उसका धन्यवाद करूंगा।

भजन संहिता 28:7
(21) हे यहोवा के भक्तों, उसका भजन गाओ, और जिस पवित्र नाम से उसका स्मरण होता है, उसका धन्यवाद करो।

भजन संहिता 30:4
(22) जब मैं कब्र में चला जाऊंगा तब मेरे लोहू से क्या लाभ होगा? क्या मिट्टी तेरा धन्यवाद कर सकती है? क्या वह तेरी सच्चाई का प्रचार कर सकती है?

भजन संहिता 30:9
(23) ताकि मेरी आत्मा तेरा भजन गाती रहे और कभी चुप न हो। हे मेरे परमेश्वर यहोवा, मैं सर्वदा तेरा धन्यवाद करता रहूंगा॥

भजन संहिता 30:12
(24) वीणा बजा बजाकर यहोवा का धन्यवाद करो, दस तार वाली सारंगी बजा बजाकर उसका भजन गाओ।

भजन संहिता 33:2
(25) मैं बड़ी सभा में तेरा धन्यवाद करूंगा; बहुतेरे लोगों के बीच में तेरी स्तुति करूंगा॥

भजन संहिता 35:18
(26) मैं भीड़ के संग जाया करता था, मैं जयजयकार और धन्यवाद के साथ उत्सव करने वाली भीड़ के बीच में परमेश्वर के भवन को धीरे धीरे जाया करता था; यह स्मरण करके मेरा प्राण शोकित हो जाता है।

भजन संहिता 42:4
(27) हे मेरे प्राण, तू क्यों गिरा जाता है? और तू अन्दर ही अन्दर क्यों व्याकुल है? परमेश्वर पर आशा लगाए रह; क्योंकि मैं उसके दर्शन से उद्धार पाकर फिर उसका धन्यवाद करूंगा॥

भजन संहिता 42:5
(28) हे मेरे प्राण तू क्यों गिरा जाता है? तू अन्दर ही अन्दर क्यों व्याकुल है? परमेश्वर पर भरोसा रख; क्योंकि वह मेरे मुख की चमक और मेरा परमेश्वर है, मैं फिर उसका धन्यवाद करूंगा॥

भजन संहिता 42:11
(29) तब मैं परमेश्वर की वेदी के पास जाऊंगा, उस ईश्वर के पास जो मेरे अति आनन्द का कुण्ड है; और हे परमेश्वर, हे मेरे परमेश्वर मैं वीणा बजा बजाकर तेरा धन्यवाद करूंगा॥

भजन संहिता 43:4
(30) हे मेरे प्राण तू क्यों गिरा जाता है? तू अन्दर ही अन्दर क्यों व्याकुल है? परमेश्वर पर भरोसा रख, क्योंकि वह मेरे मुख की चमक और मेरा परमेश्वर है; मैं फिर उसका धन्यवाद करूंगा॥

भजन संहिता 43:5
(31) हम परमेश्वर की बड़ाई दिन भर करते रहते हैं, और सदैव तेरे नाम का धन्यवाद करते रहेंगे॥

भजन संहिता 44:8
(32) मैं ऐसा करूंगा, कि तेरी नाम की चर्चा पीढ़ी से पीढ़ी तक होती रहेगी; इस कारण देश देश के लोग सदा सर्वदा तेरा धन्यवाद करते रहेंगे॥

भजन संहिता 45:17
(33) परमेश्वर को धन्यवाद ही का बलिदान चढ़ा, और परमप्रधान के लिये अपनी मन्नतें पूरी कर;

भजन संहिता 50:14
(34) धन्यवाद के बलिदान का चढ़ाने वाला मेरी महिमा करता है; और जो अपना चरित्र उत्तम रखता है उसको मैं परमेश्वर का किया हुआ उद्धार दिखाऊंगा!

भजन संहिता 50:23
(35) मैं तेरा धन्यवाद सर्वदा करता रहूंगा, क्योंकि तू ही ने यह काम किया है। मैं तेरे ही नाम की बाट जोहता रहूंगा, क्योंकि यह तेरे पवित्र भक्तों के साम्हने उत्तम है॥

भजन संहिता 52:9
(36) मैं तुझे स्वेच्छाबलि चढ़ाऊंगा; हे यहोवा, मैं तेरे नाम का धन्यवाद करूंगा, क्योंकि यह उत्तम है।

भजन संहिता 54:6
(37) हे परमेश्वर, तेरी मन्नतों का भार मुझ पर बना है; मैं तुझ को धन्यवाद बलि चढ़ाऊंगा।

भजन संहिता 56:12
(38) हे प्रभु, मैं देश के लोगों के बीच तेरा धन्यवाद करूंगा; मैं राज्य राज्य के लोगों के बीच में तेरा भजन गाऊंगा।

भजन संहिता 57:9
(39) हे परमेश्वर, देश देश के लोग तेरा धन्यवाद करें; देश देश के सब लोग तेरा धन्यवाद करें॥

भजन संहिता 67:3
(40) हे परमेश्वर, देश देश के लोग तेरा धन्यवाद करें; देश देश के सब लोग तेरा धन्यवाद करें॥

भजन संहिता 67:5
(41) सभाओं में परमेश्वर का, हे इस्राएल के सोते से निकले हुए लोगों, प्रभु का धन्यवाद करो।

भजन संहिता 68:26
(42) मैं गीत गाकर तेरे नाम की स्तुति करूंगा, और धन्यवाद करता हुआ तेरी बड़ाई करूंगा।

भजन संहिता 69:30
(43) हे मेरे परमेश्वर, मैं भी तेरी सच्चाई का धन्यवाद सारंगी बजाकर गाऊंगा; हे इस्राएल के पवित्र मैं वीणा बजा कर तेरा भजन गाऊंगा।

भजन संहिता 71:22
(44) हे परमेश्वर हम तेरा धन्यवाद करते, हम तेरा नाम का धन्यवाद करते हैं; क्योंकि तेरा नाम प्रगट हुआ है, तेरे आश्चर्यकर्मों का वर्णन हो रहा है॥

भजन संहिता 75:1
(45) तब हम जो तेरी प्रजा और तेरी चराई की भेड़ें हैं, तेरा धन्यवाद सदा करते रहेंगे; और पीढ़ी से पीढ़ी तक तेरा गुणानुवाद करते रहेंगें॥

भजन संहिता 79:13
(46) हे प्रभु हे मेरे परमेश्वर मैं अपने सम्पूर्ण मन से तेरा धन्यवाद करूंगा, और तेरे नाम की महिमा सदा करता रहूंगा।

भजन संहिता 86:12
(47) क्या तू मुर्दों के लिये अदभुत काम करेगा? क्या मरे लोग उठ कर तेरा धन्यवाद करेंगे?

भजन संहिता 88:10
(48) यहोवा का धन्यवाद करना भला है, हे परमप्रधान, तेरे नाम का भजन गाना;

भजन संहिता 92:1
(49) हम धन्यवाद करते हुए उसके सम्मुख आएं, और भजन गाते हुए उसका जयजयकार करें!

भजन संहिता 95:2
(50) हे धर्मियों यहोवा के कारण आनन्दित हो; और जिस पवित्र नाम से उसका स्मरण होता है, उसका धन्यवाद करो!

भजन संहिता 97:12
(51) वे तेरे महान और भययोग्य नाम का धन्यवाद करें! वह तो पवित्र है।

भजन संहिता 99:3
(52) उसके फाटकों से धन्यवाद, और उसके आंगनों में स्तुति करते हुए प्रवेश करो, उसका धन्यवाद करो, और उसके नाम को धन्य कहो!

भजन संहिता 100:4
(53) यहोवा का धन्यवाद करो, उससे प्रार्थना करो, देश देश के लोगों में उसके कामों का प्रचार करो!

भजन संहिता 105:1
(54) याह की स्तुति करो! यहोवा का धन्यवाद करो, क्योंकि वह भला है; और उसकी करूणा सदा की है!

भजन संहिता 106:1
(55) हे हमारे परमेश्वर यहोवा, हमारा उद्धार कर, और हमें अन्यजातियों में से इकट्ठा कर ले, कि हम तेरे पवित्र नाम का धन्यवाद करें, और तेरी स्तुति करते हुए तेरे विषय में बड़ाई करें॥

भजन संहिता 106:47
(56) यहोवा का धन्यवाद करो, क्योंकि वह भला है; और उसकी करूणा सदा की है!

225 MERCY, FAITH & HEALING BIBLE VERSES FOR BETTER HEALTH

भजन संहिता 107:1
(57) लोग यहोवा की करूणा के कारण, और उन आश्चर्यकर्मों के कारण, जो वह मनुष्यों के लिये करता है, उसका धन्यवाद करें!

भजन संहिता 107:8
(58) लोग यहोवा की करूणा के कारण, और उन आश्चर्यकर्मों के कारण जो वह मनुष्यों के लिये करता है, उसका धन्यवाद करें!

भजन संहिता 107:15
(59) लोग यहोवा की करूणा के कारण और उन आश्चर्यकर्मों के कारण जो वह मनुष्यों के लिये करता है, उसका धन्यवाद करें!

भजन संहिता 107:21
(60) और वे धन्यवाद बलि चढ़ाएं, और जयजयकार करते हुए, उसके कामों का वर्णन करें॥

भजन संहिता 107:22
(61) लोग यहोवा की करूणा के कारण, और उन आश्चर्यकर्मों के कारण जो वह मनुष्यों के लिये करता है, उसका धन्यवाद करें।

You-tube Video : हे मेरे मन! यहोवा को धन्य कहो।

भजन संहिता 107:31
(62) हे यहोवा, मैं देश देश के लोगों के मध्य में तेरा धन्यवाद करूंगा, और राज्य राज्य के लोगों के मध्य में तेरा भजन गाऊंगा।

भजन संहिता 108:3
(63) मैं यहोवा का बहुत धन्यवाद करूंगा, और बहुत लोगों के बीच में उसकी स्तुति करूंगा।

भजन संहिता 109:30
(64) याह की स्तुति करो। मैं सीधे लोगों की गोष्ठी में और मण्डली में भी सम्पूर्ण मन से यहोवा का धन्यवाद करूंगा।

भजन संहिता 111:1
(65) मैं तुझ को धन्यवाद बलि चढ़ाऊंगा, और यहोवा से प्रार्थना करूंगा।

भजन संहिता 116:17
(66) हे जाति जाति के सब लोगों यहोवा की स्तुति करो! हे राज्य राज्य के सब लोगो, उसकी प्रशंसा करो!क्योंकि उसकी करूणा हमारे ऊपर प्रबल हुई है; और यहोवा की सच्चाई सदा की है याह की स्तुति करो! यहोवा का धन्यवाद करो, क्योंकि वह भला है; और उसकी करूणा सदा की है!

भजन संहिता 118:1
(67) मेरे लिये धर्म के द्वार खोलो, मैं उन से प्रवेश करके याह का धन्यवाद करूंगा॥

भजन संहिता 118:19
(68) हे यहोवा मैं तेरा धन्यवाद करूंगा, क्योंकि तू ने मेरी सुन ली है और मेरा उद्धार ठहर गया है।

भजन संहिता 118:21
(69) हे यहोवा, तू मेरा ईश्वर है, मैं तेरा धन्यवाद करूंगा; तू मेरा परमेश्वर है, मैं तुझ को सराहूंगा॥

भजन संहिता 118:28
(70) यहोवा का धन्यवाद करो, क्योंकि वह भला है; और उसकी करूणा सदा बनी रहेगी!

भजन संहिता 118:29
(71) जब मैं तेरे धर्ममय नियमों को सीखूंगा, तब तेरा धन्यवाद सीधे मन से करूंगा।

भजन संहिता 119:7
(72) तेरे धर्ममय नियमों के कारण मैं आधी रात को तेरा धन्यवाद करने को उठूंगा।

भजन संहिता 119:62
(73) वहां याह के गोत्र गोत्र के लोग यहोवा के नाम का धन्यवाद करने को जाते हैं; यह इस्राएल के लिये साक्षी है।

तो दोस्तो, आपने देखा कि किस तरह एक राजा परमेश्वर का धन्यवाद करता है, ताकि ईश्वरीय बुद्धि ज्ञान और सामर्थ्य में वो अपनी प्रजा की उचित देखभाल कर सकें, इसी रीति हमें भी हमेशा धन्यवादित बने रहना चाहिये। आपको ये सभी पद पवित्र शास्त्र बाइबल में भजन संहिता नामक पुस्तक में मिल जाएँगे।