google.com, pub-9683471800292205, DIRECT, f08c47fec0942fa0 सफलता का रहस्य-भाग 9 - Optimal Health

सफलता का रहस्य-भाग 9

सफलता का रहस्य-भाग 9

नमस्कार साथियो, सफलता का रहस्य-भाग 9 में आगे बढ्ने से पहले विचार कीजिये, कि अब तक जो सफलता के लिये सीखा, आपके लिये सार्थक है।   सफलता का रहस्य भाग-1 से भाग 8 तक-जैसे कि (1).सफलता के लिये आपके पास एक दर्शन का होना आवश्यक है। (2) शीर्ष पर रहने के लिये सबसे हटकर, कुछ अलग करो, अलग बनो। एक अलग पहचान। (3) ईर्षा-बुरी चीज है, सफलता के लिये आगे बढ्ने में सबसे बड़ा अवरोध, रोड़ा, बाधा। इसलिये ईर्षालू ना बनें, ईर्षा त्याग दें। सफलता का रहस्य भाग-2 (4).परमेश्वर को प्रथम स्थान दें, परमेश्वर को आगे रखें। (5) अपना चरित्र उत्तम रखें। चरित्रवान बनें। (6) उद्देश्यपूर्ण भावना के जीवन व्यतीत करें। (7) विश्वाश से जीतें।

सफलता का रहस्य भाग-3

  1. अपने अतीत को पीछे छोड़ दें, पुरानी बातों से सबक सीखें, परंतु उनमें ही ना जीते रहे। अतीत को भूल कर आगे बढ़ जाएँ।
  2. उत्साह बनाएँ रखें। 
  3. अवसाद से बचें। अवसाद को त्याग दें। तरक्की में रुकावट का एक कारण व्यर्थ का अवसाद, निराशा, और चिंतायेँ ही हैं।
  4. मुख्य निरीक्षक बने।
  5. वफादार बनें। ईमानदार रहें। सच्चाई के साथ जियेँ। 

सफलता का रहस्य भाग-4

  1. हमेशा तैयार रहो।
  2. निपुण और परिश्रमी बनो।
  3. रचनात्मक और नवीन बनो।
  4. अपनी ज़िम्मेदारी उठाओ, लो, निभाओ,समझो। ज़िम्मेदारी स्वीकार करो।
  5. द्रण्ड निश्चयी रहें।

सफलता का रहस्य भाग-5

  1. ईश्वरीय मार्गदर्शन प्राप्त करो और उसी मार्गदर्शन के अनुसार चलो।
  2. ईश्वरीय सहभागिता में रहना चाहिये। सफलता के लिये सदबुद्धि और उच्च ज्ञान ईश्वरीय संगति में ही प्राप्त होगा।
  3. सर्वश्रेस्ठ बनो। 
  4. जुनून-दिव्य दिशा निर्देश।
  5. द्रण्ड संकल्प

सफलता का रहस्य भाग-6

  1. समय को पहचानें। अवसर को बहुमूल्य समझो। समय बहुत कीमती है-इसे व्यर्थ बर्वाद ना करें।
  2. स्वयं का विकास करें। सीखने से मना ना करें। संदेशों, पुस्तकों और अपने गुरुओं की सलाह मानें।

सफलता का रहस्य भाग-7

  1. विचलित होने से इंकार करें। परेशान, हैरान, विचलित ना हों।
  2. उत्साही प्रार्थना मय जीवन व्यतीत करें। 
  3. अतिरिक्त मील तक जाओ। थोड़ा कुछ और करें।

सफलता का रहस्य भाग-8

  1.  पिता के आशीर्वाद से जुड़ें, 
  2.  एक योद्धा बनो,
  3.  जोखिम लेने वाला बनें,
  4.  लोगों में निवेश करें  

सफलता का रहस्य-भाग 9

(1) परमेश्वर के राज्य के लिए एक जुनून बनाए रखें 

  • “परमेश्वर के राज्य के लिए आपका अनुग्रह आपके दिशा में परमेश्वर के पक्ष का आदेश देगा।” 
  • परमेश्वर के लिए आपका जुनून जीवन में आपकी गति को प्रभावित करता है। 
  • और परमेश्वर के लिए आपका जुनून, जीवन में आपके हिस्से को भी प्रभावित करता है।
  • परमेश्वर के लिए आपका जुनून पृथ्वी पर आपकी स्थिति को निर्धारित करता है। 
  •  वे आनन्दित हों, कि मेरे नेक काम पर अनुग्रह करें;

  • वरन वे नित्य कहते रहें, यहोवा की बड़ाई हो, जो अपके दास के कल्याण से प्रसन्न होता है। भजन संहिता 35:27 
  • जो कोई भी परमेश्वर के पक्ष में है, वह उस सफलता के लिए एक उम्मीदवार है जो परमेश्वर देता है। 
  • तू उठकर सिय्योन पर दया करना;
  • क्योंकि उस पर अनुग्रह करने का समय आ गया है, वरन नियत समय आ गया है।
  • तेरे दास उसके पत्थरों से प्रसन्न हैं, और उस की धूल पर प्रसन्न हैं । भजन संहिता 102:13-14
  • उन लोगों पर जो सिय्योन पर कृपा करते हैं, परमेश्वर की कृपा बरसती है।
  • जो सिय्योन में दिलचस्पी रखता है, उसमें परमेश्वर की दिलचस्पी है।
  • राज्य के कारण का पक्ष लेने के लिए भगवान के पक्ष को आकर्षित करना है।
  • मुझे एक मनुष्य दिखाओ जो पृथ्वी पर परमेश्वर के कार्य की परवाह नहीं करता है,

  • और मैं तुम्हें एक ऐसा परमेश्वर दिखाऊंगा, जो ऐसे व्यक्ति की भी परवाह नहीं करता है।
  • परमेश्वर के राज्य के लिए उसका अनुग्रह आपकी बढ़ोतरी की दिशा में परमेश्वर की कृपा की आज्ञा देगा।
  • परमेश्वर के राज्य के लिए जुनून आपको शीर्ष पर ले जाएगा।
  • यह परमेश्वर के लिए जुनून था जो डेविड को शीर्ष पर ले गया।
  • उसने अपनी जान जोखिम में डालकर गोलियत का सामना किया; और देखो परमेश्वर उसे कहाँ ले गया।
  • एक चरवाहे से इजरायल का राजा बना दिया।
  • शद्रक, मेशक और अबेदनगो को परमेश्वर के लिए जो प्रेम था, उसके कारण आग में चले गए।
  • देखें कि वे कहां समाप्त हुए। वे बच गए।
  • नहेमायाह ने महल के आराम को छोड़ दिया और यरूशलेम की टूटी हुई शहरपनाह को फिर से बनाने के लिए चला गया,
  • और वह एक राज्यपाल बन गया।

सफलता का रहस्य-भाग 9

(2) अपने संसाधन दें 

  • राज्य के लिए एक जुनून यह भी मांग करता है कि आप राज्य के कल्याण को बढ़ावा देने के लिए अपने धन (अपने संसाधनों) का उपयोग करें।
  •  इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप पुरुषों की भाषा बोलते हैं या स्वर्गदूतों की, अगर आप परमेश्वर के प्रति कंजूस हैं, तो आप परमेश्वर को पसंद नहीं करते हैं। 
  • आप कह सकते हैं कि आप परमेश्वर से प्रेम करते हैं,
  • और फिर आप राज्य के विस्तार, सुसमाचार प्रचार, टीवी आउटरीच
  • और आपके लिए आवश्यक अन्य सभी प्रतिबद्धताओं के बारे में सुनते हैं, और आप झकझोरे नहीं गए हैं।
  • आपके अंदर परमेश्वर के प्रति जलन नहीं है, इसका कारण यह नहीं है कि आप गरीब हैं,
  • यह वास्तव में अध्यात्म का दिवालियेपन है। 
  • यदि आप हमेशा पूछते रहते हैं, “मैं राज्य के लिए क्या कर सकता हूं,
  • तो आपका हृदय राज्य के लिए अपने संसाधनों को जारी करने के लिए स्थायी रूप से प्रेरित होगा?
  • मैं स्थायी आधार पर परमेश्वर के कार्य को कैसे बढ़ावा दे सकता हूँ?” 

  • मैंने खुद को ऐसे अस्पताल चलाने से लेकर दुनिया भर में सुसमाचार प्रचार करने
  • और फिर से अस्पताल लौटने तक जाते देखा था।
  • परन्तु परमेश्वर ने मुझ से कहा, “तुम सुसमाचार के प्रचार में पूरी तरह से जा रहे हो;” और मैंने कहा, “हाँ सर!”
  • इससे पहले, मैं सिर्फ परमेश्वर की सेवा करना चाहता था।
  • पादरियों के लिए मेरे मन में यह विस्मय और सम्मान था जिसने मुझे किसी भी प्रकार की सेवा या आतिथ्य की पेशकश करने के लिए हमेशा तैयार किया;
  • और वे हमेशा मुझे बदले में आशीर्वाद देंगे।
  • ऐसी चीजें थीं जिन्होंने मेरे स्थायी दिल की धड़कन और जुनून की पुष्टि की।
  • प्रिय, जब आपके संसाधन राज्य के उद्देश्य में प्रवाहित होने लगते हैं, तो आपके जुनून की पुष्टि हो जाती है, और आपके हिस्से को कोई शैतान नहीं ले सकता है।

सफलता का रहस्य-भाग 9

(3) ईश्वर में विश्वास रखें 

  • “जो लोग ईश्वर पर भरोसा करते हैं, वे जीवन में जंग नहीं लगा सकते।” 
  • क्योंकि इस्राएल का पवित्र परमेश्वर यहोवा यों कहता है; लौटने और विश्राम में तुम बच जाओगे;
  • चैन से और हियाव से तेरा बल ठहरेगा, और न तूने न पाएगा। यशायाह 30:15 
  • यहोवा यों कहता है; शापित हो वह मनुष्य जो मनुष्य पर भरोसा करे, और अपना हाथ मांस करे,
  • और जिसका मन यहोवा से हट जाए। क्‍योंकि वह मरुभूमि के स्थिर के समान होगा,
  • और कब भला होगा, यह देखने न पाएगा; परन्तु जंगल के सूखे स्थानों में,
  • खारे देश में बसे रहेंगे, और बसे हुए नहीं होंगे। क्या ही धन्य है वह पुरुष जो यहोवा पर भरोसा रखता है,
  • और जिसकी आशा यहोवा है। क्योंकि वह जल के किनारे लगाए गए वृक्ष के समान होगा,

  • और उसकी जड़ें महानद के पास फैलती हैं,
  • जब गर्मी आती है, तो वह नहीं देखेगा, परन्तु उसका पत्ता हरा रहेगा;
  • और सूखे के वर्ष में चौकस न रहना, और फल देने से न रुकना। यिर्मयाह 17:5-8 
  • परमेश्वर में विश्वास, जीवन में योग्यता को निर्धारित करता है। 
  • ईश्वर में विश्वास पृथ्वी पर प्रभाव की कुंजी है।

  • परमेश्वर में विश्वास रखने वाले पुरुष और महिलाएं पृथ्वी पर प्रभावशाली हैं। ईश्वर में विश्वास आपको जीवन में एक आवरण प्रदान करता है। आपकी ताकत भगवान में आपके विश्वास में है।
  • यदि मनुष्य मर जाए, तो क्या वह फिर जीवित रहेगा?
  • मेरे नियत समय के सभी दिन मेरे परिवर्तन के आने तक प्रतीक्षा करेंगे। अय्यूब 14:14
  • हम अय्यूब 14:14 को इस प्रकार रख सकते हैं: “मृत्यु मुझे नहीं ले सकती, क्योंकि मैं किसी वस्तु की बाट जोहता हूं।”
  • सच तो यह है कि जो यहोवा की बाट जोहते हैं, वे पृथ्वी पर व्यर्थ नहीं जा सकते।

सफलता का रहस्य-भाग 9

(4) सेवा को हर स्थिति से आगे रखें

  • “आपका प्रभाव आपकी आय से अधिक महत्वपूर्ण है”
  • और उन्होंने मुझ से कहा, जो बचे हुओं को बन्धुआई में से उस प्रान्त में छोड़ दिया गया है, वे बड़े क्लेश और नामधराई में हैं;
  • यरूशलेम की शहरपनाह भी टूट गई है, और उसके फाटक आग से जला दिए गए हैं।
  • और जब मैं ने ये बातें सुनीं, तब मैं बैठकर रोया, और कुछ दिनों तक विलाप किया,
  • उपवास किया, और स्वर्ग के परमेश्वर के सामने प्रार्थना की, नहेमायाह 1:3-4
  • यदि तुम जीवन में ऊपर जाना चाहते हो, आपको सेवा को स्थिति से आगे रखना होगा।

  • नहेमायाह महल में राजा के पिलानेवाले के रूप में काम कर रहा था।
  • यह सबसे भरोसेमंद व्यक्ति के लिए सबसे भरोसेमंद पद था, और सबसे खतरनाक नौकरी भी।
  • यदि किसी ने कभी राजा के दाखमधु में ज़हर दिया, तो नहेमायाह सबसे पहले उसका स्वाद चखेगा, और इस प्रकार, मरने वाला पहला व्यक्ति होगा।
  • फिर भी, इतनी सम्मानित और आशाजनक स्थिति के साथ, वह महल में इस तरह के विलासिता में बने रहने की कल्पना नहीं कर सकता था,
  • जबकि यरूशलेम की शहरपनाह टूटी हुई थी, परमेश्वर के लोगों के साथ का बहुत संकट था।
  • उसने महल को झुग्गी-झोपड़ी के लिए छोड़ने का फैसला किया।
  • उन्होंने इसके बजाय महल के सुख को गरीबी के लिए छोड़ना चुना। 
  • यही सब नहेमायाह के भाग्य में परिवर्तन लेकर आया।
  • राजा का पिलाने वाला होने से, वह यहूदा का राज्यपाल बन गया, केवल सेवा को हैसियत से आगे रखने के द्वारा।
  • इन्हें समझें और इन पर मनन करें:आपका प्रभाव आपकी आय से अधिक महत्वपूर्ण है।

  • जीविका कमाने से बेहतर है- फर्क करना। 
  • अपने काम के स्थान, चर्च, परिवार और पड़ोस में, आपको फर्क करना चाहिए।
  • यह सिर्फ जीवन यापन करने से ज्यादा महत्वपूर्ण है।
  • जीवन में आपकी सेवा, परमेश्वर के साथ आपके पुरस्कारों को निर्धारित करती है। 
  • बहुत से लोग लगातार इस अनुरोध के साथ परमेश्वर को परेशान करते हैं,
  • “परमेश्वर, मेरे लिए यह करो। परमेश्वर, मेरे लिए ऐसा करो।”
  • इस बीच, वे न तो परमेश्वर की सेवा कर रहे हैं और न ही मनुष्य की। 
  • जीवन में आपकी सेवा परमेश्वर के साथ आपके पुरस्कारों को निर्धारित करती है।

  • जो हैसियत के लिए जीते हैं, उनका अंत मूर्तियों की तरह होता है।
  • क्या आपने कभी कोई मूर्ति देखी है? यह सुंदर हो सकती है, हाँ, लेकिन यह गतिहीन, बेकार और व्यर्थ है।
  • जो लोग हैसियत के लिए जीते हैं, हमेशा पदों की तलाश में रहते हैं, वे मूर्ति बन जाते हैं।
  • लेकिन सेवा के लिए जीने वालों का अंत स्टारडम में होता है।
  • मूसा और दाऊद से पूछो, और वे तुम्हें बताएंगे कि उन्होंने अपनी पीढ़ियों की सेवा की।
  • क्योंकि दाऊद परमेश्वर की इच्छा से पक्की पीढ़ी की सेवा कर चुका, और सो गया, और अपने पुरखाओं के लिथे लिटा दिया गया।
  • यूसुफ ने अपनी पीढ़ी की सेवा की।

सफलता का रहस्य-भाग 9

(5) उत्साहित सेवा

  • एक चीज जो परमेश्वर के लिए आपके जुनून की पुष्टि भी करती है, वह है रोमांचक सेवा। 
  • आप बस कुछ करना चाहते हैं – कुर्सियों को साफ करें, गाना बजानेवालों में गाएं, चर्च में झाड़ू लगाएं या प्रवेश विभाग में हों। 
  • यह एक रोमांचक सेवा है। आप बस परमेश्वर के लिए कुछ करना चाहते हैं।

  • मुझे याद है जब मैंने अपना जीवन मसीह को समर्पित किया था।
  • मैं परमेश्वर की सेवा करने के लिए इतना उत्साहित हो गया था कि मैं कैंपस फेलोशिप में गया
  • और पुराने सदस्यों के आने से बहुत पहले ही सभा स्थल को साफ कर दिया।
  • फिर मैं सदस्यों का फेलोशिप में स्वागत करने के लिए कार्यक्रम स्थल के प्रवेश द्वार पर खड़ा हो गया।
  • इसके बाद, मैं भी में शामिल हो गया गाना बजानेवालों और हिमायत में भी शामिल थे।
  • राज्य सेवा के प्रति मेरी प्रतिबद्धता इस प्रकार थी।
  • मैं आपको बताना चाहता हूं कि केवल चर्च में जाना और ‘बड़े आदमी’ की तरह बैठना सही बात नहीं है।
  • बॉस-मानसिकता आपको एक बॉक्स में डाल देगी।

  • एक चर्च के सदस्य मत बनो और आप जो कुछ भी करते हैं उसके बारे में शिकायत करते हैं, कि लोग क्या अच्छा नहीं कर रहे हैं: “कुर्सियां ​​​​भी साफ नहीं हैं।
  • यातायात नियंत्रण बहुत खराब है, ”आदि।
  • उनसे जुड़ें और इसे अच्छी तरह से नियंत्रित करने में सहायता करें।
  • परमेश्वर के घर में बेकार मत बैठो और जो काम नहीं कर रहा है उसकी शिकायत मत करते रहो।

https://hindibible.live/