Day: May 2, 2022

स्वर्गीय लेखा (Heavenly Account) 

स्वर्गीय लेखा (Heavenly Account) (मत्ती 6:19-23)।  

स्वर्गीय लेखा (Heavenly Account) (मत्ती 6:19-23)।   स्वर्गीय लेखा (Heavenly Account: (मत्ती 6:19-23)।  पृथ्वी पर अपने लिए धन जमा न करना, जहां कीड़ा और काई भ्रष्ट करते हैं, और जहां चोर सेंध लगाते और चुराते हैं; परन्तु स्वर्ग में धन इकट्ठा करो, जहां न तो कीड़ा और न ही काई भ्रष्ट करते हैं, और जहां चोर न चोरी कर सकते …

स्वर्गीय लेखा (Heavenly Account) (मत्ती 6:19-23)।   Read More »

अमीर युवा शासक (The Rich Young Ruler)    

अमीर युवा शासक (The Rich Young Ruler)    

अमीर युवा शासक (The Rich Young Ruler), एक और क्षेत्र है जिसे मैं परमेश्वर की वित्तीय व्यवस्था के बारे में आपके साथ साझा करना चाहता हूं। मरकुस 10:17-23 में, हम एक अमीर युवा शासक की कहानी पाते हैं। यह पूरी बाइबल में सबसे गलत समझी जाने वाली घटनाओं में से एक है। हमने इसे दुनिया की पारंपरिक व्यवस्था के आलोक में पढ़ा है, यह सोचकर कि परमेश्वर उस युवक को तोड़ना चाहते हैं लेकिन ऐसा नहीं है। हमने इसे उसी कारण से गलत समझा है कि अमीर युवा शासक ने परमेश्वर को याद किया—परमेश्वर के वचन की अज्ञानता। वह नहीं जानता था कि वाचा क्या सहायता करती है।     

परमेश्वर की स्थापित वाचा  और स्थापित हृदय (The Established Covenant  and the Established Heart)  

परमेश्वर की स्थापित वाचा और स्थापित हृदय (The Established Covenant And The Established Heart)

परमेश्वर की स्थापित वाचा और स्थापित हृदय (The Established Covenant  and the Established Heart):  परमेश्वर ने पृथ्वी पर अपनी वाचा स्थापित की है। वह जो कुछ भी करता है वह इस वाचा के द्वारा निर्धारित होता है। नासरत का यीशु इस दुनिया में पैदा हुआ था, क्रूस पर मर गया, नरक में गया, पाप की कीमत चुकाई, और परमेश्वर द्वारा मनुष्य के साथ की गई वाचा के कारण मृतकों में से जी उठा। परमेश्वर कुछ लोगों को बचाने या चंगा करने के लिए चुनकर पक्षपात नहीं करता है; उसकी आशीषें उन सभी लोगों के लिए हैं जो वाचा की शर्तों को पूरा करते हैं (देखें 1 पतरस 2:24)।  

Scroll to Top