Brief History of Osteoarthritis and Back Pain-2023 

Featured

Brief History of Osteoarthritis and Back Pain-2023  

Brief History of Osteoarthritis and Back Pain-2023.  At the spinal column are the elongated columns of bones, which the thoracic ribs support. The thoracic ribs push the bones the length of bone structure. The ribs join with the spinal column in various areas.  Joints connect with these ribs, which is a field of study, since they often wear and tear, causing gradual degenerative diseases, such as osteoarthritis. 

Osteoarthritis is defined in medical terms as a metabolic dysfunction of the bones. The results of the drops in our life-sustaining chemicals, which promote activity cause the bones to reduce mass whilst increasing porosity. The disease can cause osteoporosis to set in and intensify the risks of fractures. 

How do doctors consider osteoarthritis and/or osteoporosis? 

Doctors often consider etiology aspects, including hyperthyroidism, deficiency of estrogen, Cushing’s syndrome, immobility, increases in phosphorus, liver illness, lack of exercise, deficiency of calcium and protein, deficiency of Vitamin D, and bone marrow conditions. Wear and tear of specific joints as mentioned above is also linked to osteoarthritis. 

According to the Pathophysiology in medical terms, osteoarthritis is assessed by considering the rates of bone resorption that exceed the rate of bone structure or formation. Experts will often test the patient while considering rises in “bone resorption” and increases in phosphate (Salt of Phosphoric Acids) that stimulates the parathyroid activities. Phosphoric acids will form esters, which emerge from reactions via alcohol, metal, and radicals. If estrogen shows a decrease in resorption, it could also show traits of osteoarthritis. 

Optimal Health - osteoarthritis l - Optimal Health - Health Is True Wealth.
Brief History of Osteoarthritis and Back Pain-2023  

What are the symptoms? 

The symptoms may emerge from Kyphosis or otherwise known as Dowager’s hump. Back pain, as well as damage to the thoracic and lumbar, may be present. In addition, the patient may lose height, and demonstrate an unsteady walk. Joint pain and weakness are also present. 

How do doctors determine if osteoarthritis is present? 

First, they assess the symptoms and then request tests, such as x-rays and photon absorptiometry. X-rays of course help the doctor to locate thinning of bone structures, porous structures in the bones, and rises in vertebral curvatures. The photon tests help the expert to spot decreases in minerals. 

What if I test positive for osteoarthritis: 

If you test positive then the doctor considers treatment. The treatment often includes management, interventions, and further assessments. Further assessments help the doctor weed down potential complications. The complications often include pathologic fractures, which are complex. 

How does the doctor manage osteoarthritis? 

No two people are alike therefore medical management varies. Yet, most doctors set up a high-calcium, protein diet, as well as increasing minerals, vitamin regimens, and boron. 

Doctors may include in the management scheme alcohol and caffeine restrictions. In addition, the scheme may compose tolerated exercise, monitoring, and lab studies specifically studies on phosphorus and calcium. Doctors may also include into your management scheme Estrace increase, i.e. estradiol or estrogen intake. Supplements with calcium carbonates (Os-CAL) are often prescribed as well. Additional treatment includes mineral and vitamin regimens, exercise, and so on. Many doctors prescribe Aldactazide, Dyazide, which is a thiazide diuretic hydrochlorothiazide. Over-the-counter meds, such as NAID-based painkillers, are prescribed as well. Prescriptions often include ibuprofen, Motrin, Indocin, Clinoril, Feldene, Ansaid, or flurbiprofen, Voltaren, naproxen, Dolobid, and Naprosyn is often prescribed.  

How intervention helps: 

Interventions assisted by nursing staff include balanced diets, pain, and musculoskeletal assessment, monitoring, meds, home care instructions, posture training, body mechanic support and training, and so on. The patient should also be informed about osteoarthritis as outlined by the Foundation of Osteoarthritis. In addition, the doctor is advised to allow the patient to express his/her emotions, feelings, etc about the illness. 

Herniated Disk and Back Pain 

The disk at the back spinal column divides the skeletal structures. The disk does not compose blood vessels or nerves like other elements of the skeletal structure. Instead, disks are made up of fat, water, and tissues that connect to the skeletal structure.

During all hours of the day, the disks leak water, which is caused by forces of gravity. For instance, when we sit it is a gravity force in action, one might think that it takes little effort to sit, but contrary to the notion, it is adding a lot of weight to the spine and disk. 

The disk restores water that has leaked out during the day, yet the water is restored at a slower pace. Fat and water is balanced in the disk, yet when it is not it causes a person to shrink in height. Fat and water inside disks are thick, yet when a person starts aging, the substances begin to thin. When fat and water begins to thin, it can lead to osteoarthritis. Thinning water and fat of the disk are also the leading cause of back pain, especially in the lower region. 

The disk’s exterior is covered by “Annulus Fibrosus.”

Sometimes the connective tissues lead to abnormal thickening, which scars the tissue. Usually, injury follows, then infection, and moves to restrained oxygen intake. Surgery is often the result. The inner area of the disk is shielded by the “Nucleus Pulposus.” The pulp makes up the hub of the disk, which is polished and soft. The disks make up the primary supporting force that regulates the spinal column, bones, muscles, etc. 

When the disk is not protecting the spinal structures it is often dehydrated, pressured, or deformed. The disk has strength that combines with the flexibility to withstand high loads of pressure, yet when that flexibility and strength are interrupted, it can result in herniated disk slips or other injuries. 

Slipped discs in medical terms are known as HNP. (Herniated Nucleus Pulposus) As outlined the intervertebral disks are ruptured, which interrupts the nucleus pulposus. In medical terms, slipped discs can include L4, L5, which is Lumbosacral, and C5-7, which is Cervical. L4 is a single area of the spinal column and disks, which defines the numerical disk ruptured. 

Slipped discs are caused by accidents, trauma, strain on the back and neck, lifting heavy objects, disk degeneration, weak ligaments, and congenital deformity of the bones. Disk degeneration is outlined in this article. 

Symptoms: 

Lumbosacral will show apparent symptoms, such as acute lower back pain, which radiates to the buttocks and down to the leg. The person will feel weak, numb, or tingling that stretches to the leg and foot. Ambulation also causes pain. 

If cervical disk problems are present, the patient will feel stiffness around the neck. As well, the symptoms will make the patient feel weak and numb, and he/she will feel tingling around the hands. Neck pain often generates pain, extending it to the arms and onto the hands, which causes weakness in the upper region of the body. The weakness often targets the triceps and biceps, which become atrophy. The lumbar is affected also, and the patient will find it difficult to straighten the back. 

What happens when a disk is slipped and/or broken the annulus fibrosus reacts by pushing its substance into the hollow spacing between the spinal column. The spinal column is made up of nerves, which travel to various parts of the body, including the brain. These nerves are affected when the disk is slipped. Learn more about the Central Nerve System (CNS) to relate to slipped discs. First, understand how the joints and connective tissues can cause back pain. 

How Back Pain Starts  

When considering back pain we must concern ourselves with its variants. For instance, back pain can start with slip discs, which in medical terms is called “Herniated nucleus pulposus.” (HNP) Doctors define slip disks as ruptures of the “intervertebral disk.” The intervertebral rests between the vertebrae (Spinal Column) of the backbone. 

The interruption has variants, including the “Lumbosacral,” (L4 and L5) as well as cervical C5-7. The cervical is at the neck and belongs to other parts of the back and neck as well. When doctors consider slip disks they often look through etiology, which includes neck and back strains, trauma, congenital/inborn bone malformation, heavy lifting, degenerated discs, and/or weakness of ligaments. 

After careful consideration, etiology doctors consider Pathophysiology, which includes protrusions of the “nucleus pulposus.” The center connects to the column or spinal canal and perhaps compresses the spinal cord or the nerve cord, or roots, which causes back pain. If the spinal cord is compressed restraining the roots and cord often back pain, numbness, and motor functions may fail.

The assessments in medical terms are based on Lumbosacral, which may include acute or chronic pain in the lower back. The pain may spread out to the buttocks and move toward the legs. The person may feel weakness, as well as numbness. In addition, such pain can cause tingling around the legs and feet. The final assessment may include ambulation, which emerges from pain. 

The cervical is considered. The symptoms experts look for are neck rigidity, deadness, weakness, and “tingling of the” hands. If the neck pain spreads the pain down to the arms and continues to the hands, experts will consider slip disks. Yet other symptoms may occur, such as weakness that affects the farthest points, or the higher boundaries of the body. The lumbar curve is at the lower back region and is situated in the loins or the smaller area of the back, which doctors consider also, especially if the patient has difficulty straightening this area with the curvature of the spine (scoliosis) and away from the area influenced. 

When doctors consider back pain, they will review the diagnostics after conducting a series of tests. Diagnostics may arise from tendon reflexes, x-rays, EMG, myelograms, CSF, and/or Laséque signs. CSF helps the doctor to analyze the increases in protein while EMG assists experts in viewing the involvement of the spinal nerves. X-rays are used to help experts see the narrow disk space. Tendon reflexes are tested, which the doctors use to look deep into the depressed region, or the absent upper boundary reflexes, or in medical lingo the Achilles’ reactions or reflexes. Myelograms assist the expert in seeing if the spinal cord is compressed. The tests start if the Laséque signs show positive results behind etiology findings, Pathophysiology, assessments, and so on.

How doctors manage slip disks: 

Doctors prescribe management in medical schemes to isolate or relieve back pain. The management schemes may include diet whereas the calories are set according to the patient’s metabolic demands. The doctor may increase fiber intake, as well as force fluids. 

Additional treatment or management may include hot pads, moisture, etc, as well as hot compressions. Doctors often recommend pain meds as well, such as those with NAID. The pain meds include Motrin, Naproxen, Dolobid, Diflunisal, Indocin, ibuprofen, and so on. Additional meds may include muscle Relaxers, such as Flexeril and Valiums. The common Relaxers are diazepam and cyclobenzaprine hydrochloride, of which diazepam is valium and the other Flexeril. 

Orthopedic mechanisms are also prescribed to reduce back pain, which includes cervical collars and back braces. 

How do the Skeletal Muscles cause Back Pain? 

The skeletal bones make up more than 200 short, long, irregular, and flat structures. Inside the bones are calcium, phosphorus, magnesium, and RBCs, or marrow, which produces and generates red blood cells. The bones work alongside the muscles. The muscles and bones afford support, defense for the internal organs, and locomotion. 

The skeletal muscles are our source of mobility, which supports posture. The muscles work alongside the posture by shortening and tightening it. The bones attach to the muscles via tendons. The muscle then starts to contract with the stimulus of muscle fibers via a motor nerve cell, or neuron. The neurons consist of axons, cell bodies, and dendrites, which transport nerve impulses and are the essential makeup of our functional components within the larger system of nerves. (Central Nervous System-CNS) CNS is a network or system of nerve cells, fibers, etc, that conveys and transmits sensations to the brain, which carries on to the “motor impulses” and onto the organs and muscles.

Skeletal muscles supply movement for the body and the posture; as well, the skeletal muscles also submit energies to create contractions that form from ATP or adenosine Triphosphate and hydrolysis, ADP or adenosine Diphosphate, and finally phosphate. 

The skeletal muscles also preserve muscle tone. What happens if the skeletal acts as a retainer by holding back a degree of contractions and breaking down acetylcholine by cholinesterase to relax the muscles? Muscles are made up of ligaments. 

Ligaments are robust bands combined with collagen threads or fiber that connect to the bones. The bands, fiber, and bones join to encircle the joints, which gives one a source of strength. Body weight requires cartilage, joints, ligaments, bones, muscles, etc to hold its weight. Next to ligaments are tendons. Tendons are ligaments and muscles combined since it connects to the muscles and is made of connective proteins or collagen. Tendons however do not possess the same flexibility as ligaments do. Tendons make up fiber proteins that are found in cartilage, bones, skin, tendons, and related connective tissues. 

Joints are the connective articulated junctions between the bones. Joints connect two bones and their plane and provide stability as well as locomotion. ROM is the degree of joint mobility, which if ROM is interrupted, the joints swell, ache, and cause pain. The pain often affects various parts of the body, including the back. Joints connect with the knees, elbow, skull, bones, etc, and work between the synovium. Synovium is a membrane. The membrane lines the inner plane of the joints. Synovium is essential since it supplies antibodies. The antibodies combined with this membrane create fluids that reach the cartilage. The fluids help to decrease resistance, especially in the joints. Synovium works in conjunction with the cartilages and joints. 

Cartilage is the smooth plane between the bones of a joint. The cartilage will deteriorate with restricted ROM or lack of resistance in the weight-bearing joints. This brings in the bursa. Bursa is a sac filled with fluid. Bursa assists the joints, cartilage, bones, and synovium by reducing friction. Bursa also works by minimizing the risks of joints rubbing against each other. In short, the bursa is padding. 

If fluids increase, it can cause swelling, and inflammation in turn causing body pain, including back pain. Sometimes the pain starts in the lower back, yet it could work around various areas of the body.  The assessments in this situation revolve around symptoms, including pain, fatigue, numbness, limited mobility, joint stiffness, fevers, swelling, and so on. The results of skeletal muscle difficulties can lead to muscle spasms, poor posture, skeletal deformity, edema, inflammation, and so on. As you see from the medical versions of the skeletal muscles, back pain results from limited ROM, joint stiffness, etc. 

Optimal Health - arthritis pic 3 1024x539 1 - Optimal Health - Health Is True Wealth.
Brief History of Osteoarthritis and Back Pain 

Indicators of Back Pain 

Back pain usually starts with signals or indicators. For instance, if your back hurt at one time and stopped, and later it started again, you received your indicator at the start. In short, the first time your back starts hurting is the sign. You want to pinpoint when the first pain started. Once you pinpoint the starting date, you will need to consider what inspired your back pain. For instance, did you fall? Were you in a motorized accident? 

Once you find the trigger of your back pain, you want to consider the symptoms. Did you feel pain? Did you feel weak? Was your back stiff or numb? 

Now you can use the indicators to discover where the pain started. Did the pain start in the lower back? Was the pain at the top area? Did the pain cause additional pain, such as around the neck? Was the pain intermittent? Did the pain consistently cause stress? Did the pain shoot to other areas of the body? 

Did the pain get worse, when you walked, stood, sat, or lie down? Did the pain decrease, or did it increase? 

When you first hurt your back did the pain stop or did it frequently hurt? Did the pain cause long-term problems? Did the pain leave right away? 

When you first injured your back, did the symptoms change gradually? Did the symptoms interrupt your daily duties? How did the symptoms change? How did the symptoms interrupt your daily duties? 

Answering the questions can help you inform your doctor, as well as understand the cause of your condition. If you were in an accident and sought medical support when you first damaged your spine, you may want to consider what tests were used to spot your condition. What did your doctor find? 

If you sought medical support and your doctor recommended treatment, what was that treatment? How did the treatment help your back condition? If the treatment helped your condition, can you try the remedies now? 

Is your back pain caused by surgery, joint conditions, musculoskeletal disorders, or disease? 

Does your job require the mandatory lifting of heavy objects? Is your job emotionally stressful? Do you stand long hours? Do you sit for long hours? 

How are your exercise habits? Do you work out often? Do you engage in stretch exercises? What is your stress level? Do you do something active to relieve stress? 

Is there a hereditary back problem in your history? 

Once you ask questions related to your back condition you might want to mark points that you can mention later to your doctor. Noting the problems can help you and your doctor finds the cause. Often patients fail to do this, which is why many back pain problems go unnoticed. 

If your back pain has recently started again after the initial indicator, you may use treatments at home to relieve the pain, unless it is demanding. Rest is a common treatment doctor prescribes to reduce back pain. I am a fan of chiropractor support, yet some people have issues with this notion, therefore if you feel a chiropractor can benefit you, seek support.

Massage and physical therapy are also recommended to reduce back pain. In many areas, massage therapists are available, which charge reasonable fees. Check your areas to learn more about massage therapy. Common stretch exercises can reduce back pain, which has emerged from tension. If you overworked the muscles, you may want to rest and do a few exercises later. 

Whatever you do, avoid ignoring the indicators. Once the pain starts in the back, note the area and discuss the problem with your doctor. 

Joints and Connective Tissues Causing Back Pain 

The joints connect with tissues that work with the muscles and bones. The joints connect with tissues to conjoin bones and force these two bones to move. In short, joints are articulates that rest between “two bone” planes and provide us stability, movement, and control of this range of movement. (ROM) 

The joints have liners known as synovium. These liners are the inner joint surfaces that secrete fluids, such as synovial and antibodies. Antibodies and synovial reduce the friction of these joints whilst working in conjunction with the cartilages. 

Picture, imaging reaching up to one side of your body, while the other side of your body bends. At this time, pleats start to unfold on the opposing side of the body, which suppresses the fluids known as synovial and antibodies. 

Abnormalities: Facet joints cause this reaction to occur and at what time these joints are swiftly acting, or moving it can cause abnormalities in joint alignment. The result is back pain: 

How the pain is reduced: 

Chiropractors are the recommendation for patients who have suffered this type of injury. As well, massage and physical therapy can help minimize the pain. 

Synovial and antibodies promote healthy cartilages, which are the smoother exteriors of the articulate bones. The bones help to absorb shock, especially to the joints. Sometimes atrophies are caused by a swift, unsuspected movement that limits ROM (Range of Motion) which is caused by an absence of the weight-bearing joints response. It affects the bursa. The bursa is a sac filled with fluids that serve as padding and works to lessen friction between the joints and between parts of the body that rub against each other. 

The results of such interruptions lead to pain, numbness, fevers, stiffness of joints, fatigue, inflammation, swelling, limited mobility, and so on. The ultimate results lead to abnormal VS (Vital Signs), edema, nodules, skin teardown, deformity of the skeletal, limited range of motion (ROM), poor posture, muscle spasms, weak and rigid muscles, abnormal temperature and skin tone, and so on.  

Amorphous connective tissues promote stability and movement as well. Beneath the top layers and underneath the skin are connective tissues. The tissues spread throughout the body. The tissues at the top act as mediums and help us to think and act. As we age these tissues start to string out and their elasticity lessens. 

What happens? 

When the tissue string and the elasticity weaken disorders set in, including scarred tissue, “restrictive scarring,” edema, tumors, fatty tissues develop, and so on. Edema is at what time excessive fluids build and causes an abnormal buildup that stretches between the tissue cells. Edema causes swelling, inflammation, and pain. 

What happens when people endure injuries, sometimes they fail to listen to the doctors’ instructions, and i.e. they will walk on a swollen limb, such as a leg, which adds enormous stress to the spine. It can cause injury. The injury often affects the “sacroiliac joint.” 

In addition to injuries, some people are born with diseases that affect the connective tissues. Recently, new meds came available, which are used to treat connective tissue disorders. Alternative treatment includes physical therapy, which is what doctors relied on to treat such problems until new remedies came available. 

Regardless of the condition, however, back pain is outlined in terms of neurological and musculoskeletal conditions. Musculoskeletal conditions often target joints, muscles, tendons, ligaments, etc, causing pain. Once the pain starts, it will consistently ache and aggravate the back. 

Inappropriate lifting of heavy weights can cause musculoskeletal conditions. To learn more read about musculoskeletal disorders. 

Shoes and Back Pain 

Did you know that wearing inappropriate shoes could cause the back to feel stressed? Shoes are cushions, foundations, and levers that we use to walk, stand, run, work, and so on. If one wears correctly fitted shoes it will promote a healthy posture. On the other hand, if one wears unsuitable fitting shoes, look at the feet and back. 

The feet are the number one target that starts normal back pain. In short, the first thing that hits the ground when you start to stand or walk is the ball of your foot, i.e. the heel. Once the heel hits the surface, the remaining sections of the foot start to follow, which promotes weight and stress throughout areas of the body. Feet problems alone can lead to back pain. Poor posture causes back pain, yet the condition is often characterized by inappropriate actions we take. 

Fact: Wearing high heels will slowly pull the weight of the entire body forward, thus corrupting the posture and arches of the back. Hold your weapons down women, because in time you will feel pain. High heels are the leading cause of “Spondylolisthesis. In short terms, spondylolisthesis is a condition that is caused by slipping frontward on the lower back. (Lumbar)

The toes are designed to support us, yet when a person wears high heels it causes the toes to affect the joints, since the toes will narrow, causing weight or pressure to the spine. Now, high-heels are sexy to both men and women, yet these heels are going to cost you a fortune down the road. You can look good in supported shoes that fit comfortably without damaging your ligaments, tendons, nerves, muscles, and so on. 

Sorry to pop your bubbles boys and girls, but shoes that support our spine can reduce the odds of experiencing back pain. 

How to choose shoes: 

Orthotic shoes are recommended. Orthotic shoes will support the feet and weight-bearing joints and muscles. Orthotic shoes have been proven to reduce dysfunctions that emerge from the neurological system. In addition, supportive shoes have proven to reduce injuries and pain emerging from abnormal conditions. 

If you are diagnosed with posture conditions, such as osteoporosis, or gait, you can benefit from Orthotic shoes. 

Fact: Did you know that you could wear two or more insoles from Dr. Scholl, fitting the insoles into your shoes before flipping them over, and achieving balance, which promotes a healthy spine? 

Shoes make a difference to our spine, since the feet alone when abnormal can lead to back pain. If you are not wearing supportive shoes that provide you with a comfortable fit, you may want to invest in Orthotic shoes to relieve your back pain. 

In addition to shoes, you can perform stretch workouts, and practice leaning, sitting, and lifting strategies to correct your actions and reduce back pain. 

Fact: If the spine is misaligned, it can lead to back pain. 

Duh, you knew that. Anyway, we misalign the spine when lifting incorrectly, wearing unsuitable shoes, and leaning, or sitting in position, incorrectly. You can correct the problems by getting the ball and chain in motion, and learning about your condition, followed by taking action to relieve your pain. 

Fact: Proper lifting starts at the thighs and buttocks. Millions of people lift while relying on the back to hold the weight. Back pain occurs. 

When lifting heavy objects you want to avoid lifting at a distance. At best, you want to avoid bending the knees and expanding the trunk perpendicularly. 

Prepare to take out your briefcase. Surely, you have around 20 pounds of weight inside the container. Otherwise, consider an object that w20 pounds, unless you have been restricted to lifting. 

What you are about to do is lift more20 pounds. By the time you get in position and use your muscles, you will have lifted to 200 pounds. When you lift the briefcase, or other objects move close to the subject. Move the trunk or torso in position by placing it over your feet. Remain in position until you have completed your lift. 

Optimal Health - Osteoarthritis 1 - Optimal Health - Health Is True Wealth.

Sports Injuries Prevention and Back Pain 

Learning proper stretch exercises: 

In sports, people learn techniques and will train to enjoy the sports. The problem is most trainers fail to train their peers correctly. Injuries occur when inappropriate training and techniques are used. In addition, many people engage in sports failing to wear proper clothing, helmets, etc, and sometimes people will participate in sports when weather or visibility is poor. 

When the weather is cold, you must wear warm attire. Wearing proper attire can help you avoid respiratory conditions, which affect the liver, lungs, etc, and can lead to back pain. In addition, those joining in exercises or sports should wear proper shoes to avoid slips and falls. Helmets are essential to prevent brain injuries. Brain injuries will affect the spinal columns, which leads to back pain. 

When weather conditions interrupt visibility, it poses risks. Various people have sustained back injuries while jogging at night, since these people failed to wear proper attire, such as reflective tabs, etc. Motorized accidents can occur when the driver cannot see the runner, jogger, etc. This means the vehicle hits you and if you are not lucky enough to die, you should pray that you are lucky enough to miss back pain. Back pain is one of the worst types of pain you will ever endure. Since many people are misinformed as to how to stretch their muscles before exercising, we can consider a few helpful steps. 

As mentioned earlier it is important to perform proper exercises before joining sports. Proper exercises start with warm-ups. Warm-ups include neck, shoulder, arm, and leg stretches. 

How to perform neck stretch exercises: 

To start neck stretch exercises you want to stand erect. Lift the head so that it extends upward. Now, move your head so that it bends slightly forward. Continue to change directions, bending until your chin rests slightly on your torso. Balance the head, turning it to the left or right, and hold your position. After a few seconds turn your head so that it rolls to the other side of your body. Hold the jaw down, hold, and continue stretching the neck up to five counts. 

How to perform shoulder stretches: 

Again, stand erect. Lift your arms so that it extends above the head. Clasp the hands, joining them and pulling the hands downward and behind your head. Hold and repeat the steps five counts. Next, with your arms behind your back, reach down and hold your hands at a pointing position. That is, bring your fingers together at the points while one arm is over the shoulder and the other arm is behind the back. Pull in opposing directions once in position. If the arms are bent, extend the right arm, bending it back and over the right shoulder and the head. With your free hand, grab your elbow and hold. Pull the elbow gently toward the free shoulder, and repeat the steps on the left side. 

You can practice the windmill, shoulder shrug, triceps stretches, arm circles, and more to warm up before breaking into a full-speed workout. 

How to perform the windmill: 

The windmill is one of the oldest stretches in the history of workouts, yet the stretch is often missing in action since many people do the windmill incorrectly. To start, stand erect. Your arms should be down at your side. Once in position, swing upward, the right arm, and bring it to the front, up, and around behind your back so that it forms a circle. Repeat your steps up to five counts and continue to the other side. 

Stretching to Avoid Back Pain 

Stretching exercises is a great way to avoid back pain, since it stretches the muscles, joints, bones, etc, thus promoting fluid and blood flow. Stretch workouts include shoulder shrug, triceps, arm, leg, trunk, torso, and other stretches. To help you avoid back pain we can perform a few workouts to help you stretch those muscles. 

Starting with the shoulders, stand erect. Rest your hands upon the hips and shrug your shoulders. Rotate the shoulders in slow motion and to the back up to ten counts. Next, perform the same actions; yet rotate the shoulders in slow motion toward the front. 

Working the triceps: 

The triceps are the extensor muscles, which require stretching to avoid tension. Stand erect and lift your arm (Right) and rest the tips of your fingers on the shoulder. (Right) Use your free hand and push it against the opposite elbow. If possible, lower the fingers down the length of your back while pushing the elbow. Count to eight and perform the same actions on the opposite side. 

Next, stretch their arms. Form a circle. First, stand erect while keeping your feet at shoulder length. Level the arms and stretch them outward in sync with the shoulders. Circle and bring the arms ahead. Count to ten and perform the same actions on the opposite side. Circle the arms largely as feasible. 

Now work that torso. Stand erect, keep your feet in alignment with the shoulders and gradually rotate (Starting at the waist), and then stretch to one side. Stretch ahead and move your body in rotation to the opposite side. Extend back and around again to the opposite side. Continue on each side. 

Work that trunk: 

Stand erect, and keep the feet the length of your shoulders and slightly apart. Bend the knees slightly. Lock the fingers behind the head, and bend starting at the waistline, touching your right knee, joining it with the elbow on the right side. Next, rotate the torso, or trunk, rotating it to the left, and then touch your left knee. Extend backward so you are standing erect again. 

Once you are standing erect, slightly move your feet apart and bend the knees somewhat. Lift your arms to the height of your shoulders and grip the hands while turning to the side, starting at the waistline. Hold, count to five and do the same on the opposite side. Next, keep the hips and legs motionless as you turn the upper section of your body, only.  

Stand erect, while extending your hands down at the sides. Bend the knees somewhat and gradually lift the arm as far as you can reach over the head. Slowly, glide the free arm, sliding it down to the leg, and pull the arm so that it is over the head as high as you can reach. Push down and onto the thigh, returning to the standing position. Continue on the opposite side and do three reps. 

Stand erect, keeping the feet at length with your shoulders. Bend the elbows at the height of your shoulders. Join your fingertips and gently fling the arms toward the back, staying consistent with the height of the shoulders. Continue the action on each side, counting to ten as you move along. 

Continue: 

Stand erect, and grip your hands, joining them and extending them behind the back. Lift the hands up and out as high as you can reach. Count to five and lower. Stand erect and keep the feet at the length of your shoulders. Bend the knees somewhat and lock your fingers, while raising the arms to the height of your shoulders. Once in position, push the arms ahead. Do not lean to the front. Stretch and count to ten. Perform the same actions, counting to five. 

Taking Action to Reduce Back Pain 

The song, “My ankle bone is connected to my knee bone,’ comes to mind each time I write articles on back pain. Now I know why. Each bone within the structures of the skeletal muscles plays a vital part in our health. If any of these bones, muscles, tendons, etc are disturbed it can lead to serious back problems. Back problems include slipped herniated disks, broken back, fractures, and so on. Each condition is caused by a string of actions, activities, incorrect movement, overexertion, etc, and exceptions include disease. 

Back pain is complex since various aspects of the human makeup create such pain. For instance, connective tissues can lead to serious back pain, quicker than bursa bruising. The baffling mechanisms behind back pain have led scores of doctors offshore, since many struggles to see that the central nervous system alongside the spinal columns plays a vital part in back pain creation. 

According to statistics over a million people on a daily ricketier scale suffer either minor or severe back pain. About ½ or more of these people could have prevented back pain and found relief without seeking medical treatment. The other half of this unstable, million scales may endure back pain for the course of their life since they fail to use practicality in resolving the problem. 

In some cases, such as a 1/3 of the ricketier scale of people, surgery is performed to correct the problems. Surgery often leads to major complications, including severe back pain. Go figure, yet surgical procedures are unhealthy and its history has proven this notion. Even if you damage a shoulder ligament or tendon, you can take measures to avert surgery and relieve your pain. 

Did you know that losing weight could reduce back pain? Obesity is spreading throughout the world and in every corner, thus adding pressure to the muscles, which leads to back pain. “Oh, my feet are killing me,’ which is commonly heard. What this person fails to realize is that he/she may be overweight, wearing the wrong shoes, and overexerting the bearing joints. We can stop this pain in its tracks by wearing the correct shoes, losing weight, and removing excess weight from the weight-bearing joints and muscles. The problem is more and more people are gaining weight since our FDA has allowed additives into meats, which promote cravings. Practicality tells us that organics is the way to stop FDA and meat manufacturers in their tracks, as well as stop obesity to a large degree. 

Given this fact, you can graduate my dear “Sir Watson,” from elementary and move up to college. 

How to relieve pain from slipped herniated disks? 

You can choose the right way or the wrong way to relieve herniated disk damage. The wrong way can include alcoholism and drugs, which lead to bigger problems. 

Ultimately, you can ignore the problem, continue adding weight and pressure to the area and finally spend the rest of your life, lying down. On the other hand, you can learn how to lean and bend correctly, curl to relieve pain, lose weight (If applicable), wear correct-fitting shoes, and so forth. 

Did you know that curling up in a proper fetal position can reduce pain and agony in the back caused by herniated slipped discs? Well, get on your side and curl those knees up to your chest so you can find out for yourself. When you finish, let me know how you feel. When curling into a fetal position, place a cushion or pillow amid your knees and avoid folding tightly. Do not elevate the hips. 

https://optimalhealth.in/health/joint-health/

https://optimalhealth.in/forteo-osteoporosis-treatment-the-pros-and-cons/

https://onwebstory.com/obesity/

https://www.healthline.com/rheumatoid-arthritis

https://youtu.be/l_1NNznnO0k

Osteoporosis Bones Health-2023

Featured

Osteoporosis Bones Health-2023

Osteoporosis Bones Health-2023. With osteoporosis, bones are brittle and often fracture or break.  There are no symptoms before the osteoporosis bones shatter and the disease can only be detected through tests in your doctor’s office.  You won’t automatically know your bones are getting thinner.

White and Asian women past menopause are most susceptible to the disease, but people of any age, race, or gender can get it.  8 million American women and 2 million American men have the condition.  It is estimated that 50 percent of American women will experience Osteoporosis in their lifetime.  If you have osteoporosis, bone health is of paramount concern.

Spinal fractures are probably the most significant concern as 20 percent of people who develop this osteoporosis bone break will die within a year.  Other areas commonly affected are the hip and wrist.  Hip fractures limit mobility and often result in the sufferer having to move into an assisted living facility.

Some of the risk factors for osteoporosis include being female, being under 127 pounds, having a family history of the condition, being post-menopausal, attaining an advanced age, abnormal menstrual periods, low testosterone in men, low or no dairy in the diet, having an inactive lifestyle, long term use of glucocorticoids, cigarette smoking, or drinking too much alcohol.

If you think you are at risk of osteoporosis, get a bone density scan. 

The DEXA is probably the best osteoporosis bones test, but there are several others.  You should have your first bone density test by the time you are 65 to establish a baseline.  Thereafter, every 2 or 3 years, you should have repeat tests to monitor whether your bones are getting more brittle.

The best way to prevent getting osteoporosis is to build strong bones in the first place.  As a child and young adult, having a lot of calcium in your diet can set you up for a lifetime of bone health.  But it is never too late to help your bones.  

One of the best things you can do for your bones is to get enough calcium in your diet or through supplements. 

This is because bones are made of calcium.  If you are over 50, you should get 1200 mg. of calcium a day.  One cup of plain, fat-free yogurt delivers 450 mg. of calcium and one cup of milk has 300 mg. of calcium in it.

Also, you should get 400 to 600 IU of Vitamin D in your diet.  Milk is also a good source of Vitamin D with 98 IU.  Salmon is also an excellent source with 360 IU.

You should also become physically active when you have osteoporosis.  Bones are helpful when you build muscle.  Focus on a weight-bearing physical activity like walking, yoga, and lifting weights.

If you do come down with osteoporosis, several medications can help.  Again, talk to your doctor about your options.  If you have osteoporosis, bones’ strength becomes an important health consideration for you.

Osteoporosis Causes The Bones In The Body To Become Brittle

Osteoporosis causes the bones of the body to become brittle.  In turn, they break easily.  It is characterized by low bone mass and loss of bone tissue that may lead to weak bones. Those with osteoporosis, have an increased risk of fractured and broken bones, particularly in the hip, spine, and wrist.

Once thought to be a condition of old women, osteoporosis causes begin much earlier in life.  Peak bone density occurs at age 25.  So, it is important to build strong bones at a young age so that they will remain strong later in life.  Having adequate calcium is one of the ways people build strong bones.

10 million Americans already have osteoporosis and 18 million more have a low bone mass that makes them susceptible to the disease.  4 in 5 people with osteoporosis are women.  1 in 2 women and 1 in 8 men will have an osteoporosis-related fracture in their lives. 

Osteoporosis happens because an imbalance occurs between new bone formation and old bone resorption. Osteoporosis causes when the body fails to form enough new bone, too much old bone is reabsorbed, or both. Calcium and phosphate are two essential minerals for normal bone formation.

Calcium is also essential for the heart, brain, and other organs to function properly.  To keep those critical organs functioning, the body may reabsorb calcium from the bones for their use. Thus, the bones may become weaker, resulting in brittle and fragile bones that can break easily.

The leading osteoporosis cause is a lack of certain hormones, especially estrogen in women and androgen in men. Women over 60 are frequently diagnosed with the disease. When women hit menopause, they have lower estrogen levels which increase their risk for osteoporosis. 

Other osteoporosis causes include overuse of corticosteroids (Cushing syndrome), thyroid problems, lack of muscle use, bone cancer, certain genetic disorders, use of certain medications, and problems such as low calcium in the diet.

Risk factors include gender (women are more likely to develop osteoporosis than men), race (whites and Asians are more likely to develop the disease), post-menopausal condition, lack of regular periods, cigarette smoking, anorexia or bulimia, heavy alcohol consumption, use of corticosteroids, and use of anticonvulsants.

Early in the course of the disease, often osteoporosis causes no symptoms. Later, there may be a dull pain in the bones or muscles, particularly in the lower back or neck. 

As the disease progresses, sharp pains may develop suddenly. It may be made worsened by activity that puts weight on the area.  The area may also be tender.  The pain generally begins to subside in one week but may linger on for more than 3 months.

Women who are past menopause and have constant pain in areas such as the neck or lower back should consult their doctor for further evaluation including risk assessment and bone density scanning.

And, that’s your rundown on osteoporosis causes.

Osteoporosis Effects On The Body

Osteoporosis affects the body by causing the bones to degenerate and lose mass.  8 million women and 2 million men in America are afflicted with the disease and at least half of all women will de osteoporosis effects in their lifetimes.  There is no cure for osteoporosis, but there are treatments that will lessen osteoporosis’ effects.  

Although there are currently not any cures for osteoporosis, several treatments exist that can help you to increase your bone density and prevent potential fractures. If you currently suffer from osteoporosis or are at risk for osteoporosis, you should know what the choices you have are so that you can select the correct treatment to reduce the osteoporosis effects.

Osteoporosis is when your bones lose a percentage of their mineral density.

It leads to serious fractures, including those in the wrist, hip, and spine. The fractures from osteoporosis can be painful and may even limit your independence and freedom.

The disease is most common among the elderly and women, though it can also occur in men and young people. Once you get osteoporosis, it lasts the rest of your life, but it can be reversed or reduced through careful treatment. There are numerous causes of osteoporosis including estrogen loss during menopause, eating disorders, disease, or genetic factors.

Osteoporosis is often termed the “silent epidemic” because it is accompanied by no visible symptoms.

If you suffer from osteoporosis, you probably won’t know about it until you have been diagnosed by a physician. One of the first signs is that the bones become so brittle and you suffer from a fracture or a broken bone. Fractures tend to result from everyday falls. Spinal and hip fractures are very common and the osteoporosis effects can be severe. Did you know that 20% of people with osteoporotic spine fractures die within one year?

One reason that women are more apt to develop osteoporosis is that menopause can wreak havoc on your bones. During menopause, estrogen levels in your body drop rapidly and estrogen plays an important role in bone health. The osteoclasts are kept in check by estrogen, which allows the osteoblasts to build more bone. Bones can become thin and brittle quite rapidly unless the estrogen is replaced.

Estrogen replacement is an effective treatment to lessen the osteoporosis effects. Women suffering from osteopenia or osteoporosis who take estrogen can prevent further reabsorption of bone and boost the creation of new bone mass.

Estrogen therapy is also an effective treatment for menopause. 

It can increase bone mass by at least 5 percent over 2 years. It is recommended that women have at least 5 years of estrogen therapy to protect against serious fractures, including those of the hip and spine. You should know that once estrogen therapy is stopped, its benefits will begin to disappear. 

Another factor to help lessen the osteoporosis effects is calcium.  Calcium is essential for healthy bones.  The mineral is a natural medication for osteoporosis. If you have mild to moderate osteopenia or if you have a family history of osteoporosis, calcium supplements can help reduce your risk of bone fractures. 1000 mg supplements are recommended daily, in addition to a diet rich in calcium.

And that’s the low down on osteoporosis effects.

Osteoporosis Exercises To Keep You Limber

If you are an older adult, you should begin doing osteoporosis exercises.  Many people with low bone density worry that doing any exercise might lead to a fracture.  But, the reality is that using your muscles can help you protect your bones.  Here are some osteoporosis exercises that can help you prevent broken bones.

People who have always been physically active are less likely to have bone problems later in life.  However, that doesn’t mean that people who were couch potatoes in middle age shouldn’t take up osteoporosis exercises when the condition first manifests itself.  

In women, after menopause, the pace of bone loss increases.  At that point, starting an exercise program is critical.  It will increase your muscle strength, improve your balance and help you avoid falls — and it may keep your bones from getting weaker.  Other benefits of osteoporosis exercises include increasing your ability to carry out daily tasks and activities, maintaining or improving your posture, relieving or lessening pain, and increasing your sense of well-being

There are three types of osteoporosis exercises.  

The first is strength training.  Strength training can include using weights, weight machines, resistance bands, or water exercises to strengthen the muscles and bones in your arms and upper spine. Strength training may work directly on your bones to slow mineral loss as well. 

Osteoporosis exercises that gently stretch your upper back, strengthen the muscles between your shoulder blades, and improve your posture can all help to reduce harmful stress on your bones and maintain bone density.

The next area is weight-bearing aerobic exercises.  These involve doing aerobic exercises on your feet, with your bones supporting your weight.  Walking, dancing, low-impact aerobics, elliptical training machines, stair climbing, and gardening are all examples of these kinds of osteoporosis exercises.

Finally, there are flexibility exercises.  When you can move your joints through their full range of motion, it helps you maintain good balance and prevent muscle injury.  Additionally, flexibility helps you maintain your posture, which is essential in avoiding osteoporosis.  The best osteoporosis exercises in this category are various forms of stretching.  Tai Chi and Yoga are excellent forms of exercise in this category.  However, you should avoid positions that may put excessive stress on the bones in your spine.  These place you at greater risk of a compression fracture.

You should also avoid traditional “high school gym” kinds of exercises.  These include high-impact exercises such as jumping, running, or jogging which can increase compression in your spine and lower extremities and can lead to fractures in weakened bones.  Also, exercises in which you bend forward and twist your waist should be avoided.  These include touching your toes, doing sit-ups, or using a rowing machine.

If you have always exercised, keep it up.  If you have just been warned you have a risk of osteoporosis, now is the time to start.  There are several good osteoporosis exercises to get started with.

Osteoporosis Guidelines-What Your Doctor Should Be Doing

Osteoporosis guidelines for testing are important because this is a “silent” disease.  That is, you wouldn’t know you had it until you break a bone.  While bone density tests allow doctors to detect it, there are no symptoms short of a broken bone or sharp pain.  That’s why there are osteoporosis guidelines.

These osteoporosis guidelines are for doctors.  However, if you are a patient, knowing what your doctor is supposed to do will help you know whether your physician is doing everything he or she can do to keep you from potentially deathly falls caused by osteoporosis.

Osteoporosis guidelines are for physicians who are advising patients 50 years of age or older, in particular post-menopausal women.  They are supposed to advise their patients about the risk for osteoporosis and recommend a bone density test, if appropriate.  In addition, they should evaluate patients for secondary causes of the disease.

Doctors following the osteoporosis guidelines will ensure that their patients are getting 1200 mg. of calcium a day and recommend supplements if that amount is not part of the patient’s daily diet.  Patients should also get 800 mg. of Vitamin D per day, including supplements if necessary.

They should suggest that their patients engage in weight-bearing and muscle-strengthening exercises.  This decreases the risk of fractures from falls.

Doctors are supposed to discuss the risks of cigarette smoking and excessive alcohol use vis a vis osteoporosis risk.

In addition, there are several osteoporosis guidelines related to bone density testing.  All women over 65 and all men over 70 should get a baseline bone density test.  Additionally, patients aged 50 to 70 who have an osteoporosis risk profile should be tested.  A schedule for future testing should also be established, preferably every two years.

Osteoporosis guidelines say that doctors should begin treating patients with hip or vertebral (clinical or morphometric) fractures.  After appropriate evaluation, they should also begin treatment in patients in whom dual-energy x-ray absorptiometry (DXA) shows BMD T-scores of less than –2.5 at the femoral neck, total hip, or spine.

Additionally, they should begin treatment in post-menopausal women and men 50 years and older who have a low bone mass which is also known as osteopenia.  That means those with a T-score of –1 to –2.5 at the femoral neck, total hip, or spine as well as those who have a 10-year hip fracture probability of 3% or more or a 10-year all major osteoporosis-related fracture probability of 20% or more based on the US-adapted WHO absolute fracture risk model.

Currently, the Food and Drug Administration has approved bisphosphonates, calcitonin, estrogens, hormone therapy, raloxifene, and PTH 1-34 for the treatment of osteoporosis.  These drugs should be discussed with patients, as appropriate.

Osteoporosis treatment is cost-effective in patients with fragility fractures or osteoporosis, in older individuals at average risk, and younger persons with additional clinical risk factors for fracture.  So, there is no excuse for a sloppy diagnosis.  If you are a patient over 50 years of age, make sure that your doctor is following these osteoporosis guidelines.

Osteoporosis Medicine 

 The Types Of Treatments For The Condition

Osteoporosis medicine is prescribed when you come down with the disease.  Osteoporosis is a disease that makes your bones brittle and susceptible to fractures and breaks.  It is a serious condition.  20 percent of people who suffer from a spinal break due to osteoporosis will die within a year.  That is why you want to take your osteoporosis medicine.

Post-menopausal white and Asian women are the groups most at risk for the condition.  8 million women suffer from osteoporosis and 2 million men do.  It is estimated that 50 percent of women will come down with the disease at some point in their lives.

Osteoporosis has no cure but it can be treated.  Osteoporosis medicine includes:

· Actinol –

Action is a bisphosphonate marketed by Aventis.  Action is a prescription medication that prevents and treats postmenopausal osteoporosis. It is the only oral monthly osteoporosis treatment that has been FDA approved to help prevent fractures at both the spine and other areas where fractures commonly occur

· Boniva –

Boniva –is another bisphosphonate marketed by Roche laboratories?  It comes in two forms: a tablet and an injection.  There are specific guidelines for taking this once-a-month osteoporosis medication.

· Recluse –

Recluse – another bisphosphonate.  It is marketed by Novartis.  Reclast is the only FDA-approved, once-a-year treatment for postmenopausal osteoporosis. One annual dose, combined with daily calcium and vitamin D, will help to increase bone density, protecting and strengthening your bones.

· Didronel –

Didronel – marketed by Proctor & Gamble, Didronel tablets contain either 200 mg or 400 mg of etidronate disodium, the disodium salt of (1-hydroxyethylidene) phosphonic acid, for oral administration. This compound, also known as EHDP, regulates bone metabolism.

· Evista –

Evista – marketed by Eli Lilly, is prescribed to treat and prevent osteoporosis, the brittle bone disease that strikes some women after menopause.  It is a selective estrogen receptor modulator

· Forteo –

Forteo – also marketed by Eli Lilly, is a synthetic form of parathyroid hormoneForteo is supplied in a disposable pen device that can be used for up to 28 days to give once-daily self-administered injections. Forteo is available in a 20 microgram (mcg) dose and should be taken for a period of up to 24 months.

· Fosamax –

Fosamax –is an Aminobisphosphonate marketed by Merek.  It must be taken exactly as prescribed and can be lifestyle-inhibiting.  However, it is a very effective osteoporosis medicine.

 · Miacalcin –

Miacalcin – is marketed by Novartis.  It is a synthetic form of calcitonin, a naturally occurring hormone produced by the thyroid gland. Miacalcin reduces the rate of calcium loss from bones. Since less calcium passes from the bones to the blood, Miacalcin also helps control blood calcium levels.  It is a nasal spray.

Contact your doctor to see which osteoporosis treatment is right for you.  When you have an illness, it is important to take your osteoporosis medicine.

https://onwebstory.com/web-stories/

https://optimalhealth.in/how-to-manage-chronic-osteoporosis-pain/

https://newsxpress.digital/category/health/

How to Manage Chronic Osteoporosis Pain?

Featured

How to Manage Chronic Osteoporosis Pain?

How to Manage Chronic Osteoporosis Pain? Osteoporosis pain usually comes in the form of painful fractures, which can take a number of months to heal. Often, the pain goes away as the fracture heals. New fractures tend to heal in about three months. Osteoporosis pain that continues after that time period is generally considered chronic pain.

A cause of chronic osteoporosis pain is vertebral fractures.

While some people have no pain when a vertebra breaks, others have intense pain and muscle spasms that last long after the fracture has healed.

Pain is the body’s way of telling you that you have an injury.

When your bones break, nerves send pain messages through the spinal cord to the brain, which interprets them.

Your response to pain can be determined by many factors, including your emotional outlook.  Depression seems to increase pain perception and it also decreases your ability to cope with it. When you treat depression, you treat the pain as well.

Chronic osteoporosis pain lasts beyond the usual time for healing. 

It interferes with normal life. While the injury has healed, the pain continues. The pain message may be triggered by muscle tension, weakness, spasms, or stiffness.

Your feelings of frustration, anger, and fear can make the osteoporosis pain more intense, whatever its cause.

Chronic pain affects all areas of your life and should be taken seriously.  Contact your doctor about managing chronic osteoporosis pain.

Some typical coping strategies for dealing with pain include using heat and ice, undergoing Transcutaneous Electrical Nerve Stimulation (TENS), using braces or supports, exercise, physical therapy, acupuncture, and massage.

Using warm showers or hot packs to relieve chronic pain is one option. 

Alternatively, cold packs or ice packs can also relieve pain.  In either case, apply the pack to your skin for 15 to 20 minutes.

TENS send electrical impulses to certain parts of the body to block pain signals.  It is a small device wherein two electrodes are placed on the points of the body where you are experiencing pain. 

The mild electrical current can prevent pain messages from being transmitted to the brain.  While some people find relief for several hours after a single session, other people use small portable TENS units that hook to the belt for continuous osteoporosis pain relief.

Spinal braces can reduce pain and inflammation by restricting your movements. 

After a vertebral fracture, a brace or support can relieve pain and let you resume normal activities while the fracture heals.  But a back brace can weaken your spinal muscles and should be used only as long as necessary.

Exercise is another option because it raises the body’s level of endorphins which are natural painkillers produced by the brain.  

Physical therapy can teach you proper posture and exercises to strengthen your muscles without weakening your spine.  Water therapy, in particular, is recommended for people experiencing chronic osteoporosis pain.

Acupuncture can stimulate nerve endings which cause the brain to release endorphins. 

Don’t expect to be cured in one session, though.  Acupuncture applies direct pressure through the use of special needles to the areas that trigger pain.

Finally, massage therapy can help you manage chronic osteoporosis pain.  It can be a light, slow circular motion with the fingertips or a deep kneading motion that moves from the center of the body. 

Massages relieve pain, relax stiff muscles, and smooth out muscle knots.  If you have spinal osteoporosis, deep muscle massage should not be done on the back.

Those are some suggestions on how to manage chronic osteoporosis pain.

https://optimalhealth.in/osteoporosis/

https://onwebstory.com/obesity/

Osteoporosis

Featured

Osteoporosis

Osteoporosis: Symptoms- What To Know About The Silent Epidemic Osteoporosis symptoms don’t do when you first develop the complaint. For this reason, it’s called the “ silent epidemic. ” It sneaks up on you until one day you have a fracture or broken bone. But over time, you’ll begin to see colorful osteoporosis symptoms.

Optimal Health - bigstock Osteoporosis Stages Image Ost 219561823 - Optimal Health - Health Is True Wealth.
Osteoporosis stages image. Osteoporosis bone and healthy bone in comparison isolated on a white background. Vector illustration is useful for medical, educational, or scientific graphic design.

These include ·

  • Back pain
  • Drooped posture
  • Bone fractures and breaks
  • Compression fractures


Eight million American women and 2 million American men have the condition. As numerous as 50 percent of women will develop the complaint in their continuances. Caucasians and Asians are more likely to develop.
Osteoporosis than people of other races, but it strikes everyone. Post-menopausal women are the ones most at threat.

Osteoporosis is caused when bone mass decreases.

This results in the bones being more susceptible to fracture. Bone is constantly being broken down and reabsorbed by osteoclasts, and also rebuilt by other cells called osteoblasts. As you age, further bone is reabsorbed than replaced. One of the first osteoporosis symptoms is back pain. numerous cases ignore this or confuse it with the onset of arthritis.

But, if you’re passing back pain, ask your croaker whether a bone viscosity checkup is warranted. You’ll frequently see people with osteoporosis who have a loss of height or drooped posture. Some people with osteoporosis symptoms lose height and come designed with a fraudulent reverse which is called a matriarch’s hump.

This occurs because the bones of the chine, Chinese, gradationally collapse within themselves and come compressed. When this happens, it’s called a contraction or crush fracture. People with osteoporosis may also break other bones, particularly hipsterism and wrist. hipsterism and wrist fractures frequently are when a person with osteoporosis falls. A broken hipsterism is especially serious because it can lead to loss of independence. It can also lead to loss of function and severe and indeed life-hanging problems.

Compression fractures in the chine can beget severe reverse pain.

This is generally because of crush fractures.
Too Frequently osteoporosis becomes apparent in dramatic fashion a bone breaks. This can include backbone, hipsterism, forearm, or any bony point. These fractures aren’t the result of jumping off a structure; they follow fairly minor trauma similar to bending over, lifting, jumping, or falling from the standing position.
still, it should be noted that all broken bones in people with osteoporosis are serious. That’s because less thick bones tend to heal sluggishly and occasionally partly. also, if osteoporosis cases break one bone, they tend to hurt other bones. Still, communicate your croaker incontinently, If you suspect that you have osteoporosis symptoms.

While there’s no cure, there are treatments including diet changes, supplements,
exercise, and specifics. Your croaker will presumably want to get a bone viscosity checkup. Indeed if you don’t have fully bloated osteoporosis, this will give you a birth for covering the condition in the future. Don’t stay. Get your osteoporosis symptoms checked out right down.

https://optimalhealth.in/health/joint-health/

https://onwebstory.com/fitness-trainer-boredom-busters/

पुस्तक समीक्षा-10 कदम: आध्यात्मिक सशक्तिकरण के माध्यम से समृद्ध जीवन प्राप्त करना (Book Review Of Achieve Prosperous Living through Spiritual Empowerment)

Featured

पुस्तक समीक्षा-10 कदम: आध्यात्मिक सशक्तिकरण के माध्यम से समृद्ध जीवन प्राप्त करना (Book Review Of Achieve Prosperous Living through Spiritual Empowerment)

10 कदम: आध्यात्मिक सशक्तिकरण के माध्यम से समृद्ध जीवन प्राप्त करना, 1: आध्यात्मिक सशक्तिकरण क्या है? 2: आत्मा को समृद्ध करना – 5 युक्तियाँ , 3: वैकल्पिक उपचारों के माध्यम से आध्यात्मिक सशक्तिकरण, 4: अपना स्वयं का आध्यात्मिक प्रशिक्षण होना, 5: जीवन से सीखना, 6 आध्यात्मिकता और धन  – समीकरण को समझना और आगे बढ़ना, 7: आकर्षण का नियम, रहस्य को समझना, 8: सोचना और समृद्ध होने की और बढ़ना, 9: अपने शरीर के आंतरिक और बाहरी पहलुओं के बीच संतुलन बनाना, और 10: आध्यात्मिक निर्वाण की ओर बढ़ना।

पुस्तक समीक्षा-10 कदम: आध्यात्मिक सशक्तिकरण के माध्यम से समृद्ध जीवन प्राप्त करना (Book  Review Of  Achieve Prosperous Living through Spiritual Empowerment)

प्रेरणा देने वाले ‘जीन’ की खोज करें! 

हर कोई आज प्रेरित होना पसंद करता है, आप वह स्रोत होंगे!  आध्यात्मिक सशक्तिकरण क्या है? इसमें क्या शामिल है? आध्यात्मिक सशक्तिकरण से संबंधित बहुत सारे प्रश्न हैं, जो हमारे जीवन के सबसे बड़े संवर्द्धकों में से एक हो सकते हैं। दुनिया के सबसे प्रसिद्ध लोगों ने आध्यात्मिक सशक्तिकरण के विभिन्न स्तर प्राप्त किए हैं। आज दुनिया जिन लोगों का अनुसरण करती है उनमें उच्चतम कोटि की आध्यात्मिकता थी। यह ई-पुस्तक आपको वहाँ ले जाने का एक विनम्र प्रयास है।

1: आध्यात्मिक सशक्तिकरण क्या है? 

आध्यात्मिक सशक्तिकरण के सही अर्थ को समझना। 

आध्यात्मिक सशक्तिकरण क्या है? 

स्वतंत्रता की भावना एक ऐसी चीज है जिसे हम सभी प्राप्त करना चाहते हैं। चाहे वह किसी भी पहलू में हो, स्वतंत्रता  निश्चित रूप से हमारे आत्मविश्वास को बढ़ाता है और हमें जीवन में बेहतर करता है। हमारे जीने के तरीके में एक बड़ा बदलाव लाने के लिए हम सभी को अपने भीतर इस निश्चित प्रकार की सकारात्मक ऊर्जा से भरपूर (लैस) होना चाहिए। 

आध्यात्मिक शक्ति

 आध्यात्मिकता भले ही धार्मिक चीजों और समारोहों से जुड़ी हो, लेकिन इस मामले में, इसका मतलब यह नहीं है कि हमें किसी धर्म से जुड़ जाना चाहिए। इस अवस्था का अनुभव करने का अर्थ होगा कि व्यक्ति की चेतना जाग्रत हो गई है। यह व्यक्ति को देखने में सक्षम बनाता है जो वास्तव में है और इससे जुड़ने पर व्यक्ति, क्षमताओं और सीमाओं से अवगत हो जाता है। इससे व्यक्ति जो जैसा है उससे खुश और संतुष्ट हो जाता है। इस प्रकार, वह पहले की तुलना में खुद की देखभाल करने और समझने में सक्षम है।

आध्यात्मिक रूप से सशक्त होना एक व्यक्ति को इस बात से अवगत कराता है कि उसे क्या करने से खुशी मिलती है और वह अन्य लोगों को खुश करने के लिए अधिक संवेदनशील बनता है। 

यह महत्वपूर्ण क्यों है?

 हमारे समाज ने आज हम में रूढ़िवादिता और आदर्श मॉडल स्थापित किए हैं जैसे कि एक व्यक्ति को कैसा होना चाहिए। यह हम में से अधिकांश को अपने बारे में असंतुष्ट और शर्मिंदा करता है। कुछ लोग तो और भी बुरे हालात में चले जाते हैं, उदास हो जाते हैं, अवसाद में आ जाते हैं, और बाद में उनमें आत्महत्या की प्रवृत्ति भी आ जाती है।

हालांकि, जब कोई व्यक्ति आध्यात्मिक रूप से सशक्त हो जाता है, तो वह खुद को देखता है कि वह कौन है और कौन नहीं। वह अपनी क्षमताओं से अवगत हो जाता है और इस प्रकार वह जानता है कि कौन से कार्य करने हैं। 

सशक्त लोग समाज में अपनी भूमिका जानते हैं और वे जानते हैं कि वे स्वयं में, दूसरों में और पर्यावरण में परिवर्तन लाने के लिए क्या कर सकते हैं। यदि हम स्वयं को आध्यात्मिक रूप से सशक्त बनाने में सक्षम होते हैं , तो स्वतंत्रता, जीवन के किसी भी पहलू में, हमारी पहुंच के भीतर ही होगी । 

2: आत्मा को समृद्ध करने की  – 5 युक्तियाँ 

 यहाँ आत्मा को समृद्ध करने के बारे में पाँच दिलचस्प युक्तियाँ दी गई हैं। 

आत्मा को समृद्ध करना: – 5 युक्तियाँ कोई कैसे सुनिश्चित करता है कि वह आध्यात्मिक रूप से सशक्त बनने के लिए सही रास्ते पर है? 

यहां कुछ तरीके दिए गए हैं: – 

1) स्वयं को जानना 

स्वयं को सशक्त बनाने और बाद में स्वतंत्रता प्राप्त करने में सक्षम होने के लिए पहला कदम स्वयं को जानना है। यह बहुत महत्वपूर्ण है कि एक व्यक्ति अपनी क्षमताओं और सीमाओं को जानता हो, ताकि वह जान सके कि समुदाय में उसकी क्या भूमिका है। 

2) आसपास की दुनिया को समझना 

एक बार जब व्यक्ति को अपने आस-पास की चीजों के बारे में कुछ पता चल जाता है, तो वह समझना शुरू कर देगा कि वास्तव में उसके आसपास क्या है। यह महत्वपूर्ण है कि एक व्यक्ति जानता है कि वह अपने आस-पास की चीजों को कैसे प्रभावित कर सकता है। 

3) चीजों को प्राथमिकता देना 

जब कोई व्यक्ति अपने जीवन में इन चीजों को जल्दी से निर्धारित करने में सक्षम होता है, तो जीवन में प्राथमिकताओं को रखने में सक्षम होना आसान होता है। उदाहरण के लिए, स्वयं सबसे महत्वपूर्ण चीज है जिसका ध्यान रखने की आवश्यकता है, इसके बिना एक व्यक्ति अपने परिवेश तक नहीं पहुंच पाता है और वह उस स्वतंत्रता तक नहीं पहुंच पाता है जिसे वह प्राप्त करना चाहता है। 

4) दूसरों के साथ साझा करना 

एक व्यक्ति अपनी स्वतंत्रता प्राप्त करने में सक्षम हो सकता है, लेकिन अगर वह दूसरों को, जो वह जानता है उसे साझा नहीं करता है, तो यह प्रयास बेकार माना जाता है और यह वास्तव में इतना बड़ा प्रभाव नहीं डालेगा। यदि कोई व्यक्ति जो कुछ सीखता है उसे साझा करता है, तो वह दुनिया को बेहतर बनाने में एक कदम और करीब आ जाता है। 

5) सीखना जारी रखना 

एक व्यक्ति जो अपनी आत्मा को समृद्ध करना चाहता है, वह आसानी से हार नहीं मानता, चाहे परिस्थितियाँ कोई भी हों और जीवन का कोई भी पहलू शामिल हो। एक सशक्त व्यक्ति दुनिया को अपने परिवेश के लिए और भी बेहतर जगह बनाने के लिए और अधिक सीखने की कोशिश करेगा। 

3: वैकल्पिक उपचारों के माध्यम से आध्यात्मिक सशक्तिकरण 

 आध्यात्मिक सशक्तिकरण की दुनिया में वैकल्पिक उपचार काफी फैशनेबल हो गए हैं। आइए उनमें से कुछ सबसे लोकप्रिय देखें। 

वैकल्पिक उपचारों के माध्यम से आध्यात्मिक सशक्तिकरण के  लिए व्यक्ति कई तरीकों से आध्यात्मिक सशक्तिकरण तक पहुँच सकता है। इन विधियों में से सबसे आम वैकल्पिक उपचारों के माध्यम हैं। 

नीचे कुछ उदाहरण दिए गए हैं: – 

योग

 योग भारत में उत्पन्न होने वाले मानसिक और शारीरिक विषयों का उपयोग करता है। अधिकांश योग चिकित्सक आज योग का उपयोग व्यायाम के रूप में करते हैं। हालाँकि, ध्यान के इस रूप का उपयोग मोक्ष प्राप्त करने के लिए भी किया जा सकता है। 

मोक्ष वह अवस्था है जहाँ व्यक्ति सभी सांसारिक कष्टों से मुक्ति प्राप्त करता है। यह संस्कृत के एक शब्द से आया है जिसका शाब्दिक अर्थ है मुक्ति या जाने देना। अंत में, व्यक्ति सर्वोच्च ब्रह्म नामक अपनी पहचान खोजने में सक्षम होता है। योग करने से व्यक्ति को शांति का अनुभव करते हुए खुद के साथ एक स्थिर संबंध बनाने में मदद मिल सकती है। 

रेकी

 इस पद्धति की उत्पत्ति जापान में हुई थी और इसका अर्थ चीनी ऋण शब्द से आध्यात्मिक शक्ति है। माउंट कुरामा में 21 दिनों के एकांतवास के बाद रेकी की उत्पत्ति मिकाओ उसुई से हुई। 

रेकी के अभ्यासियों का लक्ष्य इसके सिद्धांतों का पालन करना है जिसमें शामिल हैं:- 

  • → क्रोधित ना हों 
  • → चिंता न करें 
  • → आभारी रहें 
  • → सत्यनिष्ठा के साथ कार्य करें 
  • → दूसरों के प्रति दयालु रहें 

रेकी एक सार्वभौमिक आध्यात्मिक ऊर्जा का भी उपयोग करता है जो वास्तव में एक उपचार प्रभाव है। कोई भी इस ऊर्जा को प्राप्त कर सकता है लेकिन उसे रेकी मास्टर द्वारा की गई समायोजन की प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है।

 एर मेई क्यूई गोंग 

इस प्रकार के अभ्यास का मानना ​​​​है कि क्यूई नामक पदार्थ का एक अनूठा रूप दूसरों को उपचार प्रदान करने और अच्छे स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के साथ-साथ आध्यात्मिक सशक्तिकरण में मदद करने के लिए प्रेषित किया जा सकता है। कुछ लोगों का यह भी मानना ​​है कि वे दूरदर्शिता और टेलीपैथी में अपने कौशल को विकसित करने में सक्षम हैं। 

वैकल्पिक चिकित्सा का चुनाव, यदि बिल्कुल भी, वास्तव में आप पर निर्भर करेगा और आप किन अभ्यासों को करने में सबसे अधिक सहज हैं। इसके अलावा, यहां सूचीबद्ध उपचारों के अलावा कई अन्य उपचार भी हैं जिनसे आप गुजर सकते हैं। 

4: अपने स्वयं के व्यक्तिगत आध्यात्मिक प्रशिक्षण होने के नाते 

 आत्म-साक्षात्कार और आत्म-विकास आध्यात्मिक सशक्तिकरण की आपकी यात्रा के दो सबसे महत्वपूर्ण हथियार हैं। 

अपने स्वयं के आध्यात्मिक प्रशिक्षक

प्रशिक्षक होने के नाते आध्यात्मिक सशक्तिकरण के लिए अपने रास्ते पर ध्यान और वैकल्पिक उपचारों का उपयोग करके अन्य लोगों से मदद लेना ही पर्याप्त नहीं है। यह बहुत मददगार होगा यदि आप स्वयं के लिए व्यक्तिगत कोच बनने में सक्षम होते हैं ताकि यदि आप कोई गलती करते हैं तो आप आसानी से आलोचना कर सकते हैं। 

एक समृद्ध और सशक्त आध्यात्मिक जीवन होने का अर्थ

यह होगा कि व्यक्ति स्वयं को स्वीकार करने में सक्षम है, चाहे उसकी कोई भी सीमाएँ क्यों न हों। जब आप इसे स्वीकार करने में विफल हो जाते हैं और चीजों के लिए खुद को दोषी ठहराते हैं क्योंकि आप एक कमजोर व्यक्ति हैं जिसमें बहुत कम क्षमताएं हैं, तो आपको उस हिस्से को भूलने के लिए खुद को प्रशिक्षित करना शुरू कर देना चाहिए।

ध्यान रखें कि आप आध्यात्मिक सशक्तिकरण की राह पर हैं, अगर आप चीजों को सुधारने और स्वीकार करने में खुद की मदद नहीं करते हैं, तो उस पहलू में कोई और आपकी मदद नहीं कर सकता है। 

यह भी महत्वपूर्ण है कि आप अतीत में की गई गलतियों को हमेशा याद रखें और पीछे हटने और दूसरे रास्ते पर जाने के बजाय उन पर कार्रवाई करें। यह मत भूलो कि गलतियाँ ही व्यक्ति को आकार देती हैं और कभी-कभी, वे अपरिहार्य हो सकती हैं। गलती से कोई भी हमेशा कुछ सीख सकता है और जब वह ऐसा करता है, तो वह फिर से वही कार्य नहीं करने के लिए प्रतिबद्ध होता है। 

हालाँकि, आपको यह भी याद रखना चाहिए कि एक व्यक्ति सीखता है और सुधार करता है। आप हमेशा यह नहीं कह सकते कि गलती करना अपरिहार्य है क्योंकि यह हो सकता है – जब यह बार-बार होता है। फिर से वही गलतियाँ करना इस बात का संकेत है कि आप आध्यात्मिक सशक्तिकरण के मामले में खुद को बेहतर बनाने और एक पायदान ऊपर जाने में मदद करने के लिए कुछ नहीं कर रहे हैं। 

अपने खुद के कोच बनें –

 आप एकमात्र ऐसे व्यक्ति हैं जो हमेशा आपका साथ दे सकते हैं और किसी भी गलती की जांच कर सकते हैं जो आप कर सकते हैं। आप ही  एकमात्र व्यक्ति हैं जो खुद को फिर से वही गलती नहीं करने के लिए प्रेरित कर सकते हैं। 

5: जीवन से सीखना और आगे बढ़ना 

 अनुभव सबसे योग्य गुरु है। 

जीवन से सीखना और आगे बढ़ना 

जब आप आध्यात्मिक विकास की प्रक्रिया से गुजरते हैं, तो शुरुआत में यह हमेशा एक गारंटीकृत सफलता नहीं होती है। कई बार व्यक्ति असफल हो जाता है लेकिन वापस उठने से  ही उसे भविष्य में किसी भी स्थिति का सामना करने के लिए साहस और दृढ़ संकल्प मिलता है। 

यदि आप इस यात्रा पर हैं, तो अपने लक्ष्य को प्राप्त करने की इच्छा होना बहुत जरूरी है –

साथ ही स्वतंत्र, और सशक्त होने की भी। इसे हासिल करने के लिए थोड़ी मेहनत के साथ-साथ थोड़ा धैर्य भी चाहिए। भले ही आप जिस रास्ते पर चल रहे हैं, उसमें आगे कुछ रुकावटें होंगी, लेकिन आपको यह ध्यान रखना चाहिए कि सब कुछ जल्द ही खत्म हो जाएगा और अगर आप अपना ध्यान उस पर केंद्रित करते हैं, तो आपको यह नहीं देखना चाहिए कि आप पहले ही अपने लक्ष्य तक पहुँच चुके हैं। 

तब यह महत्वपूर्ण है कि हर बार जब आप असफल हों और गलती करें; आप यह स्वीकार करना सीखते हैं कि आप में भी कुछ सीमाएँ हैं।

आप पूर्ण नहीं हो सकते हैं लेकिन आप सबसे अच्छा बनने की कोशिश कर रहे हैं, जो आप हो सकते हैं। जब आप गलतियाँ करते हैं, जो अक्सर शुरुआत में अपरिहार्य होती हैं, तो उदास महसूस करना सामान्य है।

हालाँकि, यह विफलता आपके लिए नाराज़ होने और यहाँ तक कि पीछे हटने और अपने पुराने तरीकों पर वापस जाने का कारण नहीं होनी चाहिए। इसके बजाय, आपको इसे एक कदम-पत्थर के रूप में उपयोग करना चाहिए ताकि आप अपने आध्यात्मिक लक्ष्य की ओर आगे बढ़ सकें। 

जब आप इस यात्रा में सफल हो जाते हैं, तो यह बहुत सुखद और हल्का महसूस होना चाहिए।

आप अपनी कड़ी मेहनत और अपने दृढ़ संकल्प के कारण अपने लक्ष्य तक पहुँचे हैं। साहस इसलिए भी जरूरी है ताकि आप अपनी कमियों का बहादुरी से सामना कर सकें और उसे स्वीकार करना सीख सकें। खामियां एक व्यक्ति का एक हिस्सा हैं और इससे बचा नहीं जा सकता है, यह एक बाधा नहीं होनी चाहिए कि वह अपने लक्ष्य पर आगे क्यों नहीं बढ़ सका। 

6: आध्यात्मिकता और धन – समीकरण को समझना

 धन का पहलू वास्तव में आध्यात्मिकता का हिस्सा नहीं है, लेकिन हम चीजों को उस ओर मोड़ सकते हैं। 

आध्यात्मिकता और धन – 

समीकरण को समझना जब हम आध्यात्मिक सशक्तिकरण प्राप्त करने का प्रयास करते हैं, तो दुनिया के सभी प्रलोभनों के खिलाफ जाना कठिन हो सकता है। पैसे की पेशकश करने के लिए खुद को शामिल करने से बचना मुश्किल हो सकता है। जैसा कि वे कहते हैं, पैसा दुनिया को गोल कर देता है और कई बार, हम यह भूल जाते हैं कि दुनिया में खुशी के और भी रूप हैं जिन्हें कोई भी पैसा नहीं खरीद सकता है। हालाँकि, आध्यात्मिक लोगों के लिए ऐसा नहीं है। 

जब कोई आध्यात्मिक होता है तो आध्यात्मिक व्यक्ति अपने बारे में अधिक जागरूक होता है। 

व्यक्ति अपने परिवेश और लोगों की पीड़ाओं के प्रति अधिक जागरूक होता है। यही कारण है कि उनमें से कई भौतिक धन के पीछे नहीं हैं। इस प्रकार के लोग जीवन की छोटी-छोटी खुशियों में अधिक खुशी और तृप्ति पाते हैं जो पैसा नहीं ला पा रहा है। इस प्रकार, वे पैसे के बारे में एक अलग दृष्टिकोण और अवधारणा रखने में सक्षम हैं, यह हमारे जीवन और हमारे आस-पास के लोगों के लिए भी क्या कर सकता है। 

उनके विचार

 बेशक पैसे के इस्तेमाल से बचा नहीं जा सकता। हालाँकि, एक व्यक्ति जिसने आध्यात्मिक ज्ञान प्राप्त किया है, वह केवल धन को एक साध्य के रूप में देखता है, न कि किसी और चीज के रूप में। जो लोग समाज के लिए कुछ करना चाहते हैं, वे अपने लिए नहीं बल्कि अपने आसपास के लोगों की जरूरतों को पूरा करने के लिए मेहनत करते हैं। वे दान में देते हैं और इससे कुछ हासिल करने की उम्मीद किए बिना जरूरतमंद लोगों की मदद करते हैं। 

ज्ञानी लोग धन के पीछे नहीं भागते। इसके बजाय, वे इसे वैसे ही स्वीकार करते हैं जैसे यह आता है। जरूरी सामान खरीदने के लिए अभी भी पैसे की जरूरत है लेकिन उन चीजों के लिए नहीं जो खुशी ला सकती हैं। ये लोग मानते हैं कि पैसे से उन्हें जो चाहिए वो मिल सकता है लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि उनकी सारी खुशी इसी पर निर्भर है।

7: आकर्षण के नियम के रहस्य को समझना

आकर्षण के नियम को आध्यात्मिकता की नई लहर माना जाता है, हालांकि यह दुनिया के सबसे पुराने मौजूदा रहस्यों में से एक है।

आकर्षण के नियम के रहस्य को समझना

 क्या आप कभी जानते हैं कि आध्यात्मिक सशक्तिकरण का क्वांटम भौतिकी से कुछ लेना-देना है? आपको शायद विश्वास न हो लेकिन ऐसा होता है। 

यहाँ क्यों है: –

 एक क्वांटम भौतिकी कानून

 विशेषज्ञों के अनुसार, आकर्षण का नियम क्वांटम भौतिकी के लिए अपनी जड़ों का पता लगाता है। हालांकि, वैज्ञानिक समुदाय के कई लोगों का मानना ​​है कि यह कानून पहले से ही छद्म विज्ञान से संबंधित है। 

आकर्षण का नियम कहता है कि कोई व्यक्ति अपनी ऊर्जा का उपयोग अपने लाभ के लिए कर सकता है जब वह चार सिद्धांतों का पालन करता है: – 
  • 1) आपके पास इस बात की विशिष्टता होनी चाहिए कि आप क्या हासिल करना चाहते हैं। 
  • 2) आपको दुनिया से इसे आपको देने के लिए कहना चाहिए। 
  • 3) आपको यह सोचना और महसूस करना चाहिए कि आपने पहले ही वह पा लिया है जो आप वास्तव में प्राप्त करना चाहते हैं। 
  • 4) आपको इसके आने के लिए तैयार रहना चाहिए और इसके साथ आने वाले किसी भी संबंध को जाने देना चाहिए। इस प्रकार, कानून कहता है कि जब आप सोचते हैं कि कुछ आपके साथ पहले से ही हो रहा है, तो इस बात की बहुत अधिक संभावना है कि यह वास्तव में आपके साथ होगा। 

यह आध्यात्मिक सशक्तिकरण से कैसे जुड़ा है

 आप पहले से ही जानते हैं कि आध्यात्मिक सशक्तिकरण और समृद्धि वह है जिसे आप प्राप्त करना चाहते हैं। जब आप इसे कुछ ऐसा सोचने लगते हैं जो पहले से ही आप में है, तो आप भी ऐसा कार्य करने लगते हैं जैसे कि आपके पास पहले से ही वह अधिकार है।

इस प्रकार, आपके कार्यों से आपको यह पता लगाने में मदद मिलेगी कि चीजों का पालन करते समय आपको क्या करने की आवश्यकता है। बाद में, आप कभी भी यह नोटिस नहीं करेंगे कि आप जो हासिल करना चाहते हैं, आप पहले ही पहुंच चुके हैं और आप उन अन्य चीजों को छोड़ देते हैं जो आपको इसे हासिल करने से रोक रही हैं। 

जब आप आध्यात्मिक ज्ञान के लिए अपनी यात्रा में होते हैं, तो यह महत्वपूर्ण है कि यदि आप एक प्रबुद्ध व्यक्ति को महसूस करते हैं और उस तरह से कार्य करना शुरू करते हैं, तो आप किसी भी नकारात्मक ऊर्जा (वाइब्स) को भी दूर रखेंगे। क्योंकि आप जो सोचते हैं वह आपके आस-पास की ऊर्जा को आकर्षित करेगा, नकारात्मक ऊर्जा को भी बाहर रखने के लिए अपने दिमाग से नकारात्मक विचारों को दूर रखना सबसे अच्छा है। 

8: सोचना और समृद्ध बनना  

 विचार परिणाम बनाता है। 

सोचना और अमीर बनना

 आकर्षण का नियम अमीर बनने के पहलू सहित कई उपयोगों के साथ पाया गया है। इस नियम के अनुसार आपके विचारों में एक ऊर्जा होती है जो जीवन में अन्य परिस्थितियों को आकर्षित कर सकती है। यद्यपि इसे छद्म विज्ञान के एक भाग के रूप में खारिज कर दिया गया है, फिर भी हमारे जीवन में ऐसे कई उदाहरण हैं जहां हम जानते हैं कि आकर्षण का नियम होता है। 

अमीर बनने पर

 आकर्षण का नियम कहता है कि यदि कोई व्यक्ति मन में किसी विशिष्ट लक्ष्य के बारे में सोचता है, महसूस करता है, और जानता है जैसे कि यह पहले से ही एक सत्य है, तो चीजें पालन करना शुरू हो जाएंगी और ब्रह्मांड इसे एक वास्तविकता बनाने के लिए षडयंत्र करने लगेगा। 

बहुत से लोग मानते हैं कि अमीर बनने की चाहत में जब वे ऐसा ही करने लगते हैं तो वे भी एक हो जाते हैं। बेशक, यह घटना तुरंत नहीं होती है। जब आप यह सोचने लगते हैं कि आप पहले से ही अमीर हैं, या एक हो रहे हैं, तो आपके कार्यों में भी बदलाव आने लगता है।

आप अनजाने में ऐसी चीजें करते हैं जो वास्तव में आपको अमीर बना सकती हैं और उसमें सफल हो सकती हैं, यही कारण है कि हम में से बहुत से लोग सोचते हैं कि पूरी दुनिया इसे चाहती थी, यह वास्तव में हमारे अपने कार्यों के अनुसार ही होगा। 

प्रयास में सफल होने पर

 यदि आप सफल होना चाहते हैं, तो यह भी कुछ ऐसा होना चाहिए जिसे आप ध्यान में रखना चाहते हैं। एक व्यक्ति जो सफलता में विश्वास करता है, उसमें आत्मविश्वास होगा, जो उसे स्थान दिला सकता है। जब कोई व्यवसाय सहयोगी या ग्राहक किसी ऐसे व्यक्ति से मिलता है जिसके पास यह गुण होता है, तो वे उस व्यक्ति के साथ सौदा करने के लिए भी आश्वस्त हो जाते हैं क्योंकि वे उस व्यक्ति पर भरोसा कर सकते हैं और उन्हें विश्वास होगा कि वे उन्हें सफलता भी दिला सकते हैं। 

अपने सरल शब्दों में, आकर्षण का नियम इस तरह काम करता है। जिस व्यक्ति में सकारात्मक ऊर्जा होती है, वह निश्चित रूप से सकारात्मक ऊर्जा को भी आकर्षित करता है और नकारात्मकता को रोकता है, सफलता की गारंटी देता है। 

9: अपने शरीर के आंतरिक और बाहरी पहलुओं के बीच सही संतुलन 

 सही संतुलन भौतिक और आध्यात्मिक शांति प्राप्त करने की कुंजी है। 

अपने शरीर के आंतरिक और बाहरी पहलुओं के बीच संतुलन बनाना

 आध्यात्मिक रूप से सशक्त होने के कारण हमें न केवल अपने बारे में बल्कि दूसरों और अपने परिवेश के बारे में भी जागरूकता आती है। हालांकि, कई बार ये अवधारणाएं टकरा सकती हैं, यही कारण है कि दोनों के बीच संतुलन बनाए रखना चाहिए। 

शरीर के आंतरिक पहलू

 एक प्रबुद्ध व्यक्ति अपने स्वयं के, अपने शरीर, अपनी क्षमताओं के साथ-साथ सीमाओं और दोषों के बारे में पूरी तरह से जागरूक हो जाता है। हालांकि, एक व्यक्ति जो आध्यात्मिक रूप से सशक्त है, वह अपनी कमजोरियों को स्वीकार कर सकता है, उस पर काम कर सकता है और इसे सुधार के लिए एक मील का पत्थर बना सकता है, न कि एक बाधा के रूप में। 

शरीर के बाहरी पहलू

 जबकि शरीर में ऐसी जरूरतें हैं जिन्हें पूरा करना है, हमें दूसरों को भी याद रखना चाहिए, जिसके बारे में हमें भी सोचना है। हो सकता है कि आपने अपने लिए स्वतंत्रता का अनुभव किया हो, लेकिन यह बेकार है जब आप अपने आस-पास देखते हैं कि लोगों को समान अनुभव नहीं हो रहा है। यह एक ऐसा समय है जब आप जिन सिद्धांतों के द्वारा जीना चाहते हैं, वे आपस में टकराने लगते हैं, 

दोनों के बीच संतुलन

 आमतौर पर, जिन लोगों ने इस स्वतंत्रता का अनुभव किया है, वे दूसरों को भी वही देना चाहेंगे जो उन्होंने भी अनुभव किया है। अपने भीतर खुशी महसूस करने में सक्षम होना ही पर्याप्त नहीं है बल्कि अन्य लोगों के साथ बातचीत में भी। यह उस व्यक्ति को सुनिश्चित करेगा कि वह न केवल अपने लिए बल्कि अपने परिवेश के लिए भी काम कर रहा है, इस प्रकार एक संतुलन बना रहा है। 

इसके अलावा, अपने भीतर महसूस की गई खुशी अधूरी है अगर व्यक्ति पाता है कि उसका परिवेश उसे वह खुशी और ज्ञान नहीं दे सकता है जिसे हासिल करने के लिए उसने इतनी मेहनत की थी। यही कारण है कि  लोग जो कुछ भी जानते हैं उसे फैलाने और सिखाने की कोशिश करते हैं ताकि शरीर के बाहरी और अंदरूनी पहलुओं की खुशी के बीच संतुलन हासिल हो सके। 

10: आध्यात्मिक निर्वाण की ओर बढ़ना 

 निर्वाण आध्यात्मिक सशक्तिकरण का अंतिम चरण है। बहुत कम लोगों ने इसे कभी प्राप्त किया है, लेकिन फिर निर्वाण क्या है यदि आपकी अपनी मनःस्थिति नहीं है? निर्वाण संभव है, भले ही आप पृथ्वी पर हों। 

आध्यात्मिक निर्वाण की ओर बढ़ते हुए

 प्रत्येक यात्रा का अंत होता है और प्रत्येक उपक्रम जिसे आप स्वयं करते हैं उसका एक लक्ष्य होता है जिसे अंत में प्राप्त करना होता है। जैसे-जैसे आप आध्यात्मिक सशक्तिकरण की प्रक्रिया से गुजरते हैं, आप न केवल स्वतंत्रता का अनुभव करते हैं बल्कि आप निर्वाण के करीब भी जाते हैं। 

निर्वाण क्या है?

 कहा जाता है कि निर्वाण एक पाली शब्द से आया है जिसका अर्थ है, “उड़ाना”। इस प्रकार, इसका अर्थ है कि निर्वाण का अनुभव करने वाले व्यक्ति ने लोभ और घृणा को दूर कर दिया है और वह दुख से मुक्त हो गया है।

बौद्ध धर्म में, निर्वाण को एक ऐसी अवस्था कहा जाता है जहाँ एक व्यक्ति अपने मन की पूर्ण शांति प्राप्त करता है और अनुभव करता है और खुद को तृष्णा, क्रोध और अन्य कष्टों से मुक्त करता है। वह भी दुनिया के साथ शांति में हो जाता है, अन्य लोगों के लिए दया और शांत विचार देता है, और वो अब भौतिक चीजों के प्रति जुनूनी नहीं है। 

यह कैसे हासिल किया जाता है? 

पाली सिद्धांत के अनुसार, निर्वाण कई तरीकों से प्राप्त किया जा सकता है। सबसे पहले, इसे केवल अंतर्दृष्टि और आत्म-जागरूकता से प्राप्त किया जा सकता है या इसे समझ के माध्यम से प्राप्त किया जा सकता है।

निर्वाण एक व्यक्ति के कर्मों और धार्मिकता के साथ-साथ गुण, समझ और चेतना के माध्यम से भी प्राप्त किया जा सकता है। इसे कुछ प्रयास और एकाग्रता के साथ या दिमागीपन की चार नींवों के माध्यम से भी प्राप्त किया जा सकता है, जिसमें शरीर, संवेदनाएं, मन और मानसिक सामग्री शामिल हैं। 

यदि आप इन सभी चीजों को संक्षेप में प्रस्तुत करते हैं, तो आध्यात्मिक सशक्तिकरण का मार्ग, जो अंततः निर्वाण की ओर ले जाता है, बुद्ध के त्रिस्तरीय प्रशिक्षण के समान है, जिसमें ज्ञान, मानसिक विकास और सद्गुण शामिल हैं।

एक व्यक्ति जो सही भाषण, क्रिया, आजीविका, प्रयास, दिमागीपन, एकाग्रता, समझ और इरादे के साथ जीवन जीने में सक्षम है, वह आत्मज्ञान के सही रास्ते तक पहुंचने में सक्षम है। जब ऐसा होता है, तो व्यक्ति भौतिक दुनिया से जुड़ा नहीं रहता है और वह अपने जीवन में एक अलग तरह का सुख और संतोष पाता है। 

निष्कर्ष

आत्मा को सशक्त बनाना एक बहुत लंबा क्रम है। इसके लिए उच्च अनुशासन,

मन की एक विशेष सीमा और बहुत त्याग की आवश्यकता होती है। लेकिन जब आप इस अवस्था को प्राप्त कर लेते हैं, तो आप के लिए कुछ मुश्किल नहीं होता है।

शुभ कामनायें 

आपका सब कुछ बहुत बढ़िया हो!!!

https://onwebstory.com/

https://optimalhealth.in/spirituality-2/

https://newsxpress.digital/

https://plrmrr.org/

Learning Assertiveness Skills, And 4 Better Communication Techniques

Featured

Learning Assertiveness Skills, And 4 Better Communication Techniques

Learning Assertiveness Skills

How to learn assertiveness skills? Being assertive has often been defined as being self-assured and confident.  Most often being assertive has been identified with being strong and in control.  Being assertive means being able to express how you feel and at the same time being in control of those feelings.

A person who asserts his rights refers to someone who is so confident he is on the right track that he will do anything and everything to make sure such right is protected.  The characteristic of being assertive can be used to control a person’s emotions, especially his anger.

skills, competencies, brain-6664156.jpg
Learning Assertiveness Skills, And 4 Better Communication Techniques

Anger is a natural emotion but knowing how to express the anger that a person feels takes a lot of practice.  An angry person will usually react in an aggressive manner which means being combative with the object of his anger.  Expressing anger in this manner will only produce a negative effect not only on the object of the anger but more importantly on the person who is expressing his anger.

There is a huge difference between being assertive and being aggressive. 

A person who has tried expressing his anger in an aggressive manner will tell you how draining it is afterward.  Expressing anger can be tiring physically and emotionally and it can lead to an emotional breakdown.  However, a person who has mastered the art of expressing his anger can be a winner in more ways than one.

Of course, it will always be difficult to think straight when one is angry.  But this is the trick and the art of mastering your emotions. A man should never allow himself to be a victim of his emotions and his primitive desires.  It may temporarily feel good to lash out at someone in anger but knowing the consequences can help a person control his rage.

An angry person can choose to express his anger and suffer the emotional and physical payoff later on.  He can choose to keep his anger to himself and risk the possibility of getting heart problems.  The best way to express anger is to manage your emotions and learn how to communicate what you feel to the other person without getting into a tirade.

Being assertive in expressing anger means being able to tell the object of your anger what you want and what the other party can do to achieve what you want.  Communicating things clearly is always better than getting into a tirade and hurting others and yourself too.

Optimal Health - assertivenss for self repect respected respectful Assertive Way2 1024x576 1 - Optimal Health - Health Is True Wealth.
Learning Assertiveness Skills, And 4 Better Communication Techniques

Most often people get angry because they do not like the way things are being done. 

Sometimes, they do not like the way they are being treated by others.  To make sure you have a solution for your anger, you have to communicate your needs to the other person by being assertive.  Perhaps, the other person is not aware of your needs or is not aware that he is already riling you.  You have nothing to lose by being assertive and explaining what you want and your point of view.

Developing assertiveness skills will take time but the more you practice being assertive the nearer you will be to your goal.  Possessing assertiveness skills means being in control of your emotions and being able to express such emotions in a calm manner.  Being calm will ensure that you are able to get your feelings across without necessarily exhibiting the common manifestations of anger like shouting and hitting or throwing things.

Like most life skills, assertiveness skills can be developed over time but once a person gets the hang of it he can already make use of his assertiveness skills to express his anger logically.  Being able to do this is a win-win situation because assertiveness skills will enable a person to express his anger calmly and at the same time, it will enable him to get what he wants.

If you are angry and you feel like striking the object of your anger then do something that can release your anger.  Try releasing pent-up emotions by going for a walk or using any of the other coping mechanisms we have included in this guide.  One thing to remember is that releasing sweat can work miracles in releasing and letting go of stress and anger. 

Optimal Health - no is a complete sentence blog 1.jpgt1475759903340ampwidth447ampnameno is a complete sentence blog 1 - Optimal Health - Health Is True Wealth.
Learning Assertiveness Skills, And 4 Better Communication Techniques

Learning Better Communication Techniques

Manage your Anger by Learning to Communicate Better.

For at least once in our lives, we have all felt anger – either at a person, a circumstance, or both. We all know what it feels like to be so completely infuriated at someone (or something) that we almost reach our boiling point.

And while anger is considered to be normal – if not healthy – emotion, as we have discussed, it can also dangerously take over a person’s life if it gets out of control and destructive, leaving him feeling as if he was at the mercy of a vicious, powerful and uncontrollable emotion.

Thankfully there are ways to prevent or manage such extreme levels of anger. And one very important step to proper anger management is learning better communication skills.

Now, anger and communication may seem like two entirely different things, but they are actually quite related – and the improvement of the former may be one of the best solutions for the control of the latter. Here are a few explanations:

Better communication allows you to assert yourself.

You might think that being assertive is the same as being aggressive as we previously discussed. And while they are both possible ways to express and show one’s anger, they are entirely different in approach and lead to entirely different consequences.

To begin with, while becoming aggressive due to anger may lead to violence, be it physical or emotional, being assertive allows a person to express himself in a healthier, less harmful approach, leading one to share the root and possible causes of his anger by communicating it appropriately. As such, while being aggressive leads to more problems and even more damage, the consequences of becoming assertive are far less harmful, and may even be constructive and helpful.

Constant and open communication keeps you from “bottling up” your hidden emotions – and more importantly, your hidden anger, for that matter.

People can be like volcanoes – they lay dormant for years and years, on the surface seemingly at peace, but underneath they are actually boiling with anger, ready to erupt at any moment. To avoid such destructive “eruptions”, that is, to keep one’s anger at bay, it is important for a person to be able to regularly vent frustrations in a healthy and manageable way.

And the most practical approach to this is by sharing and relating them to other people. You may talk to your friends, your significant other, or a psychiatrist.  In any case, verbally expressing the potential sources of anger is an effective solution to keep a person from those eruptions of anger.

Better communication skills lead to better listening skills.

Communication doesn’t always have to mean being able to talk about one’s feelings openly – it also means being able to listen intently to others. And listening is of great importance when trying to keep your anger at bay.

For instance, should you find yourself in a highly intense argument with another person your uncontrolled anger may lead you to become extremely aggressive and even violent, to the point of no logic or reason? But if at first, you had attempted to listen to the other person’s side of the story instead of hastily and angrily defending yours, you would have saved yourself the headache and the damage brought about by a fistfight and a bad reputation.  

Better communication means you think before you speak (and act).

People who can’t seem to control their anger often find themselves jumping to conclusions – they allow themselves to be taken over by their emotions and eventually find themselves acting on pure instinct, without logic or reason.

With better communication skills, a person learns to find calm in a heated argument or an extremely tense situation, able to step back and think about what’s going on. This way, he is able to decide on a more appropriate method of addressing a problem and finding a solution. Besides, no one ever got ahead by jumping to conclusions.

There are many ways to improve your communication skills and better deal with anger management issues. You can try self-help books, or seek the advice of a psychiatrist. Whatever approach you choose, it is your willingness to learn and change the ways that will help you resolve your issues.

https://bookauthority.org/books/best-focus-books

https://youtu.be/7PhDc6RtKwM

Anger: Early Warning Signs And Your Triggers, Commit To Change And Manage Anger, Taking Time Out

Substance Abuse, Depression and Anger, Catastrophic Stress = Catastrophic Anger

Featured

Substance Abuse, Depression and Anger, Catastrophic Stress = Catastrophic Anger

Substance Abuse, Depression and Anger. Why substance abuse leads to depression and anger? Substance abuse has been responsible for the destruction of millions of lives all over the world.  It has destroyed careers, reputations, lives, families and even the society itself.  Up to the present time, substance abuse is still the number one destructive force in society.

People usually relate substance abuse with the use of prohibited drugs like marijuana and cocaine. 

As man became more sophisticated, his tendency to become a slave to substances has also become more complex.  People have outgrown marijuana and have resorted to other substances like Ecstasy, alcohol and other substances that money can find in the urban world.

Substance Abuse, Depression and Anger, Catastrophic Stress = Catastrophic Anger

The number of people becoming victims to substance abuse has grown by millions. 

Such addiction has become so widespread it has managed to seep into every nook and cranny of life and no longer exclusive to a certain caste or level of society.  Substance abuse has become a common occurrence among the rich and the poor, the educated and the ignorant, the decent and the barbaric people of the world.

Among the sector particularly susceptible to substance abuse are the youth.  Young people who have not yet matured enough to become responsible members of society are being corrupted by substance abuse.  They are being destroyed even before they have found their place in the world and this is because they are easily swayed into proving themselves to their friends.

But this is not to say that the matured sector of society is exempted from the malady called substance abuse.  Even so-called decent people who have good reputations and who have made names for themselves have become enslaved by this abuse.  These people believe they are doing this for fun or for simple pleasure not knowing that they are already destroying their careers, their lives and their families.

Substance abuse is a menace to society because it does not only ruin the person who is prone to abusing substances. 

This malady has also ruined relationships and the lives of countless people who have made contact with the abuser.  Substance abuse is, in fact, destroying the very core of the family unit.

One does not immediately see the effects of substance abuse especially among family members but when the signs have become so remarkable the family members can no longer do anything to keep their loved one from self destruction.

A person who is abusing any substance is prone to anger because he can no longer control his vice. 

This anger will reverberate to the closest friends, his loved ones and ultimately to the society in which he is a member.  A person who has been abusing substance for quite sometime will ultimately experience bouts of depression and self pity until he can no longer control his emotions.

Seeing a person, especially a family member or a close friend going into self destruction is not an easy thing.  The anger that boils inside the abuser will ultimately consume everyone in his circle. 

There will come a time when anger and depression become so intense that the abuser will think that everyone is against him. Some abusers resort to violent means in getting what they want.  Some abusers can no longer bear the anger and the loneliness and they go so far as to commit suicide.

Substance abusers need very supportive family and friends to keep them on track.

  However, some family members will reach a point in their lives when they can no longer deal with the abuser.  It really is a heavy emotional burden for everyone concerned.

But there is still hope to save the life of a substance abuser.  Those concerned should immediately discuss the problem with an expert so they would know what to do and what to expect from the abuser.  This way they will not be leading the abuser into feeling more angry and depressed about his situation.

Substance abuse starts from a single drop of alcohol or a taste of any abusive substance. 

Abusing any substance can lead to a temporary high but it will ultimately lead to self destruction and a lifetime of hell.  It is better to resist anything that is even remotely related to substance abuse rather than regret a single incident later on.

It is never easy to help a substance abuser nor is it easy for a substance abuser to help himself.  There will always be sacrifices, trade offs and even regrets.  However, nothing is impossible if the abuser and his family are determined to get him back from the clutches of addiction.

Substance Abuse, Depression and Anger, Catastrophic Stress = Catastrophic Anger

Catastrophic Stress = Catastrophic Anger

Can catastrophic stress lead to catastrophic anger?

Listen to people when they tell you not to make a decision when you are angry or stressed out because you may regret such a decision later on.  The art of listening to such advice can turn out favorable to you in the long term especially if the decisions you will be making are very important to your life or to the people you care about.

An angry person can do anything illogically when he is in the middle of his anger.  Some people who are normally serene can become extremely violent in the middle of an angry outburst.  However, most of them regret what they have done later on when their anger has already cooled off.   Therefore, it is important to be able to control your emotions when under pressure.  

A person who is under catastrophic stress can become too angry to give careful and logical thought about his actions. 

Notice how stressed people can produce illogical decisions because of catastrophic anger even when faced with a minor problem.  This is because a person who is stressed out forgets all the decent training he has undergone and suddenly reverts to a primitive state.

A primitive man does not bother with the consequences of his actions or decisions for as long as he can vent his anger towards another person or thing.  The same happens to a person who is under catastrophic stress.  This person becomes so angry that he allows his emotions to rule his mind and intellect.

Regular exposure to stressful situations can have serious repercussions on the health of a person, both physically and mentally. 

Too much pressure can lead a person to depression and emotional imbalance.  Some people who are regularly exposed to stressful situations try to survive by resorting to unhealthy solutions like smoking and drinking.

Stress can definitely put a person in the hot seat but it is really up to that person if he allows himself to become a slave to the effects of stress.  While stressful situations can be very difficult to control, there are ways to avoid stressful situations.  Moreover, a person can devise a way to avoid the negative effects of stress upon him.

The first move to take is to learn from individual experiences and take note of the circumstances that causes stress.

A person who acknowledges that something or someone has a stressful effect on him can try to avoid meting such person or avoid that situation.   If the cause of stress cannot be avoided then a person can try to change his reaction to the stressful factor.   For instance, if meeting a certain person causes him to react negatively then he should try to think of other things that would make the situation lighter or easier on him.

This is called stress management, the art of being able to control the factors that are causing stressful events or occurrences.

Some causes of stress include routine home activities like taking care of the children or working.  The pressure brought about by these factors is natural but when the pressure gets too hot to handle then you might find some ways to keep the heat off like taking a walk by yourself, biking, exercising or listening to smoothing music.

You will find additional ways to deal with stress in other chapters in this guide.

The fact that a person who already feels the pressure means everything has become too much for him to handle.  To remedy this, take one thing at a time.  Make sure that you don’t hurry or force yourself to do things.  Sometimes, taking the time to enjoy what you are doing can take the pressure off.

Stress is actually good because it makes a person aware that he is rushing in, doing too much and not taking time to smell the roses. 

https://youtu.be/7PhDc6RtKwM

https://bookauthority.org/books/best-behavioral-economics-books

Relaxation To Counteract Anger, One Thing At A Time

नर्स सहायक बनें। [Become A Nursing Assistant]

Featured

नर्स सहायक बनें। [Become A Nursing Assistant]

नर्स सहायक बनें। [Become A Nursing Assistant]. यदि आप अन्य लोगों की मदद करना पसंद करते हैं, तो चिकित्सा क्षेत्र में करियर आपके लिए एक विकल्प हो सकता है। यह क्षेत्र हमेशा योग्य अनुकंपा व्यक्तियों की मांग में रहता है, जो दूसरों की मदद करने के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास करने को तैयार रहते हैं। एक सहायक नर्स एक प्रवेश स्तर की स्थिति है, जो आपको दूसरों की मदद करने और चिकित्सा क्षेत्र में अनुभव प्राप्त करने का अवसर प्रदान करेगी। 

चूंकि पूरे देश में नर्स सहायकों की आवश्यकता है, आप कहीं भी रोजगार के अवसरों को सुरक्षित करने में सक्षम होंगे।

चिकित्सा क्षेत्र के अधिकांश क्षेत्रों में नौकरी की सुरक्षा बहुत अधिक है।

आपका प्रमाणपत्र अर्जित करने के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम सभी राज्य के नियमों के आधार पर भिन्न होते हैं। हालांकि, अधिकांश को औसतन चार से छह सप्ताह में पूरा किया जा सकता है। ऐसे कार्यक्रमों की लागत बहुत कम है। 

यदि आपको पाठ्यक्रम की लागत के लिए सहायता की आवश्यकता है, तो कई कार्यक्रम छात्रवृत्ति या वित्तीय सहायता प्रदान करते हैं। इसके अलावा, मानव सेवा जैसी कई सामुदायिक एजेंसियां ​​​​इस तरह के प्रशिक्षण पाठ्यक्रम को पूरा करने की लागत में आपकी सहायता करेंगी। चिकित्सा क्षेत्र में कुछ नियोक्ता या तो आपके नर्स सहायक प्रशिक्षण के लिए भुगतान करने या कार्यक्रम के सफल समापन पर आपको प्रतिपूर्ति करने के लिए सहमत होंगे। 

अधिकांश नर्स सहायक कार्यक्रम हर छह से आठ सप्ताह में शुरू होते हैं।

यह पाठ्यक्रम की लंबाई और आपके विशेष क्षेत्र में रुचि पर निर्भर करेगा। यह अधिकांश प्रमाणपत्र कार्यक्रमों से अलग है, जहां आपको नामांकन करने से पहले एक पूर्ण सेमेस्टर समाप्त होने तक इंतजार करना पड़ता है। कभी-कभी इसका मतलब तीन या चार महीने की प्रतीक्षा अवधि हो सकती है।

अपने नर्स सहायक प्रशिक्षण के दौरान, आप कक्षा में सीखने के माहौल में भाग लेंगे और साथ ही व्यावहारिक प्रशिक्षण भी प्राप्त करेंगे। व्यावहारिक प्रशिक्षण के लिए आपको वास्तविक रोगियों के साथ चिकित्सा सुविधा में काम करते हुए कुछ निश्चित घंटों को पूरा करना होता है, जिन्हें नैदानिक ​​कहा जाता है। आपके सभी काम की देखरेख प्रशिक्षित पेशेवर करेंगे, जो उचित प्रक्रियाओं और चिकित्सा समझ के साथ आपकी सहायता करेंगे। 

क्लासरूम लर्निंग और क्लिनिकल के संयोजन के परिणामस्वरूप आप नर्सिंग असिस्टेंट के रूप में जॉब मार्केट में प्रवेश करने के लिए अच्छी तरह से तैयार होंगे। अक्सर, चिकित्सा साइट जो नैदानिक ​​की देखरेख करती है, उन छात्रों को रोजगार की पेशकश करेगी जो अच्छी तरह से सीख रहे हैं, उनकी सुविधा के लिए प्रक्रियाओं का पालन कर रहे हैं, और जो सकारात्मक दृष्टिकोण रखते हैं।

एक नर्स सहायक के रूप में काम करना सही व्यक्ति के लिए बहुत ही रोमांचक और फायदेमंद हो सकता है।

काम चुनौतीपूर्ण है और आप कई बार अपने आप को बढ़ा हुआ पा सकते हैं। मेडिकल सेटिंग में चीजें हर समय बदल जाएंगी, इसलिए नौकरी निश्चित रूप से अनुमानित नहीं है। रोगियों सहित बहुत सारे और कारण हैं, रोगियों की संख्या, अन्य कर्मचारी, और जिन रोगियों के साथ आप काम करते हैं, उनकी चिकित्सा आवश्यकताओं का अनुमान कभी नहीं लगाया जा सकता है।

नर्स असिस्टेंट होने के साथ-साथ एक एंट्री लेवल पोजीशन भी है, यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण पोजीशन भी है।

आप प्रत्येक रोगी के लिए दैनिक जीवन के कई कार्यों के लिए जिम्मेदार होंगे। इन कार्यों में स्नान कराना, संवारना, खिलाना और उनके महत्वपूर्ण संकेतों की जाँच करना शामिल है। आप चिकित्सा उपकरणों के साथ सहायता करने और आवश्यकतानुसार रोगियों को ले जाने के लिए भी जिम्मेदार होंगे। आपके द्वारा काम की जाने वाली सुविधा के आधार पर स्थिति की सटीक आवश्यकताएं अलग-अलग होंगी।

नर्स असिस्टेंट बनने में आमतौर पर ज्यादा समय नहीं लगता है। एक बार जब आप रोजगार प्राप्त कर लेंगे तो आप नर्स सहायक के रूप में अपनी भूमिका के बारे में सीखते रहेंगे। बाकी कर्मचारियों द्वारा आपको चिकित्सा संबंधी जानकारी और प्रक्रियाओं से अवगत कराया जाएगा। यह जानकारी बहुत मूल्यवान होगी। बहुत से लोग अपनी शिक्षा जारी रखने और नर्स बनने या चिकित्सा क्षेत्र में अन्य प्रकार के रोजगार तलाशने के लिए एक नींव के रूप में नर्सिंग सहायक की भूमिका का उपयोग करना चुनते हैं।

नर्स सहायक बनें। [Become A Nursing Assistant]

नर्स सहायक प्रशिक्षण

नर्स सहायक हमारी स्वास्थ्य सुविधाओं में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। वे मरीजों को नहाने, खिलाने और उन्हें कपड़े पहनाने सहित उनकी बुनियादी जरूरतों के संबंध में सहायता प्रदान करते हैं। सहायता का स्तर प्रत्येक रोगी की व्यक्तिगत जरूरतों पर निर्भर करता है। वे नर्सिंग स्टाफ के लिए एक अमूल्य संसाधन भी हैं।

नर्स सहायक बनने के लिए एक प्रमाणपत्र कार्यक्रम पूरा करना आवश्यक है। इस तरह के कार्यक्रम कई चिकित्सा सुविधाओं और कॉलेज परिसरों में उपलब्ध हैं। कार्यक्रमों को कम से कम चार सप्ताह में पूरा किया जा सकता है। अन्य बारह सप्ताह तक चलते हैं। यह पाठ्यक्रम पर निर्भर करता है, राज्य की आवश्यकताओं पर कार्यक्रम हो रहा है, और प्रतिदिन कितने घंटे पाठ्यक्रम संचालित किया जाता है। 

सभी नर्स सहायता पाठ्यक्रम आपको सुरक्षित और पेशेवर तरीके से आपकी देखभाल करने वालों की, देखभाल करने की बुनियादी बुनियादी बातें सिखाएंगे। आपके प्रशिक्षण और नियमित रोजगार दोनों के दौरान आपके काम की निगरानी लाइसेंस प्राप्त नर्सों द्वारा की जाएगी। प्रशिक्षण कार्यक्रम आपको प्रत्येक रोगी की शारीरिक और मनोवैज्ञानिक दोनों आवश्यकताओं की देखभाल करना सिखाएगा। चूंकि आपको सर्टिफाइड नर्सिंग असिस्टेंट परीक्षा को सफलतापूर्वक पास करना होगा, पाठ्यक्रम आपको उस परीक्षा की जानकारी के लिए तैयार करने में मदद करेगा।

नर्स सहायक पाठ्यक्रम के दौरान, आप पाठ्यपुस्तक सामग्री सीखने के साथ-साथ व्यावहारिक प्रशिक्षण में भी शामिल होंगे।

पाठ्यपुस्तक सामग्री में वे सभी शब्दावलियाँ और सूचनाएँ शामिल हैं जिन्हें बनाने के लिए आपको एक ठोस आधार तैयार करने की आवश्यकता है। यह जानकारी उन वस्तुओं को भी कवर करेगी जो प्रमाणित नर्सिंग सहायक परीक्षा में मिलने की संभावना है। आप अपने संचार कौशल को बेहतर बनाने के तरीके भी सीखेंगे। संचार एक महान नर्स सहायक होने की कुंजी है। आपको रोगियों, उनके परिवार और अन्य चिकित्सा कर्मचारियों के साथ संवाद करने में प्रभावी होने की आवश्यकता होगी।

प्रशिक्षण का व्यावहारिक भाग आपको उन अवधारणाओं का अभ्यास करने का अवसर देगा जो आप कक्षा में सीख रहे हैं। अधिकांश प्रशिक्षण कार्यक्रमों में विशेष चिकित्सा पुतले होते हैं जिनके साथ आप काम करते हैं। आप उचित स्नान और उन पर उठाने का अभ्यास करेंगे। आप उनके महत्वपूर्ण संकेतों को लेने का अभ्यास भी कर सकते हैं क्योंकि कुछ इसी उद्देश्य के लिए बनाए गए हैं। 

अधिकांश नर्स सहायक कार्यक्रम क्षेत्र में चिकित्सा सुविधाओं के संयोजन के साथ काम करते हैं।

इसका अक्सर मतलब होता है कि आपके व्यावहारिक प्रशिक्षण का एक बड़ा हिस्सा ऐसी सुविधा के रूप में होगा। पाठ्यक्रम के इस भाग को नैदानिक ​​कहा जाता है। इस प्रक्रिया के दौरान, आप लाइसेंस प्राप्त चिकित्सा कर्मचारियों की नज़दीकी निगरानी के साथ वास्तविक रोगियों की ओर रुख करेंगे। आप इस सेटिंग में अपने ज्ञान को लागू करना शुरू कर देंगे। 

क्लीनिकल कुछ छात्रों को डराने-धमकाने वाले हो सकते हैं। हालांकि, वे आपको नर्स सहायक के रूप में अपनी भूमिका को पूरी तरह से समझने और सीखने का सर्वोत्तम अवसर देने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं। आम तौर पर, ये क्लीनिक छात्रों के एक बहुत छोटे समूह के साथ आयोजित किए जाते हैं। आपकी कक्षा को कम से कम दो समूहों में विभाजित किया जाएगा लेकिन छह से अधिक नहीं। वे वास्तविक चिकित्सा सुविधा में होते हैं। यह समझना महत्वपूर्ण है कि प्रशिक्षण के इन नैदानिक ​​घंटों के दौरान आपके द्वारा किए गए कार्य के लिए आपको भुगतान नहीं किया जाएगा।

एक चिकित्सा सुविधा में अपने नर्स सहायक प्रशिक्षण को पूरा करने से न केवल आपको व्यावहारिक अनुभव मिलता है, इससे आपके प्रशिक्षण कार्यक्रम के अंत में नौकरी की पेशकश हो सकती है। नैदानिक ​​​​प्रशिक्षण की मेजबानी करने वाली कई चिकित्सा सुविधाएं संभावित दिखाने वाले छात्रों के लिए देख रही हैं। वे समय की पाबंदी, उपस्थिति, विस्तार पर ध्यान, सीखने की इच्छा और सकारात्मक दृष्टिकोण की तलाश में हैं।

नर्स कैसे बनें? (How to Become a Nurse?)

https://www.youtube.com/watch?v=9XmhCnS9nzk

https://www.redcross.org/take-a-class/cna

Health and Fitness: Choose Fitness Apparel? & 5 Tips For Choosing Best Fitness Centre

Featured

Health and Fitness: Choose Fitness Apparel? 5 Tips & 5 Tips For Choosing Best Fitness Centre

Health and Fitness: Choose Fitness Apparel? 5 Tips & 5 Tips For Choosing Best Fitness Centre. Health and Fitness: Fitness Centre- How to Choose the Fitness Centre of Your Life? 5 Tips. Health and Fitness. Being active makes a person healthy and strong. It is not just for people who have a weight problem but for everyone who likes to stay fit.    

Health and Fitness
Health and Fitness

There is a lot a person can do such as jogging or walking every morning, playing basketball or any other sport with friends but if a person wants to have muscles and look lean, then one can sign up and workout in a gym. 

People workout for 3 reasons;

The first is that the person is overweight and the only way to lose those extra pounds will be to reduce one’s calorie intake and at the same time workout in the gym.

The second is that the person is underweight and the only way to add extra pounds is to have more calories in one’s diet and workout. 

The third is just for fun and to keep that person in shape.

The best exercise plan should have cardiovascular and weight training exercises. This helps burn calories and increase the muscle to fat ratio that will increase one’s metabolism and gain or lose weight. 

Just like taking any medicine, one should first consult the doctor before undergoing any form of exercise.

Here are some benefits of exercising;

1. It is the easiest way to maintain and improve one’s health from a variety of diseases and premature death. 

2. Studies have shown that it makes a person feel happier and increases one’s self esteem preventing one from falling into depression or anxiety.

3. An active lifestyle makes a person live longer than a person who doesn’t.

Working out for someone who has not done it before should be done gradually. Endurance will not be built in a day and doing it repeatedly will surely be beneficial to the person.

It is advisable to workout regularly with a reasonable diet. 

A person can consult with a dietitian or a health professional to really help plan a good diet program. It starts by evaluating the lifestyle and the health of the patient before any program can be made. 

Afterwards, this is thoroughly discussed and recommended to the person which usually consists of an eating plan and an exercise program that does not require the use of supplements or one to purchase any expensive fitness equipment.  

A good diet should have food from all the food groups. 

This is made up of 2 things. The first is carbohydrates. The food that a person consumes should have vitamins, minerals and fiber. A lot of this can come from oats, rice, potatoes and cereals. The best still come from vegetables and fruits since these have phytochemicals, enzymes and micronutrients that are essential for a healthy diet.   

The second is fat which can come from mono and polyunsaturated food sources rather than animal fats. Since fat contains more than double the number of calories in food, this should be taken in small quantities to gain or lose weight.

Another way to stay healthy is to give up some vices. Most people smoke and drink. Smoking has been proven to cause lung cancer and other diseases as well complications for women giving birth. Excessive drinking has also shown to do the same. 

For people who don’t smoke, it is best to stay away from people who do since studies have shown that nonsmokers are also at risk of developing cancer due to secondary smoke inhalation.

Fitness Apparel

In a sports apparel specialty store you will delight at the wide range of clothing plus accessories that is available in the market. Specific sporting apparels like golf, fitness exercise, equestrian and yoga are very much available. The apparel for sports like surfing or rafting and even mountaineering abound. The wetsuits are perfect for surfing apparel. The sports apparel include caps, batting gloves and rafting vests.

Here’s a short list on how to choose your sports and fitness apparel:

1. The Golf wear

The golf apparel can be found in any specialty sport store. The golf apparel usually includes a trouser with a t-shirt. In golf apparel, comfort is the most important factor. Chinos are also very popular golf wear. Hats and caps of varying designs and makes are also available. Of course outlandish gears worn by some professional golfers are also available.

2. The Running / Fitness wear

The running apparel is best made with cotton to retain moisture that causes friction and might lead to possible chafing. The running shorts and tights including the cotton socks are the basic running gear.  When running apparel is being chosen, try to select a base layer top which keeps you dry for an extended run. Comfortable and fit running shoes must be matched to keep you fresh on the run.

The fitness gear pertains to all kinds of apparel including aerobics and gymnastics. The multi-colored tights and leotards are the best and most comfortable during a workout. The fitness gear must be selected with care. Choosing the proper material and correct size when selecting the fitness gear is a must.

3. The athletic apparel

The athletic apparel must be chosen with the climate and weather in thought. An apparel that is not suited for the weather will hinder the performance of an athlete. A popular athletic wear is the running or jogging pants with a drawstring waist. These types of athletic apparel can be purchased at discounted rates. The all weather gear is designed to keep most of the elements out. An athlete depends on the athletic gear to perform at his best.

4. The Equestrian apparel

The equestrian gear is mainly about breeches and boots. There are specialty equestrian stores that stock clothing and other equipment for riding. The casual equestrian gear could be riding breeches matched with a plain shirt. The paddock boots available also at equestrian apparel stores complete the set for an equestrian.

A pair of riding pants and a jersey can be bought at an equestrian apparel store. When having lessons on riding, you may want to look online for equestrian stores to see and choose an outfit which lets you ride with great style and comfort. A little pricey in most cases but may be worth the price. A western style of gear is also available in specialty shops.

5. The Yoga apparel

The yoga apparel must be very comfortable and loose for easy movement. A T-shirt and a loose-fit short are basic yoga apparel which will keep you fresh and comfortable. Also, it does not cost much. The designer yoga apparels are available at special yoga stores. Yoga Capri pants and unitards are available at yoga apparel stores. The special Asana clothing can be found at very exclusive yoga outlets.

Fitness Centre: How to Choose the Fitness Centre of Your Life

In reality, you really do not have to spend a lot of money on expensive health club or fitness centres memberships, treadmills, or the latest fitness gadget to get moving.

However, some people find that if they make a monetary investment, they are more likely to follow through on fitness.

Fitness centres are, basically, built to provide people with the proper fitness equipment, training, and other devices needed to keep an individual physically fit.

However, not all fitness centres are created equal. In fact, there are fitness centres that require their members to sign some contracts, which in the end will not be easy to cancel. Hence, it is important to know the characteristics of the fitness centre that will work best for you.

Here is a list of some tips that you can use:

1. Make your mind up on things that you need

Before you choose a fitness centre, you should first know what your needs are as far as physical fitness is concerned. This will determine the kind of fitness centre that you will find.

For example, if you are so much into sports fitness rather than the typical physical fitness activities like aerobics, then it would be better to choose a fitness centre that has sports facilities and not just treadmills.

2. Do not forget to shop around

It may sound so cliché-ish but it really pays a lot to a person who shops around before deciding on something. Hence, when choosing fitness centers, it is best to do some shopping first and get to compare the prices, charges, and the facilities available in a health club.

In this way, you get to choose the best and yet affordable fitness centre you could ever find.

3. Consider your budget

It does not necessarily mean that just because you have plenty of money, you will eventually give in to a fitness centre that you have first encountered.

It is best that you have a budget to follow so that you will know where to focus your finances before you decide on signing-up for a fitness centre.

Just remember, you want to work out for your body and not work out something that you will soon be in debt just because you forgot to stick to your budget.

4. Know where your money goes

If it makes you sweat and lose those fats and cellulites, fine! Just be sure that whatever kind of fitness centre that you have chosen, it is important to know that you get what you have paid for.

5. Be wary of the physical attributes and characteristics of the center that you wish to enroll in.

Make sure that the fitness center that you have chosen is clean, properly ventilated, and complete with all the amenities that you need.

Be sure also that the equipment that the fitness centre has are all in good working condition. Never use fitness equipment that appears to be worn out already. This will only cause more harm than good.

All of these things are boiled down to the fact that a fitness center does not have to be a perfect fitness center. What matters most is that the fitness center that you have chosen is good enough to generate good results in your body.

https://www.elarc.org/

https://youtu.be/cvEJ5WFk2KE

https://youtu.be/yKItGCpL73M

https://www.yogue-activewear.com/

https://www.yogue-activewear.com/collections/top-bottom-sets/products/shop-the-look-crop-zipper-leggings-black-neon

https://optimalhealth.in/

प्रेरणा के 30 दिन: अपने दिमाग को फिर से केंद्रित करने के लिए (30 Days of Motivation: Re-centering Your Mind )

Featured

प्रेरणा के 30 दिन: अपने दिमाग को फिर से केंद्रित करने के लिए (30 Days of Motivation: Re-centering Your Mind )

प्रेरणा के 30 दिन: अपने दिमाग को फिर से केंद्रित करने के लिए (30 Days of Motivation: Re-centering Your Mind ), प्रेरणा के 30 दिन (30 Days of Motivation): अपने दिमाग को फिर से केंद्रित करने और अपने दिल को फिर से जीवित रखने के लिए बेहतर 30 दिन। (30 Days of Re-centering Your Mind And Rejuvenating Your Heart)

Optimal Health - 30DaysOfMotivation - Optimal Health - Health Is True Wealth.

पहला दिन – पहचानें (Recognize)

  •  यह कोई रहस्य की बात नहीं है कि जीवन बहुत कठिन है या हो सकता है। यदि आप अभी इस लेख को पढ़ रहे हैं, तो संभावना है कि आप ऐसा महसूस कर रहे हैं। इसमें शर्मिंदा होने की कोई बात नहीं है। मदद के लिए आगे बढ़कर, आप पहले से ही आधी लड़ाई जीत रहे हैं। 
  • इस तथ्य पर चिंतन करने के लिए कुछ समय निकालें कि जीवन में हमें जो जानकारी प्राप्त करने की आवश्यकता होती है, वह अक्सर हमारी उंगलियों पर होती है। हम बहुत खुशकिस्मत हैं कि हम ऐसे युग में रह रहे हैं जहां जानकारी आसानी से उपलब्ध है। 

सकारात्मक पुष्टि:

  • प्रौद्योगिकी एक वरदान है! खुशी और कायाकल्प की हमारी खोज में इसके मूल्य की उपेक्षा करना नासमझी है। अपने आप को इसके द्वारा शासित किए बिना, प्रौद्योगिकी के उपहार को फिर से खोजने की अनुमति दें। 

दूसरा दिन – आप अकेले नहीं हैं (You Are Not Alone)

  •  कई आध्यात्मिक पुरुष और महिलाएं जो हमसे पहले जा चुके हैं, ने यह सुनिश्चित किया है कि सारा जीवन एक ही जीव है। फिर भी हम सभी इस शरीर के भीतर एक ही जैसे व्यक्ति हैं।
  • जब हम में से कोई गिरता है तो हम सब गिर जाते हैं। जब हम में से एक उठता है, तो हम सब उठते हैं। 
  • इसलिए, पहचानें कि आप अपने संघर्ष में अकेले नहीं हैं। हम सभी विपरीत परिस्थितियों का सामना करते हैं। विपत्ति कई रूपों में अपना बदसूरत सिर उठाती है, फिर भी हम सभी के जीवन में एक सामान्य कारक है। 
  • हम विपरीत परिस्थितियों से दूर रहने या उनकी उपेक्षा करने के लिए नहीं, बल्कि उसका सामना करने की ताकत हासिल करने के लिए लड़ते हैं। यह याद रखना अच्छा है कि आप अकेले व्यक्ति नहीं हैं जो दर्द का अनुभव करते हैं।
  • यह अक्सर ऐसा महसूस कर सकता है। घने तूफान के दौरान, इस तथ्य को नजरअंदाज करना आसान होता है कि आप जिन लोगों को जानते हैं उनमें से अधिकांश अपने स्वयं के कठिन परीक्षणों का सामना कर रहे हैं। 
प्रेरणा के 30 दिन: अपने दिमाग को फिर से केंद्रित करने के लिए  (30 Days of Motivation: Re-centering Your Mind )

सकारात्मक पुष्टि:

  • आपके राक्षस तभी मजबूत हो सकते हैं जब आप उनकी ओर पीठ करेंगे। सामना कीजिये  और  जयवंत हो जाईए ।
  • अपनी चुनौतियों का सामना करके आप खेल में एक कदम आगे हैं! 

तीसरा दिन – पथ की खोज करें ।  (Discover The Path)

  • कभी-कभी आप के लिए दस मानक लक्ष्यों की तुलना में आप अपने भविष्य के लिए एक स्पष्ट दृष्टि रखने से बेहतर होते हैं। सबके लक्ष्य होते हैं। कुछ फलते-फूलते हैं, कुछ नहीं। लेकिन अगर आपके पास अपने भविष्य के लिए एक स्पष्ट दृष्टि है, तो आपने अपने आप को एक मूल्यवान उपकरण से लैस कर लिया है।
  • चाहे आप अपना वजन कम करने की कोशिश कर रहे हों, स्कूल खत्म कर रहे हों, या एक नए करियर की यात्रा शुरू कर रहे हों, एक दर्शन / दृष्टि आपका मित्र है। अब ध्यान रहे, कोई भी विजन बिना अमल के पूरा नहीं होता।
  • आज कार्रवाई करें, यह सुनिश्चित करने के लिए कि आप वहीं हैं जहां आप कल होना चाहते हैं।
  • देरी करना और टालमटोल करना आपको रास्ते में धकेलने के बजाय बस आपको रास्ते से दूर रखेगा। आप अपनी दृष्टि को दूर से देखने के बजाय हाथ में हाथ डालकर चलना चाहते हैं। लचीला बनें और अपनी दृष्टि को बदलने दें, लेकिन इसे कभी न खोएं। 

सकारात्मक पुष्टि:

  • अपनी दृष्टि के बारे में ऐसे सोचें जैसे आप एक मित्र होंगे। इसे अपने अवचेतन में बैठने दें और इसे बार-बार अपने दिमाग में सबसे आगे रखें । इसकी गहनता से रक्षा करें और अपने सहित किसी को भी इसके बीच में न आने दें।
  • वास्तव में, आपका जीवन इस पर निर्भर कर सकता है। 

चौथा दिन – कार्रवाई करना जारी रखें (Continue To Take Action)

  • याद रखें कि कोई और वह नहीं कर सकता जो आपको अपने लिए करने की आवश्यकता है। एकमात्र व्यक्ति जिसे समीकरण में कार्रवाई करने की आवश्यकता है, वह आप हैं। और वह कुछ ऐसा है जो आप करने में सक्षम हैं! 

सकारात्मक पुष्टि:

  • रास्ते में आपके द्वारा बनाई गई छोटी-छोटी सफलता आपके आत्मविश्वास को मजबूत करेंगी क्योंकि आप भविष्य में नई चुनौतियों का सामना करेंगे। 

पाँचवा दिन – अपनी तुलना दूसरों से न करें (Don’t Compare Yourself To Others)

  • आप जिस रास्ते पर चल रहे हैं वह आपके लिए अद्वितीय है। दूसरों से अपनी तुलना करने से आप न सिर्फ चिंता करने लगते हैं, बल्कि खुद को धीमा भी कर लेते हैं। आखिरी चीज जो आपको चाहिए वह है व्याकुलता। 

सकारात्मक पुष्टि:

  • जैसा कि आप अपने लक्ष्यों पर ध्यान केंद्रित करते हैं और दृढ़ रहना जारी रखते हैं, आपको जल्द ही रास्ते में मनाने के लिए कुछ सफलता मिलेगी! 
Optimal Health - hindi motivational quotes on success 540x540 1 edited - Optimal Health - Health Is True Wealth.

छठवाँ दिन – आप जो बोते हैं वह काटते हैं (You Sow What You Reap)

  • ध्यान रखें कि आज आप जो कुछ भी करते हैं, वह खुद को पुन: चक्रित करता है और सूचित करता है कि आप भविष्य में कौन हैं।
  • यह एक डराने वाला विचार हो सकता है। लेकिन इसे आपके द्वारा अभी किए गए निर्णयों को सूचित करने की अनुमति दें। 

सकारात्मक पुष्टि:

  • अपने सबसे अच्छे दोस्त बनें, और अपने शरीर को मंदिर की तरह मानें! 

सांतवाँ दिन – अपने सर्वश्रेष्ठ के साथ संतुष्ट रहें (Be Content With Your Best)

  •  हम सभी जानते हैं कि खुद को हराना कितना आसान है। हालांकि, ऐसा करना केवल नकारात्मक विचार पैटर्न को पुष्ट करता है और हमें धीमा कर देता है। अपनी गति से जाना ठीक है। 

सकारात्मक पुष्टि:

  • जब तक आप अपने लक्ष्यों की दिशा में लगातार काम कर रहे हैं, तब तक आप उस रास्ते पर हैं जिसकी आपको आवश्यकता है! 

आठवां दिन – सकारात्मक आदतें विकसित करें (Develop Positive Habits)

  •  हमारी जीवन शैली अक्सर हमारी दिनचर्या से निर्धारित होती है। अच्छी आदतें आपको जीवन में बहुत आगे तक ले जा सकती हैं। ऐसा कहा जाता है कि आप अपने जीवन के पहले भाग में जो आदतें बनाते हैं, वे दूसरी छमाही में आप जो जंजीरें पहनते हैं, वही बन जाती हैं।
  • इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप कितने साल के हैं, आप हमेशा कुछ नया सीख सकते हैं और सकारात्मक बदलाव ला सकते हैं। 

सकारात्मक पुष्टि:

  • आदतें आप की अपनी आदतें हैं। नई आदतों को रास्ते में रहने देने के लिए खुद को कुछ समय दें। 

नौवां दिन – खुद पर विश्वास करें! (Believe In Yourself!)

  • आप अपने सबसे अच्छे दोस्त या अपने सबसे बड़े दुश्मन हो सकते हैं। यह संभव है कि हम सभी ने दोनों के स्वाद का अनुभव किया हो। 

सकारात्मक पुष्टि:

  • यदि आपने इसे अब तक पढ़ा है, तो यह अपने आप में एक सकारात्मक कार्य है! 

दसवां दिन – आप जब गिरते हैं तो फिर उठने की कोशिश करें । (Get Up When You Fall)

  •  यहां तक ​​कि जब आप सकारात्मकता के अपने पथ पर प्रगति कर रहे हैं, तो आपको रास्ते में कुछ नुकसान का अनुभव होने वाला है। याद रखें कि यह अनुभव आपके लिए विशिष्ट नहीं है। जब तुम गिरे तो फिर उठो। 

सकारात्मक पुष्टि:

  • यदि आपको अतीत में व्यक्तिगत विफलता का अनुभव करने के बाद उठना पड़ा है, जैसा कि हम सभी के पास है, तो आप इसे फिर से करने में सक्षम हैं! 

ग्यारहवें दिन – अपने आप को सकारात्मकता के साथ घेरें (Surround Yourself With Positivity)

  •  वे कहते हैं कि आप वह बन जाते हैं जिसके साथ आप खुद को घेर लेते हैं। इसलिए सुनिश्चित करें कि आपके मित्र मंडली लक्ष्य-उन्मुख हैं और आपकी यात्रा में आपकी मदद करते हैं। 

सकारात्मक पुष्टि:

  • हर किसी के लिए दोस्तों का एक सकारात्मक समूह होता है! उन्हें बाद में जल्द से जल्द खोजना सबसे अच्छा है। 

बारहवें दिन – प्रत्येक नए दिन के साथ फिर नयी शुरुआत करें (Reawaken With Each New Day)

  • हर दिन एक आशीर्वाद है। कोई नया दिन गारंटी नहीं है। यदि आप इसे पढ़कर जीवित हैं, तो आप उन लोगों की तुलना में अधिक भाग्यशाली हैं जो आज इसे देखने के लिए नहीं जीवित नहीं हैं। 

सकारात्मक पुष्टि:

  • हर नया दिन कुछ नया करने की कोशिश करने का एक नया अवसर है, इसे जब्त करें! 

तेरहवें दिन – मुद्दों का ध्यान रखें (Take Care Of The Issues)

  • याद रखें कि शिथिलता दुश्मन है। छोटे-छोटे तिलचट्टे पहाड़ों में बदल सकते हैं जब उन्हें छोड़ दिया जाए!

सकारात्मक पुष्टि:

  • आज जो संभालने की जरूरत है उसका ख्याल रखें और कल अपने आप को बोझ से बचाएं! 

चौदहवें दिन- कार्य शब्दों से अधिक जोर से बोलते हैं (Actions Speak Louder Than Words)

  • सकारात्मक चीजें जो आप अपने लिए करते हैं, वे किसी प्रियजन के जीवन में एक स्थायी प्रभाव छोड़ सकती हैं। अगर आपके बच्चे हैं, तो जैसा कि आप जानते हैं कि वे स्पंज की तरह होते हैं।
  • याद रखें कि हम दुनिया को उंगली से नहीं बल्कि खुद को बदलकर बदलते हैं। अन्य जो देखते हैं कि हमने अपनी यात्रा शुरू की है, वे हमारे द्वारा किए गए सकारात्मक परिवर्तनों का अनुकरण करेंगे। 

सकारात्मक पुष्टि:

  • आप जितने अधिक सकारात्मक बनते हैं, उतनी ही सकारात्मकता आप उस दुनिया को देते हैं जिसकी सख्त जरूरत है। 

पंद्रहवें दिन – स्वार्थी बनें, ध्यान केंद्रित रखें (Get Selfish, Keep The Focus On You)

  •  याद रखें कि यह सब आपके बारे में है। दिन के अंत में, खुद को छोड़कर हर किसी की जरूरतों को पूरा करना आसान होता है। बेशक निस्वार्थ होना अच्छा है, लेकिन अपने जीवन की कीमत पर नहीं। 

सकारात्मक पुष्टि:

  • पहले खुद पर ध्यान केंद्रित करके, आप खुद को स्वस्थ स्थिति में रखते हैं ताकि अंततः दूसरों को सक्षम किए बिना मदद कर सकें। 
Optimal Health - agar aap - Optimal Health - Health Is True Wealth.

सोलहवें दिन – एक व्यायाम दिनचर्या विकसित करें (Develop An Exercise Routine)

  • छोटी शुरुआत करें। व्यायाम के बिना अपने जीवन का एक अच्छा हिस्सा बिताने के बाद आपको एक ट्रायथलीट में रूपांतरित होने की आवश्यकता नहीं है। यह आपके जीवन का एक और क्षेत्र है जहां दूसरों से अपनी तुलना करने से बड़े झटके लग सकते हैं। 

सकारात्मक पुष्टि:

  • व्यायाम न केवल आपके शरीर के लिए, बल्कि आपके मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी बहुत अच्छा है! 

सत्रहवें दिन – स्वस्थ खाओ! (Eat Healthy!)

  • दैनिक व्यायाम के संयोजन में, स्वस्थ भोजन आपके जीवन का विस्तार कर सकता है और आपको व्यक्तिगत संतुष्टि के नए स्तरों तक खोल सकता है। 

सकारात्मक पुष्टि:

  • स्वस्थ भोजन करने से आपके जीवन के हर पहलू पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा! 

अठारहवें दिन – हर बार अपनी दृष्टि का पुनर्मूल्यांकन करें, (Reassess Your Vision)

  • हर बार अपनी दृष्टि का पुनर्मूल्यांकन करें, अपनी दृष्टि और/या लक्ष्यों को बार-बार समायोजित करना कोई बुरी बात नहीं है।
  • जैसे-जैसे आप बदलते हैं, वैसे-वैसे आपके मूल्य भी बदलते जाएंगे। 

सकारात्मक पुष्टि:

  • जैसे ही आप भविष्य के लिए अपनी दृष्टि को ताजा रखते हैं, आप जब भी आवश्यक हो, आप खुद को इससे नई प्रेरणा लेने की अनुमति देते हैं। 

उन्नीसवें दिन – बहुत ज्यादा सोचना कभी अच्छी बात नहीं  है (Too Much Thinking Is Never A Good Thing)

  • घर पर बैठकर जीवन और उसकी चुनौतियों पर विचार करना आसान है। कभी-कभी दूसरों की मदद के बिना हम खुद को नीचे गिराने का काम शुरू कर देते हैं। इन अवधियों को पहचानने और इसके बारे में कुछ करने के लिए अपने दिमाग को प्रशिक्षित करें। 

सकारात्मक पुष्टि:

  • हम सभी इन क्षणों में चूक जाते हैं। ऐसा नहीं रहना चाहिए। जैसे ही आप खुद को इस बुरी स्थिति में डूबते हुए पहचानते हैं, कुछ नया करके चक्र को तोड़ दें। 

बीसवें दिन – एक नया शौक खोजें (Discover A New Hobby)

  •  कभी-कभी जीवन की एकरसता भारी होती है। हम मनोरंजन और शौक के द्वारा समान रूप से इसका सामना करते हैं। कभी-कभी मिश्रण में एक नया शौक डालना अच्छा होता है।
  • आप उस एक गतिविधि को देने के बाद खुद को धन्यवाद देंगे जिसे आप सालों से आजमाना चाहते थे। 

सकारात्मक पुष्टि:

  • कोशिश करने में कोई हर्ज नहीं है! अपने आप को नई परिस्थितियों में डालकर, आप कभी नहीं जानते कि आप किन अवसरों के लिए खुद को खोलते हैं और रास्ते में आप किससे मिल सकते हैं। 

इक्कीसवीं दिन – अपने लक्ष्य पर ध्यान केंद्रित करें, दूसरों को पछाड़ना नहीं (Focus On Your Goal, Not Beating Others)

  •  थोड़ा स्वस्थ प्रतिस्पर्धा ठीक है। लेकिन जब आप दूसरों से बेहतर करने की इच्छा से भस्म हो जाते हैं तो आप अस्वस्थ क्षेत्र में चले जाते हैं। दूसरे शब्दों में, यदि आपका लक्ष्य सफलता की सीढ़ी चढ़ते हुए अपने नीचे के पायदानों को काटना है, तो यह कुछ परामर्श लेने का समय हो सकता है। 

सकारात्मक पुष्टि:

  • अपने आप पर ध्यान केंद्रित रखें, आप इसके लायक हैं! 

बाइसवें दिन – रास्ते में दयालुता का अभ्यास करें (Practice Kindness Along The Way)

  • याद रखें कि अन्य लोग अपनी खुद की कठिन, कभी-कभी विश्वासघाती यात्रा पर हैं। थोड़ी सी दया बहुत आगे बढ़ जाती है। 

सकारात्मक पुष्टि:

  • जब आप बोल नहीं रहे होते हैं तब भी आप संवाद कर रहे होते हैं। अगर आपके पास कहने के लिए कुछ नहीं है, तो मुस्कान बहुत आगे तक जा सकती है! 

तेइसवें दिन – वर्तमान में जियें (Keep Looking Ahead)

  •  यदि आप अतीत में रहते हैं तो अपने वर्तमान को कलंकित करते हुए आगे देखते रहें। इसके साथ ही, यह भी महत्वपूर्ण है कि हम भविष्य में इस कदर भस्म न हों कि हम वर्तमान का आनंद लेने में असमर्थ हों। 

सकारात्मक पुष्टि:

  • यदि आपको करना है तो अपने आप को हर बार वास्तविकता में वापस लाएं। अपने लक्ष्यों पर ध्यान केंद्रित करना बहुत अच्छा है, लेकिन अब कितना खास है, यह देखना दुर्भाग्यपूर्ण हो सकता है। 

चौबीसवें  दिन -जीवन एक मैराथन है (Life Is A Marathon)

  • लंबी दौड़ के लिए अपने दृष्टिकोण के प्रति सच्चे रहें। ऐसा करने से आप दृष्टि की स्पष्टता और मन की शक्ति का प्रदर्शन करते हैं। आपके द्वारा चुने गए विकल्पों के पीछे खड़े रहें, और अपनी यात्रा के दबावों के आगे न झुकें। 

सकारात्मक पुष्टि:

  • दृढ़ता खेल का नाम है! 

पच्चीसवें दिन – समस्याएं प्रक्रिया का हिस्सा हैं (Problems Are Part Of The Process)

  •  रास्ते में आने वाली चुनौतियों से डरो मत। हर बाधा में आपको चोट पहुंचाने की क्षमता नहीं होती। यह सब दृष्टिकोण के बारे में है। अपने सामने की दीवार को बढ़ने के अवसर के रूप में पहचानें। 

सकारात्मक पुष्टि:

  • अपने लक्ष्यों का पीछा करते हुए आप जिस व्यक्ति के रूप में बनते हैं, वह भविष्य के लिए आपके द्वारा बनाए रखा गया एक अनदेखा लाभ हो सकता है। 

छबीसवें दिन – अपने लक्ष्यों को ऊंचा रखें! (Keep Your Goals Set High!)

जीवन के अंत में, बहुत से लोगों को अपने लक्ष्यों को पर्याप्त रूप से ऊंचा नहीं करने का पछतावा होता है। अपने आप को उन लोगों में से एक होने की अनुमति न दें। ताज़ा करना जारी रखें और रास्ते में अपनी दृष्टि में थोड़ा बदलाव करें। 

सकारात्मक पुष्टि: जैसे-जैसे आप नई ऊंचाइयों को प्राप्त करते हैं, याद रखें कि कुछ लक्ष्य निर्धारित करना, उनके गर्भाधान के समय कितना डराने वाला था। फिर भी तुम यहाँ हो। अब नए लक्ष्य निर्धारित करें और उनका पीछा करें! 

सत्ताईसवें दिन – जीवन में आप जहां हैं, वहीं रहना ठीक है, (It’s Ok To Be Where You Are)

  •  कोई बात नहीं। इनकार करने की तुलना में यह स्वीकार करना बेहतर है कि आप खुद को कहां पाते हैं। जो है उसके लिए अपना स्थान स्वीकार करें। 

सकारात्मक पुष्टि:

  • खुद को आंकने से ही आप नीचे आ सकते हैं। जैसे-जैसे आप अपनी मानसिकता को सकारात्मकता के साथ सुदृढ़ करते हैं, वैसे-वैसे आपकी स्वयं की भावना बेहतर के लिए बदल जाएगी।  

अट्ठाईसवें दिन – गति में एक वस्तु गति में रहती है, एक वस्तु आराम पर रहती है (An Object In Motion Stays In Motion, An Object At Rest Stays At Rest )

  • जब तक आप आगे बढ़ रहे हैं आप ठीक कर रहे हैं। कुछ भी नहीं करना, बिल्कुल विपरीत है जहां आप होना चाहते हैं। सबसे कठिन हिस्सा शुरू हो रहा है। 

सकारात्मक पुष्टि:

  • अब वह व्यक्ति बनने का समय है जो आप वास्तव में बनना चाहते हैं! दिन 

उनतीसवें दिन- हार मत मानो! कभी मत छोड़ो! (Don’t Give Up! Don’t ever quit!)

  • हम सभी में एक चैंपियन है जो खोजे जाने की प्रतीक्षा कर रहा है। हम में से बहुत से लोग कभी भी अंदर के विजेता के संपर्क में नहीं रहे हैं। यह ठीक है, इसका मतलब यह नहीं है कि आप आज अपने सबसे अच्छे व्यक्ति के साथ संबंध नहीं बना सकते हैं! 

सकारात्मक पुष्टि:

  • आपका सबसे अच्छा आंतरिक आप उनका हाथ बढ़ा रहे हैं! 

तीसवें दिन – छोटी जीत का स्वाद चखें! (Taste The Little Victories!)

  •  रास्ते में थोड़ा जश्न मनाना सुनिश्चित करें! 

सकारात्मक पुष्टि:

हर बार अपने आप को पीठ पर थपथपाना न भूलें। जीवन एक प्रक्रिया है, और छोटे-छोटे उत्सव हमें पागल होने से बचा सकते हैं। बार-बार खुद का आनंद लेना कोई बुरी बात नहीं है। इसे सकारात्मक तरीके से करें, और जैसा कि पहले कहा गया है, अपने आप को उस गौरवशाली मंदिर के रूप में मानते रहें जो आप हैं! 

https://optimalhealth.in/wisodm/motivation/

https://youtu.be/hNaRnWZsew8

https://youtu.be/SSyc52SsdrM

मध्यम प्रश्न (बाइबिल प्रश्नोत्तरी) Medium Questions For Teenager | 20+ Bible Quiz In Hindi

Featured

मध्यम प्रश्न (बाइबिल प्रश्नोत्तरी) Medium Questions For Teenager | 20+ Bible Quiz In Hindi

मध्यम प्रश्न (बाइबिल प्रश्नोत्तरी) Medium Questions For Teenager | 20+ Bible Quiz In Hindi. प्रभु के प्रियो, नमस्कार। इस लेख में आप बाइबल के प्रश्न और उत्तर पढ़ने पायेंगे, जिनके द्वारा आप बाइबल का सामान्य ज्ञान बढ़ा सकते हैं। मध्यम प्रश्न (बाइबिल प्रश्नोत्तरी) 20+ Bible Quiz In Hindi। मध्यम प्रश्न (बाइबिल प्रश्नोत्तरी) Hindi Bible Quiz-2 आप इस लेख पर आधारित हमारे यूट्यूब वीडियो को भी अवश्य देखिये।

मध्यम प्रश्न (बाइबिल प्रश्नोत्तरी) Medium Questions For Teenager | 20+ Bible Quiz In Hindi
मध्यम प्रश्न (बाइबिल प्रश्नोत्तरी) 20+ Bible Quiz In Hindi

बाइबिल के 5 सामान्य सवाल और उनके जवाब

  1. सूर्य और चंद्रमा को स्थिर रहने की आज्ञा किसने दी?
    (यहोशू) यहोशू 10:13
  2. लेबनान किस प्रकार के पेड़ के लिए प्रसिद्ध था?
    (देवदार) 2 इतिहास 25:18, भजन संहिता 92:12, 104:16, श्रेष्ठगीत 5:15, यशयाह 14:8, 60:13, यिर्मियाह 22:23, यहेजकेल 27:5, 31:3
  3. स्तिफनुस की मृत्यु कैसे हुई?
    (पत्थर मारकर मार डाला) प्रेरितों के काम 11:19, 22:20
  4. यीशु को कैदी कहाँ बनाया गया था?
    (गतसमनी) यहून्ना 18:12-14
  5. बाइबिल की कौन सी किताब दाऊद और गोलियत के बारे में बताती है?
    (1 शमूएल) 1 शमुएल 17:4, 23, 21:9, 22:10

मसीही प्रश्नोत्तरी

  1. होरेब किसी नगर का नाम है या पर्वत का?
    (एक पहाड़) निर्गमन 3:1, 17:6, 33:6, व्यवस्थाविवरण 1:2, 6, 1:19, 4:15, 18:16, 29:1, 1 राजाओं 19:8 
  2. एक जेलर ने अपना विश्वास कहाँ पाया?
    (फिलिप्पी) प्रेरितों के काम 16:25-34
  3. जब्दी (चेलों में से एक) के दो पुत्रों को क्या कहा जाता था?
    (यूहन्ना और याकूब) मत्ती 4:21, 10:2, 20:20, 26:37, 27:56, मरकुस 1:19, 3:17, 10:35, लूका 5:10, यहून्ना 21:2
  4. पौलुस की मिशनरी यात्राओं पर कौन सी पुस्तक रिपोर्ट करती है?
    (प्रेरितों के काम) प्रेरितों के काम 19:21, 19:29, 30, 27:9, 13:4-12, 27:1-12 
  5. याकूब के सबसे बड़े पुत्र को क्या कहा जाता था?
    (रुबेन) उत्पत्ति 30:14, 46:8 

बाइबिल क्विज (Bible Quiz In Hindi)

  1. बाइबिल में वर्णित तीन कैदियों के नाम बताइए।
    (यूसुफ, शिमशोन, पौलुस) उत्पत्ति 39:21-23, न्यायिओं 16:25, प्रेरितों के काम 16:37, 24:27, 27:1, 16:16-24
  2. यीशु के आने की भविष्यवाणी कुछ ही समय पहले किसने की थी?
    (जॉन द बैपटिस्ट/ यहून्ना बप्तिस्मादाता) मत्ती 3:1, मरकुस 1:4,5, 8, लूका 3:3, 7, 
  3. याक़ूब की माँ और उनकी दादी के क्या नाम थे?
    (रिबका, सारा) उत्पत्ति 25:19-26, 21:1-3
  4. तीन नबियों के नाम बताइए?
    (एलिय्याह, यिर्मयाह, योना) 1 राजाओं 18:22, मलाकी 4:5, 2 राजाओं 14:25, जकर्याह 1:7, दानिएल 9:2, यर्मियाह 25:2, 28:5, 15, 29:1, हबक्कूक 1:1
  5. पहले क्या हुआ? यीशु का नामकरण या 5000 को खिलाना?
    (यीशु का नामकरण) मत्ती 1:21, लूका 1:31, यहून्ना 6:1-14,  मत्ती 14:13-20, मरकुस 6:30-44,  लूका 9:10-17, 

बाइबल सामान्य ज्ञान प्रश्नोत्तर

  1. बाइबिल में नामित तीन मिशनरियों के नाम बताइए।
    (पौलुस, सीलास, बरनबास) प्रेरितों के काम 15:35, 40, 
  2. रूत के पति को क्या कहा जाता था?
    (बोअज)  रूत 4:13
  3. मपीबोशेत किस बीमारी से पीड़ित था?
    (वह लंगड़ा था) यहून्ना 5:1-9, प्रेरितों के काम 3:1-4, 14:8-10
  4. पहले क्या आया? एलिय्याह का स्वर्गारोहण या हनोक का मेघारोहण?
    (हनोक का मेघारोहण) उत्पत्ति 5:24, 2 राजाओं 2:1-11 
  5. सोने का बछड़ा और काँसे का साँप किसने बनाया?
    (हारून, मूसा) निर्गमन 32:24, गिनती 21:8-9 

बाइबिल प्रश्नोत्तरी: Bible Quiz in Hindi

  1. बाइबिल में तीन महिलाओं के नाम बताइए जिनके नाम “र” से शुरू होते हैं।
    (रेबेका, राहेल, रूत) उत्पत्ति 25:21, 29:11, 16, 28, रूत 1:14, 16, 
  2. किस राजा के पास धूपघड़ी थी?
    (हिजकिय्याह) 2 राजा 20:9, यशायाह 38:8
  3. किस शिष्य को मछली के मुंह में सिक्का मिला?
    (पीटर/ पतरस) मत्ती 17:26-27  
  4. हाम के पिता को क्या कहा जाता था? उसके भाइयों को क्या कहा जाता था?
    (नूह, शेम, येपेत) उत्पत्ति 5:30, 32
  5. 1 तीमुथियुस 2,4 में क्या लिखा है?
    (परमेश्वर चाहता है कि सभी लोग बचाए जाएं और सच्चाई को पहचानें।)

अंत में, आपको ये बाइबल ज्ञान की प्रस्तुति कैसी लगी? हमें जरूर बताएं। और इसी तरह के लेखों और वीडियो के लिये इस ब्लॉग को लाइक और शेयर कीजिये।

धन्यवाद।

What Is Affiliate Marketing? Definition, And Benefits Of Affiliate Marketing

Featured

What Is Affiliate Marketing? Definition, And Benefits Of Affiliate Marketing

Introduction. What Is Affiliate Marketing? Definition, And Benefits Of Affiliate Marketing. The online world has tremendously affected our everyday lives that sometimes it might even seem impossible to imagine our lives without technology and online communication. This trend naturally transferred to the business world, where the new technologies opened up so many exciting opportunities.

The businesses out there were no longer confined by location or restricted by infrastructure. Once everyone hurled to the big cities because these have been places enabling your business to grow. Businesses needed more qualified employees, they wanted exposure to more customers and opportunities to network and create partnerships.

All of these required your business to have headquarters in a big city, but this is no longer needed.  All you need is a computer and an internet connection, and you are ready to take your business anywhere you want.  

Optimal Health - 2oRD390fA0yyS QkZCOuEMyMjeJaTsRTkC2hgHCML8Emy57XrRHjvBGRqB8dZZM83IF6SNVX4e VMq h3RKTwdIUCWl6meyL1nR4o2y e3 X2VKaBbWqBj7rDdQ4Jy 5K4 meNZh FPUSP8DQ - Optimal Health - Health Is True Wealth.https://unsplash.com/photos/EZSm8xRjnX0 

Speaking of the business world, this term has so long been used about big corporations and management teams, but nowadays, we see more and more one-man businesses that grow and expand their reach globally. There is a significant number of businesses completely set up and run by a single person. Or they start as such, only to expand as their influence online begins to increase. Entrepreneurship has become a popular business model which helped so many wonderful business ideas come to life.  

The possibilities on the market are numerous, especially if we have in mind the online market.  There are so many different ways and strategies to set up and grow a business, depending on the niche, resources, knowledge, etc. What is safe to say is that these opportunities are a part of the online world, and new opportunities keep popping up. One of those is affiliate marketing.  

Affiliate marketing  

While every business starting nowadays will first create a website, optimize it and then head to social media to establish a presence there, not everyone will consider affiliate marketing as an opportunity at first. The goal of this ebook will be to show you the real potential of affiliate marketing and how developing a strategy of your own can help your profits soar and your business grow. 

For starters, you will need to understand the difference between being a merchant and an affiliate because these require two completely different strategies. These can develop your business in different ways, so you can either focus on one or choose to be both, a  merchant and an affiliate, which, although less frequent, is still doable.

You will also learn about business models that are available in affiliate marketing.

Affiliate programs and tools will be essential parts of your strategy, which is why you need to learn about those as well. Your goal will be to learn as much as possible about affiliate marketing opportunities and about different affiliate programs and tools that enable you to form your custom strategy, an approach, and a plan which will be oriented towards one idea – improve your business through affiliate marketing. 

Affiliate marketing is a part of online marketing, which means it is connected and related to all of the segments of online marketing. This is why there will be a chapter about this connection,  and how using affiliate marketing requires at least basic knowledge of online marketing in general.  

Optimal Health - affiliate website samples - Optimal Health - Health Is True Wealth.
What Is Affiliate Marketing? Definition, And Benefits Of Affiliate Marketing

Affiliate marketing statistics 

Before defining the term and analyzing this concept of affiliate marketing, it is helpful to have in mind a couple of statistics that illustrate the state of affiliate marketing in the business world at this moment. 

  • Approximately 15% of the digital media industry’s revenue now comes from affiliate marketing. (BusinessInsider) 
  • Over 50% of top affiliate programs fall into 4 categories: Fashion, Sports, Health &  Beauty, and Travel (AMNavigator) 
  • The top factors for choosing an affiliate program are product or service relevancy  (18.15%), affiliate program reputation (15.97%), and affiliate network or tracking platform (11.58%). (AffStat) 
  • The most common places to find new affiliate programs include information on the merchant’s website searches on Google, and affiliate network websites. (AffStat)
  • Affiliate marketing will affect 14% of all e-commerce purchases in the United States.  (DigitalCommerce360) 
  • With the power of social media, content publishers, and a plethora of digital media readily available at their fingertips, today’s consumers are more educated and shopper-savvy than ever before. (Rakuten) 
  • When it comes to purchasing decisions, price point had the most influence on a  Millennial (62%), outweighing recommendations from a friend (55%), brand reputation (47%), and product quality (35%). (Rakuten) 
  • Mobile devices were crucial for Millennial mothers to search for the best possible price of a product (79.4%), read reviews (68.9%), and download coupons (67.1%).  Even in-store shopping was greatly influenced by Millennial mobile users, with over half (52%) comparing prices to other retailers. (Rakuten) 
  • More than 30% of affiliate-generated sales originate from a mobile device. (Awin)
  • Nearly 50% of affiliate-referred traffic originates from a mobile device. (Awin)
  • 40% of marketing professionals quote affiliate marketing as the most desired digital skill. (AMNavigator) 

What we can conclude about affiliate marketing is the following: 

  • Affiliate marketing has (and will continue to have) an important role in e-commerce.
  • Affiliate marketing is an amazing opportunity to increase sales (and revenue) for both merchants and affiliates.  
  • Content is the best way to promote affiliate links. 
  • Working on authenticity and reputation is the best way to earn credibility online and thus increase the profitability of affiliate marketing.  
  • Mobile is affecting affiliate marketing as well, which means the mobile user experience is something merchants and affiliates need to focus on.
Optimal Health - affiliate programs 1024x447 1 - Optimal Health - Health Is True Wealth.
What Is Affiliate Marketing? Definition, And Benefits Of Affiliate Marketing

What Is Affiliate  Marketing?

As one of the strategies available to online businesses, affiliate marketing offers plenty of opportunities but before you get started you need to understand the entire concept and what it is all about.  

The origin and development of affiliate marketing  

The entire concept of affiliate marketing is focused on sharing the revenue by partnering up with others, and it is the concept that has been around for a while before the world wide web even started. In terms of affiliate marketing as an online business model, we can trace back its origin back to 1994 when the first affiliate program was launched by PC Flowers & Gifts.

One year later, they had over 2000 partners in their affiliate program. Perhaps the best-known affiliate program today, Amazon’s affiliate program, was launched in 1996. E-commerce websites, in general, started seeing affiliate marketing as an excellent way for them to increase sales without any direct promotion on their part.  

Optimal Health - YO6KqIzz5xr0oN1V tUTqzn9Ryg U9sFzss1ABWgOqQey8F4w13pffFEi4Ono2hxIUq - Optimal Health - Health Is True Wealth.I

https://pixabay.com/en/wallet-money-credit-card-online-2125548/

Even though there have been several business models in affiliate marketing, what changed the game was the introduction of Web 2.0. This shifted the focus to user-generated content, optimization, and integration of social media.  

As a result, affiliate marketing became even more available to ordinary people, bloggers,  influencers, etc. who suddenly started seeing this type of marketing as a perfect way for them to monetize their online influence. No longer has this partnership been available for businesses only, but individuals started taking a massive role in the concept, changing the world of affiliate marketing for good.  

Optimal Health - Become an Affiliate Marketer - Optimal Health - Health Is True Wealth.
What Is Affiliate Marketing? Definition, And Benefits Of Affiliate Marketing

Affiliate marketing Defined 

Affiliate marketing is a type of performance-based marketing. This means that the efficiency evaluation and reward systems are based on performance, which can be evaluated at specific intervals, or can have a particular goal that needs to be achieved.  

There are two roles in affiliate marketing that are crucial for this entire system to work.

First,  there are merchants, who decide to create an affiliate program. They provide an offer for others to promote their business and earn their commission. On the other side, there are affiliates, who are also known as publishers. They are the ones that are interested in joining an affiliate program.  

The main reason for merchants to create an affiliate program in the first place is the potential to increase sales and boost profit with no direct promotional campaign, except for enabling affiliates to join the program. Since the entire concept of affiliate marketing is performance-based, there is no investment or pre-payment required by the merchants.  

Affiliates are also motivated by profit to join an affiliate program. Once they enter the program,  they can promote the merchant’s products in any form they can, to increase sales. Their performance is tracked using trackable links and they are paid based on that performance, i.e., based on the conversions they achieve. 

Optimal Health - digital marketing channels edited 1 - Optimal Health - Health Is True Wealth.
What Is Affiliate Marketing? Definition, And Benefits Of Affiliate Marketing

Digital buyers  

Apart from merchants and affiliates, who take an active role in affiliate marketing, it is also important to mention digital buyers. These are the modern consumers who are experiencing the buying process in a completely different way nowadays. Not only does the habit of buying online instead of offline change rapidly, but the way consumers buy is also changing.  

Digital buyers are more prone to explore products before they buy. This is how showrooming and web rooming were introduced in e-commerce. Nowadays, buyers want recommendations, and they want to see the benefits of the product. They look for recommendations from friends and people they respect (bloggers, influencers, etc.).  

All of this has a positive influence on affiliate marketing because it increases the chance of online buyers finding the products through recommended (affiliate) links. Furthermore, a lot of surveys show that affiliate marketing drives performance, which includes brand discovery and awareness, as well as customer engagement and purchase. Affiliate marketing connects merchants and buyers and affiliates are those who connect the two. 

Optimal Health - Optimal Health - Health Is True Wealth.Ihttps://rakutenmarketing.com/affiliate.html 

Getting started  

Learning more about affiliate marketing (by reading this ebook for example) is the first step that is going to help you get started with this type of marketing. You must understand the basics to be able to explore your options and how you can leverage the potential of affiliate marketing.  

As mentioned above, you will have to choose one of the two roles in affiliate marketing. If you have a product and you need help with the promotion of that product, then you will be a merchant.  On the other hand, if you have a great blog, lots of subscribers, or online influence, and you want to cash that in, you can do that by becoming an affiliate.  

We can summarize the entire process by defining the tasks of these two participants.

On one side, a merchant sets up a program. He provides everything needed for the product promotion, including images and links. Affiliates join this program and start advertising the product using online resources. Their activity is being tracked through links. Once the online user clicks on an affiliate link, that activity is stored in the user’s browser cookies. When the user buys a product, and this has been detected as a visit originating from an affiliate link, that affiliate is paid a  commission.  

The time interval during which the cookies stay in the browser can be different from one website to another, but it is usually a period of 30 or 60 days. This means that the transaction can be detected during that time interval and still be contributed to the affiliate.

For example,  the user clicks on the affiliate link, and checks out the product, but decides not to buy. However, the same user goes back and buys the product days later. This sale can still be attributed to the affiliate if the cookies are stored in the browser.  

Optimal Health - maxresdefault 2 - Optimal Health - Health Is True Wealth.
What Is Affiliate Marketing? Definition, And Benefits Of Affiliate Marketing

Types of affiliate websites  

Affiliate links can be shared on several different types of websites including: 

  • Price/Feature comparison websites 
  • Product review websites 
  • Personal websites 
  • Coupon websites  
  • File-sharing websites 
  • Video-sharing websites  
  • Shopping directories 

There is no limitation when it comes to promoting an affiliate link, so an affiliate can use multiple resources to share these links online. The more exposure the link gets, the more likely it is for the affiliate to earn the commission. 

What Is Affiliate Marketing? Definition, And Benefits Of Affiliate Marketing
What Is Affiliate Marketing? Definition, And Benefits Of Affiliate Marketing

Benefits of affiliate marketing  

The tremendous popularity of this method of online marketing is the result of many benefits that can be obtained, for both merchants and affiliates.  

Benefits for merchants  

There are several benefits for merchants which encourage them to create and make available affiliate programs for their products and use this as a way to grow their businesses in the digital world.  

Pay for performance  

With affiliate marketing, merchants do not need any investment. There is no risk involved because no payment is made in advance. Affiliate marketing is often called performance-based marketing, which means the affiliates are only paid based on their performance. Once the sale is completed, the affiliate is paid a percentage of that sale. 

Easy tracking  

Trackable links and affiliate marketing tools are used to create and track the performance of the affiliate links. This way, the merchants can successfully manage and monitor the traffic and inbound links generated by the affiliates.  

Exposure and more inbound links 

Since affiliate marketing is all about affiliates promoting your links, with methods that include posting the links on their website(s) or blog(s), you will likely increase the exposure of your brand as well as the search engine visibility. If the websites that link to you have a good domain or paid authority, this will be a great boost for your SEO.

You will have to be careful here because you should avoid accepting affiliates who are likely to post links on spammy websites or use suspicious methods to promote the links. This can harm your site’s reputation and thus have a negative influence on the site’s search engine ranking.  

Increase in traffic through referrals  

Another benefit obtained through links in affiliate marketing is an increase in traffic. To make this traffic an asset of yours, you will need to have a compelling landing page and a  powerful CTA, to make sure you take advantage of the traffic you receive through affiliate links.  You might also want to generate leads through an offer or online promotion, which is another aspect you will need to include when designing the landing page.  

Lead generation 

Not only do you get to increase traffic and amplify sales, but you will also generate leads at the same time, with no additional costs involved. It is necessary to create a website page that will encourage users to sign up or claim an offer, after which they can become a part of your mailing list. Regardless of the affiliate’s performance and earned commissions, these leads remain your asset that can be used later on for email campaigns.  

Full control over commission rates, promo materials, and selection of affiliates  

When you set up an affiliate program, you define the terms for participation, which means that the commission and other terms (such as cookies’ life) are in your control. The affiliates who want to join will have to accept those terms. You will also provide images and other materials used for the promotion, so here is another aspect you can control. 

Benefits for affiliates 

When it comes to affiliates, affiliate marketing also provides many benefits:

No investment  

Unlike opening your online store, where you will need an investment to start, affiliate marketing helps you promote and sell products with no investment on your part. You do not own the products, so there are no costs of making or buying products. The only investment needed is the promotion of the product.  

Minimal or no operating costs 

If you already have a website or a blog and influential social media channels, you will not have additional costs. However, if you are starting without any of these, you will need to create a  website (or blog) and set up social media channels, and these will involve certain expenses,  depending on whether you will need assistance with those tasks or you will do them on your own. The costs involved would be for website maintenance, content creation, and content promotion. 

No need to stock products  

Since you do not own the products you are promoting, you will not need a warehouse to stock the products. If those are physical products, you will not be involved in the shipping process either. The only goal you have is to promote the product and direct the buyer to the website where the product can be bought using your affiliate link. Handling the products and shipping is done by a merchant, and it does not require your involvement. 

Possibility to earn money 24/7 

Affiliate links bring you profit at any moment of the day. Any time the visitors click on the link the activity is tracked and there is a possibility to earn a commission if the conversion is completed. This kind of passive income is an excellent opportunity for bloggers to make a profit even when they are focused on other projects. 

Large audience to reach online 

Affiliate marketing offers great potential because you are not limited by a specific territory or language. This helps you reach a large group of people, which results in more opportunities to earn from affiliate link promotions.  

Multiple platforms to use for the promotion  

As an affiliate, you will have many platforms to use to promote the products. The most common way to do so is using your website or blog, but social networks can also be used for such promotion.  

Both merchants and affiliates can use affiliate marketing to grow their business online. They are joined by one common goal – to increase profit. Affiliates’ willingness to promote merchant’s products is motivated by the possibility to earn a part of the profit. On the other hand, a  merchant is motivated to increase sales and is willing to share the profit in exchange for a new  (or often recurring) customer.  

It is a win-win relationship which is the main reason why affiliate marketing continues to be often used in online marketing. 

Read more articles:

5 Home Business Solutions for the Homemaker

वेस्टीज मार्केटिंग बिजनेस प्लान | VESTIGE MARKETING BUSINESS PLAN 2022

20+ सर्वश्रेष्ठ ऑनलाइन लर्निंग प्लेटफॉर्म कैसे चुनें? | 20 Best Online Learning Platform 2022

THE LIST OF BEST BOOKS FOR NETWORK MARKETING-PART 2

सक्रिय आय बनाम निष्क्रिय आय | Active Income VS Passive Income

https://site.pro/en/?ref=0d175a408804a26ade1d197a67c5df6e

200 Plus Famous Quotes For Life

Featured

200 Plus Famous Quotes For Life

200 Plus Famous Quotes For Life. In this article learn about: What is the 10 most famous quotes? What are 5 famous quotes? What is the best motto in life? What is the best quote about life? What are short good quotes?

Optimal Health - 172 2 - Optimal Health - Health Is True Wealth.

Deep quotes about life.

Anything is possible. You can be told that you have a 90-percent chance or a 50-percent chance or a 1-percent chance, but you have to believe, and you have to fight.
All labor that uplifts humanity has dignity and importance and should be undertaken with painstaking excellence.
People become quite remarkable when they start thinking that they can do things when they believe in themselves they have the first secret to success
Nothing makes one feel so strong as a call for help.
Every job is a self-portrait of the person who does it. Autograph your work with excellence.
A great attitude does much more than turn on the lights in our worlds; it seems to magically connect us to all sorts of serendipitous opportunities that were somehow absent before we changed.
The important thing is not being afraid to take a chance. Remember, the greatest failure is to not try. Once you find something you love to do, be the best at doing it.
Opportunities are usually disguised as hard work, so most people don’t recognize them.
I’ve always believed that if you put in the work, the results will come.
Often the difference between a successful person and a failure is not that one has better abilities or ideas, but the courage that one has to bet on one’s ideas, take a calculated risk – and act.
Start with what you do well and you will already be halfway to mastery.
Optimal Health - 170 2 - Optimal Health - Health Is True Wealth.

Unique quotes on life

To die is nothing, but it is terrible not to live.
Your power is proportional to your ability to relax.
Courage and perseverance have a magical talisman before which difficulties disappear and obstacles vanish into the air.
It is difficult to say what is impossible, for the dream of yesterday is the hope of today and the reality of tomorrow.
What lies behind us and what lies before us are tiny matters compared to what lies within us.
Believe you can do it. Believing something can be done puts your mind to work for you and helps you find ways to do it.
Happiness is the natural flower of duty.
He is not busy being born is busy dying.
Meditation is an exercise for the mind.
Focus more on your desire than on your doubt, and the dream will take care of itself.
Who you are is enough.
The only good luck many great men ever had was being born with the ability to overcome bad luck.
If you work hard and you’re nice, amazing things will happen.
Keep your dreams alive. Remember all things are possible for those who believe.
Work as though everything depended on you.
Courage doesn’t always roar. Sometimes courage is the little voice at the end of the day that says I’ll try again tomorrow.
Enthusiasm is the great hill-climber.
What a wonderful life I’ve had! I only wish I’d realized it sooner.
Many of life’s failures are people who did not realize how close they were to success when they gave up.
I have always been delighted at the prospect of a new day, a fresh try, one more start, with perhaps a bit of magic waiting somewhere behind the morning.
Take your life into your own hands and what happens? A terrible thing: no one to blame.
The greatest danger for most of us is not that our aim is too high and we miss it, but that it is too low and we reach it.
I was always looking outside myself for strength and confidence, but it comes from within. It is there all the time.
The distance doesn’t matter. Only the first step is difficult.
Optimal Health - 560 2 - Optimal Health - Health Is True Wealth.

Famous Short Quotes

Let each man exercise the art he knows.
Learning how to be still, to be still, and let life happen – that stillness becomes a radiance.
All that we are is the result of what we have thought. The mind is everything. What we think we become.
The responsibility for both present and future is in our own hands. If we live right today, then tomorrow has to be right.
I’m a great believer in luck, and I find the harder I work the more I have of it.
Look within. Within is the fountain of good, and it will ever bubble up if thou wilt ever dig.
The best way to predict the future is to create it.
The most self-destructive thought that any person can have is thinking that he or she is not in total control of his or her life. That’s when “Why me?” becomes a theme song.
Always work hard, be honest, and be proud of who you are.
Once I knew only darkness and stillness… my life was without past or future… but a little word from the fingers of another fell into my hand that clutched at emptiness, and my heart leaped to the rapture of living.
Joy is what happens to us when we allow ourselves to recognize how good things are.
Working hard and working smart sometimes can be two different things.
You were born an original. Don’t die a copy.
Remember you have exactly what you need for the direction you are headed.
It is not the place, nor the condition, but the mind alone that can make anyone happy or miserable.
Thousands of candles can be lighted from a single candle, and the life of the candle will not be shortened. Happiness never decreases by being shared.
It’s takin’ whatever comes your way, the good AND the bad, that give life flavor. It’s all the stuff rolled together that makes life worth livin’.
Until we can manage TIME, we can manage nothing else.
Individual commitment to a group effort – is what makes teamwork, a company work, a society work, and a civilization work.
Do not wait to strike till the iron is hot, but make it hot by striking
Attitude and expectation have to be renewed daily. The first step is to believe that we deserve what we desire. That sets the tone for the rest of our day and thought processes.
He is able who thinks he is able.
If you can’t see how to get what you want, consider how to want what you’ve got.
I believe that one defines oneself by reinvention. To not be like your parents. To not be like your friends. To be yourself. To cut yourself out of stone.
And now, this is the sweetest and most glorious day that ever my eyes did see.
Shallow men believe in luck. Strong men believe in cause and effect.
Neurotics chase after people and jobs they don’t want, just to prove that they are like everybody else – which is the last thing they want.
The state of your life is nothing more than a reflection of your state of mind.
Don’t let the dazzling heights you aspire to scare you from getting started. After all, few could climb Mt. Everest tomorrow, though virtually all could begin preparing.
A hug is a great gift – one size fits all, and it’s easy to exchange.
Optimal Health - 587 2 - Optimal Health - Health Is True Wealth.

Short Quotes on Life

Wherever smart people work, doors are unlocked.
I can tell how much money you make by looking at how you respect your time.
Start something new today; foster it tomorrow and every day after that then begin to imagine the possibilities of what you will achieve.
Your resolution to succeed is more important than any other thing.
With self-discipline most anything is possible.

यीशु मसीह की सेवा का उदाहरण (Example of Jesus Christ’s Service)-Yeeshu Ki Sewa

Featured

यीशु मसीह की सेवा का उदाहरण (Example of Jesus Christ’s Service)-Yeeshu Ki Sewa

हमारा उदाहरण-हमारे प्रभु यीशु मसीह इस दुनिया में मनुष्य की आवश्यकता के लिए, बिना थके हुये दास के रूप में आए। उसने “हमारी दुर्बलताओं को ले लिया, और हमारे रोगों को दूर किया,” कि वह मानवजाति की हर आवश्यकता की सेवा कर सके। मत्ती 8:17. यीशु मसीह की सेवा का उदाहरण (Example of Jesus Christ’s Service)-Yeeshu Ki Sewa

यीशु मसीह रोग और विपदा और पाप के बोझ को दूर करने आया था।

यह उसका मिशन था कि वह मनुष्यों के लिए पूर्ण बहाली लाए; वह उन्हें स्वास्थ्य और शांति और चरित्र की पूर्णता देने आया था। 

उन लोगों की परिस्थितियाँ और ज़रूरतें अलग-अलग थीं, जिन्होंने उसकी सहायता की गुहार लगाई, और जो कोई भी उसके पास आया, वह बिना मदद के नहीं गया। उससे उपचार शक्ति की एक धारा प्रवाहित हुई, और शरीर और मन और आत्मा में पुरुषों को संपूर्ण बनाया गया। 

उद्धारकर्ता का कार्य किसी समय या स्थान तक सीमित नहीं था।

उसकी करुणा की कोई सीमा नहीं थी। इतने बड़े पैमाने पर उन्होंने चंगाई और शिक्षा के अपने कार्य का संचालन किया कि फ़िलिस्तीन में इतनी बड़ी कोई इमारत नहीं थी कि उनके पास आने वाली भीड़ को ग्रहण किया जा सके। गलील की हरी पहाड़ी ढलानों पर, यात्रा के मार्ग में, समुद्र के किनारे, आराधनालयों में, और हर जगह जहां बीमारों को उसके पास लाया जा सकता था, उसका अस्पताल पाया जाता था।

हर शहर, हर कस्बे, हर गाँव में, जहाँ से होकर वह गुज़रा, उसने पीड़ितों पर हाथ रखा और उन्हें चंगा किया।

जहाँ कहीं भी हृदय उसके संदेश को प्राप्त करने के लिए तैयार थे, उसने उन्हें उनके स्वर्गीय पिता के प्रेम के आश्वासन के साथ दिलासा दिया। जो उसके पास आए थे, उनकी वह दिन भर सेवा करता रहा; शाम को उन्होंने ध्यान दिया जैसे कि दिन के दौरान अपने परिवारों के समर्थन के लिए कोई एक छोटा सा मूल्य कमाने के लिए, कड़ी मेहनत करनी चाहिए। 

यीशु ने मनुष्यों के उद्धार के लिए जिम्मेदारी का भयानक भार उठाया।

वह जानता था कि जब तक मानव जाति के सिद्धांतों और उद्देश्यों में कोई निश्चित परिवर्तन नहीं होगा, सब कुछ खो जाएगा। यह उसकी आत्मा का बोझ था, और कोई भी उस भार की सहन नहीं कर सकता था, जो उस पर टिका था।

बचपन, जवानी और मर्दानगी में वे अकेले चलते थे। फिर भी उसकी उपस्थिति में स्वर्ग था। दिन-ब-दिन वह परीक्षाओं और प्रलोभनों का सामना करता था; दिन-ब-दिन वह बुराई के संपर्क में आया और उसने उन लोगों पर अपनी शक्ति देखी, जिन्हें वह आशीर्वाद देना और बचाने की कोशिश कर रहा था। फिर भी वह असफल नहीं हुआ या निराश नहीं हुआ। 

सभी बातों में, यीशु मसीह ने अपनी इच्छाओं को अपने मिशन में सख्ती से स्थगित कर दिया।

यीशु मसीह ने अपने जीवन में सब कुछ अपने पिता की इच्छा के अधीन बनाकर उसे गौरवान्वित किया। जब उसकी युवावस्था में उसकी माँ ने उसे रब्बियों के स्कूल में पाकर कहा, “बेटा, तुमने हमारे साथ ऐसा क्यों किया?” उसने उत्तर दिया,—और उसका उत्तर उसके जीवन-कार्य का मुख्य बिंदु है,—“यह कैसे हुआ कि तुमने मुझे खोजा? क्या तुम नहीं चाहते, कि मैं अपने पिता के काम में लगा रहूं?” लूका 2:48, 49. 

यीशु मसीह का जीवन निरंतर आत्म-बलिदान का था।

इस दुनिया में उनका कोई घर नहीं था, सिवाय इसके कि एक राहगीर के रूप में उनके लिए प्रदान की गई, दूसरों की दया। वह हमारी ओर से सबसे गरीब लोगों का जीवन जीने और जरूरतमंदों और पीड़ितों के बीच चलने और काम करने के लिए आए थे। अपरिचित और असम्मानित, वह उन लोगों के बीच में और बाहर चला गया जिनके लिए उसने बहुत कुछ किया था। 

यीशु मसीह हमेशा धैर्यवान और हंसमुख था, और पीड़ित उसे जीवन और शांति के दूत के रूप में मानते थे।

उसने पुरुषों और महिलाओं, बच्चों और युवाओं की जरूरतों को देखा, और सभी को निमंत्रण दिया, “मेरे पास आओ।” 

अपनी सेवकाई के दौरान, यीशु ने प्रचार करने की अपेक्षा बीमारों को चंगा करने में अधिक समय दिया। उसके चमत्कारों ने उसके वचनों की सच्चाई की गवाही दी, कि वह नाश करने नहीं, परन्तु बचाने आया है। वह जहाँ भी गया, उसकी दया का समाचार उससे पहले वहाँ पहुँच गया। जहां से वे गुजरे थे, उनकी करुणा के पात्र स्वास्थ्य में आनन्दित हो रहे थे और अपनी नई-नई शक्तियों का परीक्षण कर रहे थे।

जो काम यहोवा ने किए थे, उनके होठों से सुनने के लिये भीड़ उनके चारों ओर इकट्ठी हो रही थी। उसकी आवाज़ पहली आवाज़ थी जिसे बहुतों ने कभी सुना था, उसका नाम वह पहला शब्द था जो उन्होंने कभी बोला था, उसका चेहरा सबसे पहले उन्होंने कभी देखा था।

उन्हें यीशु से प्रेम क्यों नहीं करना चाहिए और उसकी स्तुति क्यों नहीं करनी चाहिए?

जब वह नगरों से होकर गुजरा तो वह जीवन और आनंद को फैलाने वाली एक महत्वपूर्ण धारा के समान था। 

“जबूलून का देश और नप्ताली का देश, समुद्र के पास, यरदन के पार, अन्यजातियों के गलील, जो लोग अन्धकार में बैठे थे, उन्होंने एक बड़ी ज्योति देखी, और जो लोग मृत्यु के क्षेत्र और छाया में बैठे थे, उन्हें उन्होंने प्रकाश मिला। ” मत्ती 4:15, 16

उद्धारकर्ता ने चंगाई के प्रत्येक कार्य को मन और आत्मा में ईश्वरीय सिद्धांतों को आरोपित करने का अवसर बनाया।

यही उनके कार्य का उद्देश्य था। उसने सांसारिक आशीषें प्रदान कीं, ताकि वह अपने अनुग्रह के सुसमाचार को प्राप्त करने के लिए लोगों के हृदयों को आकर्षित कर सके। 

यहूदी राष्ट्र के शिक्षकों में मसीह ने भले ही सर्वोच्च स्थान पर कब्जा कर लिया हो, लेकिन उन्होंने गरीबों को सुसमाचार सुनाना पसंद किया। वह एक स्थान से दूसरे स्थान को जाता रहा, कि राजमार्गों और मार्गों के लोग सत्य की बातें सुनें। समुद्र के किनारे, पहाड़ के किनारे, शहर की गलियों में, आराधनालय में, उसकी आवाज पवित्रशास्त्र की व्याख्या करते हुए सुनी गई। प्राय: वह मन्दिर के बाहरी आंगन में शिक्षा देता था, कि अन्यजाति उसके वचनों को सुन सकें। 

इसलिए शास्त्रियों और फरीसियों द्वारा दी गई पवित्रशास्त्र की व्याख्याओं के विपरीत, मसीह की शिक्षा थी, कि लोगों का ध्यान आकर्षित किया गया। रब्बी परंपरा पर, मानव सिद्धांत पर, और अटकलों पर रहते थे। अक्सर जो कुछ लोगों ने पवित्रशास्त्र के बारे में सिखाया और लिखा था, उसे पवित्रशास्त्र के स्थान पर ही रखा गया था। 

मसीह की शिक्षा का विषय परमेश्वर का वचन था।

यीशु मसीह प्रश्न करने वालों से सीधे सादे शब्दों में मिला, “लिखा है,” “पवित्रशास्त्र क्या कहता है?” “आप कितने पढ़े-लिखे हैं?” हर अवसर पर जब किसी मित्र या शत्रु द्वारा रुचि जगाई गई, तो उन्होंने शब्द प्रस्तुत किया। स्पष्टता और शक्ति के साथ, उन्होंने सुसमाचार संदेश की घोषणा की। उसके शब्दों ने कुलपतियों और भविष्यवक्ताओं की शिक्षाओं पर प्रकाश की बाढ़ ला दी, और पवित्रशास्त्र एक नए प्रकाशन के रूप में लोगों के सामने आया। 

इससे पहले उसके श्रोताओं ने परमेश्वर के वचन में इतनी गहराई का अनुभव नहीं किया था। 

मसीह जैसा प्रचारक पहले कभी नहीं था। 

वह स्वर्ग के महामहिम थे, लेकिन उन्होंने हमारे स्वभाव को लेने के लिए खुद को दीन किया, ताकि वे लोगों से मिल सकें जहां वे थे। सभी लोगों के लिए, अमीर और गरीब, स्वतंत्र और बंधुआ, मसीह, वाचा के दूत, उद्धार का समाचार लेकर आए।

महान उपचारक के रूप में उनकी ख्याति पूरे फिलिस्तीन में फैल गई। बीमार लोग उन स्थानों पर आए जहां से होकर वह गुजरेगा, कि वे सहायता के लिए उस से प्रार्थना करें। यहाँ भी, बहुत से लोग उसके वचनों को सुनने और उसके हाथ का स्पर्श प्राप्त करने के लिए उत्सुक थे। इस प्रकार वह एक नगर से दूसरे नगर, एक राज्य से दूसरे राज्य में, सुसमाचार का प्रचार करता और बीमारों को चंगा करता था—मानवता के दीन-हीन वेश में महिमा के राजा। 

उन्होंने राष्ट्र के महान वार्षिक उत्सवों में भाग लिया, और बाहरी समारोह में लीन भीड़ के लिए, उन्होंने स्वर्गीय चीजों की बात की, उनके विचार में अनंत काल की बातें थीं।

यीशु मसीह सब के लिए बुद्धि के भण्डार से धन लेकर आया।

वह उनसे इतनी सरल भाषा में बात करता था कि वे समझने में असफल नहीं होते थे। विशेष रूप से अपने तरीकों से, उन्होंने उन सभी की मदद की जो दु: ख और क्लेश में थे। कोमल, विनम्र अनुग्रह के साथ उन्होंने पाप-पीड़ित आत्मा की सेवा की, चंगाई और शक्ति द्वारा। 

शिक्षकों के राजकुमार, उन्होंने अपने सबसे परिचित संघों के माध्यम से लोगों तक पहुंच की मांग की।

उन्होंने सच्चाई को इस तरह से प्रस्तुत किया कि यह उनके श्रोताओं के लिए उनकी सबसे पवित्र यादों और सहानुभूति के साथ जुड़ा हुआ था। उन्होंने इस तरह से सिखाया जिससे उन्हें अपने हितों और खुशी के साथ उनकी पहचान की पूर्णता का एहसास हुआ।

उनका निर्देश इतना सीधा था, उनके चित्र इतने उपयुक्त थे, उनके शब्द इतने सहानुभूतिपूर्ण और हर्षित थे, कि उनके सुनने वाले मंत्रमुग्ध हो गए थे। जिस सादगी और लगन से उन्होंने जरूरतमंदों को संबोधित किया, उसने हर शब्द को पवित्र कर दिया। 

उसने कितना व्यस्त जीवन व्यतीत किया! दिन-ब-दिन वह अभाव और दुःख के विनम्र निवासों में प्रवेश करते हुए, निराशों से आशा और व्यथितों को शांति की बात करते हुए देखा जा सकता था। दयालु, कोमल हृदय, दयनीय, ​​वह झुके हुए को उठाने और दुखी को सांत्वना देने के लिए चला गया। वह जहां भी गए, उन्होंने आशीर्वाद दिया, उपकार किया। 

जब कि यीशु मसीह ने गरीबों की सेवा की, तो उस ने अमीरों तक पहुँचने के तरीके खोजने के लिए भी अध्ययन किया।

उसने धनी और सुसंस्कृत फरीसी, यहूदी रईस और रोमन शासक के परिचय की मांग की। उन्होंने उनके निमंत्रणों को स्वीकार किया, उनकी दावतों में भाग लिया, और उनके हितों और व्यवसायों से खुद को परिचित कराया ताकि वह उनके दिलों तक पहुँच सकें, और उन्हें अविनाशी धन प्रकट कर सकें। 

मसीह इस दुनिया में यह दिखाने के लिए आए थे कि ऊपर से शक्ति प्राप्त करके, मनुष्य एक निष्कलंक जीवन जी सकता है।

अथक धैर्य और सहानुभूतिपूर्ण सहायता के साथ, वह पुरुषों से उनकी आवश्यकताओं में मिले। कृपा के कोमल स्पर्श से, उन्होंने आत्मा की अशांति और संदेह को दूर कर दिया, शत्रुता को प्रेम में और अविश्वास को आत्मविश्वास में बदल दिया। 

वह जिसे चाहता था कह सकता था, “मेरे पीछे हो ले,” और जिसे संबोधित किया,  वह उठकर उसके पीछे हो लिया। संसार के जादू-टोने का जादू टूट गया। उसकी आवाज पर, लालच और महत्वाकांक्षा की भावना दिल से भाग गई, और उद्धारकर्ता का अनुसरण करने के लिए पुरुष उठे, मुक्त हुए। 

यीशु मसीह में भाईचारे की भावना थी।

यीशु मसीह ने राष्ट्रीयता या पद या पंथ के किसी भेद को नहीं पहचाना। शास्त्री और फरीसी स्वर्ग के उपहारों का एक स्थानीय और राष्ट्रीय लाभ बनाना चाहते थे और शेष परमेश्वर के परिवार को दुनिया से बाहर करना चाहते थे। लेकिन मसीह विभाजन की हर दीवार को तोड़ने आए। वह यह दिखाने के लिए आया था कि उसकी दया और प्रेम का उपहार उतना ही व्रिस्तृत है जितना कि हवा, प्रकाश, या बारिश की बौछारें जो पृथ्वी को तरोताजा कर देती हैं। 

मसीह के जीवन ने एक ऐसे धर्म की स्थापना की जिसमें कोई जाति नहीं है, एक ऐसा धर्म जिसके द्वारा यहूदी और अन्यजाति, स्वतंत्र और बंधुआ, एक समान भाईचारे में जुड़े हुए हैं, ईश्वर के सामने समान हैं।

नीति के किसी भी प्रश्न ने उनके आंदोलनों को प्रभावित नहीं किया। उसने पड़ोसियों और अजनबियों, दोस्तों और दुश्मनों के बीच कोई फर्क नहीं किया। जो उनके दिल को भा गया, वह जीवन के जल की प्यासी आत्मा थी। 

यीशु मसीह ने किसी भी इंसान को बेकार के रूप में पारित नहीं किया, बल्कि हर आत्मा के लिए उपचार के उपाय को लागू करने की मांग की।

उन्होंने जिस भी संगत में खुद को पाया, उन्होंने समय और परिस्थितियों के अनुकूल एक सबक प्रस्तुत किया। पुरुषों द्वारा अपने साथी पुरुषों के प्रति दिखाई गई हर उपेक्षा या अपमान ने ही उन्हें उनकी दिव्य-मानवीय सहानुभूति की आवश्यकता के बारे में अधिक जागरूक बनाया। उन्होंने आशा के साथ सबसे कठोर और सबसे अप्रतिम प्रेरणा देने की कोशिश की, उनके सामने यह आश्वासन दिया कि वे निर्दोष और हानिरहित बन सकते हैं, ऐसा चरित्र प्राप्त कर सकते हैं जो उन्हें भगवान के बच्चों के रूप में प्रकट करेगा। 

अक्सर वह उन लोगों से मिलता था जो शैतान के नियंत्रण में परेशान थे, और जिनके पास उसके फंदे से टूटने की कोई शक्ति नहीं थी।

ऐसे व्यक्ति के लिए, निराश, बीमार, परीक्षा, गिरे हुए, यीशु ने अत्यंत दया के शब्द बोले, ऐसे शब्द जिनकी आवश्यकता थी और जिन्हें समझा जा सकता था। वे अन्य लोगों से मिले, जो आत्माओं के विरोधी के साथ हाथ से हाथ मिलाकर लड़ाई लड़ रहे थे। उसने उन्हें दृढ़ रहने के लिए प्रोत्साहित किया, और उन्हें विश्वास दिलाया कि वे जीतेंगे; क्‍योंकि परमेश्वर के दूत उनकी ओर थे और उन्‍हें जयवन्त करेंगे। 

जनता की मेज पर वे एक सम्मानित अतिथि के रूप में बैठे, उनकी सहानुभूति और सामाजिक दया दिखा रही थी कि उन्होंने मानवता की गरिमा को पहचाना; और मनुष्य उसके भरोसे के योग्य बनने की लालसा रखते थे।

उनके प्यासे दिलों पर, उनके वचन धन्य, जीवनदायिनी शक्ति के साथ गिरे।

नए आवेगों को जगाया गया, और समाज के इन बहिष्कृत लोगों के लिए एक नए जीवन की संभावना खुल गई। 

यद्यपि वह एक यहूदी था, यीशु सामरियों के साथ स्वतंत्र रूप से घुलमिल गए, अपने राष्ट्र के फरीसी रीति-रिवाजों को शून्य कर दिया। उनके पूर्वाग्रहों के सामने, उसने इन तिरस्कृत लोगों का आतिथ्य स्वीकार किया।

यीशु मसीह उनके साथ उनकी छतों के नीचे सोता था, उनके साथ उनकी मेजों पर खाता था, उनके हाथों से तैयार और परोसे जाने वाले भोजन में भाग लेता था, उनकी गलियों में पढ़ाता था, और उनके साथ अत्यंत दया और शिष्टाचार का व्यवहार करता था।

और जब उसने मानवीय सहानुभूति के बन्धन के द्वारा उनके हृदयों को अपनी ओर आकर्षित किया, तो उसकी दिव्य कृपा ने उनके लिए वह उद्धार प्रकट किया, जिसे यहूदियों ने अस्वीकार कर दिया था। 

व्यक्तिगत सेवा

मसीह ने उद्धार के सुसमाचार की घोषणा करने के किसी भी अवसर की उपेक्षा नहीं की। सामरिया की उस एक स्त्री के लिए उसके अद्भुत वचनों को सुनो। वह याकूब के कुएं के पास बैठा था, जब वह स्त्री पानी भरने आई। उसके आश्चर्य के लिए, उसने उससे एक एहसान मांगा। “मुझे पीने के लिए दे दो,” उसने कहा। वह एक अच्छा मसौदा चाहता था, और वह चाहता था कि वह रास्ता भी खोले जिससे वह उसे जीवन का जल दे सके।

“यह कैसे हुआ,” महिला ने कहा, “कि तू यहूदी होकर मुझसे पानी माँगता है, जो सामरिया की महिला है? क्योंकि यहूदियों का सामरियों से कोई व्यवहार नहीं है।”

यीशु ने उत्तर दिया, कि यदि तू परमेश्वर का दान जानता, और वह कौन है जो तुझ से कहता है, कि मुझे पिला दे; तू ने उस से मांगा होता, और वह तुझे जीवित जल देता, जो कोई इस जल में से पीएगा, वह फिर प्यासा होगा; परन्तु जो कोई उस जल में से जो मैं उसे दूं, पीएगा, वह कभी प्यासा न होगा, परन्तु वह जल जो मैं उसे दूंगा। उस में एक जल का कुआँ होगा जो अनन्त जीवन की ओर बहेगा।” यूहन्ना 4:7-14. 

इस एक स्त्री में मसीह ने कितनी दिलचस्पी दिखाई! उसके वचन कितने गंभीर और वाक्पटु थे!

जब उस स्त्री ने यह सुना, तो वह अपना घड़ा छोड़कर नगर में चली गई, और अपके मित्रों से कहने लगी, “आ, एक मनुष्य को देख, जिस ने जो कुछ मैं ने किया, वह सब कुछ मुझे बता दिया, क्या यह मसीह नहीं है?” हम पढ़ते हैं कि “उस नगर के बहुत से सामरियों ने उस पर विश्वास किया।” -यहून्ना4: 29, 39. 

और उसके बाद के वर्षों में आत्माओं के उद्धार पर इन शब्दों ने जो प्रभाव डाला है, उसका अनुमान कौन लगा सकता है? जहाँ कहीं भी हृदय सत्य को ग्रहण करने के लिए खुले हैं, वहाँ मसीह उन्हें निर्देश देने के लिए तैयार है।

यीशु मसीह उन के बीच में पिता और उस सेवा को प्रकट करता है, जो हृदय को पढ़ने वाले को भाती है। ऐसे के लिए वह किसी दृष्टान्त का उपयोग नहीं करता। उन से, जैसा कि उस स्त्री के विषय में, जो कुएं पर है, वह कहता है, “मैं जो तुझ से बातें करता हूं, वही मैं हूं।”

यीशु मसीह की सेवकाई के दिन और चंगाई व आशीषों की बहुतायत। (Yeeshu Masih Ki Sevkayi Aur Changaayi Ki Aashishen) 

https://youtu.be/JLKsGHa1x8o

यीशु मसीह की सेवकाई के दिन और चंगाई व आशीषों की बहुतायत। (Yeeshu Masih Ki Sevkayi Aur Changaayi Ki Aashishen) 

Featured

यीशु मसीह की सेवकाई के दिन और चंगाई व आशीषों की बहुतायत। (Yeeshu Masih Ki Sevkayi Aur Changaayi Ki Aashishen)

यीशु मसीह ने अपने पृथ्वी पर के जीवन में लोगों पर तरस, प्रेम और दयालुता का उदाहरण प्रस्तुत किया है, और आज वही आधार हमारा भी होना चाहिये। यीशु मसीह की सेवकाई के दिन और चंगाई व आशीषों की बहुतायत। (Yeeshu Masih Ki Sevkayi Aur Changaayi Ki Aashishen) सामर्थ्य और सेवा के लिये यीशु मसीह की रात की प्रार्थना को याद रखें।

लूका 4:38; मरकुस 1:30; मत्ती 8:15.

यीशु मसीह का वचन। कफरनहूम में मछुआरे के घर में पतरस की पत्नी की माँ “बड़े ज्वर” से बीमार पड़ी है, और “वे उसे उसके विषय में बताते हैं।” यीशु ने “उसके हाथ को छुआ, और उसका ज्वर उतर गया,” और वह उठकर उद्धारकर्ता और उसके चेलों की सेवा करने लगी।

ये खबर तेजी से फैल गई। सब्त के दिन चमत्कार किया गया था, और रब्बियों के डर से, लोगों ने सूर्य के अस्त होने तक उपचार के लिए आने की हिम्मत नहीं की। तब नगर के निवासी घरों, दूकानों और बाजारों में से उस दीन निवास की ओर दौड़ पड़े, जिस में यीशु को पनाह मिली थी। बीमारों को उठा कर खाट पर लाया गया था, वे कर्मचारियों पर झुक कर आए थे, या, दोस्तों के समर्थन से, वे उद्धारकर्ता की उपस्थिति में कमजोर पड़ गए थे। 

वे घण्टे-घण्टे आते-जाते रहे; क्योंकि कोई नहीं जान सकता था कि कल चंगा करने वाला उनके बीच में रहेगा या नहीं। कफरनहूम ने ऐसा दिन पहले कभी नहीं देखा था। चारों ओर विजय की आवाज और उद्धार के नारों से भर गई थी। 

जब तक अंतिम पीड़ित को राहत नहीं मिली तब तक यीशु ने अपना कार्य बंद नहीं किया।

रात हो चुकी थी, जब भीड़ चली गई और शमौन के घर पर सन्नाटा छा गया। लंबा, रोमांचक दिन बीत चुका था, और यीशु ने आराम की तलाश की। लेकिन जब शहर नींद में लिपटा हुआ था, उद्धारकर्ता, “दिन से बहुत पहले उठ गया,” “बाहर चला गया, और दूर, एक एकान्त स्थान में चला गया, और वहां प्रार्थना की।” मरकुस 1:35।

भोर को पतरस और उसके साथी यीशु के पास यह कहते हुए आए कि कफरनहूम के लोग पहले से ही उसे ढूंढ रहे हैं। उन्होंने आश्चर्य से मसीह के शब्दों को सुना, “मुझे दूसरे शहरों में भी परमेश्वर के राज्य का प्रचार करना चाहिए: क्योंकि मुझे इसीलिए भेजा गया है।” लूका 4:43. 

उस उत्साह में जो उस समय कफरनहूम में व्याप्त था, एक खतरा था कि उसके मिशन का उद्देश्य खो जाएगा। 

Optimal Health - bbdf01c 1624767518627 sc - Optimal Health - Health Is True Wealth.

यीशु केवल एक चमत्कारी के रूप में या शारीरिक रोग के उपचारक के रूप में अपनी ओर ध्यान आकर्षित करने से संतुष्ट नहीं थे।

वह लोगों को अपने उद्धारकर्ता के रूप में अपनी ओर खींचने की कोशिश कर रहा था। जबकि लोग यह मानने के लिए उत्सुक थे कि वह एक राजा के रूप में एक पार्थिव शासन स्थापित करने के लिए आया था, उसने उनके मन को सांसारिकता से फिरा कर आध्यात्मिक की ओर मोड़ना चाहा। मात्र सांसारिक सफलता उसके कार्य में बाधा डाल सकती है। 

लापरवाह भीड़ के आश्चर्य ने उसकी आत्मा को झकझोर कर रख दिया। उनके जीवन के साथ कोई आत्म-विश्वास नहीं मिला। दुनिया जो सम्मान पद, धन, या प्रतिभा को देती है वह मनुष्य के पुत्र के लिए विदेशी थी।

यीशु ने वफादारी या आदर पाने के लिए जिन तरीकों का इस्तेमाल किया जा सकता था, उनमें से किसी का भी यीशु ने इस्तेमाल नहीं किया। उसके जन्म से सदियों पहले उसके बारे में यह भविष्यवाणी की गई थी, “वह न तो रोएगा, और न उठेगा, और न सड़क पर अपना शब्द सुनाएगा। कुचले हुए सरकण्डे को वह न तोड़े, और न बुझे हुए सन को बुझाएगा; वह सत्य का न्याय करेगा।” यशायाह 42:2, 3। 

यीशु पर लगाये गये अनौपचारिक आरोप वेबुनियाद थे।

फरीसियों ने अपनी ईमानदारी से की जाने वाली औपचारिकता और उनकी पूजा और उनके दान के दिखावे से भेद की मांग की। उन्होंने इसे चर्चा का विषय बनाकर धर्म के प्रति अपने उत्साह को साबित किया। विरोधी संप्रदायों के बीच विवाद लंबे और जोरदार थे, और सड़कों पर कानून के विद्वान डॉक्टरों के गुस्से वाले विवाद की आवाज सुनना असामान्य नहीं था। 

इन सबके विपरीत यीशु का जीवन था।

उस जीवन में कभी कोई शोर-शराबा, कोई दिखावटी पूजा, तालियाँ बटोरने का कोई कार्य नहीं देखा। मसीह परमेश्वर में छिपा हुआ था, और परमेश्वर उसके पुत्र के चरित्र में प्रकट हुआ था। इस रहस्योद्घाटन के लिए, यीशु ने लोगों के मन को निर्देशित करने की इच्छा की। 

धर्म का सूर्य अपनी महिमा से इंद्रियों को चकाचौंध करने के लिए, वैभव में दुनिया पर नहीं फूटा।

मसीह के बारे में लिखा है, “उसका जाना भोर के समान तैयार किया जाता है।” होशे 6:3. चुपचाप और धीरे से दिन का उजाला पृथ्वी पर टूटता है, अंधकार को दूर करता है और दुनिया को जीने के लिए जगाता है। तो क्या धार्मिकता का सूर्य उदय हुआ, “उसके पंखों में चंगाई के साथ।” मलाकी 4:2.

 “देख, मेरा दास जिसे मैं थामे रखता हूं; मेरा चुना हुआ, जिससे मेरी आत्मा प्रसन्न होती है।” यशायाह 42:1. 

यीशु मसीह की सेवकाई के दिन और चंगाई व आशीषों की बहुतायत। (Yeeshu Masih Ki Sevkayi Aur Changaayi Ki Aashishen) 

“तू कंगालों का बल देता है, दरिद्रों को संकट में बल, तूफ़ान से पनाह, ताप से छाया करता है।” यशायाह 25:4. 

“ईश्वर यहोवा यों कहता है, उसी ने आकाश को बनाया, और तान दिया; वह जो पृथ्वी को फैलाता है, और जो उसमें से निकलता है; वह जो उस पर लोगों को सांस देता है, और जो उस पर चलते हैं उन्हें आत्मा: मैं यहोवा ने तुझे धर्म से बुलाया है, और तेरा हाथ थामूंगा, और तुझे रखूंगा, और तुझे लोगों की वाचा के लिए दूंगा, क्योंकि ए अन्यजातियों का प्रकाश; अंधों की आंखें खोलने के लिथे, कि बन्दियोंको बन्दीगृह से, और जो अन्धेरे में बैठे हैं, उन्हें बन्दीगृह से बाहर निकालो।” यशायाह 42:5-7.

 “मैं अंधों को ऐसा मार्ग दिखाऊँगा जिनको कि वे नहीं जानते थे; मैं उन्हें उन पथों पर ले चलूँगा जिन्हें वे नहीं जानते: मैं उनके आगे अन्धकार को उजियाला और टेढ़ी-मेढ़ी वस्तुओं को सीधा कर दूंगा। मैं उन बीच में ये काम करूंगा, और उन्हें न त्यागूंगा।” पद 16. 

यहोवा के लिये नया गीत गाओ, और पृथ्वी की छोर से उसकी स्तुति करो, हे समुद्र के नीचे के लोगों, और जो कुछ उस में है; द्वीप समूह और उसके निवासी। जंगल और उसके नगर जो केदार के बसे हुए हैं, वे ऊँचे स्वर में बोलें, चट्टान के निवासी यह गाएँ, वे पहाड़ों की चोटी से ललकारें। वे यहोवा की महिमा करें, और द्वीपों में उसकी स्तुति करें।” भजन संहिता 10-12। 

“हे आकाश, गाओ; हे पर्वतों, हे वनों, और उसके सब वृक्षों, जयजयकार करो; क्योंकि यहोवा ने याकूब को छुड़ा लिया है, और इस्राएल में अपनी महिमा प्रकट की है। यशायाह 44:23। 

Optimal Health - सत्य के लिए जीना चाहिए क्योंकि तुम्हें परमेश्वर में विश्वास है - Optimal Health - Health Is True Wealth.

हेरोदेस की कालकोठरी से, जहाँ निराशा और उलझन में उद्धारकर्ता के कार्य के बारे में, यहून्ना बपतिस्मादाता ने देखा और प्रतीक्षा की, उसने अपने दो शिष्यों को यीशु के पास इस संदेश के साथ भेजा: 

“क्या तू वह है जो आने वाला था, या क्या हम दूसरे की तलाश करते हैं?” मत्ती 11:3. 

उद्धारकर्ता ने तुरंत शिष्यों के प्रश्न का उत्तर नहीं दिया। जब वे उसकी चुप्पी पर आश्चर्य से खड़े थे, पीड़ित उसके पास आ रहे थे। शक्तिशाली मरहम लगाने वाले की आवाज बहरे कान में घुस गई। एक शब्द, उनके हाथ के स्पर्श ने, दिन के उजाले, प्रकृति के दृश्यों, मित्रों के चेहरों और उद्धारकर्ता के चेहरे को देखने के लिए अंधी आंखें खोल दीं।

उसकी आवाज मरने वाले के कानों तक पहुंची, और वे स्वास्थ्य और जोश में उठे।

लकवाग्रस्त बीमारों ने उसके वचन का पालन किया, उनके पागलपन ने उन्हें छोड़ दिया, और उन्होंने उसकी पूजा की। गरीब किसान और मजदूर, जिन्हें रब्बियों ने अशुद्ध समझ कर त्याग दिया था, उसके पास इकट्ठा हुए, और उसने उनसे अनन्त जीवन के शब्द कहे। 

इस प्रकार दिन ढलता गया, यूहन्ना के चेले सब कुछ देखते और सुनते थे। अंत में, यीशु ने उन्हें अपने पास बुलाया और उन्हें जाने और यूहन्ना को जो कुछ उन्होंने देखा और सुना था, उसे बताने के लिए कहा, “धन्य है वह, जो कोई मुझ में नाराज नहीं होगा।” पद 6. 

चेलों ने सन्देश ले लिया, और बस हो गया। 

यूहन्ना ने मसीहा के विषय में की गई भविष्यवाणी को याद किया, “यहोवा ने नम्र लोगों को शुभ समाचार सुनाने के लिये मेरा अभिषेक किया है; उस ने मुझे भेजा है, कि टूटे मनवालों को बान्धे, और बन्धुओं को स्वतन्त्रता का, और बन्धुओं को बन्दीगृह के खुलने का प्रचार करूं; यहोवा के अनुग्रह के वर्ष का प्रचार करने, और … सब शोक मनानेवालों को शान्ति देने के लिये संदेश सुनाऊँ।” यशायाह 61:1, 2, 

Optimal Health - maxresdefault 94 - Optimal Health - Health Is True Wealth.

नासरत का यीशु वादा किया हुआ व्यक्ति था।

 पीड़ित मानवता की जरूरतों के लिए उनकी सेवकाई में उनकी दिव्यता का प्रमाण देखा गया था। उनकी महिमा हमारी निम्न संपत्ति के प्रति उनकी कृपालुता में दिखाई गई थी। 

मसीह के कार्यों ने न केवल उसे मसीहा घोषित किया, बल्कि यह भी दिखाया कि उसके राज्य की स्थापना किस प्रकार की जानी थी।

यूहन्ना के लिए वही सच्चाई खोली गई जो जंगल में एलिय्याह के पास आई थी, जब “एक बड़ी और तेज हवा पहाड़ों को फाड़ देती है, और यहोवा के साम्हने चट्टानों को टुकड़े-टुकड़े कर देती है; परन्तु यहोवा आँधी में नहीं था, और आँधी के बाद भूकम्प आया; परन्तु यहोवा भूकम्प में नहीं था, और भूकम्प के बाद आग लगी; परन्तु यहोवा आग में नहीं था:” और आग के बाद, परमेश्वर ने नबी से शांत, छोटी आवाज में बात की। 1 राजा 19:11, 12. 

सो यीशु अपना काम सिंहासनों और राज्यों को उलटने के द्वारा नहीं, और आडम्बर और बाहरी दिखावे के द्वारा नहीं, वरन दया और त्याग के जीवन के द्वारा मनुष्यों के हृदयों से बातें करके करता था। 

परमेश्वर का राज्य बाहरी दिखावे के साथ नहीं आता है।

यह उसके वचन की प्रेरणा की नम्रता के माध्यम से आता है, उसकी आत्मा के आंतरिक कार्य के माध्यम से, उसके साथ आत्मा की संगति जो उसका जीवन है। इसकी शक्ति का सबसे बड़ा प्रकटीकरण मानव स्वभाव में देखा जाता है जिसे मसीह के चरित्र की पूर्णता में लाया गया है। 

Optimal Health - maxresdefault 93 - Optimal Health - Health Is True Wealth.

मसीह के अनुयायिओं को जगत की ज्योति बनना है, परन्तु परमेश्वर उन्हें चमकने का प्रयास करने के लिए नहीं कहता।

वह श्रेष्ठ अच्छाई प्रदर्शित करने के किसी भी आत्म-संतुष्ट प्रयास को स्वीकार नहीं करता है। वह चाहता है कि उनकी आत्माएं स्वर्ग के सिद्धांतों से प्रभावित हों; फिर, जैसे ही वे दुनिया के संपर्क में आते हैं, वे उस प्रकाश को प्रकट करेंगे जो उनमें है। जीवन के प्रत्येक कार्य में उनकी दृढ़ निष्ठा प्रकाश का साधन होगी। 

धन या उच्च पद, महंगे उपकरण, वास्तुकला, या साज-सामान, परमेश्वर के कार्य की उन्नति के लिए आवश्यक नहीं हैं; न ही ऐसी उपलब्धियां हैं जो पुरुषों की वाहवाही जीतती हैं, और घमंड को नियंत्रित करती हैं।

सांसारिक प्रदर्शन, चाहे कितना भी थोपा हुआ हो, परमेश्वर की दृष्टि में कोई मूल्य नहीं है। दृश्य और लौकिक से ऊपर, वह अनदेखे और शाश्वत को महत्व देता है। पूर्व का मूल्य केवल उतना ही है जितना वह बाद वाले को व्यक्त करता है।

कला की सबसे अच्छी प्रस्तुतियों में कोई सुंदरता नहीं होती है जिसकी तुलना चरित्र की सुंदरता से की जा सकती है, जो कि आत्मा में पवित्र आत्मा के काम करने का फल है। 

जब परमेश्वर ने हमारे संसार को अपना पुत्र दिया, तो उसने मनुष्यों को अविनाशी धन-सम्पदा भी दिया, जिसकी तुलना में संसार के आरंभ से ही मनुष्यों की क़ीमती संपत्ति शून्य है। मसीह पृथ्वी पर आया और अनंत काल के संचित प्रेम के साथ मनुष्यों के बच्चों के सामने खड़ा हो गया, और यही वह खजाना है, जिसे उसके साथ हमारे संबंध के माध्यम से, हमें प्राप्त करना, प्रकट करना और प्रदान करना है। 

जीवन को बदलने के लिए मसीह की कृपा की शक्ति को प्रकट करके – कार्यकर्ता की समर्पित भक्ति के अनुसार ही मानव-प्रयास ईश्वर के कार्य में कुशल होगा।

हमें संसार से अलग होना है क्योंकि परमेश्वर ने हम पर अपनी मुहर लगा दी है। आखिरकार, वह हममें अपने प्रेम के चरित्र को प्रकट करता है। हमारा मुक्तिदाता हमें उसकी धार्मिकता से ढँक देता है। 

अपनी सेवा के लिए पुरुषों और महिलाओं को चुनने में, ईश्वर यह नहीं पूछते कि क्या उनके पास सांसारिक धन, विद्या या वाक्पटुता है। वह पूछता है, “क्या वे इतनी दीनता से चलते हैं कि मैं उन्हें अपना मार्ग सिखा सकूं? क्या मैं अपने वचन उनके होठों में डाल सकता हूँ? क्या वे मेरा प्रतिनिधित्व करेंगे?”

परमेश्वर प्रत्येक व्यक्ति का उसी अनुपात में उपयोग कर सकता है जिस प्रकार वह अपनी आत्मा को आत्मा के मंदिर में डाल सकता है। वह जिस कार्य को स्वीकार करेगा, वह, वह कार्य है जो उसकी छवि को दर्शाता है। उनके अनुयायियों को दुनिया के लिए उनकी साख के रूप में, उनके अमर सिद्धांतों की अपरिवर्तनीय विशेषताओं को सहन करना है। 

 “वह मेमनों को अपनी बांह से बटोरेगा” 

जब यीशु शहरों की गलियों में सेवकाई करता है, बीमार और मरते हुए बच्चों को गोद में लिए माताएँ भीड़ के माध्यम से दबाव डालती हैं, उसके ध्यान की पहुँच के भीतर आने की कोशिश करती हैं। 

इन माताओं को निहारना, पीली, थकी हुई, लगभग निराश, फिर भी दृढ़ और आशावान। अपने कष्टों का बोझ उठाकर, वे उद्धारकर्ता की तलाश करते हैं। जैसे-जैसे वे बढ़ती हुई भीड़ से पीछे हटते जाते हैं, मसीह कदम दर कदम उनके पास जाता है, जब तक कि वह उनके पास न आ जाए। उनके दिलों में उम्मीद जगी है। जब वे उसका ध्यान आकर्षित करते हैं, तो उनके खुशी के आंसू गिर जाते हैं, और उनकी आँखों में ऐसी दया और प्रेम व्यक्त करते हुए देखते हैं। 

समूह में से एक को अलग करते हुए, उद्धारकर्ता ने अपने आत्मविश्वास को यह कहते हुए आमंत्रित किया, “मैं तुम्हारे लिए क्या करूँ?”

वह अपनी बड़ी इच्छा से चिल्लाती है, “हे स्वामी, यह कि तू मेरे बच्चे को चंगा कर।” यीशु, बच्चे को अपनी बाहों से ले लेता है, और उसके स्पर्श से रोग भाग जाता है। मौत का पीलापन दूर हो गया है; जीवनदायिनी धारा शिराओं में प्रवाहित होती है; मांसपेशियों को ताकत मिलती है। माता से सुख-शांति के वचन बोले जाते हैं; और फिर एक और मामला, उतना ही जरूरी, प्रस्तुत किया जाता है। फिर से मसीह अपनी जीवनदायिनी शक्ति का प्रयोग करता है, और सभी उसकी स्तुति और सम्मान देते हैं जो अद्भुत काम करता है। 

हम मसीह के जीवन की महानता पर अधिक ध्यान देते हैं। हम उन अद्भुत चीजों के बारे में बात करते हैं जिन्हें उसने पूरा किया, उन चमत्कारों के बारे में जो उसने किए। लेकिन छोटी बातों पर उसका ध्यान उसकी महानता का और भी बड़ा प्रमाण है। 

यहूदियों में यह रिवाज़ था कि बच्चों को किसी रब्बी के पास लाया जाए, कि वह उन पर हाथ रखकर आशीर्वाद दे; लेकिन चेलों ने सोचा कि उद्धारकर्ता का कार्य इस तरह से बाधित होगा, बहुत महत्वपूर्ण है, कि बच्चों को रोक लें। जब माताएँ अपने छोटों को आशीर्वाद देने की कामना करने आईं, तो शिष्यों ने उनकी ओर घृणा की दृष्टि से देखा।

उन्होंने सोचा कि ये बच्चे इतने छोटे हैं कि यीशु से मिलने का लाभ नहीं उठा सकते और उन्होंने निष्कर्ष निकाला कि वह उनकी उपस्थिति में अप्रसन्न होंगे। लेकिन उद्धारकर्ता ने उन माताओं की देखभाल और बोझ को समझा जो अपने बच्चों को परमेश्वर के वचन के अनुसार प्रशिक्षित करने की कोशिश कर रही थीं। उसने उनकी प्रार्थना सुनी थी। उसने उन्हें अपनी उपस्थिति में खींचा था। 

एक माँ अपने बच्चे के साथ यीशु को खोजने के लिए घर से निकली थी। रास्ते में, उसने एक पड़ोसी को अपने काम के बारे में बताया, और पड़ोसी की इच्छा थी कि यीशु उसके बच्चों को आशीर्वाद दे। इस प्रकार कई माताएँ अपने छोटों के साथ यहाँ एक साथ आईं। कुछ बच्चे शैशवावस्था के वर्षों से आगे चलकर बचपन और युवावस्था में चले गए थे।

जब माताओं ने अपनी इच्छा प्रकट की, तो यीशु ने सहानुभूति के साथ डरपोक, अश्रुपूर्ण अनुरोध को सुना। लेकिन वह यह देखने के लिए इंतजार कर रहा था कि चेले उनके साथ कैसा व्यवहार करेंगे।

उस ने चेलों को माताओं को डांटते और विदा करते हुए देखा, कि उस पर कृपा करने की सोच रहे हैं, तो उस ने उन्हें उनका अधर्म दिखाया, और कहा, “बच्चों को मेरे पास आने दो, और उन्हें मना मत करो; क्योंकि परमेश्वर का राज्य ऐसों  ही का है ।” मरकुस 10:14। उसने बच्चों को अपनी गोद में लिया, उन पर हाथ रखा, और उन्हें वह आशीर्वाद दिया जिसके लिए वे आए थे। 

माताओं को तसल्ली हुई। वे मसीह के वचनों से मजबूत और आशीषित होकर अपने घरों को लौट गए। उन्हें नए उत्साह के साथ अपना बोझ उठाने और अपने बच्चों के लिए उम्मीद से काम करने के लिए प्रोत्साहित किया गया। 

क्या उस छोटे से समूह के बाद के जीवन को हमारे सामने खोला जा सकता है, हमें माताओं को अपने बच्चों के मन में उस दिन के दृश्य को याद करते हुए और उन्हें उद्धारकर्ता के प्रेमपूर्ण शब्दों को दोहराते हुए देखना चाहिए। हमें यह भी देखना चाहिए कि कितनी बार, वर्षों के बाद, इन शब्दों की स्मृति ने बच्चों को प्रभु के छुड़ौती के लिए बनाए गए मार्ग से भटकने से रोक दिया। 

मसीह आज भी वही दयालु उद्धारकर्ता है, जैसे वे अपने जीवन में थे, जब वह मनुष्यों के बीच चलते फिरते थे।

वह वास्तव में माताओं का सहायक है, उसने बच्चों को यहूदिया में अपनी बाहों में इकट्ठा किया था। हमारी संतानों के लिये उसने अपना जीवन दे दिया, हमारा मार्गदर्शक है वो। हमारे बच्चे, उसके लहू के लिए उतने ही मोल लेनेवाले हैं जितने बहुत पहले के बच्चे थे। 

यीशु हर माँ के दिल का बोझ जानते हैं। जिसके पास एक माँ थी जो गरीबी और तंगी से जूझती रही, वह हर माँ के साथ उसके श्रम में सहानुभूति रखता है। जिसने एक कनानी स्त्री के व्याकुल हृदय को दूर करने के लिए एक लंबी यात्रा की, वह आज की माताओं के लिए उतना ही करेगा। जिसने नैन की विधवा को उसका इकलौता पुत्र लौटा दिया, और क्रूस पर उसकी पीड़ा में जब अपनी माँ को याद किया, माँ के दुःख को पहचाना है। हर दुख और हर जरूरत में, वह आराम और मदद करेगा। 

माताओं को अपनी उलझनों के साथ यीशु के पास आने दें। उन्हें अपने बच्चों की देखभाल में सहायता करने के लिए पर्याप्त अनुग्रह मिलेगा। द्वार हर उस माँ के लिए खुले हैं जो अपना बोझ उद्धारकर्ता के चरणों में रखेगी। वह जिसने कहा, “बच्चों को मेरे पास आने दो, और उन्हें मना मत करो” (मरकुस 10:14), अभी भी माताओं को अपने बच्चों को उनके द्वारा आशीर्वाद देने के लिए लाने के लिए आमंत्रित करता है। 

उनके संपर्क में लाए गए बच्चों में, यीशु ने उन पुरुषों और महिलाओं को देखा जो उसके अनुग्रह और उसके राज्य की प्रजा के उत्तराधिकारी होने चाहिए, और जिनमें से कुछ उसकी खातिर शहीद हो गये।

यीशु जानता था कि ये बच्चे उसकी बात सुनेंगे और उसे अपने मुक्तिदाता के रूप में बड़े हो चुके लोगों की तुलना में कहीं अधिक आसानी से स्वीकार करेंगे, जिनमें से कई सांसारिक-बुद्धिमान और कठोर हृदय वाले थे। उन्होंने, स्वर्ग के महामहिम, ने उनके प्रश्नों का उत्तर दिया और उनकी बचकानी समझ को पूरा करने के लिए अपने महत्वपूर्ण पाठों को सरल बनाया। उसने उनके मन में सच्चाई के बीज बोए, जो बाद के वर्षों में उगेंगे और अनन्त जीवन के लिए फल देंगे।  

जब यीशु ने शिष्यों से कहा कि बच्चों को उसके पास आने से मना न करें, तो वह सभी उम्र के अपने अनुयायियों से बात कर रहा था।

चर्च के अधिकारियों, मंत्रियों, सहायकों और सभी ईसाइयों से। यीशु बच्चों को खींच रहा है, और वह हमसे कहता है, “उन्हें आने दो;” मानो वह कहेगा, कि यदि तू उन्हें न रोके, तो वे आएंगे। 

अपने गैर-मसीह-समान चरित्र को यीशु को गलत तरीके से प्रस्तुत न करने दें। अपनी शीतलता और कठोरता से छोटों को उससे दूर न रखें। उन्हें यह महसूस करने का कारण कभी न दें कि यदि आप वहां होते तो स्वर्ग उनके लिए सुखद स्थान नहीं होता। धर्म के बारे में ऐसी बात न करें जिसे बच्चे समझ न सकें, या ऐसा व्यवहार न करें जैसे कि उनसे बचपन में मसीह को स्वीकार करने की अपेक्षा नहीं की गई थी। उन्हें यह गलत धारणा न दें कि मसीह का धर्म उदासी का धर्म है, और उद्धारकर्ता के पास आने के लिए उन्हें वह सब कुछ त्याग देना चाहिए जो जीवन को आनंदमय बनाता है। 

जैसे-जैसे पवित्र आत्मा बच्चों के दिलों में उतरता है, उसके कार्य में सहयोग करें। उन्हें सिखाएं कि उद्धारकर्ता उन्हें बुला रहा है, उनके लिए इससे बड़ा आनंद और कुछ नहीं हो सकता है कि वे अपने वर्षों के खिलने और ताजगी में खुद को उसे दे दें। 

माता-पिता  की जिम्मेदारी 

उद्धारकर्ता अनंत कोमलता के साथ उन आत्माओं का सम्मान करता है जिन्हें उसने अपने रक्त से खरीदा है। वे उसके प्रेम का दावा हैं। वह उन्हें अदम्य लालसा से देखता है। उनका दिल न केवल सबसे अच्छी तरह से प्रशिक्षित और सबसे आकर्षक बच्चों के लिए, बल्कि उन लोगों के लिए भी खींचा जाता है, जो विरासत में और उपेक्षा के कारण चरित्र के आपत्तिजनक लक्षण रखते हैं।

कई माता-पिता यह नहीं समझते हैं कि वे अपने बच्चों में इन लक्षणों के लिए कितने जिम्मेदार हैं।

उनके पास गलती करने वालों से निपटने की कोमलता और बुद्धि नहीं है, जिसे उन्होंने बनाया है। परन्तु यीशु इन बच्चों पर दया की दृष्टि से देखता है। वह कारण से प्रभाव का पता लगाता है। 

ईसाई कार्यकर्ता इन दोषपूर्ण और त्रुटिपूर्ण लोगों को उद्धारकर्ता के पास लाने में मसीह का एजेंट हो सकता है। बुद्धि और चातुर्य से वह उन्हें अपने हृदय में बाँध सकता है, वह साहस और आशा दे सकता है, और मसीह की कृपा से उन्हें चरित्र में परिवर्तित होते देख सकता है, ताकि उन से यह कहा जा सके, “परमेश्वर का राज्य ऐसों का है। “

 जौ की पाँच छोटी रोटियाँ बहुतायत को खिलाती हैं। 

जब लोग समुद्र के किनारे उपदेश देते थे, तो पूरे दिन लोग मसीह और उनके शिष्यों के कदमों पर उमड़ते थे। उन्होंने उसके अनुग्रहकारी वचनों को इतना सरल और इतना स्पष्ट रूप से सुना था कि वे अपनी आत्मा के लिए गिलाद के बाम के समान थे। उनके दिव्य हाथ की चंगाई ने बीमारों को स्वास्थ्य और मरने वाले को जीवन दिया था। वह दिन उन्हें पृथ्वी पर स्वर्ग के समान लगने लगा था, और वे इस बात से बेखबर थे कि उन्हें कुछ खाए हुए कितना समय हो गया है। 

सूरज पश्चिम में डूब रहा था, फिर भी लोग डटे रहे।

अंत में, चेले मसीह के पास आए, यह आग्रह करते हुए कि उनके लिए भीड़ को विदा किया जाए। बहुतों ने दूर से आकर सुबह से कुछ नहीं खाया था। आसपास के कस्बों और गांवों में, वे भोजन प्राप्त करने में सक्षम हो सकते हैं। परन्तु यीशु ने कहा, “उन्हें खाने को दो।” मत्ती 14:16. फिर फिलिप्पुस की ओर फिरकर उस ने पूछा, हम कहां से रोटी मोल लें, कि ये खा सकें? यूहन्ना 6:5. 

फिलिप ने समुद्र तुल्य भीड़ को देखा और सोचा कि इतनी बड़ी भीड़ के लिए भोजन उपलब्ध कराना कितना असंभव होगा। उसने उत्तर दिया कि दो सौ पैसे की रोटी उनके बीच बांटने के लिए पर्याप्त नहीं होगी ताकि प्रत्येक के पास थोड़ा हो। 

यीशु ने पूछा कि तुम्हारे बीच में  कितना खाना मिल सकता है।

“यहाँ एक लड़का है,” एंड्रयू ने कहा; “जिसके पास जव की पांच रोटियां, और दो छोटी मछलियां हैं, परन्तु इतने लोगों में से क्या हैं?” पद 9. यीशु ने निर्देश दिया कि इन्हें उसके पास लाया जाए। फिर उसने चेलों को लोगों को घास पर बिठाने को कहा। 

जब यह पूरा हो गया, तो उसने भोजन लिया, “और स्वर्ग की ओर देखकर आशीर्वाद दिया, और तोड़कर रोटियां अपने चेलों को दीं और चेलों ने भीड़ को दीं। और वे सब खाकर तृप्त हुए; और उन टुकड़ों में से जो बच गये थे, बारह टोकरे भरे रह गए थे, ले लिया।” मत्ती 14:19, 20. 

यह ईश्वरीय शक्ति के चमत्कार से था कि मसीह ने भीड़ को खिलाया; फिर भी कीमत, मूल्य, कितना विनम्र था—केवल मछलियाँ और जौ की रोटियाँ जो गलील के मछुआरे-लोक का दैनिक किराया था। 

मसीह लोगों के लिए एक समृद्ध दावत फैला सकता था, लेकिन केवल भूख की तृप्ति के लिए तैयार किया गया भोजन उनके भले के लिए कोई सबक नहीं देता। इस चमत्कार के द्वारा मसीह ने सादगी का पाठ पढ़ाना चाहा। यदि मनुष्य आज अपनी आदतों में सरल होते, प्रकृति के नियमों के अनुरूप रहते थे, जैसा कि शुरुआत में आदम और हव्वा ने किया था, तो मानव परिवार की जरूरतों के लिए प्रचुर मात्रा में आपूर्ति होगी। लेकिन स्वार्थ और भूख के भोग ने एक ओर अधिकता और दूसरी ओर अभाव से पाप और दुख लाए दिये हैं। 

विलासिता की इच्छा को संतुष्ट करके यीशु ने लोगों को अपनी ओर आकर्षित करने का प्रयास नहीं किया। 

उस बड़ी भीड़ के लिए, लंबे, रोमांचक दिन के बाद थके और भूखे, साधारण किराया उनकी शक्ति और जीवन की सामान्य जरूरतों में उनके लिए उनकी कोमल देखभाल दोनों का आश्वासन था। उद्धारकर्ता ने अपने अनुयायियों को दुनिया की विलासिता का वादा नहीं किया है; हो सकता है कि उनका भाग्य गरीबी के कारण बंद हो जाए, लेकिन उसके वचन की प्रतिज्ञा की गई है कि उनकी आवश्यकता को पूरा किया जाएगा, और उसने वादा किया है, जो कि सांसारिक भलाई से बेहतर है—उसकी उपस्थिति का स्थायी आराम। 

भीड़ को भोजन कराने के बाद, बहुत सारा भोजन बचा था।

यीशु ने अपने शिष्यों से कहा, “जो टुकड़े रह गए हैं उन्हें इकट्ठा करो, कि कुछ भी खो न जाए।” यहून्ना 6:12। इन शब्दों का अर्थ भोजन को टोकरियों में डालने से कहीं अधिक था। सबक दुगना था। कुछ भी बर्बाद नहीं करना है। हमें कोई अस्थायी लाभ नहीं होने देना है। हमें ऐसी किसी भी चीज़ की उपेक्षा नहीं करनी चाहिए जो मनुष्य के हित में हो।

पृथ्वी के भूखे लोगों की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए सब कुछ इकट्ठा किया जाए। आत्मा की जरूरतों को पूरा करने के लिए हमें उसी सावधानी के साथ स्वर्ग से रोटी को संजोना है। परमेश्वर के प्रत्येक वचन के द्वारा, हमें जीना है। परमेश्वर ने जो कुछ भी कहा है वह खो जाने वाला नहीं है। एक भी शब्द जो हमारे शाश्वत उद्धार से संबंधित नहीं है, हम उपेक्षा कर रहे हैं। एक भी शब्द जमीन पर बेकार नहीं गिरना है। 

रोटियों का चमत्कार ईश्वर पर निर्भरता सिखाता है।

 जब ईसा ने पांच हजार को भोजन कराया, तो भोजन निकट नहीं था। उनके आदेश पर उनके पास कोई साधन नहीं था। वहाँ वह स्त्रियों और बालकों को छोड़ पांच हजार पुरूषों के साथ जंगल में था। उसने भीड़ को वहाँ अपने पीछे चलने के लिए आमंत्रित नहीं किया था।

ईश्वर की उपस्थिति में होने के लिए उत्सुक, वे बिना निमंत्रण या आज्ञा के आए थे; परन्तु वह जानता था कि दिन भर उसकी शिक्षा सुनकर वे भूखे और मूर्छित थे। वे घर से बहुत दूर थे, और रात निकट थी। उनमें से कई के पास भोजन खरीदने के साधन नहीं थे। जिस ने उनके निमित्त जंगल में चालीस दिन का उपवास रखा, वह उन्हें अपने घर उपवास करने को न सहेगा। 

परमेश्वर के विधान ने यीशु को वहीं रखा था, जहाँ वह था, और वह आवश्यकता को दूर करने के साधनों के लिए अपने स्वर्गीय पिता पर निर्भर था। जब हमें तंग जगहों पर लाया जाता है, तो हमें ईश्वर पर निर्भर रहना पड़ता है। प्रत्येक आपात स्थिति में, हमें उसी से सहायता लेनी चाहिए जिसके पास उसके आदेश पर अनंत संसाधन हैं। 

इस चमत्कार में, मसीह ने पिता से आशीष प्राप्त किया; उसने चेलों को दी, चेलों ने लोगों को दी, और लोगों को एक दूसरे को प्रदान किया जाना चाहिये।

सो जितने मसीह में एक हो गए हैं, वे सब उस से जीवन की रोटी पाएंगे, और औरों को देंगे। उनके शिष्य मसीह और लोगों के बीच संचार के नियत साधन हैं। 

जब शिष्यों ने उद्धारकर्ता का निर्देश सुना, “उन्हें खाने के लिए दो,” उनके मन में सभी प्रकार की कठिनाइयाँ उठीं होंगी। उन्होंने सवाल किया, “क्या हम खाना खरीदने के लिए गाँवों में जाएँ?” लेकिन क्या कहा, मसीह? “उन्हें खाने के लिए दे दो।” चेले अपना सब कुछ यीशु के पास ले आए, परन्तु उसने उन्हें खाने के लिए नहीं बुलाया। उन्होंने उन्हें लोगों की सेवा करने को कहा। 

उसके हाथों में भोजन कई गुना बढ़ गया, और शिष्यों के हाथ, जो मसीह तक पहुंचते थे, कभी भी भरे नहीं थे। छोटी सी दुकान सभी के लिए काफी थी। जब भीड़ को भोजन कराया गया, तो चेलों ने यीशु के साथ स्वर्ग से प्राप्त बहुमूल्य भोजन खाया। 

खुद को जाँचें कि हम गरीबों, अज्ञानियों, पीड़ितों की जरूरतों को देखते हैं, तो कितनी बार हमारा दिल दुखता है।

हम सवाल करते हैं, “इस भयानक आवश्यकता को पूरा करने के लिए हमारी कमजोर ताकत और कम संसाधनों का क्या फायदा? क्या हम काम को निर्देशित करने की अधिक क्षमता वाले किसी व्यक्ति की प्रतीक्षा नहीं करेंगे, या किसी संगठन द्वारा इसे शुरू करने के लिए? ” मसीह कहते हैं, “उन्हें खाने के लिए दो।” आपके पास जो साधन, समय, क्षमता है, उसका उपयोग करें। अपनी जौ की रोटियाँ यीशु के पास ले आओ। 

यद्यपि आपके संसाधन हजारों लोगों को खिलाने के लिए पर्याप्त नहीं हो सकते हैं, वे एक को खिलाने के लिए पर्याप्त हो सकते हैं।

मसीह के हाथ में सौंप देने से, वे बहुतों को खिला सकते हैं। शिष्यों की तरह, जो तुम्हारे पास है उसे दे दो। मसीह उपहार को गुणा करेगा। वह उस पर ईमानदार, सरल निर्भरता का प्रतिफल देगा। जो  एक अल्प आपूर्ति  वाला भोजन लग रहा था, लेकिन एक समृद्ध दावत साबित होगी। 

परन्तु मैं यह कहता हूं, कि जो थोड़ा बोएगा, वह थोड़ा काटेगा भी; और जो बहुत बोता है, वह भी बहुत काटेगा। हर एक मनुष्य जैसा मन में चाहता है वैसा ही करे; न कुढ़ कुढ़ के, और न आवश्यकता के; क्योंकि परमेश्वर हर्ष से देनेवाले से प्रीति रखता है। और परमेश्वर तुझ पर सब अनुग्रह बढ़ा सकता है; कि तुम सब बातों में सर्वदा पर्याप्त हो, और सब प्रकार के भले कामों में बढ़ते जाओ।

(जैसा लिखा है, कि वह तितर-बितर हो गया है, उस ने कंगालोंको दिया है, उसका धर्म सदा बना रहता है। अब जो बोनेवाले की सेवा करे, वह तेरे भोजन के लिथे रोटी की सेवा करे, और तेरे बोए हुए बीज को बढ़ाए, और तेरे धर्म के फल को बढ़ाए;) हर एक बात में सब प्रकार के बहुतायत से समृद्ध होना, जो हमारे द्वारा परमेश्वर का धन्यवाद करने का कारण बनता है।2 कुरिंथियों 9: 6-11

https://www.youtube.com/channel/UCZxVGifqOahgf8bGozhvNnw

https://youtu.be/JLKsGHa1x8o

परमेश्वर के राज्य के द्वारा प्रभुत्व। (Dominion through the kingdom of God) 

परमेश्वर के राज्य के द्वारा प्रभुत्व। (Dominion through the kingdom of God) 

Featured

परमेश्वर के राज्य के द्वारा प्रभुत्व। (Dominion through the kingdom of God) 

परमेश्वर के राज्य के द्वारा प्रभुत्व। (Dominion through the kingdom of God): रोम 10:17- सो तब विश्वास सुनने से और सुनना परमेश्वर के वचन से होता है। (So then faith cometh by hearing, and hearing by the word of God) Kingdom of God Bible study.

परमेश्वर के राज्य के द्वारा सारी दुनिया पर प्रभुत्व हांसील करना।

What is meant by the kingdom of God?

  • आदम सब कुछ अच्छा जानता था; उसने परमेश्वर की आत्मा के रहस्योद्घाटन ज्ञान में सब कुछ पाया। बगीचे में उस पेड़ को खाकर उसने जो कुछ हासिल किया, वह था विपत्ति का ज्ञान और अपने मुंह के शब्दों से मृत्यु को उत्पन्न किया है। 
  • शैतान, आदम को यह बताने में विफल रहा: “जिस दिन तुम आशीर्वाद और विपत्ति के वृक्ष का फल खाओगे, तुम न केवल अपने मुंह के शब्दों से विपत्ति उत्पन्न करने का ज्ञान प्राप्त करोगे, बल्कि तुम अपनी जीभ पर नियंत्रण खो दोगे! तुम’ एक दुष्ट शक्ति द्वारा शासित किया जाएगा!” 

जीभ दिल (हृदय) और मन को नियंत्रित करती है।  

  • हे मेरे भाइयो, बहुत से स्वामी न बनो, यह जानते हुए कि हम पर और भी बड़ी दण्ड की आज्ञा होगी। क्योंकि बहुत बातों में हम सब को ठोकर खिलाते हैं। यदि कोई मनुष्य वचन से ठेस न पहुँचाए, तो वही सिद्ध पुरुष है, और सारे शरीर पर लगाम लगाने में भी समर्थ है।। याकूब 3:1,2 
  • वचन में ठेस नहीं पहुँचाता यूनानी कहता है, “यदि वह अपने वचनों में ठोकर न खाए, तो वह सिद्ध मनुष्य है, और सारी देह पर लगाम लगाने में समर्थ है।” एम्प्लीफाइड बाइबल कहती है कि वह “अपने संपूर्ण स्वभाव पर अंकुश लगाने” में सक्षम होगा। 
  • देखो, हम घोड़ों के मुंह में लगाम लगाते हैं, कि वे हमारी बात मानें; और हम उनके पूरे शरीर को घुमाते हैं। 
  • उन जहाजों को भी देखो, जो यद्यपि इतने बड़े हैं, और प्रचण्ड वायु से चलाए जाते हैं, तौभी वे बहुत छोटे पतवार से इधर-उधर घुमाए जाते हैं, जैसा कि जहां कहीं राज्यपाल सूचिबद्ध करता है। याकूब 3:3, 

हृदय हमारा राज्यपाल है, लेकिन जीभ वह है जो राज्यपाल को प्रोग्राम करती है।

  • शब्द बेहद शक्तिशाली हैं क्योंकि आपकी जीभ आपके दिल को नियंत्रित करती है! याक़ूब कह रहा है कि घोड़े के मुंह में थोड़ा सा लगाम डालने से उसका पूरा शरीर घूम जाएगा। ‘थोड़ा सा’ जीभ पर दबाव डालता है।

आप जो शब्द कह रहे हैं वह आपको बदल देगा।

  • आर्थिक रूप से, आप आपदा के कगार पर हो सकते हैं। यदि आप अपने शब्दों को सीधा करेंगे—अपनी जीभ पर दबाव डालेंगे—तो आप अपना मार्ग बदल देंगे! दिल वही पैदा करता है जो आप उसमें रोपते हैं। 

आपकी जीभ आपके जहाज की पतवार है। 

  • यदि आपको यह पता नहीं है कि आप कहाँ जा रहे हैं, तो पतवार घुमाएँ। 

कोई भी मनुष्य जीभ को वश में नहीं कर सकता।  

  • जब आदम ने पाप किया, तो उसने परमेश्वर और मनुष्य के बीच वचन के उस संचार लिंक को तोड़ दिया। पुराने और नए नियम दोनों के अपने अध्ययन से, मुझे विश्वास हो गया है कि आदम का पतन सीधे उसकी जीभ से जुड़ा था। जब आदम ने वर्जित फल खाया, तो उसकी जीभ में जहर आ गया। 
  • फिर भी, जीभ एक छोटी सी सदस्य है, और बड़ी बातों पर घमण्ड करती है। देखो, माचिस की तीली , एक छोटी सी चीज़ है, पर सारे जंगल में आग लगा सकती है, और खुद भी आग में जलती है! 
  • जीभ आग है, अधर्म का जगत, और जीभ हमारे अंगों में ऐसी ही चीज़ है, जो कि  सारे शरीर को अशुद्ध करती है, और प्रकृति के मार्ग में आग लगा देती है; और उसे नर्क की आग में झोंक दिया जाता है। याकूब 3:5,6 

याकूब 3:8 कहता है कि जीभ एक अनियंत्रित बुराई है, और घातक विष से भरी हुई है।

  • परमेश्वर ने आग नहीं लगाई; शैतान ने किया! वह आदमी बगीचे में अपनी जीभ से जीवन के वृक्ष को टटोलने में सक्षम था, और वह आज भी ऐसा करने में सक्षम है। वचन कहता स्वस्थ जीभ जीवन का वृक्ष है, परन्तु टेढ़ी-मेढ़ी चाल चलने से आत्मा नष्ट हो जाती है(नीतिवचन 15:4)। 

Knowledge of the Kingdom of god in the bible

द एम्प्लीफाइड बाइबल जेम्स 3:6 को इस तरह बताती है: “जीभ जन्म के चक्र को आग लगाती है – मनुष्य के स्वभाव का चक्र।”

  • दूसरे शब्दों में, यदि आपको अपने माता-पिता से अच्छा स्वास्थ्य विरासत में मिला है, तो संभावना से अधिक आप स्वस्थ रहेंगें- जब तक आप अपनी जीभ पर नियंत्रण रखते! आपकी जीभ उस स्वभाव को बदल सकती है जो आपको विरासत में मिला है! 
  • आपके शरीर में उपचार शक्ति है; परमेश्वर ने मनुष्य को इस तरह बनाया। यदि आप की उंगली या जीभ कट जाती है, तो आपको पूरी रात प्रार्थना करने और परमेश्वर से उम्मीद करने की ज़रूरत नहीं है कि यह ठीक हो जाए। आप नहीं जानते कि यह कैसे करता है, लेकिन यह अपने आप ठीक हो जाएगा। 

वे सभी बर्तन एक साथ बुनेंगे और उपचार तब तक नहीं आएगा जब तक आप यह कहना बंद नहीं करते,

  • “मुझे विश्वास है कि यह संक्रमित हो रहा है! यह हर दिन बदतर दिख रहा है! बस देखो और देखो! मैं शायद डॉक्टर के पास जाऊँगा।” 
  • इस तरह बोलने से आप अपने शरीर में मौजूद उपचार शक्ति को रोक सकते हैं। उन शब्दों को अपने हृदय में बोलने से उपचार शक्ति बंद हो जाएगी। भीतर का आदमी एक आवेग भेजता है जो कहता है, “उपचार शक्ति बंद करो, उसे संक्रमण हो रहा है!”
  • यीशु ने कहा कि मनुष्य जो कुछ भी कहता और मानता है वह पूरा हो जाएगा यदि वह अपने दिल में संदेह नहीं करता है। आपका शरीर आपके शब्दों का पालन करने के लिए बनाया गया था, और वह यह जानता है कि इसे कैसे करना है।
  • यदि जीभ एक अनियंत्रित बुराई है, घातक जहर से भरी हुई है, नरक की आग में जल रही है, तो ऐसी जीभ में कौन स्वस्थ हो सकता है? कोई आदमी इसे वश में नहीं कर सकता! लेकिन शारीरिक या आर्थिक रूप से समृद्ध होने के लिए जीभ पर नियंत्रण रखना होगा। 

परमेश्वर की आत्मा और वचन ने जीभ को वश में किया। 

  •  मनुष्य ने अपनी स्वाभाविक क्षमता से पक्षियों, जानवरों और समुद्र की मछलियों को वश में कर लिया है; लेकिन प्राकृतिक क्षमता वाला कोई भी व्यक्ति जीभ को वश में नहीं कर सकता। यह अलौकिक क्षमता है, और परमेश्वर का वचन एक अलौकिक क्षमता है। 
  • जीभ को वश में करने के लिए परमेश्वर की आत्मा की आवश्यकता होती है। यह आपके भीतर के परमेश्वर को यह कहने के लिए ग्रहण कर लेता है, “मेरे परमेश्वर ने अपनी महिमा के धन के अनुसार मेरी ज़रूरत को पूरा किया है,” जब ऐसा लगता है कि आपकी ज़रूरत की आपूर्ति की जा रही सच्चाई से सबसे दूर की बात है! 
  • यह आपके भीतर ईश्वर की आत्मा को आपके कहने के लिए उठता है, “यीशु के नाम पर। यीशु के नाम पर। 

क्या आप जानते हैं कि परमेश्वर ने आपके वचनों पर शक्ति क्यों नहीं डाली? 

  • आप परमेश्वर की सामर्थ्य और अधिपथ्य पर संदेह कर रहे हैं” इससे तो आप एक गंभीर दुर्घटना का कारण बन सकते हैं। 
  • यही कारण है कि हमें अपने विश्वास को रचनात्मक रूप से विकसित करना चाहिए। हमें अपने शब्दों का रचनात्मक उपयोग करना सीखना चाहिए। अपनी जीभ को नियंत्रित करने के लिए यह हमारे भीतर ईश्वर की सामर्थ्य और परिपूर्णता को ले कर आता है। 

बेकार के शब्द ना बोलें।

  • ‘या तो पेड़ को अच्छा और उसके फल को अच्छा करो; या पेड़ को भ्रष्ट कर, और उसके फल को भ्रष्ट कर; क्योंकि वृक्ष अपने फल से पहचाना जाता है।
  • हे सांपों की पीढ़ी, तुम बुरे होकर भला बातें कैसे कह सकते हो? क्‍योंकि मन की बहुतायत में से मुंह बोलता है’। मत्ती 12:33,34 
  • यीशु उन लोगों को सम्बोधित कर रहा था जो उसके विरुद्ध बोल रहे थे। जब आप इन आयतों का संदर्भ में अध्ययन करते हैं, तो आप पाएंगे कि वह उन्हें बता रहा है कि उन्हें पृथ्वी पर या आने वाले संसार में नहीं छोड़ा जाएगा। 
  • कुछ लोगों ने इस मार्ग को संदर्भ से बाहर कर दिया है और इसका गलत अर्थ निकाला है, यह सोचकर कि यीशु ने कहा था कि ये लोग हमेशा के लिए नरक के लिए श्रापित थे। वह ऐसा नहीं कह रहा था। 

निष्क्रिय शब्द पवित्र आत्मा की निन्दा है। 

  • यीशु ने अभी-अभी लोगों को यह बताना समाप्त किया था कि वह सभी प्रकार की निन्दा को क्षमा करेगा सिवाय इसके कि जो पवित्र आत्मा के विरुद्ध बोला गया हो। जो कोई पवित्र आत्मा के विरुद्ध बोलता है (मत्ती 12:32) वह पवित्र आत्मा की निन्दा करता है।
  • इस शास्त्र में, यीशु कह रहे हैं: यदि आप परमेश्वर के वचन के विरुद्ध बोलते हैं, जो कि पवित्र आत्मा द्वारा रचित है, तो आप पवित्र आत्मा के विरुद्ध निन्दा कर रहे हैं (बोल रहे हैं) और आपको उसके लिए छूट नहीं दी जाएगी; आपने जो कहा उसका परिणाम आपको मिलेगा, क्योंकि आप परमेश्वर को बुरा कह रहे हो।  और इस पाप सजा मृत्यु है।

1 यूहन्ना 5:16 

यदि कोई अपके भाई को ऐसा पाप करते हुए देखे, जो अनन्त काल तक नहीं है, तो वह मांगे, और वह उनके लिथे उसे जीवन दे, कि पाप मृत्युपर्यंत न हो। मृत्यु पर्यंत पाप है: मैं यह नहीं कहता कि वह इसके लिए प्रार्थना करेगा।

  • इब्रानियों 6:4-6 क्योंकि यह उनके लिए असम्भव है जो एक बार प्रबुद्ध थे, और जिन्होंने स्वर्गीय उपहार का स्वाद चखा है, और पवित्र आत्मा के भागी बन गए थे, और परमेश्वर के भले वचन का, और आने वाले जगत की शक्तियों का स्वाद चखा है, यदि वे भटक कर मन फिराव के लिये फिर से नया करने के लिथे गिर जाएं; यह देखकर कि वे अपने लिये परमेश्वर के पुत्र को नये सिरे से क्रूस पर चढ़ाते हैं, और उसे लज्जित करते हैं।
  • इब्र 10:26 क्‍योंकि यदि हम ने जान बूझकर पाप किया है, तो हमें सच्चाई का ज्ञान हो गया है, पापों के लिए फिर कोई बलिदान नहीं है,
  • इब्र 10:27, परन्‍तु एक भययोग्य न्याय की बाट जोहता है, और जलजलाहट करता है, जो विरोधियों को भस्म कर डालेगा।
  • इब्र 10:28  जो मूसा की व्यवस्था को तुच्छ जानता था, वह दो या तीन गवाहों के अधीन दया के बिना मर गया:
  • इब्र 10:29 जिस ने परमेश्वर के पुत्र को पांवों से रौंदा, और उस वाचा के लोहू को, जिसके द्वारा वह पवित्र किया गया था, एक अपवित्र काम गिना गया, कितना अधिक बड़ा दण्ड के योग्य समझा जाएगा, और किया अनुग्रह की आत्मा के बावजूद?

 मत्ती 12:32

  • और जो कोई मनुष्य के पुत्र के विरुद्ध कुछ कहे, वह क्षमा की जाएगी; परन्तु जो कोई पवित्र आत्मा के विरुद्ध कुछ कहे, वह न तो इस संसार में, और न आने वाले जगत में क्षमा की जाएगी।
  • इस तरह का पाप और दोषारोपण, हर ईसाई ने इसे कभी न कभी किया है। लेकिन अगर आप लगातार परमेश्वर के वचन का खंडन करते हैं, तो आप खतरनाक क्षेत्र में चल रहे हैं। 
  • मत्ती 5:22 परन्तु मैं तुम से कहता हूं, कि जो कोई अपके भाई पर अकारण क्रोध करे, उस पर न्याय का संकट पड़ेगा; और जो कोई अपने भाई से कहे, दुष्ट, उस पर महासभा का खतरा होगा, परन्तु जो कोई कहे हे मूर्ख, नरक की आग के खतरे में होगा।
  • परंपरागत रूप से, हमने सोचा है कि यह कविता उस अक्षम्य पाप को संदर्भित करती है जिसमें आपकी आत्मा को नरक में डाल दिया जाता है। परन्तु बाद में यीशु ने आप ही कहा, हे मूर्खों, और मन से टेढ़े लोगो।  (लूका 24:25)।
  • तो उस शास्त्र की अधिकांश व्याख्याओं के द्वारा, यीशु नरक की ओर जा रहे थे। नहीं, मत्ती 5:22 में यीशु जो कह रहा था, वह यह था कि जो पवित्र आत्मा ने लिखा है, उसके विरुद्ध बोलने के लिए तुम्हें छूटने नहीं दिया जाएगा। 

यीशु का लहू हमारी क्षमा के लिए बहाया गया।

  • सभी प्रकार का पाप और निन्दा मनुष्यों को क्षमा की जाएगी (मत्ती 12:31), जिसमें यीशु के विरुद्ध निन्दा भी सम्मिलित है। 
  • मत्ती 12:32 में यीशु ने जो कहा उसके अनुसार, जो कोई मनुष्य के पुत्र के विरुद्ध कुछ कहे, उसका पाप क्षमा किया जाएगा। पद 31 में वह कहता है: परन्तु पवित्र आत्मा की निन्दा मनुष्यों की क्षमा न की जाएगी। यीशु ने पवित्र आत्मा के विरुद्ध ईशनिंदा—पाप नहीं करने के लिए चेतावनी दी। 
  • फरीसी यीशु के विरुद्ध बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि यीशु के पास एक शैतान था और उसने दुष्टात्माओं के राजकुमार द्वारा दुष्टात्माओं को निकाला। (मत्ती 9:34.) फरीसी पवित्र आत्मा के विरुद्ध पाप करने के दोषी नहीं हो सकते थे; वे यह भी नहीं जानते थे कि पवित्र आत्मा मौजूद है। इसके लिए दोषी होने के लिए, उन्हें पहले पवित्र आत्मा को जानना होगा। 

फरिसी, परमेश्वर के वचन के विपरीत बोल रहे थे।

  • यीशु ने कहा, “तुम्हें इसके लिए छूट नहीं दी जाएगी।” फरीसियों को उन चमत्कारों में से कोई भी प्राप्त नहीं हुआ, जो दूसरों ने प्राप्त किया क्योंकि वे उन पर विश्वास नहीं करते थे। उन्होंने जो कहा, उसके कारण उन्हें कोई चंगाई या छुटकारा नहीं मिला। 
  • यीशु बस इतना कह रहे हैं कि पवित्र आत्मा ने जो लिखा है उसके विपरीत बोलना इस पृथ्वी पर आपको क्षमा नहीं किया जाएगा। यीशु, मरकुस 11:23 में इसकी पुष्टि करते हैं, जो कोई कहे और अपने मन में सन्देह न करेगा, वरन जो बातें वह कहता है, उन की प्रतीति करे; वह जो कुछ भी कहेगा, वह सब उसके पास होगा। 

दूसरे शब्दों में, आप जो कहते हैं उसका परिणाम आपको मिलेगा। 

  • राज्य के संचालन के बारे में शैतान ने लोगों के दिमाग को अंधा कर दिया है, लेकिन अज्ञानता आपको पृथ्वी या स्वर्ग पर माफ नहीं करेगी। आपने जो कुछ कहा है, उसका परिणाम आपको भुगतना पड़ेगा, क्योंकि आप उन चीजों को खो देंगे जो आपके पास पृथ्वी पर हो सकती थीं और परिणामस्वरूप, स्वर्ग में पुरस्कार खो देंगे।

आखिरकार, आपके पास वही होगा जो आप कहते हैं, चाहे वह सही हो या गलत। 

  • आप इसे महसूस करें या न करें, आप राज्य के एक ईश्वरीय सिद्धांत का संचालन कर रहे हैं। शब्द आत्मिक संसार में बीज हैं, और वे बोले जाने वाली बातों को पूरा करेंगे। 
  • अच्छा मनुष्य मन के भले भण्डार (जमा) से अच्छी बातें निकालता है, और दुष्ट मनुष्य बुरे भण्डार से बुरी बातें निकालता है (मत्ती 12:35)।
  • जब यीशु ने दुष्ट मनुष्य शब्द का प्रयोग किया, तो वह अनिवार्य रूप से एक दुष्ट व्यक्ति के बारे में बात नहीं कर रहा था। वह एक ऐसे व्यक्ति की बात कर रहे थे जो बुरी नजर से अपने पूरे शरीर को अंधकार से भर देता है। आप नकारात्मक बातें बोलकर ऐसा कर सकते हैं। (मत्ती 6:23.) 

एक बुराई की रिपोर्ट  का उदाहरण

  • गिनती की किताब में, हम एक उदाहरण पाते हैं जिसे परमेश्वर ने एक दुष्ट रिपोर्ट कहा। वे दस भेदिए, जिन्हें कनान देश का भेद लेने के लिथे भेजा गया था, यह समाचार लेकर वापस आए:
  • “हम उस देश को नहीं ले सकते। वहां दैत्य हैं।” (गिन. 13:27- 33.) परमेश्वर ने जो कुछ कहा एक बुरी रिपोर्ट कहा। 

परमेश्वर की दृष्टि में परमेश्वर के वचन, या वाचा के विपरीत कही गई कोई भी बात एक बुरी रिपोर्ट है। 

  • दस जासूसों ने बताया कि उन्होंने क्या देखा, महसूस किया और सुना। उनकी रिपोर्ट बुराई थी क्योंकि यह इंद्रिय क्षेत्र पर आधारित थी। 
  • कई चर्च के सदस्य विश्वास के अंगीकार के सिद्धांतों को नहीं समझते हैं। वे कहते हैं, “मैं सच कह रहा हूँ जब मैं ऐसा कहता हूँ: मैं बीमारी ले रहा हूँ; मैं अपने बिलों का भुगतान नहीं कर सकता; मैं बाइबल को नहीं समझ सकता; मेरे पास कभी कुछ नहीं होगा।” 
  • लेकिन इस तरह का कोई भी बयान एक बुरी रिपोर्ट है क्योंकि यह परमेश्वर के कहे वचन के विपरीत है। उसने कहा कि तुम व्यवस्था के श्राप से छुड़ाए गए हो, और इब्राहीम की आशीष तुम्हारी है। 

आप, बहुतायत की आशीषों के वारिस होने को बुलाये गये हो। 

  • ईश्वर किसी भी रिपोर्ट को बुरा मानता है जो उससे असहमत है। 
  • यीशु कहते हैं, मैं तुम से कहता हूं, कि जो निकम्मी बातें मनुष्य कहें, वे न्याय के दिन उसका लेखा दें (मत्ती 12:36)। निष्क्रिय का अर्थ है “गैर-काम करने वाला।” एक बेकार शब्द आपके द्वारा बोला गया कोई भी शब्द है, जो आपके काम है। 
  • बेकार के शब्द आमतौर पर परमेश्वर के वचन का खंडन करते हैं या शैतान को जगह देते हैं। यदि आप इस तरह के बयान देते हैं, “मैंने प्रार्थना की है, लेकिन यह काम नहीं कर रहा है,” या “हम कभी भी कर्ज से बाहर नहीं निकलेंगे!” आपको इस दुनिया में या आने वाले दुनिया में नहीं छोड़ा जाएगा क्योंकि आप शास्त्रों के विपरीत शब्द बोल रहे हैं। भजन संहिता 1:3 में वचन कहता है, जो कुछ वह करेगा वह सफल होगा। 
  • जब हम स्वर्ग में पहुंचेंगे, तो ऐसे लोग होंगे जिन्होंने पुरस्कार खो दिया है, क्योंकि उन्होंने परमेश्वर के वचन को उन चीजों को प्राप्त करने के लिए नहीं माना जो परमेश्वर ने उन्हें इस जीवन में प्रदान की थी। वे कहेंगे, “प्रभु, मेरे पास उस मिशनरी को देने के लिए पैसे नहीं थे क्योंकि मैं कभी नौकरी नहीं कर सकता था। मैंने जो भी किया, मैंने हमेशा अपनी नौकरी खो दी। मेरे पास देने के लिए कभी भी पर्याप्त नहीं था।” 

यीशु कहेगा, “जब तुम पृथ्वी पर थे, तब तुम्हारी यही समस्या थी। जो वचन तुम कह रहे हो वही तुम्हारे विरुद्ध गवाही देंगे।” 

  • आप हिसाब देंगे और उन शब्दों को कहने का इनाम खो देंगे जो परमेश्वर के वचन नहीं थे! 
  • वह कहेगा, “तुम इस तरह की बातें कह सकते थे: जो कुछ मैं करता हूं वह समृद्ध होगा। मेरे खिलाफ कोई हथियार समृद्ध नहीं होगा। मैं अंधेरे की शक्तियों से मुक्त हो गया हूं। मैंने दुनिया, मांस और शैतान को जीत लिया है, क्योंकि बड़ा मुझ में वास करता है, मेरा परमेश्वर अपने उस धन के अनुसार जो महिमा सहित मसीह यीशु के द्वारा मेरी आवश्यकता को पूरा करता है।” 
  • “परन्तु, हे प्रभु, ऐसा नहीं लग रहा था कि यह सच था।” 
  • “ओह, तो तुम दृष्टि से चले और विश्वास से नहीं।” 
  • जब कई लोग होगें, जिन की आंखों से सभी आंसू पोंछने जा रहा है, देखें कि उनके पास क्या हो सकता था, और उन्हें क्या मिलेगा, वे रोएंगे! परमेश्वर आंसू पोंछ देंगे और जो कुछ आपने याद किया है उस ज्ञान का क्या, लेकिन न्याय के दिन आप अपने द्वारा बोले गए हर बेकार शब्द का लेखा देंगे। 
  • मत्ती 12:35 अच्छा मनुष्य मन के भले भण्डार से अच्छी बातें निकालता है, और बुरा मनुष्य बुरे भण्डार में से बुरी बातें निकालता है।

मत्ती 12:36 परन्तु मैं तुम से कहता हूं, कि जो निकम्मी बातें मनुष्य कहें, वे न्याय के दिन उसका लेखा दें।

  • जब तक आप राज्य की भाषा नहीं सीखते तब तक आपके मुंह पर एक पैबंध रखना सीखिये। मौन की शब्दावली से कई लड़ाइयाँ जीत सकते हैं। 
  • मैं ऐसी स्थितियों में रहा हूँ जिसमें मैं कुछ भी अच्छा नहीं कह सकता था, इसलिए मैंने बस अपने दाँत पीस लिए और कुछ नहीं कहा . तुम सब अकर्मण्य वचनों का लेखा दोगे। हर एक वचन को इस रीति से बोलना सीखो जो तुम्हारे काम आए। 
  • मत्ती 12:37 क्‍योंकि तू अपने वचनों से धर्मी ठहरेगा, और अपने  वचनों से तू दोषी ठहरेगा।
  • आप जिस प्रकार के शब्दों को बोलने का निर्णय लेते हैं, उसके आधार पर न्यायोचित या निंदा की जाएगी। बोलने से बीज बोया जाता है। 
  • याद रखें, विश्वास का कानून भी काम करता है उलटे हुए।बोला गया प्रत्येक बेकार शब्द आपके विरुद्ध है, या कि आपके लिए नहीं। 

धार्मिकता की व्यवस्था 

  • रोम 10:5 क्योंकि मूसा उस धार्मिकता का वर्णन करता है जो व्यवस्था की है, कि जो मनुष्य उन कामों को करता है वह उनके द्वारा जीवित रहेगा।
  • रोम 10:6 परन्‍तु जो धर्म विश्‍वास से होता है, वह इसी से बोलता है, अपके मन में न कह, कि स्‍वर्ग पर कौन चढ़ेगा? (अर्थात मसीह को ऊपर से नीचे लाने के लिए 🙂
  • रोम 10:7 या, गहिरे में कौन उतरेगा? (अर्थात्, मसीह को मृतकों में से फिर से जीवित करना।)
  • रोम 10:8  लेकिन यह क्या कहता है? वचन तेरे निकट है, यहां तक ​​कि तेरे मुंह में, और तेरे हृदय में: अर्थात्, विश्वास का वचन, जिसका हम प्रचार करते हैं;
  • रोम 10:9 कि यदि तू अपने मुंह से यीशु को प्रभु जानकर अंगीकार करे, और अपने मन से विश्वास करे, कि परमेश्वर ने उसे मरे हुओं में से जिलाया, तो तू उद्धार पाएगा।
  • रोम 10:10 क्‍योंकि धर्म पर मन से विश्‍वास करता है; और मुंह से उद्धार के लिथे अंगीकार किया जाता है।
  • रोम 10:11 क्योंकि पवित्रशास्त्र कहता है, कि जो कोई उस पर विश्वास करे, वह लज्जित न होगा।
  • रोम 10:12 क्‍योंकि यहूदी और यूनानी में कोई भेद नहीं; क्‍योंकि एक ही प्रभु सब पर अपना धनी है, जो उसे पुकारता है।
  • रोम 10:13 क्‍योंकि जो कोई प्रभु का नाम लेगा, वह उद्धार पाएगा।

कुछ लोग कहते हैं, “मेरा मानना ​​है कि अगर मैं अच्छी बातें कहूं तो मैं जो कह सकता हूं वह हो सकता है।

  • निश्चय ही परमेश्वर मरकुस 11:23 को उल्टा काम नहीं करने देगा!” 
  • इसका सिद्धांत आपको बताता है कि यह आपकी कार के आगे और पीछे के गियर की तरह ही किसी भी तरह से काम करेगा। 
  • जब आप कार को उल्टा करते हैं, तो कार पीछे की ओर जाती है। यदि आप आगे बढ़ना चाहते थे, तो आपको पता चल जाएगा कि आपने ऐसा क्यों नहीं किया जब आप देखेंगे कि संकेतक “रिवर्स” की ओर इशारा कर रहा है। 
  • जब हम आगे बढ़ना चाहते हैं तो हम जानबूझकर एक कार को रिवर्स में नहीं रखेंगे, फिर भी बहुत से लोग इसी तरह विश्वास सिद्धांत को संचालित करते हैं।
  • वे समस्या के बारे में प्रार्थना करते हैं, समस्या के बारे में बात करते हैं, और इसे दिन और रात से पहले रखते हैं, यहां तक ​​कि आधी रात को भी इसके बारे में सोचते हुए जागते हैं। फिर उन्हें आश्चर्य होता है कि वे कभी भी समस्या का समाधान क्यों नहीं खोज पाते। वे सिद्धांत को उल्टा करके आगे बढ़ने की कोशिश कर रहे हैं! 

मूर्खतापूर्ण बातें आत्मा को भ्रमित करती हैं

  • अपने मन को पूरी लगन से बनाए रखना; क्योंकि इसमें से जीवन के मुद्दे हैं। अपने मुंह को बुराई से दूर कर, और टेढ़े-मेढ़े होंठ तुझ से दूर कर। नीतिवचन 4:23,24 
  • विकृत होठों का अर्थ है “जानबूझकर और विपरीत भाषण।” परमेश्वर के वचन के विपरीत भाषण में विकृत होंठ, जैसे: “मैं कुछ भी करूँ, अब कुछ भी काम नहीं करता है!” यह बात परमेश्वर के वचन के विपरीत है; यह एक बुरी रिपोर्ट है। 
  • परमेश्वर उस व्यक्ति के बारे में कहता है जो परमेश्वर के वचन से प्रसन्न होता है: वह जो कुछ भी करेगा वह समृद्ध होगा, और जो कुछ वह कहता है उसके पास होगा। (भज. 1:3; मरकुस 11:23,24।) हमारे पास परमेश्वर की प्रतिज्ञाएँ और क्षमताएँ हैं। हम इन क्षमताओं का उपयोग उसके वचन को पूरा करने के लिए हैं, हम कर सकते हैं। 

जब आप मजाक करें, तो सावधान रहें! 

  • जो आप अपने दिल में डालते हैं, उससे सावधान रहें। मजाक में कही गई बातें भी आपके रूह में आ जाएंगी। 
  • बहुत से लोग सच के विपरीत बोलकर अपने भीतर के आदमी को भ्रमित कर रहे हैं। उदाहरण के लिए, कोई कह सकता है, “यार, क्या आज कितनी ठंड है? या कि गर्मी नहीं है!” जब कि इसके उलटे हो रहा हो।
  • मनुष्य की आत्मा में भ्रम के कारण आपका विश्वास कम प्रभावी होगा। आप जो बोल रहे हैं और जो विश्वास कर रहे हैं, उसके बीच निरंतरता होनी चाहिए।
  • गाली देने से, भोंकने से बचें।  “क्या वह बड़ा कुत्ता नहीं है!” जब यह एक छोटा कुत्ता है, इतने अभद्र शब्दों से बचें, इन जैसे बयान देने का विरोध करें। ।
  • ये कथन दिल को भ्रमित कर सकते हैं और अंततः आपके विश्वास को पंगु बना सकते हैं। यह कहना कि बाहर गर्मी है जब वास्तव में ठंड होती है, एक छोटे कुत्ते को बड़ा कहना, यह कहना कि आपके लिए कुछ भी काम नहीं करता है – सभी विकृत होंठों के साथ बोलने के उदाहरण हैं।

अपनी शब्दावली पर नियंत्रण रखें।  

  • लोग जो छोटी-छोटी बातें कहते हैं और करते हैं, वे उन्हें परेशानी में डाल देती हैं। वे गलत किस्म का बीज दिखाकर अपने विश्वास में बाधा डाल रहे हैं। 

परमेश्वर का वचन आपके लिए उसकी इच्छा है।

  • आपका वचन परमेश्वर के प्रति आपकी इच्छा होना चाहिए। अपने मुंह से कभी भी ऐसा कुछ न बोलें जो आपकी मर्जी न हो। आप जो चाहते हैं उसे बोलने के लिए डिज़ाइन किया गया था। 
  • अधिकांश लोगों को उनकी बातों पर विश्वास नहीं होता है। अपनी शब्दावली को नियंत्रित करने के लिए आपको खुद को विकसित करना होगा। यदि तुम नित्य हर प्रकार की मूर्खता की बातें करते रहो और विकृत बातें करते रहो, तो तुम्हें अपनी बातों पर विश्वास नहीं होगा! 
  • जब आपके लिए विश्वास का एक शब्द बोलने का समय आएगा, तो कुछ नहीं होगा।

जो तुम विश्वास करते हो, उसे बार बार कहो, कहो केवल वो पूरा होगा, विकसित करें

  • अपने शब्दों पर परिश्रम करना, विश्वास के नियम को गति प्रदान करता है। यदि तुम में से कोई धार्मिक प्रतीत होता है, और अपनी जीभ पर लगाम नहीं लगाता है, लेकिन अपने ही दिल को धोखा देता है, तो इस आदमी का धर्म व्यर्थ है।  याकूब 1:26 
  • यदि तुम अपनी जीभ पर लगाम नहीं लगाओगे, तो यह तुम्हारे हृदय को धोखा देगा कि तुम विश्वास करो कि जो तुम कहते हो, वास्तव में अनजाने ही वही तुम चाहते हो। एक बार जब आप विश्वास करने में अत्यधिक विकसित हो जाते हैं कि आप क्या कहते हैं, और आप मजाक में कुछ कहते हैं, तो आपकी आत्मा एक ऐसा रास्ता खोजेगी, जिसके कारण आपने जो कहा था वह हो जाएगा – भले ही आप नहीं चाहते थे कि वह ऐसा होना चाहिए। 
  • यदि आप हमेशा कहते हैं, “हम निश्चित रूप से दिवालिया होने जा रहे हैं!” आपकी आत्मा परमेश्वर के ज्ञान की खोज करेगी ताकि उसे पूरा करने का रास्ता खोजे। आपका दिल (आत्मा) आपके शब्दों को अंतिम अधिकार के रूप में लेता है। आपके शब्द आपके दिल को यह विश्वास करने के लिए धोखा देंगे, कि दिवालियापन वही है जो आपने आदेश दिया था। बीज बोया गया है। 

याद रखने योग्य बातें।  

  • जब आप शब्द बोलते हैं—चाहे अच्छे हों या बुरे—आप परमेश्वर के राज्य के एक ईश्वरीय सिद्धांत का संचालन कर रहे हैं। 
  • शब्द आत्मिक संसार में बीज हैं, और वे बोले जाने वाली बातों को पूरा करेंगे। 
  • शब्द शक्तिशाली हैं क्योंकि आपकी जीभ आपके दिल को नियंत्रित करती है। किसी भी क्षेत्र में समृद्ध होने के लिए, आपको जीभ पर नियंत्रण का अभ्यास करना चाहिए। 
  • परमेश्वर का वचन में अलौकिक क्षमता है! 
  • परमेश्वर के वचन के विरुद्ध बोलना पवित्र आत्मा के विरुद्ध बोलना है! परमेश्वर किसी भी ऐसे कथन को जो एक बुरी रिपोर्ट है,परमेश्वर असहमत रहते हैं, और जो उसके वचन के अनुसार सही, उचित है, उसे वे मानते हैं, पूरा करते हैं। 
  • निष्क्रिय शब्द आमतौर पर परमेश्वर के वचन का खंडन करते हैं। 
  • आप जो बेकार शब्द बोलते हैं, उसका हिसाब आप देंगे। 
  • कभी भी ऐसा कुछ न बोलें जो आपकी मर्जी न हो।
  • आप जो शब्द बोलते हैं उस पर परिश्रम करें। मौन की शब्दावली सीखें!

https://youtu.be/DMo7G2bMfjU

परमेश्वर की स्थापित वाचा और स्थापित हृदय (The Established Covenant And The Established Heart)

https://youtu.be/77AX–jpoO8

https://www.biblegateway.com/passage/?search=Colossians+1%3A13&version=ESV

https://www.biblegateway.com/passage/?search=Matthew+3%3A2&version=ESV

हिंसक प्रार्थनाएँ क्या हैं। (Book Summary Of 200 Violent Prayers for Deliverance, Healing, and Financial Breakthrough)  भाग 1

Featured

हिंसक प्रार्थनाएँ क्या हैं? (Book Summary Of 200 Violent Prayers for Deliverance, Healing, and Financial Breakthrough) भाग 1

हिंसक प्रार्थनाएँ क्या हैं? हम कुछ महान प्रश्नों के उत्तर देते हैं जो आपको मसीह यीशु में उठने और अपनी स्वतंत्रता की घोषणा करने के लिए प्रेरित करते हैं। हिंसक प्रार्थनाएँ क्या हैं। (Book Summary Of 200 Violent Prayers for Deliverance, Healing, and Financial Breakthrough) भाग 1। कुछ पुरुषों और महिलाओं को दिखाता हूं जिन्होंने बाइबल में हिंसक रूप से प्रार्थना की और उन्हें जो परिणाम मिले। मेरा लक्ष्य आपको आज से हिंसक रूप से प्रार्थना करने के लिए प्रोत्साहित करना है। 

परमेश्वर के एक बच्चे को हिंसक प्रार्थना करने की आवश्यकता होती है। आपको आपके जीवन और परिवार में आसुरी हमलों के संकेत भी दिखाता है। आध्यात्मिक समस्याओं के निदान और समाधान के प्रस्ताव के लिए एक संदर्भ पुस्तिका होना चाहिए।

आपको स्वयं को, अपने परिवार को, या किसी और को छुटकारे की सेवकाई के लिए कदम दिखाता हूँ। वे हिंसक प्रार्थनाओं की प्रक्रिया में शामिल कदम हैं। 

उपचार, व्यापार और वित्तीय सफलता, अवसाद से मुक्ति, और पीड़ा (आंतरिक दर्द) के उपचार के लिए सावधानीपूर्वक चयनित हिंसक प्रार्थनाएं शामिल हैं। 

उपवास के साथ या बिना किसी भी समय लागू कर सकते हैं, कि आप तीन दिनों के लिए उपवास और प्रार्थना करेंगे और इस प्रकार प्रार्थनाओं की रूपरेखा तैयार करते हैं। एक दिन का प्रारूप। 

हालाँकि आप इस पुस्तक और इसमें प्रार्थनाओं का उपयोग करने का निर्णय लेते हैं, मैं इस बारे में निश्चित हूं कि ईश्वर की शक्ति आपके माध्यम से प्रवाहित होगी और आपको एक शक्तिशाली स्पर्श का अनुभव कराएगी जो आपके जीवन को बेहतर के लिए बदल देगा।

परिचय। 

इस किताब की प्रार्थना कोई साधारण प्रार्थना नहीं है। उन्हें इस समय शैतानी (आसुरी) उत्पीड़न, आध्यात्मिक हमलों, बीमारियों, आर्थिक तंगी या किसी भी प्रकार की पीड़ा से गुजरने वाले किसी भी व्यक्ति को स्वतंत्रता और सफलता प्राप्त करने के लिए सशक्त बनाने के लिए सावधानीपूर्वक एक साथ रखा गया है। 

प्रार्थना आपके जीवन में किसी भी कठिनाई को दूर कर देगी। वे आपको असामान्य रहस्योद्घाटन करने में सक्षम करेंगे जो आपको दिशा देंगे और आपके खिलाफ सभी बंद दरवाजे खुल जाएंगे। 

3 दिनों तक इस पुस्तक में प्रार्थना और घोषणाओं को पढ़ने के बाद, आपके जीवन और परिवार में सभी बुरे उत्पीड़न और धमकियां समाप्त हो जाएंगी। यदि आप शरीर में बीमार हैं तो आपको शारीरिक उपचार प्राप्त होगा। यदि आप गर्भ के फल की तलाश में हैं, तो आप गर्भ धारण करेंगी। यदि आपका मामला वैवाहिक निराशा का है, तो इसे सुलझा लिया जाएगा। 

इससे पहले कि आप आगे बढ़ें, मैं आपसे यही चाहता हूं,

एक सूची बनाएं। 

इस पुस्तक के साथ प्रार्थना में जाने से पहले, बैठ जाएं। कागज की एक शीट लें और उस समय आपके जीवन में हो रही सभी गलत चीजों को सूचीबद्ध करें जिन्हें निपटाने की आवश्यकता है। स्पष्टता के साथ प्रार्थना करना महत्वपूर्ण है। 

चिंता न करें अगर आपके जीवन में इस समय बहुत सी चीजें हैं जो आपको पसंद नहीं हैं, जिन्हें जल्द से जल्द निपटाने की जरूरत है। बस उन्हें सूचीबद्ध करें। यहां मेरा मतलब है:

गलत चीजें जो मुझे नहीं चाहिए मुझे अवसाद नहीं चाहिए- मैं उदास हूं।  
शांति और खुशी – मुझे शांति, आनंद और आराम चाहिए। 
मेरे घर में झगड़े होते हैं ,मैं चाहता हूं कि शांति और प्यार बहाल हो जाए। 
वित्तीय कठिनाइयां- मैं अपनी वित्तीय कठिनाई में जी रहा हूँ। 
वित्तीय सफलता को पूरा नहीं कर सकता – मुझे अभी एक सफल दायित्व की आवश्यकता है। 
आर्थिक रूप से। मुझे नई नौकरी चाहिए। मुझे एक नया व्यापार विचार चाहिए, आदि। 
दुःस्वप्न – मुझे बुरे सपने आ रहे हैं, आत्महत्या की कोशिश में हूँ,
और मैं चाहता हूं कि मैं यहोवा से बातें करूँ, सपने देखूं और परमेश्वर की आवाजें सुनूं। 
जीवन की आवाज़ें और आशा।
मैं बीमार हूँ, मुझे तत्काल उपचार और इससे मुक्ति चाहिए। 

अब आप समझ गए कि मेरा क्या मतलब है। हमें आपकी आवश्यकताओं के बारे में विशिष्ट होने की आवश्यकता है। हमें उन नकारात्मक चीजों की सूची बनाने की जरूरत है जो हो रही हैं और सकारात्मक उम्मीदें उन्हें बदलने की हैं। 

प्रार्थना सत्र शुरू करने से पहले स्पष्टता प्राप्त करना, जैसे कि इस पुस्तक में जिस तरह के प्रार्थना सत्र की सिफारिश की गई है, वह बहुत महत्वपूर्ण है। 

अंधा व्यक्ति रोया और यीशु के पास गया; उसके सामने खड़े होकर, यद्यपि यीशु देख सकता था कि वह अंधा था, फिर भी उसने उससे पूछा, “तू क्या चाहता है कि मैं तुम्हारे लिए क्या करूँ?” 

परमेश्वर चाहता है कि हम उन बातों के बारे में स्पष्ट रहें जिनके बारे में हम प्रार्थना कर रहे हैं।

आश्वासन। 

जैसा कि मैंने ऊपर कहा, आपको अपनी प्रार्थनाओं के उत्तर प्राप्त होंगे। यही विश्वास है कि परमेश्वर के आत्मा ने मुझे तुम्हें देने के लिए कहा है। आज से कई महीने बाद, आप अपनी सूची में वापस जाएंगे और आश्चर्य करेंगे कि यहोवा ने क्या किया है। 

मैं शारीरिक रूप से आपके साथ नहीं हूं, लेकिन इस पुस्तक में प्रार्थना के माध्यम से मैं आप सभी से सहमत हूं। स्वर्ग के परमेश्वर, हमारे सबसे प्यारे पिता आपके जीवन को छूएंगे और आपको एक महान गवाही देंगे।

3 दिन का उपवास क्यों? 

उपवास असंभव की कुंजी है। यदि आप बाइबल के माध्यम से जाते हैं तो आप देखेंगे कि कई कठिन समस्याओं और परिस्थितियों को ‘फास्टेड’ प्रार्थना द्वारा संबोधित किया गया था। 

मैं उपवास को उपवास के रूप में वर्णित करता हूं आपकी प्रार्थना। यीशु ने कहा कि कुछ समस्याओं का समाधान केवल प्रार्थना और उपवास के द्वारा ही किया जा सकता है (मत्ती 17:21)। 

विभिन्न प्रकार के उपवास हैं। हालाँकि, यह इस पुस्तक का फोकस नहीं है। आप जो भी उपवास कर सकते हैं, वह ठीक है। मैं आमतौर पर लोगों को उपवास के दौरान पानी पीने के लिए प्रोत्साहित करता हूं। यदि आप रात में इस पुस्तक में प्रभावी ढंग से प्रार्थना करने के लिए रात का खाना छोड़ सकते हैं, तो यह बेहतर है। 

रात का खाना छोड़ना एक उपवास है जो अपोस्टोलिक रिसर्च इंस्टीट्यूट के प्रेरित जेएनजे ने सिखाया है।

उन्होंने 6 महीने के लिए रात का खाना छोड़ दिया और मंत्रालय में निर्देशन के कुछ गंभीर मुद्दों पर प्रार्थना में यहोवा की तलाश में सारी रातें बिताईं। और यहोवा स्पष्ट मार्ग से उसके पास पहुंचा, और उसका भ्रम दूर किया, और उसके जीवन के सबसे बड़े संकट के समय में उसकी अगुवाई की। 

रात के खाने को तेजी से छोड़ना विशेष रूप से उपयोगी है क्योंकि यह आपको दिन के दौरान अपने व्यवसाय के बारे में जाने में मदद करता है और फिर रात में एक घंटे या उससे अधिक समय के लिए परमेश्वर की तलाश करता है।

हम आध्यात्मिक युद्ध में हैं।

 कुछ दुश्मन आपके जीवन को निराश करने और यह सुनिश्चित करने पर आमादा हैं कि आप दर्द और शर्म से गुजरते रहें । परन्तु जब हम स्वयं को यहोवा के सामने नम्र करते हैं, तो हमें दुष्टता की इन समन्वित शक्तियों का विरोध करने और हमारे जीवन के लिए तैयार की गई परमेश्वर की आशीषों को प्राप्त करने के लिए शक्ति और दिशा प्राप्त होती है। 

उपवास करने से प्रार्थना की शक्ति कई गुना बढ़ जाती है। यह पुस्तक अनुशंसा करती है और मानती है कि आप तीन दिनों तक उपवास करेंगे और प्रार्थना सत्रों से गुजरेंगे। 

आप जो भी उपवास करने का फैसला करते हैं, चाहे वह सुबह 6-10 बजे, दोपहर 6-12 बजे, या शाम 6 बजे से 6 बजे हो, कोई बात नहीं। चाहे वह स्किपिंग डिनर फास्टिंग हो जिसे आप करने का फैसला करते हैं, यह ठीक और बढ़िया है। जो महत्वपूर्ण है वह यह है कि आप स्वयं को यहोवा के सामने नम्र करने और प्रार्थना करने की आवश्यकता को महसूस करें। 

बाइबल कहती है: 

“क्या मैं ने इस प्रकार का उपवास नहीं चुना है, कि अन्याय की जंजीरों को खो दूं और जूए की रस्सियों को खोल दूं, दीन को स्वतंत्र कर दूं और सब जुए को तोड़ दूं? – यशायाह 58:6 

जब वे यहोवा की उपासना और उपवास कर रहे थे, तो पवित्र आत्मा ने कहा, “मेरे लिये बरनबास और शाऊल को उस काम के लिये अलग कर, जिसके लिये मैं ने उन्हें बुलाया है।” तब उन्होंने उपवास और प्रार्थना करने के बाद उन पर हाथ रखा और उन्हें विदा किया। प्रेरितों 13:2-3 

इन 3 दिनों के उपवास और हिंसक प्रार्थनाओं में, आपके जीवन और परिवार के खिलाफ अन्याय की जंजीर नष्ट हो जाएगी; तुम्हारे जीवन में या तुम्हारे परिवार के किसी सदस्य के भारीपन का जूआ छूट जाएगा; तुम और तुम्हारे परिवार के सदस्य शैतान के ज़ुल्मों से आज़ाद होंगे, और पवित्र आत्मा बोलेगा और तुम्हें निर्देश देगा।

हिंसक प्रार्थनाएँ कैसे काम करतीहैं? 

1: हिंसक प्रार्थनाएँ क्या हैं? 

मैं आपको बताता हूं कि हिंसक प्रार्थना क्या है और आपको हिंसक प्रार्थना करने की आवश्यकता क्यों है। यीशु ने कहा: “और यूहन्ना बपतिस्मा देनेवाले के दिनों से लेकर अब तक के राज्य तक स्वर्ग में हिंसा होती है, और हिंसक उसे बल से लेते हैं।” – मैथ्यू 11:12 (केजेवी) 

इस पाठ में, यीशु अपने अग्रदूत यहून्ना बपतिस्मादाता (जॉन द बैपटिस्ट) के बारे में बात कर रहे थे। वह हमें बताता है कि कैसे यहून्ना बपतिस्मादाता (जॉन बैपटिस्ट) उससे पहले पैदा हुए सभी लोगों में सबसे महान है, और कैसे, अब भी, राज्य में सबसे छोटा उससे बड़ा हो जाएगा। 

फिर वह कहता है कि परमेश्वर का राज्य केवल हिंसा से आगे बढ़ता है और केवल हिंसक ही उसे बलपूर्वक लेता है। ठीक है, यह जिहाद के बारे में बात नहीं कर रहा है। यह लोगों को मारने और उन्हें अपने विश्वास में बदलने के लिए मजबूर करने की बात नहीं कर रहा है। लेकिन यह किसी ऐसी चीज के बारे में बात कर रहा है जिस पर हमें ध्यान देने की जरूरत है। 

आप देखिए, यहून्ना बपतिस्मादाता (जॉन द बैपटिस्ट) ही वह था जिसने पूरी दुनिया के सामने कबूल किया था कि यीशु ही मसीह था।

लेकिन किसी तरह, वह अपने समय की सरकार से अलग हो गया और उसे गिरफ्तार कर जेल में डाल दिया गया। ठीक जेल में, चिंतित था कि यीशु कैसे नहीं आया और उसे किसी तरह के चमत्कारी प्रदर्शन से मुक्त कर दिया, उसने संदेह करना शुरू कर दिया कि क्या यीशु उद्धारकर्ता था जैसा कि उसने दुनिया के सामने सार्वजनिक रूप से घोषित किया था। अब उसने अपने शिष्यों को यीशु से पूछने के लिए भेजा कि क्या वह मसीह है। 

उस प्रश्न से प्रभावित होकर, यीशु ने लोगों को समझाना शुरू किया कि यूहन्ना बपतिस्मा देने वाला कौन था और इस प्रक्रिया में उसने वह कथन दिया। 

सीधे शब्दों में कहें तो, यीशु कह रहे थे कि स्वर्ग की सारी शक्तियाँ यूहन्ना बपतिस्मा देने वाले के अधिकार में थीं।

लेकिन उस पर मांग रखने और कहने के बजाय, “अरे, मैं अभी इस जगह से बाहर हूँ। स्वर्ग की आग अब मेरे लिये उत्तर दे।” 

यह कहने के बजाय, “यीशु, दाऊद के पुत्र, उठो और मेरे बचाव में आओ।” यह कहने के बजाय, “हे प्रभु, मैं किसी अन्य व्यक्ति की मृत्यु को मरने से इंकार करता हूँ।” उसने यीशु के पास दूतों को यह पूछने के लिए भेजा, “भाई, मुझे आशा है कि मैंने कोई गलती नहीं की? क्या आप मसीह हैं?” 

फिर क्या हुआ?

यहून्ना बपतिस्मादाता (जॉन द बैपटिस्ट) को बाद में एक आम अपराधी की तरह मार दिया गया। उसका सिर काट दिया गया और एक नर्तकी के अनुरोध पर एक थाली में चढ़ा दिया गया। 

क्या त्रासदी है! 

हाँ, वह स्वर्ग गया। लेकिन मुझे नहीं लगता कि उसका इस तरह जाना तय था। याद रखें कि यूहन्ना बपतिस्मा देने वाले के पास वही आत्मा थी जो एलिय्याह के पास थी। क्या आप सोच सकते हैं कि एलिय्याह ने उन लोगों के साथ क्या किया होगा? 

मेरा कहना यह है: परमेश्वर ने हमें ईसाइयों के रूप में नहीं बचाया, इसलिए हम केवल स्वर्ग में ही जा सकते हैं। उसने हमें बचाया ताकि हम स्वर्ग में आने से पहले पृथ्वी पर एक विजयी जीवन जी सकें। उसने हमें बचाया और हमें शैतान और उसके विरोधों से निपटने की शक्ति दी और झुकने और जाने के लिए हमारे छुटकारे को परेशान करने के लिए जो कुछ भी उठता है उसे आदेश दिया। 

यदि आप नहीं उठते और अपने अधिकार का उपयोग नहीं करते हैं, तो शैतान और उसके राक्षस आपको एक सामान्य सेवक की तरह मारेंगे और आपको अनावश्यक पीड़ा देंगे।

वह आपके दिमाग को पीड़ित करेगा और आपके शरीर में बीमारी का कारण बनेगा और आपको आश्चर्य होगा कि क्या हो रहा है। वह आपको यह सोचने पर मजबूर करेगा कि आप सिर्फ एक शक्तिहीन साथी हैं और आप अपनी स्थिति को स्वीकार करने के अलावा कुछ नहीं कर सकते। 

लेकिन यह झूठ है। आप परेशान और पीड़ित होने के लिए नहीं हैं। शांति के विपरीत कुछ भी जो समझ से परे हो; प्रचुर जीवन के विपरीत कुछ भी; स्वस्थ मन और स्वस्थ शरीर के विपरीत कुछ भी; ताकत से ताकत की ओर बढ़ने के विपरीत कुछ भी, एक स्तर से दूसरे उच्च स्तर तक; एक स्वस्थ और प्यार करने वाले परिवार के विपरीत कुछ भी; परमेश्वर के वादों के विपरीत कुछ भी तुम्हारा हिस्सा नहीं है। 

जब वे अपने बदसूरत सिर उठाते हैं, तो आपको आग वापस करनी चाहिए। जब आप एक राक्षसी हमले को महसूस करते हैं, तो आपको आग वापस करनी चाहिए। आप शैतान से भीख नहीं मांग सकते। वह भीख माँगना नहीं समझता। एकमात्र भाषा जिसे शैतान समझता है वह है आग। वह एकमात्र भाषा जो सुनता है वह हिंसक प्रार्थना है।

तो हिंसक प्रार्थनाएँ क्या हैं? 

सबसे पहले, हिंसक प्रार्थना आपके पड़ोस में शोर नहीं करतीं और ना किसी को परेशान कर रही है ताकि उन्हें पता चले कि आप प्रार्थना कर रहे हैं। यह उससे कहीं अधिक है। जहाँ आवश्यक हो, आप ज़ोर से प्रार्थना कर सकते हैं, बशर्ते कि इससे दूसरों को असुविधा न हो। 

लेकिन हिंसक प्रार्थना, प्रार्थना में चिल्लाने से कहीं ज्यादा है। इसमें 3 घटक शामिल हैं।

1: विचार प्रक्रिया 

हिंसक प्रार्थना एक मानसिकता है। यह मानसिकता है जो कहती है, “बस बहुत हो गया। मैं अपना उद्धार पाने जा रहा हूं। मेरी सफलता पाने का समय आ गया है। मेरे और मेरे खुले दरवाजों के बीच जो कुछ भी खड़ा है, 

उसे नष्ट कर दिया जाना चाहिए और मुझे यीशु के नाम पर अपने खुले दरवाजों में प्रवेश करना चाहिए। 

“मैं इस तरह जारी नहीं रख सकता। 

“प्रभु यीशु, मुझे पता है कि आप मेरे लिए मन की शांति पाने के लिए, स्वस्थ और समृद्ध होने के लिए मरे। तो मेरे जीवन में जो कुछ भी आपके वादों के विपरीत है, उसे मेरे जीवन को छोड़ देना चाहिए। और उन्हें अभी जाना चाहिए।” 

हिंसक प्रार्थना का पहला चरण आपके जीवन में परमेश्वर के वादों के विपरीत कुछ भी स्वीकार करने से इनकार करता है। उदाहरण के लिए, यदि आपको हर दिन बुरे सपने आते हैं, और यह अब आपको भयभीत कर रहा है, तो आपको कहना होगा, “ठीक है, बहुत हो गया! इस शैतानीयत (बकवास) को रोकने की जरूरत है” 

यदि आप पोर्नोग्राफी, शराब, वासना और अन्य गढ़ों के आदी हैं, तो आप कहेंगे, “परमेश्वर, मैं इस बुराई (बकवास) को रोकने जा रहा हूं और मुझे इसे तुरंत करना चाहिए। शैतान, मैं इसे अभी कर रहा हूँ। बहुत हो गया” 

यदि आप हमेशा बीमार रहते हैं, तो आप कहेंगे, “हे प्रभु, ऐसा नहीं होना चाहिए। मैं इस दर्द को स्वीकार नहीं करूंगा । यह कैंसर आप ओर से नहीं है। मैं ठीक हो जाऊंगा और मुझे शांति मिलेगी। ” 

यह मानसिकता हिंसक प्रार्थनाओं का पहला चरण है।

2: PUSH 

PUSH का अर्थ है – कुछ होने तक प्रार्थना करें। 

सभी बाइबिल ज्ञाता पुरुष और महिलाएं जिन्हें कभी उनकी प्रार्थनाओं का उत्तर मिला, उन्होंने धक्का दिया – उन्होंने कुछ होने तक प्रार्थना की। उन्होंने ऐसा नहीं किया कि कुछ दिनों, कुछ बार प्रार्थना की और फिर संदेह करने लगे और सर्वशक्तिमान परमेश्वर पर दोषारोपण करने लगे और पूछने लगे, “क्या परमेश्वर प्रार्थनाओं का उत्तर देता है? क्या तुम्हें यकीन है कि मैं इस तरह मरने वाला नहीं हूँ” 

बेशक, परमेश्वर प्रार्थनाओं का उत्तर देता है? मैं उनके बचाव में यह नहीं कह रहा हूं। लेकिन मुझे पता है कि परमेश्वर प्रार्थनाओं का जवाब देते हैं। हमें केवल PUSH करना सीखना है। हमें यह सीखने की जरूरत है कि आत्मा की दुनिया कैसे काम करती है। 

उदाहरण के लिए, यदि आपको राक्षसी हमलों और सफलताओं से मुक्ति की आवश्यकता है, तो आपको पुश करना होगा। PUSH करना सीखे बिना, आप अपनी प्रार्थनाओं के उत्तर कभी नहीं देख सकते हैं।

धक्का देने की जरूरत किसे है? 

हर कोई जो अपनी प्रार्थनाओं का उत्तर देखना चाहता है। तुम बिना धक्का दिए, शैतान हमारे चमत्कारों और उत्तरों को लाने और उन्हें अनावश्यक रूप से विलंबित करने के लिए परमेश्वर के स्वर्गदूतों के साथ संघर्ष करता रहेगा। इसी तरह आत्मा की दुनिया काम करती है। 

जब आप प्रार्थना करने के लिए घुटने टेकते हैं और परमेश्वर से कुछ भी मांगते हैं, तो हमारे प्यारे पिता जल्दी से स्वर्गदूतों को जाने के लिए भेजते हैं और आप जिस चीज के बारे में प्रार्थना कर रहे हैं उसे लाने के लिए कहते हैं । लेकिन शैतान इन स्वर्गदूतों को आत्मिक दुनिया में फंसा सकता है और उन्हें उलझा सकता है।

भौतिक क्षेत्र में, यह अब अनावश्यक देरी का कारण बनता है। लेकिन जैसे-जैसे हम पुश करना जारी रखते हैं, हमारी प्रार्थनाएं इन बुरी आत्माओं और उनके पिता, शैतान का विरोध करना जारी रखती हैं, जब तक कि वे हार नहीं मान लेते और हमें अपना जवाब नहीं मिल जाता। 

नीचे इस शास्त्र वचनों को पढ़ें और मुझे बताएं कि आप क्या सोचते हैं: 
  • पद 7; तब स्वर्ग में युद्ध छिड़ गया। मीकाईल और उसके दूत अजगर से लड़े, और अजगर और उसके दूत वापस लड़े।
  • पद 8, परन्तु वह बहुत बलवन्त न हुआ, और उन्होंने स्वर्ग में अपना स्थान खो दिया। 
  • पद 9, बड़े अजगर को नीचे गिराया गया – वह प्राचीन सर्प जिसे इब्लीस या शैतान कहा जाता है, जो सारे संसार को पथभ्रष्ट करता है। वह पृथ्वी पर और उसके दूत उसके साथ फेंके गए – प्रकाशितवाक्य 12:7-9

क्या यह दिलचस्प नहीं है। यदि शैतान स्वयं सर्वशक्तिमान परमेश्वर को उखाड़ फेंकने का प्रयास करते हुए स्वर्ग में लड़ाई लड़ सकता है, तो यह मत सोचिए कि वह आपकी प्रार्थनाओं और भलाई के विरुद्ध संघर्ष नहीं करेगा। 

श्लोक उसी शास्त्र का 

“इस कारण तुम स्वर्ग और उन में रहने वालों का आनन्द करो! परन्तु हाय पृथ्वी और समुद्र पर, क्योंकि शैतान तुम्हारे पास उतर आया है! वह रोष से भर गया है, क्योंकि वह जानता है कि उसका समय कम है। 

शैतान अपनी पूरी ताकत से लड़ रहा है क्योंकि वह जानता है कि उसका समय कम है। वह आपकी प्रार्थनाओं का उत्तर देने से रोकने के लिए हर संभव प्रयास करेगा क्योंकि वह जानता है कि जब आपको अपनी प्रार्थनाओं का उत्तर मिलेगा, तो आपका विश्वास बढ़ेगा और ईश्वर के प्रति आपकी सेवा और समर्पण महान हो जाएगा। इसलिए जब तक आप प्रार्थना करते हैं और जब उत्तर आता है, तब तक वह हर तरह का विरोध करेगा। 

जब आप प्रार्थना करते हैं और जब उत्तर आता है, तो यह अंतराल शैतान के खेलने का समय होता है। 

वह आप पर आरोप लगाने की कोशिश करेगा और कहेगा, “अरे, क्या तुम नहीं जानते कि तुम एक पापी हो। आपने दूसरे दिन ऐसा किया। आपने दूसरे दिन शाप दिया, इसलिए आपको कुछ नहीं मिल रहा है। ”

वह उन पुरुषों को प्रेरित करेगा जो आपकी अपेक्षा के लिए गंभीर बाधा बनेंगे, वे पुरुष जो आपके रास्ते में बहुत सारी ठोकरें डालेंगे। यदि आप पुश करना नहीं जानते हैं, तो आपकी प्रार्थनाओं में अनावश्यक रूप से देरी होगी। 

पौलुस ने कहा: 

प्रेरित या मेरे लिए एक महान और प्रभावशाली द्वार खोला गया है, और वहां बहुत से विरोधी हैं।- 1 कुरिन्थियों 16:9 

उसके सामने सेवकाई के बहुत से बड़े द्वार खुल गए, परन्तु उसके पास विरोधियों से लड़ने के लिए बहुत से थे। यह कहना अधिक पसंद है, “मैं आगे एक महान उद्घाटन और अवसर देख सकता हूं, लेकिन मैं उनका उपयोग करने में सक्षम नहीं हूं, क्योंकि विरोधी मेरा विरोध कर रहे हैं और मुझे योजना बनाने की कोशिश कर रहे हैं।” 

नेट बाइबिल उस शास्त्र को इस तरह से रखता है: “क्योंकि मेरे लिए महान अवसर का द्वार खुला है, लेकिन कई विरोधी हैं।” 

उन्होंने खुले दरवाजे के लिए प्रार्थना की। वह अपने सामने दरवाजे खुले देख सकता था। लेकिन विरोधियों और विरोधियों ने उसे ऐसा नहीं करने दिया। 

यह उसी तरह का खेल है जैसे दुश्मन हम ईसाईयों के साथ खेल रहे हैं। जब हम प्रार्थना करते हैं, तो परमेश्वर उत्तर देता है। लेकिन दुश्मन विरोधियों, आध्यात्मिक और शारीरिक बाधाओं को उठाता है ताकि हम अपने सामने आने वाले अवसरों में न फंसें।

लेकिन आज, प्रेरित पौलुस और परमेश्वर के अन्य महान संतों की तरह, हम अंधेरे की ताकतों को पीछे धकेलना शुरू कर देंगे और हिंसक प्रार्थनाओं के साथ जो हमारा है उसे वापस ले लेंगे।

3: अधिकृत प्रार्थना: 

यह केवल एक प्रकार की प्रार्थना नहीं है। हिंसक प्रार्थना में, आप अधिकार के साथ प्रार्थना करते हैं। आप आज्ञा देते हैं, आप भीख नहीं मांगते। 

मैं आपको एक उदाहरण देता हूं। 

  • 46 तब वे यरीहो आए। जब यीशु और उसके चेले,  एक बड़ी भीड़ के साथ, शहर छोड़ रहे थे, एक अंधा आदमी, बरतिमाईस (जिसका अर्थ है “तिमाईस का पुत्र”), 
  • सड़क के किनारे भीख मांग रहा था।
  • 47 जब उसने सुना कि यह नासरत का यीशु है, तो वह चिल्लाने लगा, हे यीशु, दाऊद की सन्तान, मुझ पर दया कर। 
  • 48 बहुतों ने उसे डाँटा, और चुप रहने को कहा, परन्तु वह और भी ऊँचे स्वर में कहता रहा, “हे दाऊद की सन्तान, मुझ पर दया कर!” 
  • 49 यीशु ने रुककर कहा, “उसे बुला।” तब उन्होंने उस अंधे को पुकारा, “उठो! अपने पैरों पर! वह आपको बुला रहा है।”
  • 50 और अपना चोगा एक ओर फेंका, और अपने पांवों पर चढ़कर यीशु के पास आया। 
  • 51 “तू क्या चाहता है कि मैं तेरे लिए करूँ?” यीशु ने उससे पूछा। अंधे ने कहा, “रब्बी, मैं देखना चाहता हूँ।” 
  • 52 “जाओ,” यीशु ने कहा, “तेरे विश्वास ने तुझे चंगा किया है।” तुरन्त उसकी दृष्टि उसे प्राप्त हुई और वह मार्ग में यीशु के पीछे हो लिया। – मरकुस 10:46-52 

यह हिंसक प्रार्थनाओं के तीन पहलुओं का एक संयोजन है। उसका मन चंगा होने के लिए बना था और उसने भीड़ के माध्यम से आधिकारिक रूप से धक्का दिया 

जब उसने पहली बार प्रार्थना की – “दाऊद के पुत्र, मुझ पर दया करो” यीशु नहीं रुके। 

भीड़ ने उसके और उद्धारकर्ता के बीच एक दूरी बनाई। उसे भीड़ के बारे में कुछ करने की जरूरत थी। उन्हें उनके माध्यम से जाने की जरूरत थी। 

उसी तरह, जब हम प्रार्थना करते हैं, तो परमेश्वर हमारी प्रार्थनाओं को सुनता है और उनका उत्तर देता है, लेकिन आध्यात्मिक दुनिया और हमारी दुनिया के बीच एक दूरी है। हमें उस दूरी को पार करने और यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि वहां की भीड़ हमें वह प्राप्त करने से न रोके जिसके लिए हमने प्रार्थना की है।

फास्ट फूड प्रार्थना। 

मैंने सीखा है कि प्रार्थना शायद ही कभी “फास्ट फूड” की तरह काम करती है। 

आप “फास्ट फूड” जानते हैं। आप बस एक रेस्तरां में चेक इन करें, मेनू के माध्यम से जाएं, ऑर्डर दें, और एक पल में, खाना तैयार है। और “ज़म” – तुम बाहर हो। 

“फास्ट फूड! 

मुझे संदेह है कि आजकल कई ईसाई “फास्ट फूड” तरह के ईसाई हैं। हम प्रार्थना करते हैं, “हे प्रभु, कृपया मुझे यीशु के नाम पर चंगा करें। धन्यवाद प्रभु।” 

और अगर यह तुरंत नहीं होता है तो हम कहते हैं, “ठीक है, ऐसा लगता है कि मैं आखिरकार मरने वाला हूँ” 

दोस्त, ऐसा नहीं है। 

जब आप प्रार्थना करते हैं, तो आपको भीड़ के माध्यम से अपना रास्ता दबाने की जरूरत होती है। आपको शोर से बाहर निकलने के लिए अपना रास्ता दबाने की जरूरत है। आपको अपनी प्रतिकूल स्थिति में फंसने की कोशिश कर रहे शैतान के शोर और आवाज को बाहर निकालने की जरूरत है। 

बार्टिमस ऐसा था, “अरे, मुझे आज इस आदमी का ध्यान आकर्षित करने के लिए सब कुछ करना है। मैं भीख माँग चुका हूँ। यह मेरे लिए अपना उद्धार पाने और एक सामान्य साथी बनने का समय है।” 

लोगों ने उसे चुप रहने को कहा तो वह जोर-जोर से रोने लगा। जब उन्होंने उसे आराम करने और उन्हें परेशान करना बंद करने के लिए कहा, तो वह और अधिक रोया। बाइबल कहती है: “बहुतों ने उसे डाँटा, और चुप रहने को कहा, परन्तु वह और भी चिल्लाया, “हे दाऊद की सन्तान, मुझ पर दया कर!” – पद 48 

कल्पना कीजिए। 

हम में से कुछ के लिए, कि पहली बार जब हम प्रार्थना करते हैं और यीशु ने नोटिस नहीं दिया, तो इस्तीफा देने और कहने के लिए पर्याप्त था “ठीक है, मैं इस स्थिति को कैसे प्रबंधित करूं।” 

लेकिन बार्टिमस इसमें से कुछ भी नहीं लेगा। लोगों ने उसे डांटा तो वह पलट गया। वह और भी चिल्लाया। 

आदमी भीख मांग रहा था। “यदि यह यीशु ने वे सब चमत्कार किए जो मैंने अब तक सुने हैं, तो मुझे उससे बात करने के लिए अवश्य ही अवसर प्राप्त करना चाहिए। तुम लोग मुझे रोक नहीं सकते।” 

यही उनकी मानसिकता थी। 

यह एक हिंसक प्रार्थना है। 

आप मुक्त होने का मन बना लेते हैं। आप अब वह दर्द नहीं उठा रहे हैं। तब तुम प्रार्थना करो। यदि उत्तर तुरंत नहीं आता है, तो आप कुछ और प्रार्थना करें। 

जब शैतान लोगों को आपको चुप कराने के लिए आता है और आपको बताता है कि दर्द सहना और उत्पीड़ित होना सामान्य है, और आपको बताता है कि सामना करने का एक तरीका खोजें; तुम शैतान को बताओ, नहीं। आप लोगों को उनकी राय और सुझावों के लिए धन्यवाद देते हैं लेकिन फिर आप कुछ और प्रार्थना करते हैं। और आप तब तक नहीं रुकते जब तक आपके जीवन में परमेश्वर की शक्ति प्रकट नहीं हो जाती। 

हिंसक प्रार्थना किसी प्रकार की नहीं है “परमेश्वर, कृपया मुझे अपने मन की शांति की आवश्यकता है, कृपया मेरी मदद करें प्रभु।” नहीं। 

आप कहते हैं, 

“प्रभु यीशु, मैं आपको उस बलिदान के लिए धन्यवाद देता हूं जो आपने मेरे लिए उद्धार, मुक्ति, चंगाई और समृद्धि के लिए किया था। मेरे लिए यह तुम्हारी इच्छा नहीं है कि मैं परेशान होऊं और शैतान द्वारा हमला किया जाऊं। इसलिए मैं इस शर्त को स्वीकार नहीं करने जा रहा हूं।मैं जिस दर्द से गुज़र रहा हूँ, उसके लिए जो कुछ भी ज़िम्मेदार है, उसे यीशु के नाम पर छोड़ देना चाहिए । 

और आप तब तक प्रार्थनाहैं करतें हैं, जब तक कि कुछ न हो जाए, जब तक कि आपके भीतर किसी प्रकार की शांति न हो जाए।

यह हिंसक प्रार्थना है।

शैतान आपको रोकने के लिए कड़ी मशक्कत कर रहा है यह केवल एक धार्मिक बयान नहीं है।

आपके जीवन के विरुद्ध एक आध्यात्मिक युद्ध चल रहा है। कुछ रियासतों और शक्तियों ने कसम खाई है कि आप कभी भी आपको अपना उपचार, उद्धार और सफलता प्राप्त नहीं करने देंगे। आपने कई बार प्रार्थना की है और कई मंत्रियों से परामर्श किया है जिन्होंने प्रार्थना भी की है। लेकिन अब भी वही कहानी लगती है। 

प्रिय, ऐसा इसलिए है क्योंकि आपके जीवन के विरुद्ध एक आध्यात्मिक प्रतिरोध चल रहा है। आपको अंधेरे की ताकतों को पीछे धकेलना शुरू करना होगा। आपको उठने और कहने की जरूरत है, बहुत हो गया। आपको कहने की ज़रूरत है, 

“बिल्कुल नहीं। मैं अपना उपचार, उद्धार और सफलता प्राप्त करने जा रहा हूँ। मैं अपने बच्चों को बचाए हुए और यहोवा की सेवा करते हुए देखने जा रहा हूँ। मैं इस लत से बाहर निकलने और एक 

विजयी जीवन जीने जा रहा हूं।” यही हिंसक प्रार्थना है। हम इसी तरह की प्रार्थना करने जा रहे हैं।

https://youtu.be/B7O5kvpLfAI

https://youtu.be/Du-eCyELtNY

नये नियम से बाईबल की आयतें | बाइबिल से 400+ “धन्य” वचन | Bible Se 400+ DHANYWAD Ke Vachan

परमेश्वर की स्थापित वाचा और स्थापित हृदय (The Established Covenant And The Established Heart)

Featured

परमेश्वर की स्थापित वाचा और स्थापित हृदय (The Established Covenant  and the Established Heart)  

परमेश्वर की स्थापित वाचा और स्थापित हृदय (The Established Covenant  and the Established Heart):  परमेश्वर ने पृथ्वी पर अपनी वाचा स्थापित की है। वह जो कुछ भी करता है वह इस वाचा के द्वारा निर्धारित होता है। नासरत का यीशु इस दुनिया में पैदा हुआ था, क्रूस पर मर गया, नरक में गया, पाप की कीमत चुकाई, और परमेश्वर द्वारा मनुष्य के साथ की गई वाचा के कारण मृतकों में से जी उठा। परमेश्वर कुछ लोगों को बचाने या चंगा करने के लिए चुनकर पक्षपात नहीं करता है; उसकी आशीषें उन सभी लोगों के लिए हैं जो वाचा की शर्तों को पूरा करते हैं (देखें 1 पतरस 2:24)।  

परमेश्वर ने अपनी वाचा स्थापित की है—उद्धार के लिए, चंगाई के लिए, छुटकारे के लिए, समृद्धि के लिए—और वाचा के इन प्रावधानों को परमेश्वर के वचन में निर्धारित किया गया है।

उसका वचन उसकी वाचा है, उसका बंधन है। जब आप किसी व्यक्ति के वचन पर विचार करते हैं, तो आप उसकी सत्यनिष्ठा के बारे में सोचते हैं: क्या वह वही करेगा जो वह कहता है? क्या उसकी बात अच्छी है? क्या उसका नाम अच्छा है? किसी व्यक्ति का नाम अच्छे या बुरे के रूप में आंका जाता है कि वह अपनी बात रखता है या नहीं।

आपका नाम आपके शब्द को अच्छा नहीं बनाता है। आपका शब्द आपका नाम अच्छा बनाता है। यहाँ यीशु के नाम में शक्ति निहित है; उसका नाम अच्छा है क्योंकि उसका वचन अच्छा है। परमेश्वर ने अपने वचन को अपने नाम से भी ऊपर बढ़ाया है (देखें भजन संहिता 138:2)।  

परमेश्वर की वाचा पृथ्वी पर स्थापित की गई है। 

अब मनुष्य को अपना हृदय परमेश्वर की वाचा में स्थापित करना चाहिए। यह स्थापित वाचा का संयोजन है जो परिणाम उत्पन्न करता है। यदि आपका हृदय वाचा में स्थिर नहीं है, तो वाचा का आपके लिए कभी कोई अर्थ नहीं होगा। इफिसियों 2:12 कहता है, “कि उस समय तुम  इस्राएल के राज्य से परदेशी होकर, और प्रतिज्ञा की वाचाओं से परदेशी होकर, और आशा न रखते हुए, और जगत में परमेश्वर के बिना, मसीह से रहित थे।”

ईश्वर के बिना होना आध्यात्मिक दिवालियेपन है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि परमेश्वर ने क्या किया है—यदि आप इसके बारे में नहीं जानते हैं या इसमें प्रवेश नहीं कर सकते हैं, तो आप आध्यात्मिक रूप से दिवालिया हैं।

 परमेश्वर की स्थापित वाचा  और स्थापित हृदय (The Established Covenant  and the Established Heart)  
परमेश्वर की स्थापित वाचा  और स्थापित हृदय (The Established Covenant  and the Established Heart)  

आखिरकार, आप किसी न किसी रूप में शारीरिक रूप से दिवालिया हो जाएंगे। आपके पास मुड़ने के लिए कहीं नहीं होगा। आप अपनी शारीरिक क्षमताओं पर निर्भर नहीं रह सकते क्योंकि आपका शरीर आपको पार करने के लिए पर्याप्त नहीं है। निश्चित रूप से, यह आपके दिमाग, आपकी मानसिक क्षमताओं के बारे में सच है। दुनिया में सबसे मजबूत दिमाग वाले पुरुष खतरनाक दर से आत्महत्या कर रहे हैं!  

दुनिया में परमेश्वर के बिना एक आदमी एक वाचा के बिना एक आदमी है। 

उसके पास विश्वास करने के लिए कुछ भी नहीं है। उसके पास भरोसा करने के लिए कुछ भी नहीं है। कई ईसाई हैं जो नहीं जानते कि क्या विश्वास करना है। वे कहते हैं, “यह कैसे काम करता है? मैं परमेश्वर में विश्वास करने की पूरी कोशिश कर रहा हूं, लेकिन मैं ऐसा नहीं कर सकता!”

बहुत से अच्छे, समझदार लोग हैं—नया जन्म, परमेश्वर के आत्मा से भरे हुए—जो अपने जीवन के हर क्षेत्र में (शारीरिक, मानसिक, सामाजिक और आर्थिक रूप से) पराजित होते हैं। क्यों? क्योंकि वे वाचा को नहीं जानते। अगर वे नहीं जानते कि परमेश्वर ने क्या कहा है, तो कोई रास्ता नहीं है कि वह उन तक पहुंच सके।  

कोई कह सकता है, “मैं परमेश्वर में विश्वास करने जा रहा हूँ।” ठीक है, आप उसके बारे में क्या विश्वास करने जा रहे हैं, कि वह परमेश्वर है? यह ठीक है, लेकिन यह बहुत दूर नहीं जाएगा। आपको यह पता लगाना चाहिए कि वाचा क्या कहती है कि परमेश्वर करने के लिए सहमत हुआ है।

एक व्यवसायी के पास इतना ज्ञान होता है। जब दो लोग एक साथ साझेदारी में प्रवेश करते हैं, तो उन्हें पता होना चाहिए कि क्या विश्वास करना है। यदि वे ऐसा नहीं करते हैं, तो वे गलतफहमी में पड़ जाएंगे। वे दोनों पूरी तरह से ईमानदार हो सकते हैं और फिर भी साझेदारी को केवल इसलिए नष्ट कर सकते हैं क्योंकि वे एक-दूसरे को नहीं समझते हैं और यह नहीं जानते कि एक दूसरे से क्या उम्मीद की जाए।  

आप एक विश्वासी के रूप में परमेश्वर की वाचा, परमेश्वर का वचन रखते हैं। यह आपके लिए उपलब्ध है।

 हालाँकि, यदि आप इसका उपयोग नहीं करते हैं, तो आप स्तर पर उसी स्तर पर हैं जैसे कि वह व्यक्ति जो मोक्ष को नहीं जानता है, उसके लिए है। वह नर्क में बंधा हुआ है। आप गरीबी से बंधे हैं या किसी अन्य क्षेत्र में बंधे हैं जहाँ वचन आपको स्वतंत्रता देता है।

यदि आप वाचा का उपयोग नहीं करते हैं, तो आप हार में रहेंगे। यह मेरे जीवन में सच था। मैं फिर से पैदा हुआ था और पवित्र आत्मा से भरा हुआ था लेकिन एक ईसाई के रूप में कुल हार में लगभग चार साल तक जीवित रहा, खासकर वित्त के क्षेत्र में। मैं परमेश्वर में विश्वास करने की पूरी कोशिश कर रहा था। मेरे इरादे नेक थे, लेकिन मुझे इस बात का कोई अंदाजा नहीं था कि मेरे लिए क्या उपलब्ध था और न ही इस बात की जानकारी थी कि परमेश्वर ने यीशु मसीह में क्या प्रदान किया है। 

आप देखिए, एक आदमी के पास बैंक में एक मिलियन डॉलर हो सकते हैं, लेकिन अगर वह चेक नहीं लिख सकता है, तो वह अगले आदमी की तरह बेसहारा है!  

इसका एक अच्छा उदाहरण वह व्यक्ति है जिसने अमेरिका आने के लिए अपना पैसा बचाया।

उसने चिल्लाया और बचाया और अंत में एक नाव के टिकट के लिए पैसे मिल गए और पटाखे और कुछ पनीर का एक बॉक्स खरीदने के लिए पर्याप्त पैसा बचा। उसने नाव के उतरने तक हर दिन थोड़ा-थोड़ा देने के लिए राशन दिया। यात्रा के दौरान, वह भोजन कक्ष में देखता जहाँ सभी लोग खा रहे थे और फिर इस कमरे में वापस जाते और अपने छोटे से भोजन का राशन खाते।

जब नाव न्यू यॉर्क हार्बर में लगी हुई थी, एक प्रबंधक ने उसे रोका और कहा, “सर, मैंने देखा है कि आपने इस यात्रा के दौरान भोजन नहीं किया है। क्या हमारी सेवा आपके लिए अपमानजनक है? क्या खाना संतोषजनक नहीं है?” उस व्यक्ति ने उत्तर दिया, “अरे, नहीं! मैं नाराज नहीं हूं। बात बस इतनी सी है कि मेरे पास सिर्फ टिकट के पैसे थे। भोजन के लिए पर्याप्त नहीं बचा था।” तब स्टीवर्ड ने कहा, “ठीक है, महोदय, टिकट में भोजन शामिल था!”

आप देखिए, वह भोजन उसी का था, लेकिन वह यह नहीं जानता था! उनका टिकट एक समझौता था। यह उसका था, लेकिन वह समझौते की शर्तों को नहीं जानता था! उस भोजन पर उसका उतना ही अधिकार था जितना जहाज के कप्तान का था, लेकिन वह इसके बजाय पटाखे और पनीर के लिए तैयार हो गया। अधिकांश ईसाई “पटाखे और पनीर खा रहे हैं” परमेश्वर के साथ अपनी वाचा को नहीं जानते हुए,  जानते हुए कि यीशु मसीह के माध्यम से पहले से ही उनका क्या है। 

Optimal Health - 20191230 164632 - Optimal Health - Health Is True Wealth.
परमेश्वर की स्थापित वाचा  और स्थापित हृदय (The Established Covenant  and the Established Heart)  

स्थापित वाचा  

अब्राहम…मूसा…डेविड…सुलैमान…परमेश्वर ने इन लोगों को आशीष क्यों दी? इतने कम लोगों को वित्त में परमेश्वर का आशीर्वाद क्यों मिला है? हमें अपने मन को वित्तीय आशीषों के लिए परमेश्वर के कारण के लिए नवीनीकृत करने की आवश्यकता है।

व्यवस्थाविवरण की पुस्तक में, हम एक समृद्ध जीवन जीने में याद रखने के लिए प्रमुख नियम देखते हैं: “और तू अपने मन में कहता है, मेरी शक्ति और मेरे हाथ की शक्ति ने मुझे यह धन दिया है। परन्तु तू अपने परमेश्वर यहोवा को स्मरण रखना, क्योंकि वही तुझे धन प्राप्त करने का अधिकार देता है, कि जो वाचा उस ने तेरे पूर्वजों से खाई थी, उसे वह आज के दिन के अनुसार दृढ़ करे” (व्यवस्थाविवरण 8:17-18)।  

प्रधान नियम : ईश्वर धन प्राप्ति की शक्ति देता है।  क्यों? उसकी वाचा स्थापित करने के लिए।  

आइए व्यवस्थाविवरण 9:5-6 से आगे पढ़ें: “न तो अपने धर्म के लिए, और न अपने मन की सच्चाई के लिए, क्या तू उनके देश के अधिकारी होने को जाता है; परन्तु इन जातियों की दुष्टता के कारण, तेरा परमेश्वर यहोवा उन्हें देश में, तेरे साम्हने से निकाल देता है, और वह उस वचन को पूरा करे जो यहोवा ने तेरे पुरखाओं इब्राहीम, इसहाक और याकूब से खाई थी। इसलिये समझ ले, कि तेरा परमेश्वर यहोवा यह अच्छी भूमि तुझे तेरे धर्म के अधिकारी करने के लिये नहीं देता; क्योंकि तू हठीले प्रजा है।”

दूसरे शब्दों में, मूसा कह रहा था, “परमेश्वर ने उन लोगों को तुम्हारे धर्म के कारण उनके देश से नहीं निकाला। उसने ऐसा इसलिए किया क्योंकि उसने इसे करने का वादा किया था।

वह इब्राहीम, इसहाक और याकूब से सहमत था।” अब लोगों ने उसे इससे दूर रखने के लिए हर संभव प्रयास किया। उन्होंने हर तरह से वाचा तोड़ी, लेकिन परमेश्वर ने उनके पापों के लिए बलिदान चढ़ाने के लिए पौरोहित्य की स्थापना की।

उनके पास भरोसा करने के लिए कोई धार्मिकता नहीं थी, इसलिए परमेश्वर ने उन्हें एक रास्ता दिया। वह अधर्मी लोगों के बीच भी वाचा को स्थापित करने के लिए बहुत आगे गया!  

व्यवस्थाविवरण 29:9 कहता है, “इसलिये इस वाचा के वचनों को मानना, और उनका पालन करना, कि जो कुछ तुम करते हो उसमें उन्नति करते रहो।”  इसके अनुसार, हम जो कुछ भी करते हैं उसमें हमें समृद्ध होना चाहिए, लेकिन हमें वाचा के वचनों का पालन करना चाहिए।  

परमेश्वर ने इसी तर्ज पर यहोशू को उसके जीवन की सबसे कठिन परिस्थिति के दौरान निर्देश दिए।

 मूसा मर चुका था और यहोशू को उसके स्थान पर इस्राएल का नेतृत्व संभालना था, जो एक बहुत ही कठिन कार्य था। मूसा… वह व्यक्ति जिसने परमेश्वर से आमने-सामने बात की… वह व्यक्ति जिसने रेगिस्तान के बीच में एक चट्टान से पानी उत्पन्न किया। मूसा समृद्धि में चला! जब उसे पानी की जरूरत पड़ी तो परमेश्वर ने उसे पाने की क्षमता दी। परमेश्वर की शक्ति ने पानी लाया, और वह अनमोल था! 

यह वास्तविक समृद्धि है!  

अब मैं चाहता हूँ कि आप यहोशू की स्थिति की विशिष्टता को समझें। यह वह क्षण है जब प्राकृतिक दुनिया और आध्यात्मिक दुनिया दोनों अधर में लटकी हुई हैं। ये परमेश्वर के लोग हैं; यदि वे असफल होते हैं, तो कोई यीशु नहीं होगा! यदि परमेश्वर उन्हें विफल करता है, तो कोई मोचन नहीं होगा! यीशु, मुक्तिदाता को लाने के लिए परमेश्वर को अपनी वाचा को पृथ्वी पर जीवित रखना चाहिए। उसके पास एक आदमी था जो उसकी बात सुनेगा।  

इतिहास के इस महत्वपूर्ण समय में, परमेश्वर ने विस्मयादिबोधक बिंदु कहाँ रखा है?

वह क्या महत्वपूर्ण मानता है? वह यहोशू से बातें करता है, और कहता है, कि  तेरे जीवन भर कोई तेरे साम्हने खड़ा न हो सकेगा; जैसा मैं मूसा के संग रहा, वैसा ही तेरे संग भी रहूंगा; मैं तुझे धोखा न दूंगा, और न त्यागूंगा।लोगोंके लिथे बाँटना जिस देश को देने की मैं ने उनके पुरखाओं से शपय खाकर खाई या, उसका निज भाग केवल तू बलवन्त और अति साहसी हो, कि उस सारी व्यवस्था के अनुसार करने का पालन करना, जिसकी आज्ञा मेरे दास मूसा ने तुझे दी है; उस से न तो दहिनी ओर मुड़ें, और न बाईं ओर, कि जहां कहीं तू जाए वहां उन्नति कर सके।

व्यवस्था की यह पुस्तक तेरे मुंह से न निकलेगी; परन्तु उस में रात दिन ध्यान करना, कि जो कुछ उस में लिखा है उसके अनुसार करने के लिये चौकस रहना; क्योंकि तब तू अपने मार्ग को समृद्ध करेगा, और तब तू सफल होगा, जहाँ कहीं तू जाता है तेरा परमेश्वर यहोवा तेरे संग रहता है (यहोशू 1:5-9)।  

पद 5 में, हम एक बार फिर धन और समृद्धि की कुंजी देखते हैं: “मैं तेरे संग रहूंगा: मैं तुझे धोखा न दूंगा, और न ही तुझे त्यागूंगा।” 

यहाँ परमेश्वर स्वयं को मनुष्य के सामने प्रकट कर रहा है! मत्ती 28:20 में यीशु ने यही बात कही, “देख, मैं जगत के अन्त तक सदैव तेरे संग हूं।” उसने यूहन्ना 14:16 में कहा कि वह पवित्र आत्मा को हमारे दिलासा देनेवाले के रूप में भेजेगा कि वह सदा हमारे साथ रहे। समृद्धि हमारे साथ चलने और स्वयं को हमारे सामने प्रकट करने वाले परमेश्वर का एक उपोत्पाद है।  

परमेश्वर यहोशू को बहुत सी बातें बता सकता था—हर हफ्ते इतने दिन उपवास करना या हर दिन इतने घंटे प्रार्थना करना। वह कह सकता था, “यदि तुम मुझ पर विश्वास करते हो, तो मैं महान चमत्कार करूंगा,” या “यदि तुम मुझ पर विश्वास करते हो, तो दिन में बादल और रात में आग का खंभा होगा।” वह कह सकता था, “जब तुम किसी दूसरे लाल समुद्र में आओगे या जब तुम्हारे शत्रु तुम्हारे विरुद्ध आएंगे, तब तुम्हें चिंता करने की आवश्यकता नहीं होगी।”

लेकिन उन्होंने ऐसा कुछ नहीं कहा। यहोशू के जीवन में इस महत्वपूर्ण समय पर – छुटकारे की योजना में इस महत्वपूर्ण समय पर – परमेश्वर ने कहा, “व्यवस्था की यह पुस्तक तेरे मुंह से न निकलेगी; परन्तु उस में रात दिन ध्यान करना, कि जो कुछ उस में लिखा है उसके अनुसार करने की चौकसी करना; क्योंकि तब तू अपके मार्ग को सुफल करेगा, और  तू सफल होगा।” एक अन्य अनुवाद कहता है, “तुम जीवन के सभी मामलों में बुद्धिमानी से व्यवहार करो।”  

परमेश्वर ने सबसे पहले क्या रखा? उनके वचन में ध्यान।  

अपने मुंह के एक शब्द के साथ, उसने भजन संहिता 138:2 की स्थापना की, जो कहता है कि उसने अपने वचन को अपने नाम के ऊपर भी बढ़ाया है। आप देखिए, जब आप अपने जीवन में परमेश्वर के वचन को सबसे पहले रखते हैं और यह आपका अंतिम अधिकार बन जाता है, तो समृद्धि का परिणाम होता है। यह अवश्यम्भावी है क्योंकि परमेश्वर का वचन जीवन की हर स्थिति को कवर करता है। शब्द अंतिम प्राधिकरण है।  

ये सभी वचन जो परमेश्वर ने यहोशू से कहे थे, उनका कम प्रयोग किया गया होता यदि वह दिन-रात वचन की अवज्ञा करता और उस पर मनन नहीं करता। केवल वचन में ध्यान करने से ही आप यह देख पाएंगे कि वहां जो लिखा है उसे कैसे करना है। नीतिवचन 23:7 हमें बताता है कि जैसा मनुष्य अपने मन में सोचता है, वैसा ही वह करता है।

परमेश्वर के वचन को लेना सीखें और उस पर मनन करें।

फिर जब दुनिया कहती है, “कोई रास्ता नहीं है,” तो आप बस मुस्कुरा सकते हैं और कह सकते हैं, “अरे हाँ, एक रास्ता है। उसका नाम यीशु है।”  

परमेश्वर ने कहा, “यदि तुम मेरे वचन पर ध्यान दोगे, तो तुम समृद्ध होओगे और सफलता पाओगे।” में बुद्धिमानी से व्यवहार करेंगे सभी  मामलों यदि आप ऐसा करते हैं, तो समृद्धि में कोई समस्या नहीं होगी।

इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप कौन हैं या आप किस स्थिति में हैं, यदि आप जीवन के सभी मामलों में समझदारी से व्यवहार कर सकते हैं, तो आप विजयी होंगे। पौलुस और सीलास ने यह साबित किया जब वे जेल में थे। उन्होंने आधी रात को परमेश्वर की स्तुति की, और जाहिर है, उन्होंने उस मामले में समझदारी से काम लिया क्योंकि जेल के दरवाजे खुल गए थे!  

एक अच्छा व्यवसायी जानता है कि पैसा कमाना उसकी सबसे बड़ी समस्या नहीं है।

कोई भी व्यक्ति पैसा कमा सकता है यदि वह जानता है कि बुद्धिमानी से कैसे व्यवहार किया जाए। वह 50 सेंट ले सकता है और इसे एक भाग्य में बदल सकता है यदि वह जानता है कि इसके साथ क्या करना है। यदि आप जानते हैं कि अपने बटुए या बिलफोल्ड में पैसे के साथ बुद्धिमानी से कैसे व्यवहार करना है – यदि आप जानते हैं कि क्या करना है, कहाँ जाना है, किसके साथ बात करनी है, और क्या कहना है – सफलता अवश्यंभावी होगी।  

वास्तव में सफल व्यक्ति प्रभु को जानता है, उसने परमेश्वर पर विश्वास करना सीख लिया है और इसे दूसरों के साथ साझा कर सकता है।

 यह व्यक्ति परमेश्वर के लिए, अपने लिए, अपने आसपास के लोगों के लिए मूल्यवान है, और वह शैतान के लिए खतरनाक है।  

याद रखें, यह ईश्वर है जो धन प्राप्त करने की शक्ति देता है ताकि उसकी वाचा स्थापित हो सके। परमेश्वर और उसका वचन एक हैं। जब आप परमेश्वर के वचन की उपस्थिति में होते हैं, तो आप स्वयं परमेश्वर की उपस्थिति में होते हैं।

Optimal Health - 20200812 144557 - Optimal Health - Health Is True Wealth.
परमेश्वर की स्थापित वाचा  और स्थापित हृदय (The Established Covenant  and the Established Heart)  

यूहन्ना 1:1 कहता है, “आदि में वचन था, और वचन परमेश्वर के साथ था, और वचन परमेश्वर था।” ऐसा कोई तरीका नहीं है जिससे आप परमेश्वर को उसके वचन के बिना अपने जीवन में प्रकट कर सकें।

अब परमेश्वर की कृपा की विशेष अभिव्यक्तियाँ हैं, लेकिन ईसाई को इन पर नहीं रहना चाहिए। हमें उसके वचन से परमेश्वर की उपस्थिति की निरंतर अभिव्यक्ति को जीना है।

आप उसके वचन का पालन करते हैं, और वह स्वयं को आप पर प्रकट करेगा। मुझे यह जानने के अलावा और कुछ भी रोमांचित नहीं करता है कि अगर मैं किसी समस्या के साथ आधी रात को जागता हूं, तो मुझे बस अपनी बाइबल तक पहुंचना है। यह ईश्वर की शक्ति का प्रकटीकरण है। यह हर बार किसी के लिए भी काम करेगा जो इसका इस्तेमाल करेगा! 

जब आप यह जान लेते हैं कि ईश्वर की यह अभिव्यक्ति हर समय उपलब्ध है और इसके प्रकाश में चलना शुरू करते हैं, तो आप समृद्ध हो जाएंगे।  

हमने वचन से देखा है कि परमेश्वर ने अपनी वाचा को पृथ्वी पर स्थापित किया है, परन्तु नई वाचा के बारे में क्या? वचन कहता है कि यह बेहतर वादों पर आधारित धार्मिकता की वाचा है। जैसा कि हमने व्यवस्थाविवरण में पढ़ा है, परमेश्वर ने इस्राएल को कठोर और अधर्मी कहा।

नई वाचा के अनुसार, हमें यीशु मसीह में परमेश्वर की धार्मिकता बनाया गया है। परमेश्वर हमें हठीले लोगों के रूप में नहीं देखता है। (वह हमें कई बार एक अशिक्षित लोगों के रूप में देखता है क्योंकि हम वाचा को नहीं जानते हैं, लेकिन हम कठोर और अधर्मी नहीं हैं।) वह हमें मेम्ने के खून के माध्यम से देखता है: बेदाग, निर्दोष, निंदा से परे। इस्राएल परमेश्वर का दास था; हम परमेश्वर के पुत्र हैं (देखें गलातियों 4:7)। हमें उसके बच्चों और परमेश्वर के राज्य के नागरिकों के रूप में अपने अधिकारों को महसूस करने की आवश्यकता है।  

उदाहरण के लिए, आइए लूका 15 से उड़ाऊ पुत्र के दृष्टान्त को देखें।

कई वर्षों तक हमने इस कहानी को इसके पूर्ण महत्व को समझे बिना पढ़ा है, और समृद्धि के क्षेत्र में इसका एक बहुत ही महत्वपूर्ण अनुप्रयोग है जिसे पूरी तरह से अनदेखा कर दिया गया है।

जब हमने पढ़ा कि उड़ाऊ पुत्र घर आ रहा है, तो हम वहीं रुक गए। हमारा मन उस पर लगा है, लेकिन दूसरे बेटे का क्या? उड़ाऊ पुत्र ने अपनी विरासत ले ली और उसे बर्बाद कर दिया। जब वह घर लौटा, तो उसके पिता ने मोटे बछड़े को मार डाला और खुले हाथों से उसका स्वागत करने के लिए एक बड़ी पार्टी दी। तब दूसरा पुत्र भीतर आया, और जो कुछ हुआ था उसे देखा, और अपने पिता पर क्रोधित हुआ।

उसने कहा, “मैं तुम्हारे साथ रहा, और तुमने मुझे कभी एक बकरी भी नहीं दी।

फिर भी जब वह चला जाता है और अपना पैसा बर्बाद करता है, तो तुम उसके लिए एक बछड़े को मारकर जश्न मनाते हो!” तब उसके पिता ने कहा, “परन्तु, पुत्र, जो कुछ मेरा है वह सब तेरा है।” दूसरे शब्दों में, वह कह रहा था, “आप जब चाहें एक मोटा बछड़ा पा सकते थे। यह आप के अंतर्गत आता है। मुझे खुशी है कि आपका भाई घर आ गया है, लेकिन आप इसे मांगने के लिए ले सकते थे!” आप देखिए, दूसरा बेटा एक बकरी के लिए बस गया होता, जब कि बछड़ा हर समय उसका होता!

उत्तराधिकार दोनों पुत्रों का था; केवल एक ने इसका फायदा उठाया। बड़े बेटे ने अपनी सोच के छोटे होने के कारण बिना सोचे समझे किया। अधिकांश ईसाई अपनी सोच की कमी के कारण यीशु मसीह में अपनी पूर्ण विरासत से खुद को धोखा दे रहे हैं। अपनी वाचा को न जानकर, वे सर्वशक्तिमान परमेश्वर की सन्तान के रूप में अपने अधिकारों को नहीं जानते हैं!  

Optimal Health - 4362891137ef1954bd831ba202364124 - Optimal Health - Health Is True Wealth.
परमेश्वर की स्थापित वाचा  और स्थापित हृदय (The Established Covenant  and the Established Heart)  

गरीबी बनाम समृद्धि  

व्यवस्थाविवरण 28 में, हम उन आशीषों को देखते हैं जो परमेश्वर के वचन का पालन करने से आती हैं। उदाहरण के लिए, छंद 11-12 में कहा गया है,  “और यहोवा तुझ को तेरे शरीर के फल, और तेरे पशुओं के फल, और तेरी भूमि की उपज में, उस देश में, जिसके लिए यहोवा ने शपथ खाई है, बहुतायत से करेगा। तुझे देने को यहोवा अपना उत्तम भण्डार तेरे लिये खोलेगा।” तुम देखो, परमेश्वर ने इब्राहीम और उसके वंश को समृद्धि के साथ आशीर्वाद दिया क्योंकि उसने वाचा में इसकी शपथ ली थी। जय परमेश्वर !  

फिर पद 15 से आरम्भ करते हुए, हम व्यवस्था के श्राप की रूपरेखा पाते हैं। “परन्तु यदि तू अपके परमेश्वर यहोवा की बात न माने, और उसकी सब आज्ञाओं और उसकी मूरतों का पालन करने को न माने, तो कि ये सब शाप तुझ पर आ पड़ेंगे, और तुझ पर आ पड़ेंगे।”

यह अभिशाप जीवन के हर क्षेत्र में पूर्ण गरीबी का मंत्र है।

गरीबी परमेश्वर का आशीर्वाद नहीं है। यह विश्वास करने के लिए कि यह है, अपने साथ किसी प्रकार की विनम्रता रखता है, यह विश्वास करना है कि परमेश्वर श्राप का लेखक है, और वह नहीं है! 

परमेश्वर आशीर्वाद के लेखक हैं।  

परमेश्वर ने आदम को शाप नहीं दिया; उसने उसके लिए एक बगीचा बनाया और उसे वह सब कुछ प्रदान किया जिसकी उसे कभी आवश्यकता हो सकती है। शैतान वह है जो शाप में लाया। जब आदम शैतान के साथ मिला, तो पृथ्वी पर सब कुछ शापित हो गया।

तब परमेश्वर ने इब्राहीम के साथ जो वाचा बाँधी थी, उसने एक छत्र-संरक्षण, इस श्राप से बचने का एक मार्ग प्रदान किया। जब तक इब्राहीम प्रभु के साथ चलता रहा और उसका वचन सुनता रहा, वह सुरक्षित रहा; लेकिन जिस क्षण उसने प्रभु की आवाज की अवहेलना की, अपनी छतरी पर भरोसा किया और एक बार फिर शैतान के प्रति संवेदनशील हो गया। परमेश्वर के साथ मिलना इतना कठिन क्यों लगता है?

Optimal Health - 20200812 151408 - Optimal Health - Health Is True Wealth.
परमेश्वर की स्थापित वाचा  और स्थापित हृदय (The Established Covenant  and the Established Heart)  

वह सही और गलत के बीच के अंतर को जानता है और उन बुनियादी कानूनों को जानता है जिन पर इन मूल्यों का निर्माण किया जाता है। उसके पास जीवन को नियंत्रित करने वाले नियमों के बारे में समझ और ज्ञान है। उसने एक निश्चित तरीके से कार्य करने के लिए अपनी प्रणाली की स्थापना की, फिर शैतान ने हमें यह विश्वास करने के लिए धोखा दिया कि विपरीत सत्य था।

 परमेश्वर हमसे असहमत नहीं हैं। 

वह शैतान से सहमत होने से इंकार कर रहा है।

यह हव्वा (ईव) के साथ अदन की वाटिका में हुआ। परमेश्वर ने कहा है, “यदि तुम फल खाओगे, तो निश्चय मरोगे।” तब शैतान साथ आया और उसे यह कहकर आश्वस्त किया कि यह सच नहीं है, “क्या ऐसा हो सकता है कि परमेश्वर ने कहा है?” उसने उसे विश्वास दिलाया कि परमेश्वर का वचन सत्य नहीं है, इसलिए उसने परमेश्वर की आज्ञा का उल्लंघन किया और आदम ने उसका अनुसरण किया। व्यवस्था ने काम किया और उसी क्षण, वे आध्यात्मिक रूप से मर गए। वर्षों बाद शारीरिक मृत्यु होनी थी।  

आदम के पतन के समय से, आदमी शापित था।

वर्षों से उन्हें धोखे के तहत प्रशिक्षित किया गया था और इससे बचने के लिए आवश्यक आध्यात्मिक ज्ञान और समझ नहीं थी। कई पीढ़ियाँ बीत जाने के बाद, आदम की अपने बेटों को दी गई शिक्षाओं को भुला दिया गया था, और कोई भी परमेश्वर या आध्यात्मिक कानून के बारे में कुछ नहीं जानता था।

परमेश्वर ने जो बातें कही हैं उनमें से अधिकांश मानव मन के लिए विदेशी थीं। यीशु ने कहा, “दे दो और यह तुम्हें फिर दिया जाएगा,” लेकिन यह हमारी सोच के विपरीत है। 

हम कहते हैं, “यह बेवकूफी है! इसका कोई मतलब नहीं है, कोई भी जानता है कि अगर आप इसे दे देते हैं, तो आपके पास और नहीं रहेगा!” लेकिन परमेश्वर देने के नियम के मूल सिद्धांत को जानते हैं। 

शैतान भी इसे जानता है, लेकिन वह आपको अज्ञानी, कमजोर और शक्तिहीन रखने के लिए आपको धोखा देने की कोशिश करेगा ताकि वह आप पर शासन कर सके।  

जब परमेश्वर ने अब्राहम के साथ अपनी वाचा बाँधी, तो अधिकांश लोग समझ नहीं पाए। जब तक उन्होंने परमेश्वर की आज्ञा मानी, वे धन्य थे। हालाँकि, जब वे अपनी समझ पर भरोसा करते, तो वे फिर से श्राप के अधीन हो जाते। परमेश्वर, “यदि तुम मेरे वचन का पालन नहीं करोगे और जो मैं तुमसे कहता हूँ वह नहीं करेंगे, तो मैं तुम्हारे लिए कुछ नहीं कर सकता। मैं आपकी अपनी मर्जी से अधिकार नहीं छीन सकता।”  

आइए एक पल के लिए रुकें और विचार करें कि जब परमेश्वर ने अब्राहम, इसहाक और याकूब के साथ अपनी वाचा बाँधी, तो उसने उनकी और उनके वंशजों की देखभाल करने का वादा किया।

वे आज़ाद आदमी थे!  नतीजतन, मिस्र के शासन के तहत कोड़े मारने वाला प्रत्येक यहूदी दास एक स्वतंत्र व्यक्ति था! केवल एक ही समस्या थी, वे यह नहीं जानते थे! इसलिए, परमेश्वर ने मूसा को बुलाया और उसे उस वाचा को लिखने की क्षमता और अधिकार दिया जिसे परमेश्वर ने अब्राहम के साथ बनाया था।

इस तरह, लोगों को पता चल जाएगा कि क्या किया गया था और किस पर सहमति बनी थी। मूसा ने वाचा के नाम पर आगे बढ़कर फिरौन के सामने परमेश्वर की शक्ति से चमत्कार किए, और परमेश्वर के लोगों को बंधन से बाहर निकाला। वे 400 साल पहले मुक्त हो सकते थे, लेकिन वे अपनी वाचा को नहीं जानते थे!

परमेश्वर ने अपने अंतरतम विचारों और इच्छाओं को, अपनी सिद्ध इच्छा को, एक अनुबंध के रूप में, और उन्हें बाइबल में रखा है। वे हमें यीशु के नाम में परमेश्वर की आत्मा के द्वारा शैतान के अधिकार से मुक्त करने के लिए उपलब्ध हैं। यीशु ने कहा, “यदि तुम मेरे वचन पर बने रहोगे, तो सचमुच मेरे चेले ठहरोगे; और तुम सत्य को जानोगे, और सत्य तुम्हें स्वतंत्र करेगा” (यूहन्ना 8:31-32)।  

Optimal Health - 20200812 145454 - Optimal Health - Health Is True Wealth.
परमेश्वर की स्थापित वाचा  और स्थापित हृदय (The Established Covenant  and the Established Heart)  

हमने वचन से देखा है कि परमेश्वर की वाचा स्थापित की गई है।

हमने देखा है कि समृद्धि इब्राहीम का आशीर्वाद है और गरीबी कानून के अभिशाप के अधीन है। नई वाचा के अधीन मसीह की देह के सदस्यों के रूप में यह हमें कैसे प्रभावित करता है?  

गलातियों 3:13-14, 29 कहता है, “मसीह ने हमें व्यवस्था के श्राप से छुड़ाया, और हमारे लिये शाप को सहा ; क्योंकि लिखा है, शापित है वह सब जो वृक्ष पर लटकता है: कि इब्राहीम की आशीष यीशु मसीह के द्वारा अन्यजातियों पर चढ़ाई करो; कि हम विश्वास के द्वारा आत्मा की प्रतिज्ञा को ग्रहण करें। और यदि हम मसीह के हैं, तो इब्राहीम के वंश और प्रतिज्ञा के अनुसार वारिस भी हो।”  

यीशु ने हमारी ओर से व्यवस्था के श्राप को सहन किया।

उसने शैतान को हराया और उसकी शक्ति छीन ली। नतीजतन, आपके लिए कानून के अभिशाप के तहत जीने का कोई कारण नहीं है, आपके लिए किसी भी तरह की गरीबी में रहने का कोई कारण नहीं है। 

बहुत से नए जन्मे विश्वासी आध्यात्मिक गरीबी और आध्यात्मिक कुपोषण में जीते हैं।

वे भ्रूण में शक्तिशाली, आध्यात्मिक सुपरमैन हैं लेकिन एक औंस बराबर बढ़ने में नहीं क्योंकि उन्हें ठीक से खिलाया नहीं जा रहा है। आध्यात्मिक विकास केवल परमेश्वर के वचन को खिलाने और उस पर कार्य करने से होता है। “वचन के सच्चे दूध की लालसा करो, कि उसके द्वारा बढ़ते जाओ” (1 पतरस 2:2)।  

चूँकि परमेश्वर की वाचा स्थापित हो चुकी है और समृद्धि इस वाचा का एक प्रावधान है, आपको यह महसूस करने की आवश्यकता है कि समृद्धि अब आपकी है! कोई कह सकता है, “परमेश्वर भविष्य में देख सकता है। वह जानता है कि अगर मेरे पास पैसा होता, तो मैं इसे नासमझी में खर्च करता या उसके साथ बदसूरत व्यवहार करता। इसलिए मेरे पास कोई नहीं है।” ठीक है, तुम शायद सही हो!

यह तथ्य कि आपको परमेश्वर के वचन से अधिक इस पर विश्वास है और एक ईसाई के रूप में आपकी योग्यता आपको लूट रही है।

शैतान ने तुम्हें वह झूठ बेचा है, परमेश्वर ने नहीं। 

आपको महसूस करना चाहिए,  कि आपके लिए समृद्ध होना परमेश्वर की इच्छा है (देखें 3 यूहन्ना 2)। 

यह आपके लिए उपलब्ध है, और स्पष्ट रूप से, इसका हिस्सा न लेना आपके लिए मूर्खता होगी! जब एक व्यक्ति को पता चलता है कि समृद्धि उसी की है, परमेश्वर का वचन लेता है, समृद्ध हो जाता है, और फिर उसे दे देता है, तो वह मूल्यवान होता है। प्रेरित पौलुस ने देने के आध्यात्मिक नियम को सीखा और इसे कुशलता से संचालित किया।

वह इतना मजबूत था कि प्रभु में समृद्धि में विश्वास कर सकता था, उसे प्राप्त कर सकता था, फिर उसे दे सकता था। यह एक अमूल्य बलिदान है; इसका मतलब कुछ है।  

परमेश्वर का वचन कहता है, “दे दो, तो यह तुम्हें फिर दिया जाएगा।” जैसे ही आप इस कानून को संचालित करना शुरू करेंगे, आप देखेंगे कि आप इससे छुटकारा नहीं पा सकते हैं! जैसा कि आप देते हैं, यह आपको उतनी ही तेजी से लौटाया जाएगा जितना आप इसे देना जारी रख सकते हैं!

वचन में पढ़ते हैं, परमेश्वर हमें अपनी वाचा को स्थापित करने के लिए धन प्राप्त करने की शक्ति देता है।

वह ऐसा करता है क्योंकि उसने कहा था कि वह करेगा! जब आप पूरी तरह से महसूस करते हैं कि आपके पास वह है और वह आपके पास है, कि आप सब मसीह के माध्यम से जैसे ही आप इन बातों को समझना शुरू करेंगे, आप देने से नहीं डरेंगे। आप इससे मुक्त होने से नहीं डरेंगे। जब आप देते हैं, तो आप प्राप्त करेंगे और देने के लिए और भी अधिक, एक निरंतर प्रवाह! प्रभु कि महिमा होवे। 

स्थापित हृदय  

परमेश्वर ने पृथ्वी पर अपनी वाचा स्थापित की है, लेकिन केवल यह जानना पर्याप्त नहीं है। वाचा के किसी भी मूल्य के होने के लिए, हमें उसमें अपने हृदय स्थापित करने होंगे। भजन 112 स्थापित हृदय का एक उत्तम वर्णन है। यह समृद्ध व्यक्ति का वर्णन करता है और उसकी समृद्धि के बारे में जानकारी देता है। आइए इसकी बारीकी से जांच करें।  

“प्रभु की स्तुति करो। क्या ही धन्य है वह मनुष्य जो यहोवा का भय मानता है, और उसकी आज्ञाओं से अति प्रसन्न होता है।” परमेश्वर किस प्रकार के मनुष्य को आशीष देता है? वह मनुष्य जो यहोवा का भय मानता और उसकी आज्ञाओं से बहुत प्रसन्न होता है, जो परमेश्वर की स्थापित वाचा से है।  

“उसका वंश पृय्वी पर प्रबल होगा; सीधे लोगों की पीढ़ी आशीष पाएगी। उसके घर में धन-दौलत और उसका धर्म सदा बना रहेगा।” इसे कोई नहीं छीन सकता! जब ईश्वर आपको कुछ देता है, तो आपको उसे खोने का कोई डर नहीं होना चाहिए। परमेश्वर ने आपको अपना वचन दिया है। आप इस पर मजबूती से खड़े हो सकते हैं क्योंकि यह आपका है!  

“सीधे लोगों के लिये अन्धकार में उजियाला उदय होता है:

वह अनुग्रहकारी, करुणा से परिपूर्ण और धर्मी है। एक अच्छा आदमी एहसान दिखाता है, और उधार देता है: वह अपने मामलों को विवेक [या अच्छे निर्णय] के साथ मार्गदर्शन करेगा। निस्सन्देह वह सदा के लिये न टलेगा; धर्मी सदा स्मरण में रहेंगे। वह बुरी खबर से नहीं डरता: उसका दिल स्थिर है, यहोवा पर भरोसा है। उसका हृदय स्थापित है।”

परमेश्वर ने अपनी वाचा को स्थापित किया है, और इस व्यक्ति ने वाचा में अपना हृदय स्थापित किया है। उसका हृदय स्थिर है, प्रभु पर भरोसा है। आप उसे ईंधन की कमी, उच्च ब्याज दरों, या किसी अन्य चीज़ के बारे में बुरी ख़बरों से नहीं डरा सकते।

वह पूरी तरह से और पूरी तरह से प्रभु पर भरोसा करता है और परमेश्वर के साथ अपनी वाचा के द्वारा उसे जो चाहिए होता है उसे प्राप्त करता है। जब आप स्थापित होते हैं और परमेश्वर की वाचा में कार्य करते हैं, तो शैतान आपको घेर नहीं सकता।  

आपको यह महसूस करना चाहिए कि समृद्धि आपके लिए ईश्वर की इच्छा है।  

उसकी इच्छा का ज्ञान परिणाम लाता है। एक बार जब आप निश्चित रूप से जान जाते हैं कि कुछ ईश्वर की इच्छा है, तो आपको इसके बिना नहीं रहना चाहिए। यदि आप नहीं जानते कि उपचार आपका है, तो आप संकोच करेंगे, सोचेंगे कि क्या यह ईश्वर की इच्छा है और इसे अपने जीवन में कभी स्थापित न करें।

आप वास्तव में अपने लिए कभी भी इस पर विश्वास नहीं करेंगे। बहुत से लोग अन्य विश्वासियों की प्रार्थनाओं के माध्यम से ठीक हो गए हैं और अभी भी उनके स्वास्थ्य में कठिनाई है, भले ही परमेश्वर ने उन्हें एक दर्जन बार चंगा किया हो।

हालाँकि, एक बार जब वे वचन में देखते हैं कि चंगाई उन्हीं की है, कि यीशु ने कलवारी में खरीदा और उसके लिए भुगतान किया, कि उसने धारियों को जन्म दिया, तो वे फिर से बीमारी को स्वीकार नहीं करेंगे।

क्यों? क्योंकि वचन उनके हृदयों में स्थापित हो जाता है और उनके भीतर एक शक्ति का उदय होता है—विश्वास की शक्ति।

यह समृद्धि में भी सच है। गरीबी कानून के श्राप के अधीन है, और यीशु मसीह ने हमें शाप से छुड़ाया है और हमें बहुतायत में स्थापित किया है, न कि केवल एक आवश्यकता!  

एक पल के लिए रुकें और सोचें।? आपका हृदय किसमें स्थापित है, पाप या धार्मिकता? मृत्यु या प्रचुर जीवन? बीमारी या उपचार और दिव्य स्वास्थ्य? गरीबी या समृद्धि? आस्था या भय?  

अपने मन को स्थिर करने का एक ही मार्ग है, कि वह दृढ़ और अचल, और यहोवा पर भरोसा रखने वाला है, वह परमेश्वर का वचन है। वचन के पास जाओ और उस पर भोजन करो: इसे पढ़ो, इसका अध्ययन करो, इस पर मनन करो। तब तुम्हारा हृदय स्थिर, और प्रभु पर भरोसा रखने वाला होगा, और भजन संहिता 112 मसीह यीशु में तुम्हारे जीवन का विवरण होगा।  

परमेश्वर की बुद्धि  

स्थापित हृदय परमेश्वर के वचन में ध्यान के माध्यम से आता है। हम ने यहोशू की पुस्तक से देखा है कि यदि कोई व्यक्ति दिन-रात वचन पर ध्यान करेगा और वह सब करेगा जो उसमें लिखा है, तो वह समृद्ध होगा और अपने मामलों में बुद्धिमानी से काम करेगा। वचन में इस प्रकार के ध्यान के माध्यम से आप पाएंगे कि वित्त के बारे में परमेश्वर का क्या कहना है।  

नीतिवचन 3:13-14 कहता है, “क्या ही धन्य है वह मनुष्य जो बुद्धि को पाता है, और वह मनुष्य जो समझ प्राप्त करता है। क्योंकि उसका माल चान्दी के व्यापार से, और उसका लाभ चोखे सोने से भी उत्तम है।”

दूसरे शब्दों में, बुद्धि और समझ का बाजार सोने और चान्दी से उत्तम है।

जिसका मोल अधिक है; और अधिक प्रदान करेगा। सुलैमान ने यह सिद्ध किया। दूर देशों के लोगों ने सुलैमान की बुद्धि के बारे में सुना और उसके कारण उसके लिए धन और धन लाए।  

छंद 15-16, “वह [बुद्धि] माणिकों से भी अधिक कीमती है: और जो कुछ तुम चाह सकते हो, उसकी तुलना उस से न की जाए। दिनों की लम्बाई उसके दाहिने हाथ में है; और उसका बायाँ हाथ धन और प्रतिष्ठा है।” बुद्धि में धन और मान-सम्मान होता है। क्या ज्ञान हमारे पास है? फिर से, हम स्थापित वाचा पर जाते हैं। आइए देखें कि वर्ड का इसके बारे में क्या कहना है।  

पहला कुरिन्थियों 1:30 बहुत स्पष्ट रूप से कहता है कि यीशु हमारे लिए ज्ञान के साथ बनाया गया है।

याकूब 1:5-6 कहता है, “यदि तुम में से किसी को बुद्धि की घटी हो, तो परमेश्वर से मांगे, जो सब मनुष्यों को उदारता से देता है, और उलाहना नहीं देता; और उसे दिया जाएगा।

परन्तु वह विश्वास से मांगे, और कोई बात डगमगाने न पाए।” पौलुस ने कुलुस्सियों 1:9-10 में प्रार्थना की “कि तुम सब प्रकार की बुद्धि  और आत्मिक समझ सहित उसकी इच्छा के पहिचान से परिपूर्ण होते जाओ; कि तुम सब प्रकार के भले कामों में फलते हुए प्रभु के योग्य बनो।”  हमें फल देना चाहिए और हर प्रयास में सफल होना चाहिए, और भगवान की बुद्धि हमें ऐसा करने में सक्षम बनाती है।  

अब मैं यह मान लेता हूँ कि आप इन सभी क्षेत्रों में प्रार्थना के महत्व को समझते हैं। परमेश्वर के सामने और उसके वचन में समय बिताएं। उसे अपनी बुद्धि और अपनी समझ को आप पर प्रकट करने दें।  

आप शायद 2 कुरिन्थियों 5:17 से परिचित हैं: “इसलिये यदि कोई मसीह में है, तो वह नई सृष्टि है: पुरानी बातें जाती रहीं; देखो, सब कुछ नया हो जाता है।”

क्या आप मसीह में हैं? यदि ऐसा है, तो आप कुलुस्सियों 2:2-3 के प्रति वचनबद्ध हैं:  “कि उनके मन को शान्ति मिले, और वे प्रेम से बंधे रहें, और समझ की सारी दौलत, और परमेश्वर के भेद की पहचान, और पिता और मसीह की; जिसमें बुद्धि और ज्ञान के सारे भण्डार छिपे हैं।”

हम नीतिवचन से पहले पढ़ते हैं कि ज्ञान के एक हाथ में धन और सम्मान होता है और दूसरे हाथ में दिनों की लंबाई होती है। ये कुछ खज़ानेसभी छिपे हुए हैं मसीह में बुद्धि मसीह में है। आप मसीह में हैं। बुद्धि आप में है! यह आप के अंतर्गत आता हूँ! जहां धन है वहां आपका स्वागत है!  

वित्तीय लेन-देन में, वास्तव में बुद्धिमान व्यक्ति, जो परमेश्वर की वाचा में काम कर रहा है, पैसे उधार नहीं लेगा। वह खुद को इस तरह से बाध्य नहीं करेगा।

एक आदमी जो पैसे उधार लेता है, वह दुनिया की वित्त प्रणाली पर निर्भर परमेश्वर  के पास वित्त की एक प्रणाली है जो आपको वह सब कुछ प्रदान करेगी जो आपको चाहिए।

पैसे उधार लेना कोई पाप नहीं है, लेकिन एक बेहतर तरीका है। इसका इस्तेमाल क्यों नहीं करते? एक उच्च जीवन है। इसके लिए पहुंचें!  

यह एक बहुत ही कठिन क्षेत्र है जहां व्यवसायियों का संबंध है, लेकिन परमेश्वर वह सब कुछ प्रदान कर सकते हैं जो कोई भी व्यवसायी अपने दिल या दिमाग में कर सकता है।

परमेश्वर दूर है! यह कुछ ऐसा है जिसे आप आध्यात्मिक रूप से विकसित करते हैं। यदि आप अपने व्यवसाय को संचालित करने के लिए हजारों डॉलर के लिए परमेश्वर पर विश्वास करना चाहते हैं, तो आपको अपनी अगली शर्ट और टाई के लिए उस पर विश्वास करके शुरुआत करनी होगी।

जैसा कि आप करते हैं, आप एक ऐसी स्थिति में विकसित होंगे जहां आप बड़ी मात्रा में धन प्रदान करने के लिए उस पर भरोसा कर सकते हैं। परमेश्वर की बुद्धि इन बातों को होने देगी, और यह केवल वचन में समय बिताने से ही सामने आती है।  

मान लीजिए हेनरी फोर्ड ऊपर आए, आपको एक किताब दी, और कहा, “इस किताब में वह सब रहस्य है जो मैंने ऑटोमोबाइल उद्योग, निर्माण व्यवसाय और शेयर बाजार में सीखा है।

यदि आप इसे हर दिन एक घंटा पढ़ेंगे और इसका ध्यान करेंगे तो इसे पूरी तरह से उत्पन्न करने के लिए वर्षों से आजमाया और सिद्ध किया गया है। ” हेनरी फोर्ड को मिली सफलता के लिए क्या आप एक घंटे की नींद का व्यापार करेंगे? यह और बहुत कुछ आपके लिए परमेश्वर के वचन को पढ़ने और मनन करने के द्वारा उपलब्ध है। इसके लिए खुद को प्रतिबद्ध करें।

परमेश्वर  के सामने अपना मन और दिल बनाओ।  

यह मसीह की देह के प्रत्येक सदस्य की जिम्मेदारी है कि वह उस बहुतायत के लिए परमेश्वर पर विश्वास करे जो वह प्रदान करता है। जब हम में से कोई इस उत्तरदायित्व में कमी करता है, तो उस एक कोशिका के कारण मसीह का पूरा शरीर पीड़ित होता है।

(आप अपनी छोटी उंगली का बहुत अधिक उपयोग नहीं कर सकते हैं, लेकिन अगर यह दर्द होता है, तो आपका पूरा हाथ पीड़ित होता है।) विश्वासियों के रूप में, दुनिया भर में हमारे भाइयों और बहनों की जरूरतों को पूरा करने की हमारी ज़िम्मेदारी है। अगर हमारे पास कमी होगी तो उन्हें इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा।  

अब आप देख सकते हैं कि विश्वास के संचालन का मूल कारण मानव जाति की जरूरतों को पूरा करना है।

हो सकता है कि आपको अपने जीवन में खुश और सफल होने के लिए अधिक धन की आवश्यकता न हो, लेकिन दुनिया भर में लोग भूखे मर रहे हैं । किसी को उनकी व्यवस्था करनी चाहिए।

वे नहीं जानते कि इसे अपने लिए कैसे प्राप्त किया जाए। वहाँ प्रचारक भी भूखे सो रहे हैं! लोगों की सबसे बड़ी शिकायत यह है कि सभी प्रचारक पैसे बर्बाद कर रहे हैं। क्या आप उस शिकायत को रोकने का सबसे अच्छा तरीका जानते हैं? यह उन्हें दें! उनके साथ विवाद में मत पड़ो; उन्हें अपने देने के साथ आशीर्वाद दें और उनके लिए प्रार्थना करें।  

वाचा तुम्हारी है। परमेश्वर का ज्ञान तुम्हारा है। यह आपके भीतर रहता है।

परमेश्वर के वचन पर मनन करके और परमेश्वर को अपनी प्रणाली को आपके साथ साझा करने की अनुमति देकर इसे सतह पर लाएँ। जब आप उसे अपनी आपूर्ति का स्रोत बनने देते हैं, तो आप दुनिया की व्यवस्था से स्वतंत्र रूप से रह सकते हैं। 2 कुरिन्थियों में वचन इतना स्पष्ट रूप से कहता है कि बिना सहायता या समर्थन के आप हर अच्छे काम में उदार बने रह सकते हैं।

यही वह मनोवृत्ति है जिसे परमेश्वर खोज रहा है। यह आदमी असीमित यहोवा की बातों में प्रभु कि महिमा हो !  

जब हमने अपनी पहली टेलीविजन श्रृंखला की योजना शुरू की, तो लोगों ने कहा कि हम इस तरह के ऑपरेशन की जबरदस्त लागत के कारण ऐसा नहीं कर सकते। एक आदमी ने हमें आधी कीमत पर, 750 डॉलर प्रति मिनट के हिसाब से पेशकश की। 60 मिनट के कार्यक्रम के लिए, कुल उत्पादन लागत $45,000 होती।

उस कीमत पर एक साल के लिए साप्ताहिक श्रृंखला के वित्तपोषण का विचार भारी था! पांच कार्यक्रमों की एक श्रृंखला के लिए, उन्होंने हमें $350,000 उद्धृत किया। तब यहोवा ने कहा, “तू मुझे मौका क्यों नहीं देता? आपने इसके बारे में विशेषज्ञों से पूछा है; अब मुझे इसमें शामिल होने दो!” तो मैंने किया। परमेश्वर चले गए- और हमने पांच-भाग श्रृंखला को $ 3,750 के लिए फिल्माया!

प्रेरित पौलुस ने कहा, ” जगत मेरे लिये और मैं जगत के लिये क्रूस पर चढ़ाया गया हूं” (गलातियों 6:14)।  

ऑपरेशन 50 में परमेश्वर की शक्ति में डेटिंग और विश्वास से जीने के लिए आपके लिए पहला और सबसे महत्वपूर्ण नियम यह है: अपने जीवन में परमेश्वर के वचन और उसके अधिकार के लिए 100 प्रतिशत प्रतिबद्ध। जैसा कि परमेश्वर ने यहोशू से कहा था, समृद्ध होने का सबसे अच्छा तरीका वचन में ध्यान करना है। बस इसका अध्ययन मत करो; ध्यान और अध्ययन में अंतर है। 

अध्ययन में वर्ड में खुदाई करना, संदर्भों को एक अनुरूपता में चलाना, आदि शामिल हैं; लेकिन ध्यान कई बार शास्त्र के केवल दो या तीन श्लोकों को ही समेट लेता है। एक श्लोक को कई बार पढ़ें। इसे अपने दिमाग में रोल करें; शांत रहें और 20 या 30 मिनट के लिए परमेश्वर की सुनें। इस तरह मैंने वचन और यीशु की सेवकाई के बारे में बहुत सी बातें सीखी हैं।

परमेश्वर का आत्मा एक वाक्य में आपको एक महीने तक चलने के लिए पर्याप्त कह सकता है! उसे यहाँ हमें परमेश्वर की गूढ़ बातें सिखाने के लिए भेजा गया था (देखें 1 कुरिन्थियों 2:9-10)।  

मैं आपको अपने अनुभव से एक उदाहरण देता हूं।

कुछ समय पहले, मैंने यह पता लगाने का फैसला किया कि परमेश्वर के वचन के अनुसार आर्थिक रूप से कैसे काम करना है। मेरा मानना ​​है कि परमेश्वर के पास एक वित्तीय प्रणाली थी जिसे अधिकांश ईसाई नहीं जानते थे।

यह मेरे पिताजी के जीवन में स्पष्ट था। मेरे माता-पिता ने फैसला किया कि जब उन्होंने शादी की तो वे जीवन भर अपनी आय का दशमांश देंगे। वे वित्त के लिए परमेश्वर में विश्वास करने के बारे में बहुत कम जानते थे। मेरे पिताजी काम करने की उनकी क्षमता पर निर्भर थे। वह एक उत्कृष्ट बिक्री प्रतिनिधि थे और परमेश्वर  ने उनके व्यवसाय को आशीर्वाद दिया।

जब मैंने सेवकाई में प्रवेश किया और परमेश्वर के वचन का अध्ययन करना शुरू किया, तो मैंने पढ़ा कि परमेश्वर ने दशमांश को भण्डार में लाने के लिए कहा था और वह स्वर्ग की खिड़कियां खोल कर देखें (देखें मलाकी 3:10)।

ठीक है, मैं अपने पिताजी को देख सकता था कि यह उनके जीवन में काम नहीं कर रहा था। उसने एक अच्छा जीवनयापन किया, लेकिन उसने उसे मिलने वाले हर पैसे के लिए काम किया! इसलिए मैंने इसका अध्ययन करना शुरू किया और इसके बारे में प्रभु से प्रश्न किया।  

एक चीज जो उसने मुझे दिखाई, वह थी अधिकांश व्यवसायियों में गर्व का तत्व, विशेषकर उन लोगों में जिन्होंने पिताजी की तरह कड़ी मेहनत की।

तुम मेरे पिताजी को कुछ नहीं दे सकते थे; वह दाता था! अगर परमेश्वर उसे कुछ देना चाहते हैं, तो उसे देना होगा या अगर कोई उसे देने की कोशिश करेगा तो पिताजी असहज और शर्मिंदा हो जाएंगे। ये गलत है। परमेश्वर ने मुझे दिखाया कि ज्यादातर व्यवसायी केवल अपने अभिमान के कारण धन प्राप्त करना नहीं जानते हैं।  

मैं एक सभा की तैयारी में एक दिन में कई घंटों के लिए आत्मा में प्रार्थना कर रहा था, अन्य भाषाओं में प्रार्थना कर रहा था और प्रभु ने मेरे दिल से बात की थी। उसने कहा, “मैं चाहता हूं कि आप इन लोगों को दशमांश के बारे में सिखाएं।” मैंने कहा, “क्या मतलब है तुम्हारा?

मैं खुद इसके बारे में कुछ नहीं जानता!” मैं केवल इतना जानता था कि दशमांश का अर्थ 10 प्रतिशत है! मैंने दशमांश दिया क्योंकि यही मुझे घर और चर्च में सिखाया गया था। (दो बातें जो मैं जानता था—बचाओ और दशमांश। हमने प्रत्येक वर्ष 50 सप्ताह के लिए उद्धार और अन्य दो दशमांश पर उपदेश सुना!)

खैर, मैंने प्रार्थना करना जारी रखा और प्रभु दशमांश के विषय को उठाते रहे।

अंत में, मैंने कहा, “यदि आप चाहते हैं कि मैं दशमांश पर पढ़ाऊं, तो आपको पहले मुझे पढ़ाना होगा।” उसने कहा, “मेरे वचन को वहीं मोड़ो जहां मैंने इसे पेश किया था, और मैं तुम्हें दिखाऊंगा।” इसलिए मैंने इन शास्त्रों का ध्यान करना शुरू किया। मैं वचन से पढ़ता, फिर अपनी आंखें बंद करता, और परमेश्वर की सुनता। यदि मेरा मन भटकने लगे, तो मैं वचन पर वापस जाता और उसे बार-बार पढ़ता और उसके बारे में सोचता और परमेश्वर की कुछ और सुनता। आपको परमेश्वर को सुनने के लिए समय बिताने की जरूरत है! आप सफलता के लिए क्या भुगतान करेंगे?  

दुनिया भर में परमेश्वर के साथ संगति में, मैंने कुछ चीजें सीखना शुरू किया। परमेश्वर के पास उसकी प्रणाली छिपी हुई है, वचन में छिपी हुई है, और ध्यान रहस्य की कुंजी है।

 इस तरह शैतान उस पर अपना हाथ नहीं जमा सकता। (बाद में इस पुस्तक में मैं दशमांश देने के इन रहस्यों में से कुछ को आपके साथ साझा करूंगा।)  

एक बार मैं ध्यान कर रहा था कि पतरस अपने मुंह में पैसे लेकर मछली पकड़ रहा है। मुझे एहसास हुआ कि यह एक वित्तीय ऑपरेशन था, इसलिए मैंने यह पता लगाने का फैसला किया कि परमेश्वर को क्या कहना है। मैंने उस कहानी को 50 बार पढ़ा होगा और हर बार एक खाली दीवार में भाग गया!

मैं देख सकता था कि पतरस को कर के पैसे की जरूरत है और यीशु ने उसे मछली पकड़ने जाने के लिए कहा। उसने मछली पकड़ी और उसके मुंह से पैसे निकाले। मैं अपनी सोच के माध्यम से, कभी-कभी घंटों तक, फिर उठकर कहता, “ठीक है,परमेश्वर , मुझे पता है कि यह यहाँ कहीं है, और विश्वास से, मैं इस पर रहस्योद्घाटन का दावा करता हूँ!”

अंत में, प्रार्थना में एक दिन मैंने उठाया मेरी बाइबल खोली, उसे उस मार्ग पर खोल दिया, और उसे एक बार फिर से पढ़ा।

फिर मैंने कुछ ऐसा देखा जो मैंने बार-बार पढ़ा था, के मुंह से रुपया निकाल ले, पहली  मछली पतरस एक मछली पकड़ने जा रहा था! तब यहोवा ने मेरे मन की बात कह कर कहा, हे पुत्र, मुझे धन के लिये मत बान्धो। मैं मछली को वैसे ही संभाल सकता हूं जैसे मैं पैसे को संभाल सकता हूं। ” मैंने देखा कि मैं क्या खो रहा था! मैं एक मछली पर ध्यान केंद्रित कर रहा था। अब यदि मैं पतरस के स्थान पर होता, तो मछली के मुंह से पैसे निकाल देता, कर चुकाने के लिए दौड़ता, और तब मुझे एहसास होता कि मेरे पास खाने के लिए कुछ नहीं है।

मैं इतना अदूरदर्शी होता कि मैं मछली को वापस फेंक देता और बाकी का कैच छूट जाता। अगर पहली मछली थी, तो दूसरी होनी चाहिए, और इसी तरह। पीटर एक व्यावसायिक मछुआरा था और जानता था कि उन मछलियों की मार्केटिंग कैसे की जाती है। यीशु ने अपनी नाव फिर से लाद दी। मैं पैसे का कुछ हिस्सा खाने के लिए खर्च कर देता और फिर भी अपने करों का भुगतान नहीं कर पाता।

मैंने सोचा, “मैं एक ऑटोमोबाइल खरीदने के लिए पैसे के लिए विश्वास कर रहा था जब मुझे ऑटोमोबाइल के लिए परमेश्वर पर ही विश्वास करना चाहिए था!”

परमेश्वर ने कहा, “यह सही है। आपने मुझे पैसे के उस छोटे से चैनल से बांध दिया है।” फिर उसने कुछ ऐसा कहा जिसे मैं कभी नहीं भूल सकता, “बेटा, अगर मैं तुम्हें उसके गले में पैसे के बैग के साथ एक गाय भेज दूं, तो भलाई के लिए, उसे घर भेजने से पहले उससे दूध ले लो !” परमेश्वर की जबरदस्त भावना है हास्य, लेकिन मैं इसे तब तक नहीं जानता था जब तक कि मैंने उसके साथ संगति करना और उसके वचन में ध्यान करना शुरू नहीं किया।  

नीतिवचन, सभोपदेशक, श्रेष्ठगीत में “मन” से सबंधित बाइबल के पद (Bible verses on “mind” in Proverbs, Ecclesiastes, Song of Solomon) भाग 7

https://youtu.be/7D_8lAAgSVo

https://secure.kcm.org.au/

सच्ची समृद्धि: आध्यात्मिक और शारीरिक कानून (Spiritual and Physical Law)    

Featured

सच्ची समृद्धि : आध्यात्मिक और शारीरिक कानून (Spiritual and Physical Law)    

सच्ची समृद्धि : आध्यात्मिक और शारीरिक कानून हमें यह समझना चाहिए कि अस्तित्व में हर एक चीज को नियंत्रित करने वाले कानून हैं। कुछ भी संयोग से नहीं है। आत्मा की दुनिया के कानून हैं, और प्राकृतिक दुनिया के कानून हैं।  आध्यात्मिक और शारीरिक कानून (Spiritual and Physical Law)    

प्रकृति की दुनिया के नियम इस प्राकृतिक, भौतिक दुनिया में हमारी गतिविधियों को नियंत्रित करते हैं। हम तैरते नहीं; हम चलते हैं। यदि गुरुत्वाकर्षण का नियम क्रिया में नहीं होता, तो हम तैरते।

इन भौतिक नियमों में हेरफेर किया जा सकता है।

उदाहरण के लिए, गुरुत्वाकर्षण के नियम का उपयोग हवाई जहाज को उड़ाते समय किया जाता है, लेकिन इसे एक अन्य भौतिक नियम, लिफ्ट के नियम से हटा दिया जाता है।

जब आप लिफ्ट के नियम को लागू करते हैं, तो आप उड़ सकते हैं, लेकिन लिफ्ट के नियम का उपयोग करने के लिए आपको गुरुत्वाकर्षण के नियम के बारे में कुछ पता होना चाहिए।

आप गुरुत्वाकर्षण के नियम को खत्म नहीं करते हैं; आप बस इसे एक उच्च कानून के साथ हटा दें। ये प्राकृतिक, भौतिक नियम हैं, और ये इस प्राकृतिक, भौतिक संसार को नियंत्रित करते हैं।  

हमें यह समझने की आवश्यकता है कि आध्यात्मिक संसार और उसके नियम, भौतिक संसार और उसके नियमों से अधिक शक्तिशाली हैं।

आध्यात्मिक नियम ने भौतिक नियम को जन्म दिया। दुनिया और इसे नियंत्रित करने वाली भौतिक शक्तियाँ विश्वास की शक्ति द्वारा बनाई गई थीं – एक आध्यात्मिक शक्ति। ईश्वर, एक आत्मा, ने सभी पदार्थों को बनाया, और उन्होंने इसे विश्वास की शक्ति से बनाया। इब्रानियों 11:3 कहता है, “जगत की रचना परमेश्वर के वचन से हुई, कि जो वस्तुएं दिखाई पड़ती हैं, वे प्रकट होने वाली वस्तुओं से न बनीं।”

यदि गुरुत्वाकर्षण वास्तविक बल नहीं होता तो गुरुत्वाकर्षण का नियम निरर्थक होता।

आस्था एक आध्यात्मिक शक्ति है, आध्यात्मिक शक्ति है, एक आध्यात्मिक शक्ति है। यह विश्वास की शक्ति है जो आत्मा की दुनिया के नियमों को कार्य करती है। जब विश्वास की शक्ति काम करती है, तो आत्मा के ये नियम परमेश्वर के कहने के अनुसार कार्य करते हैं।  

रोमियों 8:29 कहता है, “क्योंकि जीवन के आत्मा की व्यवस्था ने मसीह यीशु में मुझे पाप और मृत्यु की व्यवस्था से स्वतंत्र किया है।”

आत्मा की दुनिया में दो कार्यात्मक नियम हैं। एक, पाप और मृत्यु की व्यवस्था, आदम द्वारा तब लागू की गई जब उसने अदन की वाटिका में परमेश्वर की अवज्ञा की।

दूसरा, जीवन की आत्मा की व्यवस्था, यीशु मसीह द्वारा उनके पुनरुत्थान के समय लागू की गई थी। जीवन की आत्मा का नियम मास्टर कानून है जिसके तहत हम परमेश्वर की संतान के रूप में कार्य करते हैं। यह पाप और मृत्यु के नियम को उलट देता है और विश्वास इसके कार्य करने का कारण बनता है।

कुछ ऐसे तत्व हैं, जो संयुक्त होने पर, परमेश्वर की इच्छा के अनुसार परिणाम लाएंगे।

पृथ्वी पर प्रत्येक मनुष्य के लिए उद्धार उपलब्ध है क्योंकि वचन कहता है कि जो कोई भी प्रभु का नाम लेगा, वह उद्धार पाएगा (देखें योएल 2:32; रोमियों 10:13)। जीवन का यह उच्च आध्यात्मिक नियम यहाँ पृथ्वी पर है, लेकिन हर दिन लोग मरते हैं और नरक में जाते हैं। क्यों? क्योंकि उनके विशेष जीवन में उद्धार के नियम को लागू नहीं किया गया है। यह तभी काम करेगा जब इसे काम पर लगाया जाएगा।  

यही नियम समृद्धि में भी सत्य है।

समृद्धि को नियंत्रित करने वाले कुछ नियम हैं जो परमेश्वर के वचन में प्रकट हुए हैं। विश्वास उन्हें कार्य करने का कारण बनता है। जब उन्हें काम पर लगाया जाएगा तो वे काम करेंगे, और जब विश्वास की शक्ति बंद हो जाएगी तो वे काम करना बंद कर देंगे।

बाइबल कहती है कि परमेश्वर का वचन हमेशा के लिए स्थापित है, और यह एक व्यवस्था है (देखें 1 पतरस 1:25)। जब परमेश्वर बोलता है, तो उसके वचन आत्मा की दुनिया में कानून बन जाते हैं। यीशु ने कहा, “मनुष्य केवल रोटी ही से नहीं, परन्तु हर एक वचन से जो परमेश्वर के मुख से निकलता है जीवित रहेगा” (मत्ती 4:4)।  

परमेश्वर के वचन में सफलता के सूत्र निर्देशानुसार उपयोग किए जाने पर परिणाम उत्पन्न करते हैं।

मरकुस 11:23 कहता है, “जो कोई इस पहाड़ से कहे, कि तू दूर हो, और समुद्र में डाल दिया जाए; और अपने मन में सन्देह न करेगा, वरन विश्वास करेगा, कि जो बातें वह कहता है, वे पूरी होंगी; वह जो कुछ कहेगा उसके पास होगा।”

यहाँ यीशु ने एक सिद्धांत—एक आध्यात्मिक नियम—का परिचय दिया जो काम करता है।

यह स्वाभाविक मन के लिए कोई मतलब नहीं है कि विश्वास के साथ आप जो कुछ भी कहते हैं वह हो सकता है, भले ही आप अपनी भौतिक आंखों से जो देख सकते हैं उसके विपरीत हो, लेकिन यीशु ने कहा और शाश्वत सर्वशक्तिमान ईश्वर द्वारा, ऐसा ही है! जब आप इस पर अमल करते हैं, अपने विश्वास को इसके साथ मिलाते हैं, अपने दिल में संदेह न करें, यह आध्यात्मिक कानून आपके लिए काम करेगा!  

क्या आप देखते हैं कि यह कैसे कार्य करता है?

समृद्धि के नियम मोक्ष, चंगाई आदि के नियमों के समान ही कार्य करते हैं। हम उसी परमेश्वर, उसी वचन, वही यीशु, वही विश्वास की शक्ति, और उसी चोर, शैतान के साथ व्यवहार कर रहे हैं, जो इसे आपसे छीनने की कोशिश कर रहा है! बहुत से लोगों के पास संसार का उद्धार का विचार है, और वे इसके साथ नर्क में जाएंगे!

यह गलत है! मनुष्य के अच्छे इरादों का शाश्वत मोक्ष से कोई लेना-देना नहीं है। आपके पास उड़ान भरने के लिए अच्छे इरादे हो सकते हैं, लेकिन जब तक आप उचित व्यवस्था नहीं करते-जब तक आप उचित कानूनों को लागू नहीं करते, तब तक आप जमीन पर नहीं उतरेंगे।

एक किसान अच्छी फसल लेने का इरादा कर सकता है, लेकिन अगर वह कभी बीज नहीं बोता है, तो वह फसल कैसे पैदा कर सकता है? यदि आप परिणाम प्राप्त करने की अपेक्षा करते हैं, तो आध्यात्मिक और भौतिक दोनों, इन नियमों का पालन किया जाना चाहिए। बाइबल व्यवस्थाविवरण 29:29 में कहती है, 

“गुप्त बातें  हमारे परमेश्वर यहोवा की हैं; परन्तु जो प्रगट हुई हैं, वे सदा हमारे और हमारी सन्तान के वश में हैं, कि हम इस व्यवस्था के सब वचनों को पूरा करें।”

कोई भी कानून जो परमेश्वर ने अपने संतों पर प्रकट किया है, वह कभी नहीं टलेगा। यह हर बार काम करने के लिए काम करेगा। परमेश्वर ने इब्राहीम या उसके वंशजों को आर्थिक रूप से काम करने के बारे में जो कुछ भी सिखाया वह आज भी ठीक वैसे ही काम करेगा जैसे उसने कई हजार साल पहले किया था। यदि आप इस पर विश्वास नहीं करते हैं, तो आप कभी किसी यहूदी से नहीं मिले!

सूत्र अभी भी काम करते हैं, और वे हमेशा करेंगे!

परमेश्वर ने हमें जो भी व्यवस्था दी है, वह उसके वचन में दर्ज है, और उसने पवित्र आत्मा को हमारे शिक्षक के रूप में भेजा ताकि वह इन नियमों में हमारी अगुवाई और मार्गदर्शन कर सके और हमें दिखा सके कि वे एक कारण से कैसे कार्य करते हैं-ताकि हम उन्हें काम में ला सकें। जब भी इनमें से कोई एक कानून संचालित होता है, तो यह सर्वशक्तिमान परमेश्वर की महिमा करता है जिसने इसे कहा था और शैतान के लिए एक और हार जोड़ता है जिसने कहा था कि यह काम नहीं करेगा।  

दुनिया की व्यवस्था बनाम परमेश्वर की व्यवस्था  

परमेश्वर के पास आपके जीवन के हर पहलू की जरूरतों को पूरा करने के लिए एक उच्च संगठित प्रणाली है। हमारी जरूरतों को पूरा करने की दुनिया की व्यवस्था परमेश्वर की व्यवस्था के ठीक विपरीत काम करती है।

परमेश्वर की व्यवस्था पर्याप्त है। दुनिया का किसी भी चीज़ के बारे में विचार बहुत सीमित है और उसके गलत होने की 99.9 प्रतिशत संभावना है। विश्वासियों के रूप में, हमें सावधान रहना चाहिए कि हम अपने व्यक्तिगत जीवन में परमेश्वर को संसार के कहने तक सीमित न रखें। दुनिया और उसके संचालन की व्यवस्था के साथ समस्या यह है कि इसमें एक आध्यात्मिक पागल कुत्ता है और उसका नाम शैतान है।  

दुनिया में उपचार की एक प्रणाली है जो एक दयनीय विफलता है!

इसके साथ जो अच्छा किया गया है, उसके लिए हम परमेश्वर का धन्यवाद करते हैं, लेकिन हम यह मानने के लिए मजबूर हैं कि यह हमारे आसपास के बीमारों की जरूरतों को पूरा करने के लिए पर्याप्त नहीं है। कुछ पुरुष इसे ऐसे समर्पित  करते हैं जैसे कि यह कोई देवता हो।

दुनिया की चिकित्सा प्रणाली अस्पताल के देवता और चिकित्सा के देवता बनाती है। वास्तव में, अधिकांश भाग के लिए, यह परमेश्वर को पूरी तरह से छोड़ देता है, और परमेश्वर के बिना, यह काम नहीं करेगा! परमेश्वर की शक्ति के अलावा, या तो सीधे उसकी शक्ति से या उसके द्वारा मानव शरीर में निर्मित शक्ति के द्वारा उपचार प्राप्त करने का कोई रास्ता नहीं है। पृथ्वी पर कोई भी मनुष्य परमेश्वर के बिना चंगा नहीं कर सकता।  

आपके सामने दो विकल्प हैं- संसार की चिकित्सा पद्धति या परमेश्वर की चिकित्सा प्रणाली।

ईश्वर की व्यवस्था और उसके नियम दुनिया की व्यवस्था के विपरीत हैं। मानव शरीर की देखभाल करने की ईश्वर की प्रणाली को दुनिया नहीं समझ सकती है। बाइबल कहती है कि परमेश्वर की बातें संसार के लिए मूर्खता हैं (देखें 1 कुरिन्थियों 2:14)। परमेश्वर ने मानव शरीर बनाया। वह निश्चित रूप से इसकी मरम्मत करने में सक्षम होना चाहिए। फोर्ड मोटर कंपनी के पास इतनी समझ है! अगर वे पूरी कार बना सकते हैं, तो निश्चित रूप से वे इसके लिए पुर्जे बना सकते हैं।  

हम मसीह यीशु में जीवन की आत्मा की व्यवस्था के बारे में बहुत कुछ नहीं जानते हैं और समझ की कमी ने इस व्यवस्था को हमारे लाभ के लिए कार्य करने में समस्याएँ पैदा की हैं।

प्रेरित पौलुस ने लिखा, “और इस संसार के सदृश न बनो, परन्तु अपनी बुद्धि के नये होते जाने से तुम्हारा चाल-चलन भी बदलता जाए” (रोमियों 12:2)।

परमेश्वर के व्यवसाय में सफल होने के लिए, हमें यह समझना चाहिए कि उसकी प्रणाली कैसे कार्य करती है। दुनिया की व्यवस्था से परमेश्वर के सर्वश्रेष्ठ आने की उम्मीद न करें। वह आप तक पहुंचने के लिए चारों ओर और इसके माध्यम से काम करेगा, लेकिन यह हमेशा उसके सर्वश्रेष्ठ से बहुत नीचे है।  

समृद्धि का अध्ययन करने में पूर्ण प्राथमिकता यह है कि आप कभी नहीं, इसे सांसारिक दृष्टिकोण से, दुनिया के दृष्टिकोण से आपको परमेश्वर के वचन के अनुसार सोचने के लिए खुद को प्रशिक्षित करना चाहिए। यदि आप सावधान नहीं हैं, जब आप समृद्धि के नियमों के बारे में सोचते हैं, तो आप केवल धन देखेंगे—समृद्धि का केवल एक छोटा सा हिस्सा।

सच्ची समृद्धि यह है कि परमेश्वर अपने वचन में स्वयं को हमारे सामने प्रकट कर रहा है।

यदि वह अपने वचन के माध्यम से स्वयं को प्रकट कर रहा है, तो वह हमेशा आसान संपर्क में रहता है क्योंकि आप वचन को संभाल सकते हैं। जिस तरह से आप निरंतर दैनिक आधार पर परमेश्वर को अपने साथ रख सकते हैं, वह उसके वचन के माध्यम से है। हमें अपनी भावनाओं से नहीं, बल्कि परमेश्वर ने अपने वचन में जो कहा है, उसके द्वारा न्याय करना चाहिए।  

आइए एक क्षण के लिए वित्त की दुनिया को देखें, जो पृथ्वी पर सबसे बड़ी समस्या क्षेत्र है।

बीमारी हमारी मुख्य चिंता नहीं है। बहुत से स्वस्थ लोग कर्ज में डूबे हुए हैं, और परमेश्वर के लोगों का कर्ज में कोई व्यवसाय नहीं है!  यहां फिर से, हम पाते हैं कि दुनिया में वित्त की एक प्रणाली है जो जटिल है और संचालन में बहुत खराब है। यह अवसाद और मुद्रास्फीति की दो चरम सीमाओं के बीच लगातार आगे-पीछे होता रहता है।  

हालाँकि, जब आप परमेश्वर की वित्त प्रणाली में कार्य कर रहे होते हैं, तो जीवन बहुत सरल हो सकता है। किसी से उधार न लें- ईश्वर से प्राप्त करें। उधार के साथ समस्या यह है कि यह दुनिया की व्यवस्था द्वारा नियंत्रित है। उधार लेने के लिए, आपको अपने आप को किसी अन्य व्यक्ति के अधीन करना होगा। नीतिवचन 22:7 कहता है कि कर्ज लेने वाला कर्जदार का दास होता है। उधार लेकर आप अपना नाम किसी दूसरे व्यक्ति के अधीन कर लेते हैं।

आपके नाम के आध्यात्मिक महत्व के कारण यह बहुत महत्वपूर्ण है।

आपका नाम आपके स्वभाव के समान है। यदि आपका नाम अच्छा है, तो आप अच्छे हैं – आपकी प्रतिष्ठा अच्छी है। आप जो कुछ भी कर सकते हैं वह आपका नाम कर सकता है। हालाँकि, जब आप उधार लेते हैं और किसी और के कर्ज में डूब जाते हैं, तो आप उस व्यक्ति को अपना घुटना झुकाते हैं और उसे अपने आपूर्ति के स्रोत के रूप में देखते हैं। यह एक आध्यात्मिक समस्या पैदा करता है जो बहुत गंभीर हो सकती है, खासकर अगर दूसरा व्यक्ति अधर्मी हो।  

परमेश्वर की ओर देखो, वह तुम्हें देगा , कर्ज नहीं!

विश्वासियों को यह सीखने की आवश्यकता है कि परमेश्वर की व्यवस्था में कैसे कार्य करना है। सीखना आसान नहीं है; परन्तु जब आप वचन की खोज करते हैं, तो आपमें परमेश्वर की व्यवस्था को जानने की इच्छा होगी।

जब आप इसके द्वारा काम करना शुरू करते हैं और अपने जीवन के हर क्षेत्र में विश्वास के साथ जीते हैं, तो परमेश्वर कदम उठाएगा और जो आप नहीं जानते उसे तैयार करेंगे। वह तुम्हें डाल देगा! आप वचन में जितने गहरे उतरेंगे और जितना अधिक सीखेंगे, उतना ही अधिक आप विस्तार पाएंगे।   

विस्तार; जितना अधिक तुम विस्तार करोगे, उतना ही अधिक शैतान लड़ेगा; जितना अधिक वह लड़ता है, उतनी ही बड़ी जीत होती है; आपकी जीत जितनी बड़ी होगी, परमेश्वर की महिमा उतनी ही अधिक होगी; परमेश्वर की महिमा जितनी अधिक होगी, तुम उतना ही विस्तार करोगे! यह निरंतर वृद्धि है!  

इस बिंदु पर, मैं इस बात पर ज़ोर देना चाहता हूँ कि शैतान का यह हिस्सा है। जब आप वचन सुनते हैं, जब आप परमेश्वर पर विश्वास करना सीखते हैं—विशेषकर देने के क्षेत्र में—आप शैतान के लिए खतरनाक हो जाते हैं! यीशु ने सिखाया कि बोने वाला वचन बोता है और शैतान तुरंत  बोए गए वचन को निकालने के लिए (देखें मरकुस 4:1-20)।

क्यों? तीन बुनियादी कारणों से:  

1. परमेश्वर का वचन आत्मा के नियमों की कुंजी है। 

2. आत्मा के नियम प्राकृतिक नियमों को नियंत्रित करते हैं। 

3. शैतान प्राकृतिक संसार में कार्य करता है।  

जब आप इन नियमों की शक्ति लेते हैं और विश्वास से उन्हें कार्य करते हैं, तो शैतान समाप्त हो जाता है! जब आप खेल के नियमों को सीखते हैं, तो वह ठीक हो जाता है। वह एक पराजित शत्रु है!  

“यीशु के नाम पर, यह मेरा है!”  

क्यों? क्योंकि वह पवित्र आत्मा से भरा हुआ नया जन्म लेने वाला विश्वासी है। वह परमेश्वर की संतान है, और उसे इन नियमों पर काम करने का अधिकार है। यह एक आदमी की उम्र नहीं है जिसके कारण गुरुत्वाकर्षण का नियम काम करता है; गुरुत्वाकर्षण का नियम काम करता है क्योंकि गुरुत्वाकर्षण एक बल है।

याद रखें, विश्वास एक आत्मिक शक्ति है और आत्मिक व्यवस्था के द्वारा कार्य करता है (रोमियों 3:27 देखें)।  

सच्ची समृद्धि: आध्यात्मिक और शारीरिक कानून (Spiritual and Physical Law)    
सच्ची समृद्धि: आध्यात्मिक और शारीरिक कानून (Spiritual and Physical Law)    

समृद्धि: दुनिया बनाम परमेश्वर

एक बार फिर, हमारे पास दुनिया की जानकारी है जो परमेश्वर की जानकारी का विरोध करती है। यदि आप जानते हैं कि परमेश्वर क्या सोचते हैं या उन्होंने क्या कहा है, तो आपके पास उसी तरह सोचने और विश्वास करने का एक बहुत ही आसान काम है। यदि आप जानते हैं कि परमेश्वर ने क्या कहा है, तो आपको धोखा नहीं दिया जा सकता है।  

संसार के लिए, समृद्धि, हर चीज की तरह, पूरी तरह से इंद्रियों, या इन्द्रिय-शासित मन से पैदा होती है।

दुनिया प्राकृतिक आवेगों और भौतिक इंद्रियों द्वारा शासित होती है। इसका नारा देख रहा है विश्वास कर रहा है। यदि आप इसे देख सकते हैं, इसका स्वाद ले सकते हैं, इसे सुन सकते हैं, इसे सूंघ सकते हैं या इसे महसूस कर सकते हैं, तो यह सच होना चाहिए; यदि आप इसे अपनी भौतिक इंद्रियों से संपर्क नहीं कर सकते हैं, तो यह सच नहीं है।  

जैसा कि हमने पहले चर्चा की है, समृद्धि की दुनिया की परिभाषा इसके दायरे में बहुत सीमित है – वित्तीय क्षमता और शक्ति। यह अपनी स्वीकृति से ही इतना आगे जाता है। दुनिया खुद स्वीकार करती है कि उसके पास  

गरीबी, बीमारी, आध्यात्मिक बीमारियों या सामाजिक बीमारियों को दूर करने की कोई शक्ति नहीं है।  

सच्ची समृद्धि जीवन के किसी भी क्षेत्र में मानव जाति की जरूरतों को पूरा करने के लिए ईश्वर की शक्ति का उपयोग करने की क्षमता है।

इसमें केवल वित्त, राजनीति और समाज से कहीं अधिक शामिल है। धन ही समृद्धि की एकमात्र डिग्री नहीं है। आपके पास दुनिया का सारा पैसा हो सकता है और फिर भी आप आध्यात्मिक, मानसिक और शारीरिक रूप से गरीबी से त्रस्त हो सकते हैं। पैसा शक्ति का सबसे निचला रूप है जो पृथ्वी पर मौजूद है।

क्या आप जानते हैं कि सर्वोच्च क्या है? प्रार्थना की शक्ति!

आप यीशु के नाम में प्रार्थना कर सकते हैं, और परमेश्वर आपकी स्थिति को संभालने के लिए अपनी क्षमता का उपयोग करेगा, चाहे वह कुछ भी हो। आपको पूर्ण रूप से संपूर्ण बनाने के लिए ईश्वर की शक्ति की आवश्यकता होती है। ईश्वर की शक्ति ही एकमात्र शक्ति है जो मानव अस्तित्व के पूरे स्पेक्ट्रम को कवर करती है।परमेश्वर पर्याप्त से अधिक है!  

एक समृद्ध जीवन जीने के लिए, आपकी आत्मा को सभी सत्य में समृद्ध होना चाहिए।

परमेश्वर की शक्ति उसके वचन के साथ सीधे संबंध में है। उसने अपनी शक्ति को मुक्त करने के लिए अपने वचन का उपयोग किया है। उसने अपना वचन हमारे पास भेजा है ताकि हम उसकी महान शक्ति के संपर्क में रह सकें। यशायाह स्वयं परमेश्वर को उद्धृत कर रहा था, जब उसने लिखा, “मेरा वचन जो मेरे मुंह से निकलता है, वह मेरे पास व्यर्थ न लौटेगा, परन्तु जो कुछ मैं चाहता हूं उसे पूरा करेगा, और यह जिस चीज को मैंने भेजा है वह समृद्ध होगा” (यशायाह 55:11)।

उसकी शक्ति मानव अस्तित्व के पूरे स्पेक्ट्रम को कवर करती है-उसी तरह उसका वचन भी करता है।

हम इसे इब्रानियों 1:3 जैसे धर्मग्रंथों में देख सकते हैं जो कहते हैं कि वह अपनी शक्ति के वचन के द्वारा सभी चीजों को बनाए रखता है और इब्रानियों 4:12-13 कि शब्द एक जीवित चीज है जो आत्मा, शरीर और विचार जीवन को कवर करती है। यहाँ तक कि यह भी कहा गया है कि कुछ भी पर परमेश्वर के वचन से छिपा नहीं है।  

आपका विश्वास आप में वचन के स्तर के सीधे संबंध में है।

अपने शब्द स्तर को ऊपर उठाएं ताकि आप आध्यात्मिक, मानसिक, शारीरिक, आर्थिक और सामाजिक रूप से विश्वास कर सकें।आप, आपके रास्ते में आने वाली किसी भी समस्या को संभालने की स्थिति में होंगे, परमेश्वर के वचन के अनुसार हो सकता है आपके पास इसका जवाब न हो, लेकिन परमेश्वर के पास है!

आप तक पहुंचना ही उसकी एकमात्र कठिनाई है!

परमेश्वर हमेशा उत्तर जानता है, लेकिन हम हमेशा यह सुनने की स्थिति में नहीं होते कि वह क्या कह रहा है।  

यदि आप चंगाई प्राप्त करने के लिए परमेश्वर की क्षमता का उपयोग करना जानते हैं और कभी भी इसका उपयोग स्वयं के अलावा किसी और की मदद करने के लिए नहीं करते हैं, तो यह आपके लिए बहुत लंबे समय तक काम नहीं करेगा।

यदि आप उपचार के लिए ईश्वर में विश्वास कर सकते हैं, तो किसी और को चंगा होने में मदद करें। चारों ओर फैलाओ! यदि आप आर्थिक रूप से ईश्वर पर विश्वास करना जानते हैं, तो अपने आसपास के लोगों की मदद करना शुरू करें। जैसे ही आप दूसरों तक पहुंचेंगे, आप बढ़ने लगेंगे।  

यूहन्ना 14:18-23 में, यीशु अपने शिष्यों को शिक्षा दे रहा था और समृद्धि की सही रूपरेखा दी:  

मैं तुम्हें अनाथ नहीं छोड़ूंगा: मैं तुम्हारे पास आऊंगा। फिर भी थोड़ी देर, और संसार मुझे फिर नहीं देखता; परन्तु तुम मुझे देखते हो: क्योंकि मैं जीवित हूं, तुम भी जीवित रहोगे। उस दिन तुम जान लोगे कि मैं अपने पिता में हूं, और तुम मुझ में, और मैं तुम में।

जिसके पास मेरी आज्ञाएँ हैं, और वह उन्हें मानता है, वही मुझ से प्रेम रखता है; और जो मुझ से प्रेम रखता है, उस से मेरा पिता प्रेम रखेगा, और मैं उस से प्रेम रखूंगा, और अपने आप को उस पर प्रगट करूंगा। यहूदा ने उस से कहा, इस्करियोती नहीं था, कहा, हे प्रभु, यह क्यों कर है कि तू अपने आप को हम पर प्रगट करेगा, न कि संसार पर?

यीशु ने उत्तर दिया और उस से कहा, यदि कोई मुझ से प्रेम रखता है, तो वह मेरी बातों पर चलेगा: और मेरा पिता उस से प्रेम रखेगा, और हम उसके पास आएंगे, और उसके साथ निवास करेंगे।  

यह ईश्वर के प्रकट होने की बात कर रहा है। जब परमेश्वर आपके सामने प्रकट होते हैं और आपके साथ रहते हैं, तो आप समृद्धि में जी रहे हैं। तुम देखो, पवित्र आत्मा के द्वारा परमेश्वर यहाँ संसार में है। जब भी कोई पापी यीशु को अपने जीवन का प्रभु बनाता है, तो वह आगे बढ़ने के लिए तैयार रहता है, लेकिन वह किसी व्यक्ति के जीवन में स्वयं को तब तक प्रकट नहीं करेगा जब तक कि वह व्यक्ति उसे पुकारे।

यदि परमेश्वर की उपस्थिति पर्याप्त होती, तो पृथ्वी पर प्रत्येक मनुष्य बच जाता क्योंकि हम सभी पवित्र आत्मा की उपस्थिति में हैं। उसे पिन्तेकुस्त के दिन पृथ्वी पर भेजा गया था और वह आज भी यहाँ है। ईश्वर की अभिव्यक्ति महत्वपूर्ण चीज है।

जब हम परमेश्वर के वचन में कार्य करते हैं, जब हम उसके वचन का पालन करते हैं, तब यीशु स्वयं को प्रकट करेंगे, या स्वयं को हमारे लिए वास्तविक बनाएंगे।

वह यूं ही नहीं रहेगा—वह वहीं रहेगा! आपको फर्क दिखता हैं? यदि हम उसके वचन को अपने जीवन में प्रथम स्थान देते हैं, तो यीशु स्वयं को हम पर प्रकट करेंगे। फिर जब भी भौतिक क्षेत्र में कोई समस्या उत्पन्न होती है, तो हम जानते हैं कि उत्तर उसके वचन में है। हम यह भी जानते हैं कि जब हम उस वचन पर कार्य करते हैं, तो हम में रहने वाला महान हमें हटा देगा, चाहे स्थिति कितनी भी असंभव क्यों न हो।

कुछ लोग उद्धार पाने से पहले परमेश्वर के अनुग्रह के एक विशेष प्रकटीकरण की प्रतीक्षा कर रहे हैं, लेकिन उन्हें बिल्कुल भी प्रतीक्षा करने की आवश्यकता नहीं है। हम उसके वचन से पैदा हुए हैं (देखें 1 पतरस 1:23)। यदि कोई व्यक्ति यीशु को प्रभु के रूप में अंगीकार करेगा और विश्वास करेगा कि परमेश्वर ने उसे मरे हुओं में से जिलाया है, तो वह बचाया जाएगा (रोमियों 10:9-10 देखें)।

यह परमेश्वर के वचन पर विश्वास करने का एक साधारण मामला है।

आपको मोक्ष प्राप्त करने के लिए प्रतीक्षा करने की आवश्यकता नहीं है – यह पेशकश की जा रही है। आपको समृद्धि प्राप्त करने के लिए प्रतीक्षा करने की आवश्यकता नहीं है – यह पेशकश की जा रही है। ये चीज़ें यीशु ने अपने वचन में दी हैं।  

आप जानते हैं, बाइबल फिलिप्पियों 4:19 में कहती है कि परमेश्वर आपकी आवश्यकताओं को आपकी आवश्यकता के अनुसार नहीं, बल्कि मसीह यीशु द्वारा महिमा में अपने धन के अनुसार देता है  । मैंने यह प्रचार करते सुना है कि यदि आप परमेश्वर से $100 मांगते हैं, लेकिन केवल $20 की आवश्यकता है, तो आपको शायद केवल $10 मिलेंगे।

आप इसे बाइबल में नहीं पाएंगे, परन्तु परमेश्वर कहता है:  

यदि तुम इच्छुक और आज्ञाकारी हो, तो देश की भलाई को देखोगे। (यशायाह 1:19)।  

जो कुछ तुम चाहते हो, जब तुम प्रार्थना करते हो, तो विश्वास करते हो कि तुम उन्हें ग्रहण करो, और तुम उन्हें पाओगे (मरकुस 11:24)।  

तुमने नहीं पाया, क्योंकि तुम नहीं मांगते (याकूब 4:2)।  

जब आप परमेश्वर के वचन पर कार्य करते हैं, तो आपके हृदय की इच्छाएं बढ़ने लगेंगी और परमेश्वर के अनुरूप हो जाएंगी। तब वह आप सारा अनुग्रह बढ़ा सकता है (देखें 2 कुरिन्थियों 9:8)। 

पहला कदम यह है कि आप अपने दिमाग को खुद से हटा लें।

मसीह की देह की ज़रूरतों को इस तरह लेना शुरू करें जैसे कि वे आपकी अपनी हों। वचन बहुत स्पष्ट रूप से कहता है कि यदि कोई व्यक्ति भोजन और वस्त्र के लिए आपके पास आता है, तो उसके लिए केवल प्रार्थना न करें और उसे ठंड और भूखा ना भेज दें । उसे खिलाओ और उसे कपड़े पहनाओ!  

एक और बात, परमेश्वर आपकी नौकरी के हिसाब से सिर्फ आपकी जरूरतें पूरी नहीं करेंगे। व्यवसायी मेरे पास आए हैं और कहा है कि ये चीजें मेरे लिए केवल इसलिए काम करती हैं क्योंकि मैं एक उपदेशक हूं, लेकिन यह मूर्खता है! मैं हर जगह प्रचारकों को जानता हूं यह काम नहीं कर रहा है। कुछ पुरुष कहते हैं, “लेकिन मेरे पास लोगों के लिए मुझे देने का अवसर नहीं है। मैं प्रचार से बाहर नहीं हूं। जब वे देते हैं तो वे मेरे बारे में नहीं सोचते। मुझे अपने लिए काम करना है।”

ठीक है, यदि आपको परमेश्वर के वचन में अपनी नौकरी और काम करने की क्षमता से अधिक विश्वास है, तो यह निश्चित रूप से आपके लिए काम नहीं करेगा।

परमेश्वर निश्चित रूप से आपकी नौकरी में जो उपलब्ध है उसका उपयोग आपको आशीर्वाद देने या आपको एक बेहतर नौकरी दिलाने के लिए करेगा, लेकिन वह आपके काम तक सीमित नहीं है जब तक कि आप  उसे सीमित नहीं करते। यदि तुम रुको और एक क्षण के लिए सोचो, परमेश्वर ने एक उपदेशक के साथ अपनी वाचा नहीं बांधी; उसने इसे एक किसान, अब्राम नाम के एक मेहनतकश आदमी के साथ बनाया।

पवित्रशास्त्र से पता चलता है कि अब्राम ने सदोमाइट राजा की ओर रुख किया और कहा, “मुझे तुम्हारी चप्पल की डोरी भी नहीं चाहिए क्योंकि तुम एक मानव निर्मित अब्राम को धनी कह सकते हो” (देखें उत्पत्ति 14:23)। किसी मानव-निर्मित अब्राहम को धनी नहीं बनाया। परमेश्वर  ने उसे अमीर बनाया। क्या आप यह देख सकते हैं?, एक बुनियादी, मौलिक सत्य है जो संपूर्ण बाइबल में चलता है।

हर बार आवश्यकता होती थी, चाहे वह कोई भी आवश्यकता क्यों न हो, परमेश्वर के पास कहीं न कहीं एक व्यक्ति था जिसके पास उस आवश्यकता को पूरा करने के लिए आध्यात्मिक, मानसिक या आर्थिक रूप से संसाधन थे। इस्राएल के लिए, मूसा था। दुनिया के लिए, यीशु थे। यीशु के लिए एक आदमी था जिसके पास एक गदहा था।

इफिसुस के लिए, पॉल था। बाइबल कहती है कि परमेश्वर ने मनुष्यों को उपहार दिए हैं—प्रेरित, भविष्यद्वक्ता, सुसमाचार प्रचारक, पास्टर और शिक्षक (देखें इफिसियों 4:11)। उनके पास हर जरूरत को पूरा करने के लिए एक आदमी था। कोई भी व्यक्ति इतना आध्यात्मिक कभी नहीं होगा कि उसे अन्य लोगों की आवश्यकता न हो। हम सभी को एक दूसरे की जरूरत है।  

अपनी आवश्यकताओं में मसीह की देह को शामिल करना शुरू करें।

खोए हुए को अपनी जरूरतों में शामिल करना शुरू करें। अगर कोई आदमी आपके पास कपड़ों की जरूरत के लिए आए और आपके पास उसे देने के लिए कोई कपड़े न हों, तो आप दोनों को परेशानी होगी। आपको अपने लिए कपड़े चाहिए, और आपको उसे कपड़े देने में सक्षम होने की जरूरत है।

यीशु ने कहा, “तुम इस बात की चिंता क्यों करते हो कि तुम क्या खाओगे और क्या पहनोगे? तुम्हारा स्वर्गीय पिता जानता है कि तुम्हें इन वस्तुओं की आवश्यकता है” (देखें मत्ती 6:31-32)। परन्तु उस ने यह भी कहा, दे, दो, तो तुझे दिया जाएगा; अच्छा नाप दबकर, और हिलाकर, और दौड़ते हुए लोग तेरी गोद में देंगे”  (लूका 6:38)।  

जब मैंने यह महसूस किया और अपने से पहले दूसरों की ज़रूरतों पर विचार करना शुरू किया, तो मैंने पाया कि मेरी ज़रूरतें अलौकिक रूप से पूरी हुईं!

यह अस्वाभाविक था! मैंने व्यावहारिक रूप से अपना पूरा वयस्क जीवन कर्ज में बिताया था। ऐसा लग रहा था कि मेरे द्वारा आजमाया गया हर व्यावसायिक उपक्रम बस टूट गया, जिससे मैं और भी अधिक कर्ज में डूब गया। फिर मैं प्रभु की ओर मुड़ा, अपने आप को उनके वचन के प्रति समर्पित करने का दृढ़ संकल्प किया, और अपनी मुट्ठी में बाइबल के साथ अपने शयनकक्ष के फर्श पर चलने लगा, मेरी आवाज के शीर्ष पर चिल्लाया, “मेरा परमेश्वर अपनी महिमा में अपने धन के अनुसार मेरी सभी जरूरतों को पूरा करता है।

ईसा मसीह!” मैं बस इस घंटे को दिन-ब-दिन कबूल करता रहा!

मेरी स्थिति उस समय असंभव लग रही थी! मेरे पास प्रचार करने के लिए कोई जगह नहीं थी और कुछ भी नहीं  बहुत कुछ कहना है! (एक बात जो मैं सकता था, वह थी, “मेरा परमेश्वर अपनी महिमा में मसीह यीशु के धन के अनुसार मेरी सभी आवश्यकताओं को पूरा करता है!” मैं उस वाक्य को अच्छी तरह से जानता था!) ​​ग्यारह महीने बाद मैं पूरी तरह से कर्ज से मुक्त हो गया था।

इस बीच, मैंने अन्य लोगों को उन्हें देकर और उनके साथ जुड़कर अपनी ज़रूरतों में शामिल करना सीखा। जब मैंने देना शुरू किया, तो मुझे अचानक एक दिन एहसास हुआ कि मैं परमेश्वर के काम में कितना व्यस्त था। साल आ गए और चले गए और मैंने अभी तक पकड़ा नहीं है। जब आप ऐसा करते हैं, तो परमेश्वर आप तक पहुँचने के लिए यदि आवश्यक हो तो स्वर्ग और पृथ्वी को हिला देगा।  

अब, कई ईसाइयों के मन में एक बड़ा सवाल है कि क्या शैतान लोगों को आर्थिक रूप से आशीष देता है?

कई बार ऐसा लगता है कि अधर्मी लोगों के पास सारा पैसा है, लेकिन यह सच नहीं है। उनके पास जितना धन होगा उससे कहीं अधिक धन छिपा है। बाइबल स्पष्ट रूप से कहती है कि परमेश्वर हमें संसार की छिपी हुई संपत्ति, गुप्त स्थानों की छिपी हुई दौलत (यशायाह 45:3 देखें) दिलाएगा। वचन हमें बताता है कि “पापी का धन धर्मी के लिये रखा जाता है” (नीतिवचन 13:22)। फिर पापी के पास क्यों है? क्योंकि वित्तीय कानून के कुछ तथ्य हैं जो काम करने पर काम करेंगे। इस्राइल ने इसे साबित कर दिया है।

परमेश्वर ने इब्राहीम को कुछ चीजें सिखाईं जिनका उपयोग यहूदी आज भी कर रहे हैं, और वे अभी भी कार्य कर रहे हैं। आपको ऐसा यहूदी नहीं मिलेगा जो गरीबी में विश्वास करता हो क्योंकि गरीबी पुरानी वाचा में नहीं है।

यह धर्म में है, बाइबिल में नहीं। इसे ईसाई धर्म में अंधेरे युग के दौरान एक धर्म के रूप में रखा गया था जब लोगों से शब्द लिया गया था और मठों में डाल दिया गया था। जब धार्मिक पदानुक्रम ने सत्ता संभाली तो ईसाई धर्म में गरीबी की शपथ ली गई। इसे संचालित करने वाले पुरुष फिर से पैदा हुए पुरुष नहीं थे।  

आप दुनिया की वित्त व्यवस्था को देख सकते हैं और शैतान के छेद के पैटर्न की एक आदर्श तस्वीर देख सकते हैं। इसे कुछ ही शब्दों में कहा जा सकता है-“चोर किसी और काम के लिये नहीं, परन्तु चोरी करने, और घात करने और नाश करने आता है” (यूहन्ना 10:10)।  

आप शरीर के पानी को कैसे मारते हैं? इसे बहने से रोकें।  

आप एक भौतिक शरीर को कैसे मारते हैं? इसे काम करने से रोकें। आप आर्थिक रूप से मसीह के शरीर को कैसे मारते हैं? सारा पैसा जलाशयों में जमा करो और उसे चलने से रोको। शैतान धोखेबाज है। वह जो कुछ भी करता है वह एक आशीर्वाद है। नीतिवचन 1:32 इसकी पुष्टि करता है, “मूर्खों की समृद्धि उन्हें नष्ट कर देगी।”

ऐसा लग सकता है कि वह एक आशीर्वाद है, लेकिन वह हमेशा नष्ट कर देता है। वह हमेशा एक मृत अंत प्रस्तुत करता है, कोई रास्ता नहीं। यदि आप परमेश्वर के कार्य और शैतान के कार्य के बीच अंतर करना चाहते हैं, तो याद रखें: शैतान हमेशा आपको बताता है कि कोई रास्ता नहीं है, लेकिन यीशु कहते हैं, “मार्ग मैं हूं” (यूहन्ना 14:6)। यदि यह संदेह, हार, या निराशा है, तो यह शैतान की ओर से है—हमेशा।  

परमेश्वर पर विश्वास करके और अपनी आवश्यकताओं में मसीह की देह की आवश्यकताओं को शामिल करके, आप परमेश्वर की बातों को दूसरों तक पहुँचाने के लिए एक खुला चैनल बन जाते हैं।

जो कुछ तुमने परमेश्वर से प्राप्त किया है वह यीशु के द्वारा प्रवाहित हुआ। क्या आपको देने से यीशु ने कभी कुछ खोया? नहीं, वह अभी भी यह सब का मालिक है। पहला यूहन्ना 4:17 एक चौंकाने वाला बयान देता है, “जैसा वह है, वैसा ही हम भी इस संसार में हैं।”

यह नहीं कहता कि जैसा वह था या जैसा हम किसी दिन होने जा रहे हैं; यह कहता है कि जैसा वह है, वैसा ही हम भी हैं। परमेश्वर के दाहिने हाथ में अपनी स्थिति में, यीशु के पास देने के लिए पर्याप्त से अधिक है। खैर, हम उसके सह-वारिस हैं, और वह यह देखने के लिए तैयार है कि हमारे पास देने के लिए पर्याप्त है (फिलिप्पियों 4:10-19 देखें)।  

सच्ची समृद्धि: आध्यात्मिक और शारीरिक कानून (Spiritual and Physical Law)    
सच्ची समृद्धि: आध्यात्मिक और शारीरिक कानून (Spiritual and Physical Law)    

एक उदाहरण प्रकाशितवाक्य की पुस्तक में देखा जा सकता है।

परमेश्वर ने अपना रहस्योद्घाटन यीशु को दिया, जिसने अपने दूत यूहन्ना को अपने दूत के द्वारा इसका संकेत दिया; स्वर्गदूत ने इसे यूहन्ना को दिया; यूहन्ना को इसे कलीसियाओं को देना था; और वे, बदले में, इसे मसीह की देह को देंगे जो इसे संसार को खिलाएगी। एक सतत चैनल, एक निरंतर बहने वाला – प्रेम का प्रवाह … शक्ति का प्रवाह … धन का प्रवाह … भोजन का प्रवाह … आपकी जरूरत की हर चीज का प्रवाह!  

मूल सिद्धांत परमेश्वर ने मसीह की देह की आपूर्ति करने और मसीह की देह को आपूर्ति करने की अनुमति देने में उपयोग करने की योजना बनाई है ।  

सभोपदेशक के एक पद में संसार का सारांश दिया गया है, “अपनी रोटी जल पर डाल दे, क्योंकि तू बहुत दिनों के बाद उसे पाएगा” (सभोपदेशक 11:1)। और थोड़ी देर बाद, यह फिर से तुम्हारे पास आ जाएगा। आपको कुछ समय “अपनी रोटी डालना” शुरू करना होगा-कल कभी नहीं करेगा।

आप तब तक इंतजार नहीं कर सकते जब तक कि आपकी रोटी बाहर निकालने से पहले वापस न आ जाए। बहुत से लोग अपने जहाज के आने की प्रतीक्षा कर रहे हैं जिन्होंने कभी जहाज नहीं भेजा है! चीजें उस तरह से काम नहीं करती हैं। यह एक चूल्हे से कहने जैसा होगा, “मुझे कुछ गर्मी दो, और फिर मैं कुछ लकड़ी डाल दूँगा।” आप दो, तब यह आपको फिर से दिया जाएगा। 

कुंजी लगातार देना है।

जब आप वचन में चल रहे हैं और आपके जीवन में परमेश्वर की समृद्धि उत्पन्न हो रही है, तो आप उस बिंदु पर पहुंच जाएंगे जब आपकी रोटी हर लहर पर आपके पास वापस आ रही है! इसे आपका  काम है। यह परमेश्वर का  काम है कि वह वापस आए! तुम अपना काम करो और परमेश्वर को उसे करने दो, तब तुम निरंतर प्राप्त करते रहोगे।

जितना अधिक तुम दोगे, उतना ही तुम पाओगे; जितना अधिक आप प्राप्त करेंगे, उतना ही आपको देना होगा। परमेश्वर का इरादा था कि ये चीजें इस तरह से काम करें। जब आप इस बिंदु पर पहुंचेंगे, तो आप जितना दे सकते हैं, उससे कहीं अधिक आ रहा होगा!  

शैतान इसके ठीक विपरीत कार्य करता है।

वह जो कुछ भी करता है वह गंदगी और ठहराव का मंत्र है। जब आप एक दुष्ट व्यक्ति को बड़ी मात्रा में धन के साथ देखते हैं, तो आप प्रवाह को रोकने के लिए शैतान द्वारा बनाए गए एक वित्तीय जलाशय को देख रहे होते हैं। “यीशु ने चारों ओर दृष्टि करके अपने चेलों से कहा, जिनके पास धन है और जो उसको पकड़े रहते हैं, वे किस कठिनाई से परमेश्वर के राज्य में प्रवेश करेंगे?” (मरकुस 10:23, द एम्प्लीफाइड बाइबल)।

यदि किसी व्यक्ति के पास तिजोरी में दस लाख डॉलर हैं और वह इसे खर्च नहीं करेगा, तो यह उसके और उसके आसपास के सभी लोगों के लिए बेकार है।

इससे कई लोगों को फायदा हो सकता है, लेकिन उन्होंने चैनल को ब्लॉक कर दिया है। इस तरह की चीज़ों से केवल एक ही लाभ कमाता है, वह है शैतान। वह वित्तीय संसाधनों को बंद रखने के लिए घृणा, भय और लालच की ताकतों का उपयोग करता है। नीतिवचन 1:19 हमें बताता है कि लालच लेता है  

अपने मालिकों के जीवन से दूर। शैतान आपको दिखा सकता है कि पैसा कैसे कमाया है, लेकिन वह आपको यह नहीं दिखा सकता कि इसे कैसे रखा  जाए। स्वार्थ कभी भी जो कुछ बनाता है उसे बनाए रखने में सक्षम नहीं है – यह हमेशा नष्ट कर देता है।  

मान लीजिए कि एक आदमी ने अपने बाएं हाथ को बचाने का फैसला किया और सिर्फ अपने दाहिने हाथ का इस्तेमाल किया, यह सोचकर कि सालों बाद जब उसका दाहिना हाथ थक गया, तो वह बदल सकता है और बाएं हाथ का इस्तेमाल कर सकता है। उसके बाएं हाथ का क्या होगा?

यह कार्य करने की क्षमता खो देगा, है ना? अब, यह एक मूर्खतापूर्ण विचार है, लेकिन यह सिद्धांत उस व्यक्ति के लिए सच है, जिसके पास $100,000 है, जो इस डर के कारण छिपा हुआ है कि इन दिनों में कोई पैसा नहीं बचेगा।  

यदि आप कुछ डॉलर के साथ इस तरह के डर का प्रयोग कर रहे हैं, तो आप एक जलाशय को बंद करने के दोषी हैं – एक मृत अंत, एक शैतानी ठहराव – उस व्यक्ति के रूप में जिसने एक मिलियन डॉलर रोक दिए। कोई व्यक्ति जिसके पास सेकेंड हैंड शर्ट से अधिक नहीं है, वह लालच के लिए उतना ही दोषी हो सकता है जितना कि एक आदमी जिसके पास लाखों डॉलर का ढेर है।

एक उतना ही धोखा है जितना दूसरे को। एक ठंडे व्यक्ति के लिए, एक पुरानी शर्ट बहुत अच्छी लगती है।

जैसा कि मैंने पहले बताया, बाइबल यह नहीं कहती है कि पैसा सभी बुराइयों की जड़ है; यह कहता है कि पैसे का प्यार  सारी बुराई की जड़ है (1 तीमुथियुस 6:10),

लाखों लोग ऐसे पाप कर रहे हैं जिनके पास एक पैसा भी नहीं है! परमेश्वर विश्वास में दिए गए 15 सेंट से अधिक कर सकता है जितना कि राजा सोने के पहाड़ों के साथ नहीं कर सकते! छोटी विधवा ने अपने दो घुनों से यह साबित किया (देखें मरकुस 12:41-44)।

याद रखें कि ईश्वर को केवल उसी तक सीमित न रखें जिसे आप अपने सिर से देख और समझ सकते हैं।

जब पूरी दुनिया पूरी तरह से बेसहारा हो जाएगी, तब भी परमेश्वर के पास बहुत कुछ होगा और वह इसे आपकी ओर बढ़ा सकता है। जैसे वे हैं, वैसे ही हम भी इस संसार में हैं। इसलिए खुशमिजाज, मुक्त हृदय देने वाला बनने से डरो मत।  

आध्यात्मिक क्षेत्र में फिर से जन्म लेने वाले विश्वासी के रूप में, आपके पास जीवन है और इसे दूसरों के साथ साझा करने की क्षमता है। आपको उनकी जरूरतों को पूरा करने के लिए यह जीवन देना सीखना होगा।

परमेश्वर का वचन कहता है, “उनके पांव क्या ही सुन्दर हैं जो शान्ति का सुसमाचार सुनाते हैं,  और अच्छी बातों का सुसमाचार सुनाओ!” (रोमियों 10:15)।

मैंने सोचा कि इसका क्या मतलब है जब तक मैंने एक मिशनरी और उसके परिवार की कहानी नहीं सुनी, जिन्हें द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान जापानियों ने पकड़ लिया था। उन्हें बंदी बनाए जाने के बाद, उन्हें बताया गया कि वाशिंगटन, डीसी गिर गया था, कि संयुक्त राज्य अमेरिका ने आत्मसमर्पण कर दिया था, और जापान का नियंत्रण था।

खैर, आप अंदाजा लगा सकते हैं कि इसने उन लोगों के साथ क्या किया होगा। वे निराशाजनक महसूस कर रहे थे! जापानियों ने उन्हें देश भर में घसीटा और अंत में उन्हें मारना शुरू कर दिया क्योंकि वहाँ पर्याप्त भोजन नहीं था। वे इस मिशनरी की छोटी बच्ची को ले गए और उसे गोली मार दी।

अगले दिन उन्होंने एक गगनभेदी गर्जना सुनी और देखा कि आकाश बी-29 से ढका हुआ है! वो लोग पागल हो गए! वे आशा के बिना पूर्ण थे, इस झूठ के तहत श्रम कर रहे थे कि उनका देश हार गया था।

बाद में एक जीआई ने उनके परिसर के दरवाजे पर लात मारी और कहा, “तुम स्वतंत्र हो,” और जब उसने किया, तो मिशनरी उसके सामने गिर गया और उसके जूते चूम लिया!

आपके अंदर स्वयं परमेश्वर की जीवनदायिनी शक्ति वास कर रही है, और दुनिया उस जीवन के लिए बेताब है! इसके साथ कंजूस मत बनो। आज़ादी से मिला है, आज़ादी से दो।  

जब आप इसे लोगों के हाथों में उद्धार पाने के लिए अपनी आवश्यकता बनाते हैं, जब आप इसे अपना उद्देश्य बचाए नहीं गए लोगों को सुसमाचार खिलाने के लिए बनाते हैं, तो परमेश्वर आपके द्वारा किए जाने वाले कार्यों का समर्थन करेगा।

यही सच्ची समृद्धि है! परमेश्वर ने स्वयं को यीशु मसीह के संदेश को दुनिया तक पहुँचाने के लिए बाध्य किया है।

वह ऐसा करने के लिए स्वर्ग और पृथ्वी को हिलाएगा, क्योंकि जिस व्यक्ति ने इसे कभी नहीं सुना है, यीशु न कभी मरा है और न ही मरे हुओं में से पुनर्जीवित किया गया है। उस आदमी के लिए, यीशु के बलिदान का कोई मतलब नहीं है। वचन 1 यूहन्ना 4:17 में कहता है, “जैसा वह है, वैसा ही हम भी इस संसार में हैं।”

प्रभु यीशु के द्वारा हमें खिला रहे हैं। जब आप प्रभु के पास जाते हैं, तो उसके पास आवश्यकता को पूरा करने के लिए पर्याप्त से अधिक होता है। क्या आपने कभी किसी समस्या के साथ प्रभु की ओर रुख किया है और उनसे कहा है, “ठीक है, यह नया है! आप कुछ ऐसा लेकर आए हैं जिसे स्वर्ग कवर नहीं कर सकता”? बिलकूल नहीं!  

आपके पास सबसे खराब समस्या को हल करने के लिए परमेश्वर के पास पर्याप्त से अधिक है। यीशु हमारे लिए श्रोत है, और हम दुनिया के लिए श्रोत हैं।  

सच्ची समृद्धि एक व्यक्ति को उसकी असंभवता के क्षण में आंख में देखने और उसकी जरूरतों को अपना मानने की क्षमता है। जो आध्यात्मिक हैं उन्हें उनकी मदद करनी है जो नहीं हैं।

हमें एक दूसरे का भार उठाना है। जब कोई भाई आपके पास समस्या लेकर आए, तो उसके साथ प्रार्थना में शामिल हों, अपने विश्वास को उसके साथ जोड़ दें। यीशु के नाम से शैतान पर दबाव डालें और उसे उस आदमी से हटा दें।

मसीह यीशु में जीवन की आत्मा के नियमों पर दबाव डालें। यीशु मसीह में अपनी धार्मिकता पर झुक जाओ।झुको जोर !। झुको अपने पुत्रत्व पर जोर से झुक जाओ जोर यीशु के लहू पर परमेश्वर की स्तुति करो, वे काम करते हैं!  

होशे योएल आमोस ओबद्दाह योना मीका नहूम हबक्कूक सपन्याह हाग्गै जकर्याह और मलाकी की पुस्तकों में मन से सबंधित 30 पद। (Hosea Joel Amos Obadiah Jonah Micah Nahum Habakkuk Zephaniah Haggai, Zechariah and Malachi verses on the mind) भाग 9

Twelve Minor Prophets

https://www.britannica.com/facts/The-Book-of-Malachi

स्वस्थ वजन घटाने का रहस्य क्या है? (What is the Secret of Healthy Weight Loss?) भाग 3

Featured

स्वस्थ वजन घटाने का रहस्य क्या है? (What is the Secret of Healthy Weight Loss?) भाग 3

What is the Secret of Healthy Weight Loss? स्वस्थ वजन घटाने का रहस्य क्या है? भाग 3। तो, अब आप सोच रहे होंगे, “विश्व स्वस्थ आहार के बारे में क्या है जिसने अपनी सफलता की कहानियों को साझा करने वाले छात्रों के लिए स्वस्थ और स्थायी वजन घटाने, स्वस्थ जीवन शैली और ऊर्जा का उत्पादन करने में इसे इतना प्रभावी बना दिया है?” यह वास्तव में आसान है, पृथ्वी पर स्वस्थ भोजन पौष्टिक खाद्य पदार्थ हैं।

रहस्य है कि छात्र अपना वजन कम क्यों कर रहे हैं – इन खाद्य पदार्थों की विस्तृत श्रृंखला और पोषक तत्वों की मात्रा में कम से कम कैलोरी होती है (जिसे मैं “पोषक तत्व समृद्धि” कहता हूं)। विश्व स्वस्थ धन = अधिक पोषण, कम कैलोरी

पोषक तत्वों से भरपूर आहार अनुपूरक पोषक तत्वों से भरपूर (विटामिन, खनिज, फाइटोन्यूट्रिएंट्स, एंटीऑक्सिडेंट, फाइबर, प्रोटीन, ओमेगा -3 फैटी एसिड और अन्य स्वास्थ्य को बढ़ावा देने वाले यौगिक) प्रदान करने की क्षमता को दर्शाता है।

Optimal Health - 6 ways to lose weight without dieting n - Optimal Health - Health Is True Wealth.
स्वस्थ वजन घटाने का रहस्य क्या है? (What is the Secret of Healthy Weight Loss?)

कैलोरी की छोटी मात्रा।

इसके विपरीत, अस्वास्थ्यकर खाद्य पदार्थ वे हैं जो कम से कम पोषक तत्व प्रदान करते हैं, लेकिन कैलोरी की सबसे बड़ी संख्या प्रदान करते हैं; इनमें प्रोसेस्ड, रिफाइंड और फास्ट फूड शामिल हैं।
इसलिए दुनिया भर में स्वस्थ पोषण के साथ संयुक्त अपने आहार का आनंद लेने से, छात्रों के लिए अपने शरीर को स्वस्थ वजन बनाए रखने के लिए आवश्यक कैलोरी की मात्रा से अधिक के बिना महत्वपूर्ण स्वास्थ्य और ऊर्जा के लिए आवश्यक सभी पोषक तत्व प्राप्त करना बहुत आसान हो गया, और साथ ही वे भोजन और स्वाद के लिए अपनी लालसा को संतुष्ट कर रहे थे।

इस कारण से, जब विश्व स्वस्थ आहार पर भरोसा करते हैं, तो वे स्वाभाविक रूप से, सख्ती से और आश्चर्यजनक रूप से जल्दी से अपना वजन कम करते हैं।
यह भोजन एक पौष्टिक वस्तु है; वे बहुत अधिक कैलोरी के बिना स्वास्थ्य को बढ़ावा देने वाले पोषक तत्वों की प्रचुरता प्रदान करते हैं।

Optimal Health - Blog 122921 Best diet for weight loss - Optimal Health - Health Is True Wealth.
स्वस्थ वजन घटाने का रहस्य क्या है? (What is the Secret of Healthy Weight Loss?)

पृथ्वी पर स्वस्थ भोजन एक संपूर्ण आहार है जिसमें वे सभी पोषक तत्व होते हैं जो प्रकृति पौधों और जानवरों के स्वास्थ्य और कल्याण को सुनिश्चित करने के लिए प्रदान करती है।

जब हम विश्व स्वस्थ खाद्य पदार्थ खाते हैं, जो पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं, खासकर जब प्राकृतिक रूप से उगाए जाते हैं, तो हम प्रकृति के सुरक्षात्मक गुणों का आनंद लेते हैं; इस आहार में ऐसा कुछ भी नहीं है जिसकी आवश्यकता न हो।

क्योंकि विश्व के स्वस्थ खाद्य पदार्थ वह प्रदान करते हैं जो महत्वपूर्ण है और अनावश्यक को छोड़ दें, इसे वजन नियंत्रण के लिए डिज़ाइन किया गया है। और जितना अधिक तुम खाओगे, उनका स्वाद उतना ही अच्छा होगा। स्वस्थ लोगों के लिए विश्व का स्वस्थ भोजन परिवर्तन के लिए एक नई शक्ति है – यह आपको स्वस्थ बना सकता है और वजन कम कर सकता है।

क्यों एक स्वस्थ आहार दुनिया भर में स्वस्थ वजन घटाने को बढ़ावा देता है?

पोषक तत्वों से भरपूर होने के बारे में क्या है जो वजन घटाने को बढ़ावा देने में मदद करते हैं? इसमें कई कारक शामिल हैं।
पोषण हमारे शरीर को उत्कृष्ट पोषक तत्व प्रदान करता है जो हमारे शरीर को अपने चयापचय कार्यों को ठीक से करने में सक्षम बनाता है। मेटाबोलिक कार्य, जैसे अवांछित वसा का जलना (बीटा-ऑक्सीकरण नामक एक प्रक्रिया), मुख्य रूप से पोषक तत्वों से भरपूर आहार द्वारा समर्थित होते हैं।

पोषण का अर्थ यह भी है कि हम अपने शरीर को कम मात्रा में पर्याप्त पोषक तत्व देते हैं।

Optimal Health - How Diet Lose Weight - Optimal Health - Health Is True Wealth.
स्वस्थ वजन घटाने का रहस्य क्या है? (What is the Secret of Healthy Weight Loss?)

(कई शोधकर्ता उच्च पोषक तत्व और कम कैलोरी आहार के इस विशेष संयोजन का वर्णन करने के लिए “पोषक तत्व घनत्व” शब्द का उपयोग करते हैं।) यह आपके आहार के विपरीत पोषक तत्वों की समृद्धि के बारे में सोचने में मदद करता है।

एक ऐसे व्यक्ति के बारे में सोचें जिसके आहार में मुख्य रूप से उच्च वसा वाले प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ और फास्ट फूड होते हैं, यानी कम वसा वाले खाद्य पदार्थ जिनमें बहुत कम पोषक तत्व होते हैं।

यदि वह व्यक्ति पर्याप्त मात्रा में खाता है, तो उसे अंततः कुछ पोषक तत्व प्राप्त होंगे; हालांकि, स्वस्थ शरीर के लिए आवश्यक कई विटामिन और खनिज – साथ ही नए खोजे गए एंटीऑक्सिडेंट और पौधों के आहार में कई फाइटोन्यूट्रिएंट्स – अनुसंधान जो अब स्वस्थ वजन बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं – वस्तुतः कुछ नहीं होगा। इसके अलावा, सबसे बुनियादी पोषण पाने के लिए आप कम कैलोरी वाले आहार में कितनी कैलोरी लेंगे?

स्वस्थ वजन घटाने का रहस्य क्या है? (What is the Secret of Healthy Weight Loss?)
स्वस्थ वजन घटाने का रहस्य क्या है? (What is the Secret of Healthy Weight Loss?)

अत्यधिक कैलोरी के सेवन से शरीर की चर्बी और शरीर का वजन बढ़ जाएगा।

बहुत कम गुणवत्ता वाले भोजन के साथ, यदि कोई व्यक्ति कहीं 6,000 या 7,000 कैलोरी खाता है, तो आपको संभवतः पर्याप्त बुनियादी पोषक तत्व प्राप्त होंगे। लेकिन कैलोरी की लागत बहुत अधिक होगी।

इसके विपरीत, भोजन का सेवन बढ़ाने के लिए कम कैलोरी वाले खाद्य पदार्थों का उपयोग और चयापचय का समर्थन करने के लिए विश्व के स्वास्थ्यप्रद खाद्य पदार्थों का उपयोग वजन घटाने के विज्ञान में प्रमुख शोध सिद्धांत हैं।

यदि आपकी वजन घटाने की रणनीति कम कैलोरी आहार और वैश्विक पोषण पर केंद्रित है, तो वजन कम करने के लिए शोध के अवसर आपके सर्वोत्तम हित में हैं।

और यह करना कठिन नहीं है; वास्तव में, मैं आपको दिखाऊंगा कि स्वस्थ वजन घटाने के कार्यक्रम से आपको सबसे अधिक पोषक तत्व कैसे प्राप्त करें और 1600 कैलोरी से कम खाएं।

विश्व का स्वस्थ भोजन एक स्वस्थ भोजन क्यों है?

विश्व के स्वास्थ्यप्रद खाद्य पदार्थों में निहित स्वास्थ्य को बढ़ावा देने वाले पोषक तत्वों की आवश्यकता शरीर की प्रणालियों, ऊतकों और कोशिकाओं को अपने चरम पर कार्य करने के लिए होती है, जो न केवल स्वस्थ वजन घटाने को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण है, बल्कि इसमें भी महत्वपूर्ण है अच्छा स्वास्थ्य और शक्ति।

कई महामारी, विज्ञान के अध्ययनों ने पौष्टिक खाद्य पदार्थों, जैसे कि विश्व के स्वास्थ्यप्रद खाद्य पदार्थ, और स्वास्थ्य की स्थिति जैसे मोटापा, उच्च कोलेस्ट्रॉल, उच्च रक्तचाप, और स्वास्थ्य की स्थिति जैसे मोटापा, के बीच की कड़ी को देखा है। उच्च कोलेस्ट्रॉल, उच्च रक्तचाप और स्वस्थ आहार। उच्च रक्त शर्करा का स्तर।

ये खाद्य पदार्थ न केवल पुरानी स्थितियों का अनुभव करने की आपकी संभावनाओं को कम कर सकते हैं बल्कि आपके दैनिक जीवन में भी सुधार कर सकते हैं।

उदाहरण के लिए, वे आपको अतिरिक्त ऊर्जा देंगे, आपको स्पष्ट रूप से सोचने में मदद करेंगे, आपके बालों और त्वचा को चमकदार बनाएंगे, और आपकी समग्र भलाई में योगदान देंगे। उनमें निहित स्वास्थ्य को बढ़ावा देने वाले पोषक तत्व उन्हें स्वस्थ बनाते हैं। इसलिए नहीं कि यह एक या दो पोषक तत्वों से भरपूर होता है बल्कि इसलिए कि इसमें पोषक तत्वों की एक पूरी श्रृंखला होती है।

यह महत्वपूर्ण है क्योंकि शोधकर्ताओं ने लगातार पाया है, कि पोषक तत्व अकेले काम करने वालों की तुलना में अधिक स्वास्थ्य लाभ प्रदान करने के लिए मिलकर काम करते हैं। इसका मतलब यह है कि कोई चमत्कारी भोजन या चमत्कारी पोषक तत्व नहीं है।
यह आश्चर्यजनक है कि कैसे आपके विश्व स्वस्थ भोजन आहार के विभिन्न पहलू आपको बेहतर स्वास्थ्य और वजन घटाने के लिए एक साथ काम करते हैं।

विश्व के स्वस्थ आहार में स्वस्थ पोषक तत्व कैसे स्वस्थ और वजन घटाने में मदद करते हैं यदि स्वस्थ कोशिकाओं को स्पार्क प्लग माना जा सकता है जो आपके चयापचय को जोड़ते हैं और यदि ऊर्जा उत्पन्न करने और चयापचय को बढ़ावा देने वाले सिस्टम स्वस्थ वजन घटाने की कुंजी में से एक हैं, तो निश्चित रूप से, हम अपनी कोशिकाओं को ठीक से काम करने के लिए हम जो कुछ भी कर सकते हैं वह करना चाहते हैं।

यहीं पर विश्व के स्वास्थ्यप्रद खाद्य पदार्थ पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं।

वैज्ञानिक शोध से पता चला है कि स्वास्थ्य को बढ़ावा देने वाले पोषक तत्व आपकी कोशिकाओं और आपके शरीर की सभी प्रणालियों के ठीक से काम करने की कुंजी हैं।
इनमें आपका तंत्रिका तंत्र, कार्डियोवैस्कुलर सिस्टम, पाचन तंत्र, मस्कुलोस्केलेटल सिस्टम, डिटॉक्सीफिकेशन सिस्टम, और, जो बहुत अधिक वजन कम करने, ऊर्जा पैदा करने वाली प्रणाली और आपके शरीर को उत्तेजित करने की आपकी क्षमता की कुंजी है।

अब हम जानते हैं कि अतिरिक्त वसा, विशेष रूप से आंत का वसा, न केवल अतिरिक्त कैलोरी का भंडार है, बल्कि एक अंतःस्रावी अंग के रूप में भी कार्य करता है जो सूजन को बहुत बढ़ाता है। विश्व के स्वास्थ्यप्रद खाद्य पदार्थों में पाए जाने वाले कई पोषक तत्व सूजन को नियंत्रण में रखने में मदद करते हैं, जो विशेष रूप से महत्वपूर्ण है यदि आपके पास बहुत अधिक वसा है जिसे आप खोने की कोशिश कर रहे हैं।

चूंकि आपकी कोशिकाओं में अधिक वसा जमा हो जाती है, वसा अवांछित सूजन के लिए एक प्रारंभिक बिंदु के रूप में कार्य करता है, जब आप अपना अवांछित वसा खो देते हैं, तो आप अवांछित सूजन को भी कम कर देंगे। यह एक मुख्य कारण है कि अधिक वजन होने के कारण कई स्वास्थ्य समस्याएं होती हैं।

एक संतुलित आहार

विश्व के स्वस्थ खाद्य पदार्थ आपको आपकी कैलोरी आवश्यकताओं को बढ़ाए बिना आपकी पोषण संबंधी आवश्यकताओं को पूरा करने में सक्षम बनाते हैं – स्वस्थ वजन घटाने के लिए एक स्वस्थ सूत्र।

पारंपरिक आहार के विपरीत, जो केवल भोजन के सेवन को कम करने पर ध्यान केंद्रित करता है, जिससे आपको कमी का खतरा होता है (और याद रखें, आपके चयापचय इंजन को चलाने के लिए उन पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है), स्वस्थ वजन घटाने – आहार के बिना विश्व स्वस्थ पोषण पर ध्यान केंद्रित किया जाता है। , जो कम कैलोरी के साथ बहुत सारे पोषक तत्व लाता है, जिससे आपका चयापचय पंप अधिक संग्रहित वसा को जला देता है।

जब आप विश्व स्वस्थ खाद्य पदार्थों का आनंद लेते हैं, तो बहुत अधिक वजन कम करना ही एकमात्र कार्य नहीं है बल्कि लगभग अपरिहार्य है।

यदि आप बेहतर महसूस करना चाहते हैं और वजन कम करना चाहते हैं तो आपको पोषक तत्व देने के अलावा, विश्व स्वस्थ पोषण स्वाभाविक रूप से आपके आहार को संतुष्ट करता है क्योंकि इसमें जैव रासायनिक खेलने वाले सभी पोषक तत्व होते हैं। तृप्ति में भूमिका (अपनी भूख बुझाना)।

पुस्तक समीक्षा: डाइटिंग या आहार कंट्रोल किए बिना कैसे वजन घटाएं? (BEST BOOK FOR DIET-HEALTHY WEIGHT LOSS WITHOUT DIETING: HEALTHIEST WAY OF EATING APPROACH)

पुस्तक समीक्षा: स्वस्थ वजन घटाने और पकाने का स्वस्थ तरीका (Healthy Weight Loss and the Healthiest Way of Cooking)

https://www.questionsanswered.net/article/10-foods-lower-your-cholesterol?utm_content=params%3Ao%3D740012%26ad%3DdirN%26qo%3DserpIndex

https://www.eatingbirdfood.com/how-to-lose-weight-without-dieting/

https://www.webmd.com/diet/ss/slideshow-no-diet-weight-loss

पुस्तक समीक्षा: स्वस्थ वजन घटाने और पकाने का स्वस्थ तरीका (Healthy Weight Loss and the Healthiest Way of Cooking) भाग 2

Featured

पुस्तक समीक्षा: स्वस्थ वजन घटाने और पकाने का स्वस्थ तरीका (Healthy Weight Loss and the Healthiest Way of Cooking) भाग 2

पुस्तक समीक्षा: स्वस्थ वजन घटाने और पकाने का स्वस्थ तरीका (Healthy Weight Loss and the Healthiest Way of Cooking) भाग 2 . जॉर्ज मैटलजाना द्वारा (From George Mateljan) मैंने विश्व स्वस्थ खाद्य पदार्थों को इतना स्वादिष्ट बनाने के लिए व्यंजनों और व्यंजनों को विकसित करने में वर्षों बिताए हैं क्योंकि आपका भोजन कितना भी पौष्टिक क्यों न हो, आप आनंद नहीं लेंगे और यदि उसका स्वाद अच्छा न हो, तो तुम उसे न खाओगे।

पाठकों ने लिखा कि वे हमारे स्वस्थ व्यंजनों का उपयोग करके हमारे आसानी से तैयार होने वाले व्यंजनों को कितना पसंद करते हैं-

मैंने भोजन तैयार करने की स्वस्थ सौते विधि का उपयोग करना शुरू किया। मैं 65 वर्षीय व्यक्ति हूं जिसका वजन अब 172 पाउंड है। मैंने 245 पाउंड से शुरुआत की। मैं केवल ताजी सब्जियां, फल, आदि और एक स्वस्थ सौते नुस्खा का उपयोग करता हूं। मैं मांस/मछली को कम मात्रा में भूनता और खाता हूं।

मैं अपना जीवन बदलने के लिए आपको बहुत-बहुत धन्यवाद देना चाहता हूं। मैंने अपने वर्तमान वजन को 6 महीने तक बनाए रखा है और अपने व्यायाम कार्यक्रम को तैराकी से पूर्ण जिम कार्यक्रम तक विस्तारित किया है। भोजन अब मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि आप मेरे जैसे लोगों की मदद करने के लिए वहां थे। इसे जारी रखो। मुझे रेसिपी पसंद हैं। मुझे बहुत कुछ पता चला। – डीडी

पुस्तक समीक्षा: स्वस्थ वजन घटाने और पकाने का स्वस्थ तरीका (Healthy Weight Loss and the Healthiest Way of Cooking)
पुस्तक समीक्षा: स्वस्थ वजन घटाने और पकाने का स्वस्थ तरीका (Healthy Weight Loss and the Healthiest Way of Cooking)

आपकी मदद से मैंने 17 पाउंड [17 किलो] वजन कम किया, जो पहले असंभव लग रहा था। – चेरिल

आपके व्यंजनों का स्वाद बहुत अच्छा है – सरल और त्वरित, जिसकी हम सभी को आवश्यकता है। मैंने आपकी किताब अपनी माँ, मेरी बहन और दो दोस्तों के लिए खरीदी है। मैं आपके दैनिक व्यंजनों को उन सहयोगियों के साथ साझा करता हूं जो आपकी पुस्तक चाहते हैं। हमें इतनी मदद देने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद। – चेरिल

मैंने जॉर्ज की किताब, द वर्ल्ड्स हेल्थिएस्ट फूड्स खरीदी, और जनवरी में मैंने देखना शुरू कर दिया कि मैं क्या खा रहा हूं, खा रहा हूं। चार महीने से भी कम समय के बाद, मैंने 60 पाउंड [20 किलो] वजन कम किया; मेरे पति (जिसका खाने का इरादा नहीं था, लेकिन उसका रसोइया, हाँ, मुझे) ने भी सात पाउंड कम कर लिये। मेरा ऊर्जा स्तर भी बढ़ गया है, और फलों और सब्जियों का सेवन नाटकीय रूप से बढ़ गया है। सलाद एक आनंददायक है, और नट्स और मसालों का उपयोग आहार में उत्साह जोड़ता है। – एन

आपकी योजना स्वास्थ्य के लिए मेरी सभी जरूरतों को पूरा करती है:

आसान तैयारी का समय, त्वरित और आसान व्यंजन, और स्वादिष्ट भोजन! मैंने साढ़े तीन महीने में तीस पाउंड से अधिक वजन कम किया। मेरे पास जितना मैं उपयोग कर सकता हूं उससे अधिक ऊर्जा है, और जितना मैंने सोचा था उससे बेहतर त्वचा है। द हेल्दी फूड्स इन द वर्ल्ड हमारे लिए सबसे अच्छा मार्गदर्शक है जो किचन के बाहर जीवन का आनंद लेने के लिए समय निकालते हुए स्वास्थ्य का पीछा करना चाहते हैं। – मेंहदी

मैं इस साइट से प्यार करता हूँ, और पूरे खाद्य पदार्थों में मेरी रुचि और (वैसे भी वैसे भी) तैयार करने में मेरा भोजन इस तरह से कभी नहीं रहा। – बीआई

तैयार खाना पकाने की शैली खाना बनाना आसान बनाती है और परिणाम स्वाद में समृद्ध होता है। – मैरी

इसलिए, छात्रों ने न केवल अपना वजन कम किया, उन्होंने स्वादिष्ट भोजन का भी आनंद लिया जो तैयार करने में आसान था। वर्ल्ड हेल्दी फूड्स खाना और WHFoods.org वेबसाइट और द वर्ल्ड्स हेल्थिएस्ट फूड्स किताब पर पोस्ट की गई त्वरित और आसान रेसिपी तैयार करना पसंद था। उन्होंने स्वस्थ, अधिक ऊर्जावान महसूस करने और ऐसे भोजन का आनंद लेने की सूचना दी जो पहले कभी नहीं खाया गया था। आमतौर पर जब आप वजन घटाने वाला आहार शुरू करते हैं, तो इसका मतलब है स्वादिष्ट भोजन को रोकना!

उन्हें अक्सर दूसरों को हमारे लिए सभी निर्णय लेने की आवश्यकता होती है, और अक्सर इसमें खाने के आनंद को इस वादे के कारण छोड़ना शामिल होता है कि हम इसे खो देंगे।

कई वजन घटाने वाले आहार हमें अपने जीवन को पूरी तरह से एक पूर्व निर्धारित और निर्मित पाठ में बदलने के लिए कह रहे हैं। हमें अक्सर सबसे प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों के बगल में नाश्ता, दोपहर का भोजन और रात का खाना बनाने के लिए कहा जाता है जिसे हमने अपनी पसंदीदा सूची से नहीं चुना, पकाया या चुना नहीं है।

किसी और को हमारे लिए ये सभी निर्णय लेने की अनुमति देकर, और इस वादे के लिए कि हम इसे खो देंगे, खाने के आनंद को त्याग कर। इसके बजाय, मुझे लगता है कि भोजन चुनना और तैयार करना – जैसा कि मैं वजन कम करते समय करता हूं – वजन कम करने, पैसे बचाने और स्वस्थ भोजन को अपने आहार का नियमित हिस्सा बनाने में आपकी मदद करने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक है।

पुस्तक समीक्षा: डाइटिंग या आहार कंट्रोल किए बिना कैसे वजन घटाएं? (BEST BOOK FOR DIET-HEALTHY WEIGHT LOSS WITHOUT DIETING: HEALTHIEST WAY OF EATING APPROACH)
पुस्तक समीक्षा: डाइटिंग या आहार कंट्रोल किए बिना कैसे वजन घटाएं? (BEST BOOK FOR DIET-HEALTHY WEIGHT LOSS WITHOUT DIETING: HEALTHIEST WAY OF EATING APPROACH)

आपके जीवन का तरीका; आप इसे अस्थायी भोजन के साथ नहीं सुनते हैं।

यही कारण है कि मैंने सैकड़ों स्वस्थ, स्वादिष्ट व्यंजनों के साथ विश्व के स्वस्थ भोजन तैयार करने में आपकी मदद करने के लिए अपने स्वस्थ व्यंजनों को विकसित किया है, जो वजन घटाने को किसी के लिए भी आसान और मजेदार गतिविधि बनाते हैं।
स्वस्थ वजन घटाने – आहार के बिना: छात्रों ने जो लिखा वह विश्व के स्वस्थ भोजन के लिए एक अप्रत्याशित घटना थी – बिना किसी हलचल के अतिरिक्त पाउंड पिघलते हुए!

पत्र मेरे लिए प्रेरणा थे!

न केवल उन्हें सीखने का लाभ मिला, बल्कि उन्होंने मुझे यह भी स्पष्ट रूप से दिखाया कि कैसे बेहतर स्वास्थ्य और वजन कम करना साथ-साथ चलता है।

वजन घटाने की उनकी सफलता की कहानियां वजन कम किए बिना स्वस्थ वजन घटाने के तरीके के बारे में मेरी जानकारी का आधार हैं, जिसे मैं इस पुस्तक में आपके साथ साझा करता हूं। मैं इन छात्रों को अपनी कहानियों को मुझे देने के लिए समय निकालने के लिए अपनी ईमानदारी से कृतज्ञता व्यक्त करना चाहता हूं।

मैं इन छात्रों को अपनी कहानियों को मुझे देने के लिए समय निकालने के लिए अपनी ईमानदारी से कृतज्ञता व्यक्त करना चाहता हूं।

मुझे उम्मीद है कि यह पुस्तक आपको यह महसूस करने में मदद करेगी कि स्वस्थ वजन कम करना केवल एक समझदार लक्ष्य नहीं है, बल्कि एक ऐसा लक्ष्य है जिसे आप दुनिया में स्वस्थ खाद्य पदार्थों के साथ आसानी से प्राप्त कर सकते हैं।

मैंने पाठकों से सीखा है कि एक विशेष, अस्थायी लेंस का उपयोग करके अपने आहार को देखते हुए वजन घटाने को भारी आहार से नहीं आना पड़ता है।
इसके बजाय, वे आसानी से विश्व के स्वास्थ्यप्रद खाद्य पदार्थों के कॉर्नुकोपिया का पालन करके और पोषण को बनाए रखते हुए अपने स्वाद को बढ़ाने वाले सर्वश्रेष्ठ स्वस्थ व्यंजनों का उपयोग करके अपना वजन कम करते हैं।

यह भोजन नहीं है; यह वजन कम करने और साथ ही अपने आहार का आनंद लेने का एक शानदार तरीका है।

यही हमारे पाठकों ने पाया; और मैं उन्हें वजन कम करने का एक तरीका खोजने पर बधाई देना चाहता हूं – जिसने विश्व स्वस्थ आहार पर जोर दिया – जो कई अन्य लोगों की मदद करेगा जो वजन घटाने की महामारी से जूझ रहे हैं।

इस स्वास्थ्य प्रचार के हमारे साझा पठन को जारी रखने के लिए, मैं आपको अपना वजन घटाने की खबर भेजने के लिए प्रोत्साहित करना चाहता हूं; हम उन्हें सभी के लाभ के लिए अपनी वेबसाइट WHFoods.org पर पोस्ट करेंगे।

इष्टम पूरक आहार: कार्बोहाईड्रेड कब खाएं? Optimal Supplements: When to Eat Carbohydrates?

इष्टतम स्वास्थ्य के लिए पोषण | Nutrition For Optimal Health

पुस्तक समीक्षा: डाइटिंग या आहार कंट्रोल किए बिना कैसे वजन घटाएं? (BEST BOOK FOR DIET-HEALTHY WEIGHT LOSS WITHOUT DIETING: HEALTHIEST WAY OF EATING APPROACH)

https://youtu.be/lyg6XfP5r0M

https://youtu.be/Qr4_CY6X_w0

https://yeshuafoundation.in/

जोड़ों और हड्डियों का स्वास्थ्य (JOINTS AND BONES HEALTH)

Featured

जोड़ों और हड्डियों का स्वास्थ्य (JOINTS AND BONES HEALTH)

जोड़ों और हड्डियों का स्वास्थ्य (JOINTS AND BONES HEALTH)। वेस्टिज ग्लूकोसामाइन इसका पूरा नाम ग्लूकोसामाइनोग्लाईकैन है यह मनुष्य के सभी टिशुओं में मिलता है, कार्टिलेज में यह बहुत ही गाढ़ा होता है, यह एमिनो एसिड की एक लम्बी कड़ी है जो समुद्री सीपियों में बहुत घनत्व में पाया जाता है। वेस्टिज ग्लूकोसामाइन के फायदे नई कार्टिलेज के निर्माण में सहायता करता है और वर्तमान कार्टिलेज की सुरक्षा करता है। खराब व घिसी हुई कार्टिलेज की मरम्मत करता है। जोड़ों को चिकनाई प्रदान करता है और सिनोवियल फ्ल्यूड (ग्रीस) का निर्माण करता है। एनाल्जेसिक और एन्टी-इनफ्लेमेटरी एक्शन प्रदान करता है। 

Optimal Health - 1ead5988359f6b0058b41d77ff70f9cd - Optimal Health - Health Is True Wealth.
जोड़ों और हड्डियों का स्वास्थ्य (JOINTS AND BONES HEALTH)

ज्वाइंटस & बोन्स हेल्थ (JOINTS & BONES HEALTH)

वेस्टिज कैल्शियम कैल्शियम का 99% भाग हमारी हड्डियों व दाँतों में पाया जाता है बाकी 1% रक्त, मांसपेशियों व नरम ऊतकों की कोशिकाओं में पाया जाता है। आज के आधुनिक समय में मिलावट व मंहगाई के कारण हम अपने शरीर की कैल्शियम की कमी को पूरा नहीं कर पाते जिसके कारण बाथरुम में गिरने तक से हमारी हड्डियाँ टूट जाती हैं। वेस्टिज कैल्शियम के फायदे कैल्शियम कार्बोनेट व विटामिन डी-3 युक्त गोलियाँ जो पूरी तरह से शरीर में समा जाती हैं। स्वस्थ व मजबूत हड्डियों के रख-रखाव एवं निर्माण में सहायता करता है। हड्डियों में कैल्शियम के घनत्व को बढ़ाता है और गठिया जैसी बिमारियों से बचाता है। दाँतों कि परेशानियों से रक्षा करता है। 

कैल्शियम

कैल्शियम हमारी हड्डीयों को मजबूत करता है ! 99% हिस्सा हड्डीयों और दांतों, व 1% हिस्सा कैल्शियम पूरे शरीर के खून के सर्किल को चलाने के लिए जरुरी होता है ! अगर हम शरीर को कैल्शियम नहीं देते तो खून हड्डीयों से इसे खींचना शुरू कर देता है ! ऐसी अवस्था में हड्डिया कमज़ोर हो जातीं हैं, दातों मे कमजोरी और डिस्क के समस्या हो जाती है।

खुराक : भोजन के बाद दो टेबलेट !

ग्लुकोसामाइन

ग्लुकोसामाइन शरीर के मुख्य जोड़ों में चिकनाई पैदा करता है ! इसमें एमिनो एसिड होते हैं जो समुद्र की सिपिओं में मिलते हैं ! इसमें केन्द्रोइन नाम का एक विशेष तत्व होता है जो हमारे जोडों के बीच की झिली को मजबूत करता है और उसे खराब होने से बचाता है ! इससे हमारे धुटने, टखने, कुल्हे और कंधे फिर से अच्छा काम करना शुरू कर देते हैं !

खुराक : भोजन के बाद दिन में दो बार एक-एक टेबलेट !

क्रिल ऑयल जोड़ों के दर्द के लिए भी रामबाण इलाज है।

यह न सिर्फ दर्द से राहत दिलाता है बल्कि त्वचा को चिकना भी बनाता है। यही नहीं किसी तरह की जलन या सूजन हो तो उसे भी कम करता है। आपको जानकर हैरानी होगी कि क्रिल ऑयल महज 7 से 14 दिन में अपना असर दिखाना शुरु कर देता है। इसके अलावा क्रिल ऑयल  के जरिये जोड़ों में अकड़न को कम किया जा सकता है, कड़ापन घटता है और पैरों को हिलने डुलने में मदद मिलती है। मतलब यह कि क्रिल ऑयल  के जरिये शरीर में चपलता आती है जबकि फिश ऑयल से इस तरह के फायदे कम ही देखने को मिलते हैं।

Optimal Health - collage7 300x300 1 edited - Optimal Health - Health Is True Wealth.
जोड़ों और हड्डियों का स्वास्थ्य (JOINTS AND BONES HEALTH)

संयुक्त स्वास्थ्य (JOINT HEALTH) 

  • एक जोड़ वह होता है जहां दो या दो से अधिक हड्डियां आपस में जुड़ी होती हैं। (A joint is where two or more bones are joined together.)
  • जोड़ कठोर हो सकते हैं, जैसे खोपड़ी में हड्डियों के बीच के जोड़, या चलने योग्य, जैसे घुटने, कूल्हे और कंधे। (Joints can be rigid, like the joints between the bones in the skull, or movable, like knees, hips & shoulders.)
  • कई जोड़ों में हड्डियों के सिरों पर कार्टिलेज होता है, जहां हड्डियां आपस में मिलती हैं। (Many joints have cartilage at the ends of the bones, where the bones come together.)
  • स्वस्थ कार्टिलेज हड्डियों को एक-दूसरे पर सरकने की अनुमति देकर गति में मदद करता है। (Healthy cartilage helps with movement by allowing bones to glide over one another.) 
  • कार्टिलेज हड्डियों को एक-दूसरे के खिलाफ रगड़ने से रोककर उनकी रक्षा भी करता है। (Cartilage also protects bones by preventing them from rubbing against each other.) 
  • स्वस्थ जोड़ आपको दौड़ने, चलने, कूदने, खेल खेलने और अन्य चीजें आसानी से करने की अनुमति देते हैं। (Healthy joints will allow you to run, walk, jump, play sports & do the other things easily.)
Optimal Health - 5TE9 - Optimal Health - Health Is True Wealth.
जोड़ों और हड्डियों का स्वास्थ्य (JOINTS & BONES HEALTH)

संयुक्त हड्डियों व्यापक समस्याएं (PREVALENCE OF JOINT PROBLEMS)

  • विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, भारत में 6 में से 1 व्यक्ति गठिया से पीड़ित है। (According to the World Health Organization (WHO), 1 in 6 people suffer from arthritis in India.) 
  • ऑस्टियो आर्थराइटिस दूसरी सबसे आम संयुक्त समस्या है और यह भारत में 22% से 39% की व्यापकता के साथ सबसे अधिक बार होने वाली संयुक्त बीमारी है। (Osteoarthritis is the second most common joint problem and it is the most frequent joint disease with a prevalence of 22% to 39% in India.)
  • ऑस्टियो आर्थराइटिस पुरुषों की तुलना में महिलाओं में अधिक आम रूप से पायी जाती है। (Osteoarthritis is more common in women than men.) 
  • ऑस्टियो आर्थराइटिस से पीड़ित 80% लोगों की गति सीमित होती है और 25% अपने जीवन की प्रमुख दैनिक गतिविधियों को नहीं कर पाते हैं। (80% of those with osteoarthritis have limitations in movement and 25% cannot perform their major daily activities of life.)

संयुक्त व्यापक समस्याओं के लिये वेस्टीज कोलेजन (PREVALENCE OF JOINT PROBLEMS)

परिचय वेस्टीज कोलेजन का (VESTIGE COLLAGEN INTRODUCTION TO COLLAGEN)

  • कोलेजन स्वस्थ जोड़ों में प्रमुख संरचनात्मक प्रोटीन है और मानव शरीर में सबसे प्रचुर मात्रा में पाया जाने वाला प्रोटीन है। (Collagen is the major structural protein in healthy joints and the most abundant protein found in the human body.) 
  • यह पूरे शरीर में ताकत और लचीलापन बनाए रखता है। (It maintains strength and flexibility throughout the body.)
  • यह हड्डियों, उपास्थि, त्वचा और अन्य संयोजी ऊतकों में मुख्य निर्माण कारक प्रोटीन है। (It is the main building protein in bones, cartilage, skin and other connective tissues.)
  • उम्र के साथ, शरीर में कोलेजन का उत्पादन धीमा हो जाता है जिससे त्वचा पर झुर्रियां पड़ सकती हैं, हड्डियां भंगुर हो सकती हैं और जोड़ों के कार्टिलेज के अध: पतन को तेज कर सकता है।(As we age, collagen production slows down in the body which can lead to wrinkles on skin, brittle bones and accelerates the degeneration of joint cartilage.)
  • गुलाब हिप के अर्क और विटामिन सी के साथ वेस्टीज कोलेजन शरीर को महत्वपूर्ण कोलेजन के साथ फिर से भरने में मदद करता है और स्वस्थ ऊतकों के रखरखाव में मदद करता है। (Vestige Collagen with Rosehip extract and Vitamin C helps to replenish the body with vital collagen and helps in maintenance of healthy tissue.)
  • यह जोड़ों के आराम, लचीलेपन और उपास्थि के स्वास्थ्य का समर्थन करने के लिए दिखाया गया है। (It is shown to support joint comfort, flexibility and cartilage health.)

वेस्टीज कोलेजन संरचना (COMPOSITION OF VESTIGE COLLAGEN)

सामग्री (INGREDIENTS) कार्य (FUNCTIONS)
कोलेजन (Collagen)निर्माण में उपयोग किए जाने वाले पेप्टाइड कोलेजन पेप्टाइड शरीर द्वारा आसानी से अवशोषित हो जाते हैं और खुद को संयोजी ऊतकों के लिए तेजी से उपलब्ध हैं। यह सूजन को कम करने में मदद करता है। यह कठोर और स्थिर जोड़ों वाले लोगों में दर्द को कम करने में भी मदद करता है, खासकर उन लोगों के लिए जो ऑस्टियो  आर्थराइटिस जैसी स्थितियों से पीड़ित हैं। (Peptide Collagen peptides used in the formulation are easily absorbed by the body and makethemselves rapidly available to the connective tissues. It helps in the reduction of inflammation. It also helps to ease pain in people with stiff and immobile joints, especially inthose suffering from conditions like osteoarthritis.)
रोज़हिप (Rosehip) रोज़हिप एक्सट्रैक्ट जोड़ों के दर्द को कम करता है और जकड़न को कम करके जोड़ों के स्वास्थ्य में भी सुधार करता है। (Rosehip extract eases joint pain and also improves joint health by reducing stiffness.)
विटामिन सी (Vitamin C) विटामिन सी शरीर में प्राकृतिक कोलेजन संश्लेषण का समर्थन करने के लिए आवश्यक एक आवश्यक पोषक तत्व है। (Vitamin C is an essential nutrient required for supporting natural collagen synthesis in body.) 
Optimal Health - a1acf44fdd633ad7723afe177d238cf1 e1648632859177 - Optimal Health - Health Is True Wealth.
जोड़ों और हड्डियों का स्वास्थ्य (JOINTS AND BONES HEALTH)

वेस्टीज कोलेजन के लाभ (BENEFITS OF VESTIGE COLLAGEN)

  • स्वस्थ ऊतकों को बनाए रखने में मदद करता है। (Helps in maintaining healthy tissues.) 
  • संयुक्त स्वास्थ्य का समर्थन करने में मदद करता है। (Helps in supporting joint health.) 
  • जोड़ों के लचीलेपन में सुधार करने में मदद करता है। (Helps in improving the flexibility of the joints.)
  • सूजन को कम करने में मदद करता है। (Helps in reducing the inflammation.) 
  • कठोर और गतिहीन जोड़ों वाले लोगों के दर्द को कम करने में मदद करता है। (Helps to ease pain in people with stiff and immobile joints.) 
  • शरीर में प्राकृतिक कोलेजन संश्लेषण का समर्थन करता है। (Supports natural collagen synthesis in the body.)
  • मांसपेशियों के स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद करता है। (Helps in maintaining muscle health.) 
  • पाचन स्वास्थ्य में सुधार करने में मदद करता है। (Helps in improving digestive health.)

वेस्टीज कोलेजन की खुराक (DOSAGE OF VESTIGE COLLAGEN)

निर्देशानुसार ही लें।  

  • एक पाउच दिन में एक या दो बार, या चिकित्सक की सलाह द्वारा 100 मिलीलीटर पानी में लेना है। (One Sachet to be dissolved in 100 ml water once or twice a day, or as directed by a physician.)

वेस्टीज कोलेजन-एमआरपी- (VESTIGE COLLAGEN  MRP)

  • 10 पाउच (10 Sachets)
  • एम. आर. पी. रु. 700 (MRP- Rs. 700) 
  • डीपी- रु. 600 (DP- Rs. 600)
  • बीवी- 360 (BV- 360) 
  • पीवी- 20 (PV- 20)
  1. 25+ BEST FOOD SUPPLEMENTS FOR HEALTH
  2. Health Benefits of  Vestige Protein Powder 
  3. https://youtu.be/ubzZq0PxLt0
  4. https://youtu.be/lGw__NP29pg

 शक्ति के 48 नियम: 36-48 | Book Summary Of The 48 Laws Of Power In Hindi By Robert Greene

Featured

 शक्ति के 48 नियम: 36-48 | Book Summary Of The 48 Laws Of Power In Hindi By Robert Greene

शक्ति का नियम 1- अपने बॉस या सीनियर्स को उनसे अधिक बुद्धिमत्ता और स्मार्टनेस दिखाने की कोसिस कभी ना करें । शक्ति का नियम 2- अपने दोस्तों पर अधिक विश्वास ना करें, उन्हें सभी राज की चीजें ना बताएं । शक्ति का नियम 3- अपने काम के इरादे तथा उद्देश्यों को कभी किसी को भी ना बताएं, शक्ति का नियम 4 – कोशिश करें कि लोगों के समक्ष कम बोलें, शक्ति का नियम 5- आपकी प्रतिष्ठा आपकी शक्ति का आधार है इस पर बहुत कुछ निर्भर करता है इसे हमेशा सम्हाल कर रखें । शक्ति का नियम 6- हर कीमत पर, विशिष्ट बनें।

Optimal Health - bible and 3rd law of power 2 1 - Optimal Health - Health Is True Wealth.
शक्ति के 48 नियम: 36-48 | Book Summary Of The 48 Laws Of Power In Hindi By Robert Greene

शक्ति का नियम 7- लोगों से काम लेना सीखिए,

खुद कभी वो काम मत कीजिये जो दूसरे लोग आपके लिए कर सकते हैं । शक्ति का नियम 8- दूसरों को अपनी तरफ लायें, जरूरत पड़ने पर चारे का इस्तेमाल करें,आपके फैसले को जीत लिया, जब भी आप किसी तर्क से गुजरते हैं,1 शक्ति का नियम 9- लोगों को अपने काम से जीतें, शक्ति का नियम 10- दुखी और बदकिस्मत लोगों से दूर रहे

शक्ति का नियम 11- लोगों को अपने ऊपर निर्भर करना सीखें,

शक्ति का नियम 12- अपनी ईमानदारी और उदारता से अपने शिकार को बस में करें, शक्ति का नियम 13- जब आप किसी से मदद लेने जाएँ तो उनकी रूचि को ध्यान में रखें, शक्ति का नियम 14- दोस्त की तरह दिखें और जासूस की तरह काम करें ।

शक्ति के 48 नियम: 1-10 | Book Summary Of The 48 Laws Of Power In Hindi By Robert Greene 2. शक्ति के 48 नियम: 11-21 | Book Summary Of The 48 Laws Of Power In Hindi By Robert Greene (Part 2) 3. शक्ति के 48 नियम: 22-35 | Book Summary Of The 48 Laws Of Power In Hindi By Robert Greene (Part 3)

शक्ति का नियम 36- जिस चीज को आप पा नहीं सकते उसका तिरस्कार करें,

शक्ति के 48 नियम: 11-21 | Book Summary Of The 48 Laws Of Power In Hindi By Robert Greene.
शक्ति के 48 नियम: 36-48 | Book Summary Of The 48 Laws Of Power In Hindi By Robert Greene
  • उसका नजरअंदाज करना ही सबसे बड़ा प्रतिशोध है।
  • जब समस्याएं बस में नहीं हो तो उन्हें छोड़ देना ही उनके समाधान का सबसे श्रेष्ठ रास्ता होता है।
  •  आप किसी समस्या पर जितना अधिक ध्यान देते हैं उतना ही आप उसके अस्तित्व को बढ़ाते हैं।
  • अगर कुछ ऐसा है जिसे आप हासिल कर नहीं सकते तो उसका तिरस्कार करें,
  • जितनी कम दिलचस्पी आप उसमें दिखाएंगे उतने ही आप श्रेष्ठ दिखेंगे।

Optimal Health

शक्ति के 48 नियम | Book Summary Of The 48 Laws Of Power In Hindi By Robert Greene

LAW: 36 अस्वीकरण आपको बताए गए हैं:

  • इस विषय को ध्यान में रखते हुए सबसे अच्छी समस्या यह है कि आप इसे अस्तित्व और विश्वसनीयता देते हैं।
  • आप दुश्मन पर जितना ध्यान देते हैं, आप उसे उतना ही मजबूत बनाते हैं; और जब आप इसे ठीक करने की कोशिश करते हैं तो एक छोटी सी गलती हो जाती है।
  • कभी-कभी अकेले चीजों को छोड़ना सबसे अच्छा होता है।
  • यदि कोई ऐसी चीज है जो आप चाहते हैं, लेकिन उसके लिए अवमानना ​​नहीं दिखा सकते हैं।
  • आप जितनी कम रुचि प्रकट करेंगे, आप उतने ही श्रेष्ठ होंगे।

शक्ति का नियम 37- सम्मोहन का चश्मा बनाएं, लोगों के सम्मोहन को खुद के लिए यकीन दिलाएं।

  • फ्रांस के राजा Henry की पत्नी Diane Peatier ने अपना नाम एक शिकार की देवी के नाम से जोड़ लिया,
  • जिससे जब राजा शिकार करता तो वह देवी का नाम शुद्धता से याद करता और साथ में रानी Diane को भी,
  • जिससे उसे भी देवी की तरह सम्मान मिलने लगा।
  • वह लोगों की नजरों में देवी बन गई और लोग उसकी हर बात मानने लगे।

सम्मोहन की कला से आप लोगों से चाहे जो करा सकते हैं।

  • LAW 37 क्रिएट कंपोजिट स्पैक्टलैस हड़ताली कल्पना और भव्य प्रतीकात्मक इशारे सत्ता की आभा पैदा करते हैं-हर कोई उन्हें जवाब देता है।
  • स्टेज चश्मा, अपने आसपास के लोगों के लिए,
  • फिर, जूल ओजे गिरफ्तार करने वाले विज़ुअल्स और उज्ज्वल चिह्न जो आपकी उपस्थिति को बढ़ाते हैं।
  • दिखावे से चकाचौंध, कोई भी नोटिस नहीं करेगा कि आप वास्तव में क्या कर रहे हैं।

शक्ति का नियम 38- आप चाहे जैसा सोचें पर दूसरों की तरह व्यवहार करें,

  • यदि आप अपने व्यक्तिगत विचार लोगों को बताएंगे तो लोग आपसे सहमत नहीं नहीं होंगे,
  • आप लोगों से वही कहें जो वे सुनना चाहते हैं।
  • LAW 38 के रूप में आपको लगता है कि आप की तरह दूसरों से प्यार करते हैं, यदि आप समय के खिलाफ जा रहा एक शो बनाते हैं, तो अपने अपरंपरागत विचारों और अपरंपरागत तरीकों से भड़काते हुए, लोग सोचेंगे कि आप केवल ध्यान चाहते हैं और आप उन्हें देखते हैं।
  • वे आपको दंडित करने का एक तरीका खोजेंगे जिससे आप उन्हें अधूरा महसूस करेंगे।
  • यह जार सैजेर है जो आम स्पर्श में मिश्रण और पोषण करता है।
  • सहिष्णु दोस्तों और केवल उन लोगों के साथ अपनी मौलिकता साझा करें जो आपकी विशिष्टता की सराहना करने के लिए निश्चित हैं।

उदाहरण –

  • 16वीं शताब्दी का एक दार्शनिक Campanella जो स्वर्ग और नर्क में यकीन नहीं करता था।
  • उस समय ऐसा करना पाप माना जाता था इसलिए उसे जेल में डाल दिया, जब उसे मौत की सजा होने वाली थी तो उसने छल कपट का इस्तेमाल किया।
  • उसने पागलपन का ढोंग किया जिससे उसे मौत की बजाय उम्रकैद की सजा हुई।
  • जेल में रहते हुए उसने बाहर आने की एक योजना बनाई, उसने एक किताब लिखी The Hispanic Monarchy जो कि बिल्कुल उसके विचारों के विरुद्ध थी, इससे लोगों को लगा कि वह रूढ़िवादी और परंपरागत बन चुका है, उसकी योजना ने काम किया और उसे जेल से रिहा कर दिया गया।

शक्ति का नियम 39- मछली पकड़ने के लिए पानी में हड़कंप मचाएं,

  • यदि आप अपने दुश्मनों और प्रतियोगियों को गुस्सा दिला कर शांत रह सकते हैं, तो आप उसका फायदा उठा सकते हैं।
  • अक्सर यह देखा गया है कि कुछ लोग किसी के भी उकसाने पर जल्दी भड़क जाते हैं,
  • और कुछ लोगों को जल्दी गुस्सा आता है इस नियम के इस्तेमाल से सही समय पर इन लोगों का फायदा उठा सकते हैं।
  • LAW: 39 STIR UP WATER को CATCH FISH के लिए गुस्सा और भावनाएं रणनीतिक रूप से प्रतिरोधी हैं।

आपको हमेशा शांत और वस्तुनिष्ठ रहना चाहिए।

  • लेकिन अगर आप अपने आप को शांत करते हुए अपने दुश्मनों को नाराज कर सकते हैं, तो आप एक निर्णायक लाभ प्राप्त करते हैं।
  • अपने दुश्मनों को संतुलन से दूर रखें: उनके घमंड में झनझनाहट का पता लगाएं जिसके माध्यम से आप उन्हें लड़खड़ा सकते हैं और आप तार पकड़ सकते हैं।
  • उदाहरण- एक बैठक के दौरान नेपोलियन ने उन लोगों के खिलाफ बोला जो उसके खिलाफ साजिश रच रहे थे।
  • नेपोलियन अप्रत्यक्ष रूप से यह सब Talleyrand सुना रहे थे लेकिन Talleyrand बिल्कुल शांत रहे जैसे उन्हें कोई फर्क नहीं,
  • यह देखकर नेपोलियन आग बबूला हो गया और टैलेंट पर चिल्लाने लगा।

शक्ति का नियम 40- मुफ्त में मिलने वाली चीजों का तिरस्कार करें,

  • कोई भी चीज जो आपको मुफ्त में मिलती है आपके लिए खतरनाक होती है।
  • जब आपको कोई मुफ्त में कुछ भी देने की कोशिश करता है तो उसके पीछे उसका कोई गुप्त उद्देश्य मतलब छुपा हुआ होता है,
  • और यदि आप मुफ्त में किसी का उपहार लेते हैं तो
  • आप उसके कर्ज के नीचे दब जाते हैं, फिर आप उसे किसी कार्य के लिए मना नहीं कर सकते।
  • LAW 40 DESPISE THE FREE LUNCH ‘जो मुफ्त में दिया जाता है वह खतरनाक है-इसमें आमतौर पर या तो ट्रिक या छिपा हुआ दायित्व शामिल होता है।

‘जो लायक है वह जोर देने लायक है।

  • अपने तरीके से भुगतान करके आप स्पष्ट ओएफ आभार, अपराध और छल करते हैं।
  • जूल मूल्य का भुगतान करने के लिए अक्सर बुद्धिमान होता है – उत्कृष्टता के साथ कोई काटने वाला कोनों नहीं है।
  • अपने पैसे से लवलीन रहें और इसे प्रसारित करते रहें, जोर उदारता एक संकेत और एक चुंबक जोर शक्ति है।

शक्ति का नियम 41- अपना रास्ता खुद बनाएं,

  • यदि आपके पिता या पूर्वज बहुत ही कामयाब लोगों में से हैं तो आपको उनकी छवि से निकलने के लिए अधिक मेहनत करनी होगी उतनी ही कामयाबी के लिए।
  • अगर आप अपने बलबूते पर कुछ नहीं करते तो आप अपने पूर्वजों की छवि में खो जाते हैं ।
  • LAW 41 AVOID STEPPING INTO A GREAT MAN’S SHOES ‘जो होता है वह सबसे पहले हमेशा बेहतर होता है, और उसके बाद जो आता है उससे बेहतर होता है।
  • यदि आप एक महान व्यक्ति के रूप में सफल होते हैं या आपके पास एक जामू माता-पिता हैं,
  • तो आपको उन्हें मात देने के लिए उनकी उपलब्धियों को दोगुना करना होगा। अपनी छाया में खो मत जाओ, या अपने स्वयं के बनाने पर नहीं अतीत में फंस गए: अपना खुद का नाम और पहचान बदलते पाठ्यक्रम की स्थापना करें।
  • दबंग पिता की हत्या करना, उसकी विरासत को खत्म करना, और अपने तरीके से बिजली की चमक हासिल करना।

उदहारण –

  • 18वीं शताब्दी का राजा Frederick the Great,उसके पिता उसे किताबें पढ़ने,
  • और वैज्ञानिक गतिविधियों में हिस्सा लेने के लिए मना करते और ऐसा करने पर उसे बहुत मारते।
  • उनके मुताबिक किताबें पढ़ना समय की बर्बादी है वह एक योद्धा थे, उससे यही उम्मीद करते कि वह भी एक योद्धा बने बाद में Frederick Prussia का महान राजा बना,
  • उसने वह सभी चीजें सीखी जो उसके पिता ने उसे बताई।
  • उसने किताबों में बताए सभी तथ्यों का इस्तेमाल अपने जीवन में इस्तेमाल किया और महान राजा बना।
  • जरूरी नहीं कामयाब होने के लिए आप अपने पूर्वजों के रास्ते पर चलें, कामयाबी के लिए अपनी छवि खुद बनाएं।

शक्ति का नियम 42- गडरिए पर आक्रमण करें भेड़े अपने आप बिखर जाएंगी,

  • यहां गडरिए का अभिप्राय नेता से है और भेड़ों का अभिप्राय लोगों से।
  • किसी भी संप्रदाय या संघ पर अपना प्रभाव जमाने के लिए सबसे पहले उसके नेता को अपना निशाना बनाए,
  • यदि आप एक बार उनके राजा को प्रभावित करने में सफल हो गए तो प्रजा आपके नियंत्रण में खुद आ जाएगी।
  • LAW 42 SHEPHERD और SHEEP मिल जाएंगे, जो अक्सर परेशान करने वाले व्यक्ति को एक मजबूत व्यक्ति, अभिमानी, जहर ओजे सद्भावना का पता लगा सकते हैं।
  • यदि आप ऐसे लोगों को काम करने देते हैं, तो दूसरे उनके प्रभाव में आ जाएंगे।
  • इंतजार न करें उन परेशानियों के लिए जो वे गुणा करते हैं, उनके साथ बातचीत करने की कोशिश न करें-वे अपमानजनक हैं।
  • उनके प्रभाव को अलग-थलग करने या उन्हें लुप्त करने के लिए तटस्थ करें।’
  • स्रोत ओ जे पर मुसीबत मुसीबत और भेड़ बिखर जाएगा।

शक्ति का नियम 43- लोगों के दिल और दिमाग को नियंत्रित करना सीखें,

  • अगर आप किसी को अपनी शक्ति से जीतते हैं तो आप उनकी नाराजगी और नफरत भी साथ लेते हैं,
  • और उन पर आप आपका कोई नियंत्रण नहीं होता।
  • प्रोत्साहन और प्रलोभन किसी भी जंग को जीतने का सबसे अच्छा तरीका है,
  • आपको लोगों को अपने रास्ते लाने के लिए उन्हें प्रलोभन और प्रोत्साहन द्वारा बहकाना होगा, और जिस किसी व्यक्ति को आप बहकाते हैं वह आपका एक वफादार मोहरा बन जाता है।
  • लोगों को बहकाने के लिए आपको उनकी भावनाओं और मानसिक कमजोरियों पर काम करना होगा।
    LAW 43 हेयर्स और गार्डन ऑफ साइंस कॉर्नर पर एक प्रतिक्रिया बनाता है, जो अंततः आपके खिलाफ काम करेगी।
  • आपको दूसरों को अपनी दिशा में जाने के लिए बहकाना चाहिए।

आपके द्वारा फुसलाया गया व्यक्ति आपका वफादार मोहरा बन जाता है।

  • और दूसरों को बहकाने का तरीका उनके व्यक्तिगत मनोविज्ञान और कमजोरियों पर काम करना है।
  • अपनी भावनाओं पर काम करने वाली प्रतिरोधी गांठ को नरम करें, इस बात पर खेलें कि वे क्या प्रिय रखती हैं और उन्हें क्या डर है।
  • दूसरों के दिल और दिमाग को अनदेखा करें और वे आपसे नफरत करने के लिए बढ़ेंगे।

शक्ति का नियम 44- आईने का प्रयोग दुश्मन को वश में करने के लिए करें।

  • Marie Mancini जोकि अपनी सभी बहनों में सबसे कम सुंदर थी राजा Louis 14 का दिल जीतने में कामयाब हुई।
  • उसने ध्यान से राजा की दिलचस्पी और गतिविधियों का निरीक्षण किया और यह समझा कि राजा की किस चीज में दिलचस्पी है,
  • और वह भी उन सभी कार्यों में दिलचस्पी लेने लगी ऐसा करने से उसे उसे राजा के साथ लंबी बातें करने और समय बिताने का मौका मिला।
  • राजा Louis 14 के शौक और विचारों की नकल करने से Mancini उसका दिल जीतने में कामयाबी कामयाब हुई।

LAW 44: MIRROR EFFECT के साथ प्रदर्शन और जानकारी हकीकत को उजागर करती है,

  • लेकिन यह धोखे के लिए भी सही उपकरण है: ‘जब आप अपने दुश्मनों को आइना दिखाते हैं, तो जैसा वे करते हैं, पूर्व कार्य करते हैं, वे आपकी रणनीति को समझ नहीं सकते।
  • मिरर इफ़ेक्ट मॉक करता है और उन्हें अपमानित करता है, जिससे वे ओवररक्ट हो जाते हैं।
  • उनके स्तोत्रों का दर्पण पकड़कर, आप उन्हें इस भ्रम के साथ बहकाते हैं कि आप उनके मूल्यों को साझा करते हैं; उनके कार्यों के लिए एक दर्पण पकड़े हुए, आप उन्हें सबक सिखाते हैं। कुछ दर्पण प्रभाव की शक्ति का विरोध कर सकते हैं।

शक्ति का नियम 45- लोगों को परिवर्तन की शिक्षा दें लेकिन तत्काल सुधार ना करें।

  • लोग परिवर्तन की आवश्यकता को समझते हैं लेकिन वह अपनी आदतों के गुलाम होते हैं,
  • तुरंत होने वाले परिवर्तन या बहुत अधिक परिवर्तन को लोग आसानी से स्वीकार नहीं करते,
  • लोगों को अपनी सोच बदलने में या नयी चीजें स्वीकार करने में समय लगता है।
  • LAW 45 समय के लिए आवश्यक है, लेकिन समय से पहले कभी भी हर किसी के लिए सार में परिवर्तन की आवश्यकता को नहीं समझा जाता है, लेकिन दिन-प्रतिदिन के स्तर पर लोग आदत के प्राणी हैं।

बहुत अधिक नवाचार दर्दनाक है, और इससे विद्रोह होगा।

  • यदि आप शक्ति की स्थिति के लिए नए हैं, या एक बाहरी व्यक्ति जो बिजली का आधार बनाने की कोशिश कर रहा है, तो चीजों को करने के पुराने तरीके का सम्मान करने का एक प्रदर्शन करें।
  • यदि परिवर्तन आवश्यक है, तो इसे अतीत में एक सौम्य सुधार की तरह महसूस करें।

उदाहरण-

  • 16 वी सदी, England राजा Henry ने दूसरी शादी का फैसला किया क्योंकि उसकी रानी बच्चे पैदा करने में असमर्थ थी।
  • उसने रानी से तलाक लेने का फैसला किया इस पर कैथोलिक चर्च ने उसकी तलाक योजना का विरोध किया,
  • और कहा कि अगर उसने दूसरी शादी की तो समाज से बहिष्कृत कर देंगे।
  • राजा ने अपने वकील की मदद से दूसरी शादी करने की एक तरकीब बनाई,
  • वकील ने राजा से कहा कि यदि वह रोमन चर्च के साथ अपने संबंध कठोर कर ले, इंग्लैंड में खुद अपने चर्च का मुखिया बन जाए तो वह चाहे जैसे शादी कर सकता है।
  • राजा ने वैसा ही किया इस परिवर्तन से देश में उथल पुथल मच गई लोगों ने राजा का विरोध किया ,
  • और कैथोलिक संस्कारों को पुनः स्थापित करने के लिए जोर दिया।
  • राजा Henry आकस्मिक परिवर्तन का आवाहन करने में असमर्थ रहा।
  • किसी भी नए कार्य या रीति रिवाज को स्वीकार करने में लोगों को वक्त लगता है,

आकस्मिक परिवर्तन कष्टदायक होता है।

  • इसलिए एककाएक परिवर्तन का लोग हमेशा विरोध करते हैं।
  • अगर आप बदलाव करना चाहते हैं तो सबसे पहले लोगों की भावनाओं और विचारों का निरीक्षण कर करें फिर उनके सामने बदलाव का प्रस्ताव रखें, इस तरह आप किसी तरह के विरोध से बचे रहें और लोग धीरे-धीरे आप के बदलाव को स्वीकार कर लेंगे।

शक्ति का नियम 46- कभी ज्यादा संपन्न दिखाई ना दे,

  • आपका दूसरों से बेहतर दिखना खतरनाक हो सकता है लेकिन जब आप बिना गलती के संपन्नता प्राप्त करते हैं,
  • तो यह और भी अधिक खतरनाक है यह लोगों में आप के प्रति ईर्ष्या जगाता है।
  • संपन्नता प्राप्त करने के साथ-साथ आपके दुश्मन भी पैदा हो जाते जो आपके लिए ईर्ष्या की भावना रखते हैं और आप को नुकसान पहुंचा सकते हैं।
  • LAW 46 परफेक्ट दूसरों की तुलना में बेहतर दिखना हमेशा खतरनाक होता है,
  • लेकिन सबसे खतरनाक यह है कि इसमें कोई दोष या कमजोरी नहीं है।

ईर्ष्या मूक शत्रु बनाती है।

  • यह कभी-कभी अवहेलना करने के लिए स्मार्ट है, और ईर्ष्या से बचने के लिए और अधिक मानवीय और दृष्टिकोण को प्रकट करने के लिए, हानिरहित विचारों को स्वीकार करता है।
  • कुल देवता और मृत व्यक्ति ही अशुद्धता से परिपूर्ण लग सकते हैं।

उदाहरण –

  • Sir Walter Raleigh अपनी बुद्धिमत्ता और संपन्नता के कारण सभी पहलुओं में संपन्न थे,
  • उनकी एक अलग ही पहिचान थी।
  • उनकी शक्ति और संपन्नता के कारण उनके प्रतियोगी हमेशा उन्हें नीचा दिखाने की कोशिश करते थे।
  • Raleigh पर राजद्रोह का इल्जाम लगाया गया उन्हें उम्र कैद और बाद में मौत की सजा सुनाई गई।
  • Raleigh व्यापार में, विज्ञान में और रोजमर्रा जिंदगी के सभी क्षेत्रों के स्वामी थे।
  • उनको लगता था कि संपूर्ण दिखने से उनके दोस्त बनेंगे लेकिन यही उनकी सबसे बड़ी गलती थी और अधिक संपन्नता के कारण अपने दुश्मनों की ईर्ष्या के शिकार हो गए।

शक्ति का नियम 47- अपनी जीत के लक्ष्य से आगे ना जाएं,

  • जीत का समय जोखिम का होता है, जीत की खुशी में आपका आत्मविश्वास और उद्दंडता आपको आगे बढ़ने पर मजबूर करती है, और लगातार आपके आगे बढ़ते रहने से आपके नए दुश्मन हो जाते हैं लक्ष्य हासिल करने के बाद सही समय पर रुकना जरूरी होता है।
  • LAW 47 जीत के मत जाओ, कि आप के लिए चिह्नित मार्क क्या है; जीत में, पता करने के लिए जब जीत का क्षण अक्सर जीत का पल सबसे बड़ा संकट है।
  • जीत की गर्मी में, घमंड और अति आत्मविश्वास आपको उस लक्ष्य से पीछे धकेल देते हैं जिसका आपने लक्ष्य किया था, और बहुत दूर जाकर भी आप हार से ज्यादा दुश्मन बनाते हैं। सफलता को अपने सिर पर मत जाने दो।
  • रणनीति और कुशल योजना का कोई विकल्प नहीं है।
  • एक लक्ष्य निर्धारित करें, और जब आप उस तक पहुँचते हैं, तो रुकें।

उदाहरण –

  • 17 वी शताब्दी की फ्रांस के राजा Louis 14 के फाइनेंस मिनिस्टर Nikola Fouquet ने राजा को अपनी अच्छी सेवाएं दी,
  • इससे खुश होकर राजा ने Nikola को वित्तीय सेवाओं का अधीक्षक बना दिया।
  • इस लक्ष्य को हासिल करने के बाद निकोला रुका नहीं उसने राजा को अपना रुतबा और कामयाबी दिखाने के लिए एक बहुत शानदार पार्टी आयोजित की जिसमें उसने बहुत अधिक खर्च किया,
  • यह देख कर राजा ने उसे सरकारी खजाना ज्यादा खर्च करने के जुर्म में जेल में डाल दिया।
Optimal Health

शक्ति का नियम 48- हमेशा निराकार बन कर रहें, हमेशा लोगों की नजरों में रहने से आप ज्यादा खतरे में रहते हैं।

  • अपना सही स्वरूप कभी भी लोगों के सामने ना लाएं।
  • LAW 48 एक आकार लेने के लिए, एक दृश्य योजना होने से, आप अपने आप को हमला करने के लिए खोलते हैं।
  • अपने दुश्मन को काबू करने के लिए एक रूप लेने के बजाय, अपने आप को अनुकूल और आगे बढ़ने के लिए रखें।
  • इस तथ्य को स्वीकार करें कि कुछ भी निश्चित नहीं है और कोई कानून तय नहीं है।
  • अपने आप को बचाने का सबसे अच्छा तरीका पानी के रूप में तरल और निराकार होना है;
  • स्थिरता या स्थायी आदेश पर कभी भी दांव न लगाएं।
  • सब कुछ बदलता है।

सकारात्मक आपकी आंतरिक शक्ति है

Precious Thoughts of Many Great Men

https://optimalhealth.in/secrets-of-success-success-formulas-success-mantras/

https://yeshuafoundation.in/

शक्ति के 48 नियम: 22-35 | Book Summary Of The 48 Laws Of Power In Hindi By Robert Greene (Part 3)

Featured

शक्ति के 48 नियम: 22-35 | Book Summary Of The 48 Laws Of Power In Hindi By Robert Greene (Part 3)

 कभी भी गुरु शक्ति के 48 नियम: 22-35 | The 48 Laws Of Power In Hindi By Robert Greene, नियम १: से आगे न बढ़ें कानून २: कभी भी दोस्तों पर बहुत अधिक भरोसा न करें; दुश्मनों का इस्तेमाल करना सीखें कानून 3: अपने इरादों को छुपाएं कानून 4: हमेशा जरूरत से कम बोलें।

  • 48 कानूनों को अतीत की महान हस्तियों की रणनीति, विजय और विफलताओं के माध्यम से चित्रित किया गया है, जिन्होंने सत्ता का शिकार किया है – या सत्ता के शिकार हुए हैं। सत्ता के 3,000 वर्षों के इतिहास से तैयार, पाठकों को अपने लिए क्या हासिल करने में मदद करने के लिए यह निश्चित मार्गदर्शिका है।

शक्ति का नियम 22 – जब आप जीत ना सको तो अपना आत्मसमर्पण कर दें,

  • क्यों कि इससे पहले कि आप हार जाएँ आप अपने आत्मसमर्पण से दुश्मन के नजदीक पहुँच पायेंगे और जानकारी प्राप्त कर सकेंगे, आत्मसमर्पण से आपको अपनी ताकत को फिर से जुटाने का एक और मौका मिलेगा और आप दोबारा तैयार हो सकेंगे।
  • LAW 22: वर्ष सुरक्षा प्रधान का उपयोग करें: जब आप कमजोर होते हैं, तो आप को कभी नहीं लड़ना चाहिए, सम्मान के लिए लड़ने के बजाय आत्मसमर्पण चुनें।
  • आत्मसमर्पण आपको फिर से कवर करने का समय देता है, अपने विजेता को पीड़ा और जलन देता है, इंतजार करने का समय देता है।
  • उसे सत मत दो। दूसरे गाल को घुमा कर आप उसे अलग कर सकते हैं और उसे खोल सकते हैं।
  • समर्पण को एक उपकरण शक्ति बनाएं।

उदाहरण –

  • Athenians और Melians जब Melos टापू के लिए लड़ रहे थे तो Melians की ताकत कमजोर पड़ गयी,
  • इस पर Athenians ने Melians को आत्मसमर्पण करने के लिए कहा लेकिन Melians ने अपना आत्मसमर्पण नहीं किया,
  • और लड़ते रहे, अंत में जब उनके जीतने की कोई गुंजाइश नहीं रही तो उन्होंने अपना आत्मसमर्पण कर दिया,
  • इसके बाद Athenians ने सभी Melians सैनिको को मारकर उनकी औरतो और बच्चो को गुलाम बना लिया |
  • यादि वो पहले ही आत्मसमर्पण कर देते तो एसा नहीं होता |

शक्ति का नियम 23 – आपकी शक्तियों के प्रभावी स्तेमाल के लिए जरूरी है कि आप अपनी शक्तियों को केन्द्रित करें,

  • अगर आप केन्द्रित नहीं हैं तो आप अपनी शक्तियों का उचित प्रयोग नहीं कर सकते।
  • LAW 23 अपने अधिकारों को अपने सबसे मजबूत बिंदु पर केंद्रित रखकर अपने बलों और ऊर्जा का संरक्षण करें।
  • आप एक समृद्ध खदान को खोज कर और अधिक गहराई से खनन करते हैं,
  • जबकि एक उथली खदान से दूसरी तीव्रता वाले डी-बीट्स से अलग होकर।
  • जब आप को ऊंचा करने के लिए शक्ति के स्रोतों की तलाश करते हैं, तो एक प्रमुख संरक्षक, जाट गाय को खोजें, जो आपको दूध जोरा आने वाले लंबे समय तक देगा।

उदाहरण –

  • Romans ने जब आसपास के राज्यों पर कब्ज़ा करने की कोशिश की,
  • तो Barbarian जनजाति पर हमला करने के चक्कर में वो अपना राज्य भी हार गए ।
  • अपनी शक्ति को केन्द्रित करने के लिए जरूरी है कि आप अपने विचारों को केन्द्रित करें,
  • जब आपकी सारी शक्ति व् ध्यान एक ही दिशा में लगते हैं तो वहां पर आपकी जीत निश्चित है,
  • और तभी आप अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सकते हैं ।

शक्ति का नियम 24-कामयाबी के लिए कुशल दरबारी की भूमिका निभाएं,

  • किसी भी कार्य को अप्रत्यक्ष रूप से करने की कला को सीखें।
  • LAW 24 PLAY THE PERFECT COURTIER:
  • दरबारी एक ऐसी दुनिया में पनपते हैं जहां सब कुछ सत्ता और राजनीति निपुणता के इर्द-गिर्द घूमता है।
  • उन्होंने आर्ट, अप्रत्यक्ष रूप से महारत हासिल की है;
  • वह चपटा है, वरिष्ठों को पैदावार देता है, और सबसे तिरछा और शालीन तरीके से दूसरों पर सत्ता का दावा करता है।
  • कानूनों को जानें और लागू करें, दरबार और अदालत में जार आप कैसे उठ सकते हैं इसकी कोई सीमा नहीं है।

उदाहरण-

  • Talleyrand जो फ्रांस के मशहूर राजनीतिज्ञ थे, उन्होंने राजा Nepoleon Bonapart के दरबार में दरबारी और विदेश मंत्री का काम किया था।
  • Talleyrand को Nepoleon ने बहुत कम जिम्मेदारी दी हुई थी, Talleyrand हमेशा Nepoleon को हमेशा अच्छी सलाह देते और उनके हर फैसले को मंजूर करते।

शक्ति का नियम 25 – यदि आप अभी तक कामयाब नहीं हैं और समाज में आपका महत्व नहीं है तो अपने आप को दोवारा तैयार करें |

  • LAW 25 अपने आप को बनाए रखें उन भूमिकाओं को स्वीकार न करें जो समाज आप पर करता है।
  • एक नई पहचान जॉगिंग करके अपने आप को फिर से बनाएं,
  • जो ध्यान आकर्षित करता है और दर्शकों को कभी परेशान नहीं करता है।
  • दूसरों के लिए इसे ठीक करने के बजाय अपनी खुद की छवि के स्वामी बनें।
  • अपने सार्वजनिक इशारों और कार्यों में नाटकीय उपकरणों को शामिल करें,
  • आपकी शक्ति को बढ़ाया जाएगा और आपका चरित्र जीवन से बड़ा प्रतीत होगा।

उदहारण –

  • Aeurore Dupin जो कि एक फ्रांस की महिला थी, जब वह पेरिस गयी तो उसने समाज की सच्चाई का सामना किया, उसने देखा कि महिलाएं घर से बाहर का काम नहीं करतीं थीं, वो केवल घर का काम करती और पुरुष घर से बहार का काम करते थे ।
  • जब पेरिस में उसने अपना लेख एक एडिटर को दिया तो उस एडिटर ने महिला से कहा कि तुम घर का काम करो लेखन और साहित्य तुम्हारे लिए नहीं है।
  • इसके बाद Aeurore Dupin ने लेखक बनने का फैसला किया, और अपने पति और बच्चों को छोड़कर चली गयी ।
  • उसने कड़ी मेहनत की और अपने आप को दोबारा तैयार किया और एक साल बाद अपना उपन्यास George Sand प्रकाशित किया, उसके बाद उस उपन्यास को उस एडिटर ने स्वीकार भी किया।

शक्ति का नियम 26- अपने हाथ हमेशा साफ रखें, याद रहे कि आपके हाथ कभी भी बुरे कामों और गलतियों से ना रंगे जाएं,

  • आप लोगों के सामने शिष्टाचार की मिशाल बनकर रहें,
  • किसी भी कार्य में अपनी भागीदारी को छुपाने के लिए दूसरों को बली का बकरा बनाएं ।
  • LAW 26 अपने हाथों को साफ करें आप नागरिकता और कार्यकुशलता का एक विरोधी होना चाहिए:
  • आपके हाथों को गलतियों और बुरे कामों से कभी नहीं भागना चाहिए।
  • अपनी भागीदारी को छिपाने के लिए बलि का बकरा और बिल्ली के पंजे के रूप में दूसरों का उपयोग करके ऐसी बेदाग उपस्थिति बनाए रखें।

उदहारण-

  • दूसरी शताब्दी का चीन का सबसे शक्तिशाली नेता Tsao, जब एक शहर की घेराबंदी के दौरान अनाज गणना की गलती के कारण अनाज आपूर्ति की कमी हो गई तो लोग अनाज की कमी के लिए उसे ही दोष दे रहे थे।
  • Tsao को लगा यदि इसी तरह चलता रहा तो शहर में उसके खिलाफ दंगे हो सकते हैं।
  • उसने अनाज सप्लाई मुखिया को मदद के बहाने बुलाया और सारा इल्जाम उसके सर रख दिया और उसका सर काट दिया।

Optimal Health

शक्ति के 48 नियम | Book Summary Of The 48 Laws Of Power In Hindi By Robert Greene

शक्ति का नियम 27- लोगों को कुछ ऐसा चाहिए जिस पर वह भरोसा कर सकें,

  • आप उनकी इच्छाओं की कद्र कर भरोसे का केंद्र बने, उनको कुछ नया बताएं जिस पर वह आप पर भरोसा कर सकें।
  • लोगों में अपना विश्वास जगाकर, भारी मात्रा में अपने प्रशंसक बनाएं।
  • व्यापारी, राजनेता और सफल लोग, लोगों में अपना विश्वास जगाकर लोगों को अपना प्रशंसक बनाते हैं,
  • और अधिक प्रशंसक होने की वजह से लोग अधिक शक्तिशाली और कामयाब होते हैं।
  • LAW 27 साल की उम्र में लोगों को किसी चीज पर विश्वास करने के लिए एक पंक्ति बनाने के लिए आवश्यक होने की जरूरत है।
  • इस तरह की इच्छा का केंद्र बिंदु उन्हें एक कारण, एक नई आस्था का पालन करने के लिए बनें।
  • अपने शब्दों को अस्पष्ट रखें, लेकिन वादे से भरा हुआ; तर्कसंगतता और स्पष्ट सोच पर उत्साह पर जोर दें।
  • अपने नए शिष्यों को अनुष्ठान करने के लिए दें, उन्हें अपनी ओर से बलिदान करने के लिए कहें।
  • संगठित धर्म और भव्य कारणों के अभाव में, आपकी नई विश्वास प्रणाली आपको अनकही शक्ति प्रदान करेगी।

शक्ति का नियम 28- LAW 28 BOLDNESS के साथ कार्रवाई:

  • किसी भी कार्य को अपने पूरे आत्मविश्वास और बहादुरी से करें, यदि किसी कार्य को करने का आप में आत्मविश्वास नहीं है तो आपकी हिचकिचाहट उस कार्य में बाधा पैदा कर सकती है।
  • यदि आप कार्रवाई के एक कोर्स के बारे में अनिश्चित हैं, तो इसका प्रयास न करें।
  • आपकी शंकाएँ और झिझक आपके अमल को संक्रमित करेंगे।
  • समयबद्धता खतरनाक है: साहस के साथ प्रवेश करने के लिए बेहतर है।
  • दुस्साहस के माध्यम से आपके द्वारा की जाने वाली कोई भी गलती अधिक दुस्साहस के साथ आसानी से ठीक हो जाती है।
  • हर कोई बोल्ड की प्रशंसा करता है; डरपोक का कोई सम्मान नहीं करता।

शक्ति का नियम 29- LAW 29 अंत के अंत में सभी योजनाएं समाप्त होती हैं।

  • जीवन में कोई भी लक्ष्य हासिल करने के लिए अंत तक पहुंचने की पूरी योजना बनाएं, जब आपके पास कोई लक्ष्य होता है और उसे पूरा करने के लिए यदि आपके पास उसके लिए कोई अंतिम योजना नहीं है, तो तब आप उस लक्ष्य को आसानी से प्राप्त नहीं कर सकते।
  • यदि आपके पास कोई लक्ष्य है तो उसे पाने के लिए अंतिम योजना बनाएं।
  • इसके लिए सभी तरह की योजना बनाएं, सभी संभावित परिणामों, बाधाओं और भाग्य के मोड़ को ध्यान में रखते हुए जो आपकी कड़ी मेहनत को उलट सकता है और दूसरों को गौरव दे सकता है।
  • अंत तक योजना बनाने से आप परिस्थितियों से अभिभूत नहीं होंगे और आपको पता चल जाएगा कि कब रुकना है।
  • भाग्य का मार्गदर्शन करें और आगे की सोचकर भविष्य को निर्धारित करने में मदद करें।

शक्ति का नियम 30- दूसरों को यह दिखाएं कि आपने अपनी उपलब्धियां सरलता से हासिल की हैं।

  • आपका कार्य लोगों को सरल लगना चाहिए लोगों को यह कभी ना बताएं कि आपने सफलता या किसी कार्य को करने के लिए किस तरकीब का इस्तेमाल किया है।
  • यदि लोगों को आपकी तरकीब या चाल पता चलती है तो वह उसका इस्तेमाल आपके खिलाफ कर सकते हैं।
  • LAW 30 अपने कामों को पूरा करें, आपके कार्यों को स्वाभाविक और आसानी से निष्पादित किया जाना चाहिए।
  • सभी शौचालय और अभ्यास जो उनमें जाते हैं, और सभी चालाक चालें भी छिपी होनी चाहिए।
  • जब आप कार्य करते हैं, तो सहजता से कार्य करें, जैसे कि आप बहुत कुछ कर सकते हैं।
  • खुलासा करने के प्रलोभन से बचें कि आप कितनी मेहनत करते हैं-यह केवल सवाल उठाता है।
  • कोई भी आपके गुर नहीं सिखाएगा या वे आपके खिलाफ इस्तेमाल किए जाएंगे।

शक्ति का नियम 31- LAW 31 नियंत्रणों का पालन करें:

  • विकल्पों को नियंत्रित कर दूसरों को अपने पत्ते खेलने पर मजबूर करें, जब आप दूसरों को विकल्प देते हैं तो आप उनका इस्तेमाल अच्छी तरह से कर सकते हैं।
  • इससे आप के प्रतिद्वंदी को लगता है कि वे अपने नियंत्रण में हैं लेकिन वे कठपुतली की तरह आपके नियंत्रण में होते हैं।
  • उन्हें इस तरह के विकल्प दें जिससे आप उन्हें पूरी तरह नियंत्रण में कर उनका फायदा ले सकें।
  • कार्ड के साथ खेलने के लिए दूसरों को प्राप्त करें, आप सबसे अच्छे धोखे हैं जो दूसरे व्यक्ति को एक विकल्प देते प्रतीत होते हैं: आपके पीड़ितों को लगता है कि वे नियंत्रण में हैं, लेकिन वास्तव में आपके कठपुतलियाँ हैं।
  • उन लोगों को विकल्प दें जो आपके पक्ष में आते हैं जो भी वे चुनते हैं।
  • दो बुराइयों के बीच चयन करने के लिए, दोनों आपके उद्देश्य की पूर्ति करते हैं।
  • उन्हें एक दुविधा के सींगों पर रखो: वे जहां भी मुड़ते हैं, वे गोर होते हैं।
  • लोगों को भविष्यवाणियों के बारे में बताएं।

शक्ति का नियम 32- लोगों की कल्पनाओं का इस्तेमाल अपने उद्देश्य पूर्ति के लिए करें।

  • लोगों की कल्पनाएं उनकी आंखों पर पर्दा डाले रखती हैं और वे जीवन में कठोर सच्चाई को नहीं देख पाते।
  • रॉबर्ट ग्रीन कहते हैं कि सकारात्मक बदलाव धीरे-धीरे होता है,
  • जीवन में सफल होने के लिए आपको कड़ी मेहनत, सब्र, अच्छी किस्मत और बलिदान की जरूरत होती है,
  • लेकिन लोग इन बातों को नजरअंदाज कर आसानी से कामयाब होना चाहते हैं।
  • इस तरह के लोग सफलता के लिए कोई न कोई आसान रास्ता खोजते रहते हैं,
  • इसलिए इस तरह के लोगों को आसानी से बेवकूफ बनाया जा सकता है।

LAW 32: सत्य को अक्सर इसलिए टाला जाता है क्योंकि यह बदसूरत और अप्रिय है।

  • सत्य और वास्तविकता के लिए कभी भी अपील न करें जब तक कि आप उस क्रोध के लिए तैयार न हों जो मोहभंग से आता है।
  • जीवन इतना कठोर और व्यथित कर देने वाला है कि जो लोग कल्पना का निर्माण कर सकते हैं या कल्पना कर सकते हैं,
  • वे रेगिस्तान में ओलों की तरह हैं: हर कोई उनके लिए झुंड करता है।
  • जनता की कल्पनाओं में दोहन करने की महान शक्ति है।

शक्ति का नियम 33- लोगों की कमजोरी को ढूंढें, जिन पर उनका अधिकार नहीं और उसे लोगों के खिलाफ इस्तेमाल करें।

  • कुछ लोग आसानी अपनी कमजोरी अपने आप बताते हैं,
  • यदि आपको लोगों की कमजोरी के बारे में पता चल जाए तो आप जरूरत पड़ने पर उसका इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • LAW 33 DISCOVER EACH MAN’S THUMBSCREW हर किसी की कमजोरी होती है, महल की दीवार में एक खाई।
  • यह कमजोरी आमतौर पर एक असुरक्षा, एक बेकाबू भावना या आवश्यकता है;
  • यह एक छोटा सा गुप्त सुख भी हो सकता है।
  • किसी भी तरह से, एक बार मिला, यह एक अंगूठे है जिसे आप अपने लाभ के लिए बदल सकते हैं।

उदाहरण-

  • 16 वीं शताब्दी के फ्रांस की रानी कैथरीन जो राजा हेनरी की पत्नी थी। वह पुरुषों की कमजोरी को उसके खिलाफ इस्तेमाल करती थी। वह लोगों की संवेदनशीलता और भावुकता का प्रयोग अपने फायदे के लिए करती थी।
  • दूसरों की कमजोरी जानने के लिए आप लोगों से बात करें, उनके बारे में जाने, उन्हें क्या पसंद है क्या नहीं और क्या करता है।
  • उसकी कमजोरी को आप भविष्य में जरुरत पड़ने पर इस्तेमाल कर सकते हैं।

Optimal Health

शक्ति के 48 नियम | Book Summary Of The 48 Laws Of Power In Hindi By Robert Greene

शक्ति का नियम 34- खुद का सम्मान करें और अपनी नजरों में रॉयल बनकर रहें और एक राजा की तरह नजर आए।

  • आप जिस तरह लोगों को दिखेंगे लोग उसी तरह से आप के साथ व्यवहार करेंगे अगर आप साधारण दिखेंगे तो लोग उसी तरह आप से व्यवहार करेंगे।
  • LAW 34 BE ROYAL IN YOUR OWN फैशन एक राजा स्वयं का सम्मान करता है और दूसरों में उसी भावना को प्रेरित करता है।
  • कानूनी रूप से और अपनी शक्तियों में विश्वास करके, आप खुद को मुकुट पहनने के लिए किस्मत में बनाते हैं।

उदाहरण-

  • Orleans के राजा Louis Philippe जो ताज की जगह अपने सिर पर टोपी और छाता लेकर पेरिस की सड़कों पर निकलते थे, उनका व्यवहार एक राजा के लिए उचित नहीं था।
  • जिसके कारण लोगों के मन में उनके खिलाफ सम्मान कम हो गया, दूसरी तरफ , Columbus अमेरिका की खोज करने वाले अपने व्यवहार और साहसी पन के कारण लोगों का दिल जीत लेते थे, बे खुद का सम्मान करते और एक राजा की तरह जीवन जीते थे, वह जहां भी जाते लोग आसानी से उनकी तरफ आकर्षित हो जाते थे।
  • सबसे पहले आप खुद का सम्मान करो और उस पर यकीन करो, आपको जो भी चाहिए उसे पूरे आत्मविश्वास से मांगो बड़े लोगों से संपर्क बनाओ उन्हें तोहफे दो, उन्हें दिखाएं कि आप उनकी बराबरी कर सकते हैं।
  • अगर आप कम मांगोगे तो आपको हमेशा कम ही मिलेगा, किसी भी कार्य के लिए अपनी कीमत ज्यादा रखें।

Optimal Health

शक्ति के 48 नियम | Book Summary Of The 48 Laws Of Power In Hindi By Robert Greene

शक्ति का नियम 35- समय प्रबंधन की कला को सीखे,

  • सही समय पर सही कार्य करें, हमेशा धीरज से कार्य करें, विश्वास से करें,
  • कार्य में जल्दबाजी करने से आप का खुद पर नियंत्रण नहीं होता, हम कार्य तभी करते हैं जब परिस्थिति हमें उस कार्य को करने के लिए मजबूर करती है,
  • परिस्थिति को देखकर सही वक्त पर सही कार्य करें।
    LAW 35 मास्टर ऑफ टाइमिंग कभी भी जल्दी-जल्दी में नहीं लगता है कि खुद पर और समय के साथ ओजे कंट्रोल में कमी हो।
  • हमेशा धैर्य रखें, जैसे कि आप जानते हैं कि अंततः सब कुछ आपके पास आ जाएगा।
  • सही समय पर जासूस बनें; उस समय की भावना को सूँघा, जो रुझान आपको सत्ता तक ले जाएगा।
  • जब समय अभी तक पका नहीं है, और जब यह पहुंच गया है तब जमकर प्रहार करने के लिए खड़े होने के लिए लेट जाएँ।

The 48 Laws Of Power (The Modern Machiavellian Robert Greene, 1) Paperback – 20 November 2000

The 48 Laws of Power Audio CD – Import, 2 April 2007

शक्ति के 48 नियम: 11-21 | Book Summary Of The 48 Laws Of Power In Hindi By Robert Greene (Part 2)

Featured

शक्ति के 48 नियम: 11-21 | Book Summary Of The 48 Laws Of Power In Hindi By Robert Greene

(Part 2)

शक्ति के 48 नियम: 11-21 | Book Summary Of The 48 Laws Of Power In Hindi By Robert Greene (Part 2). बिजली के इतिहास के 3000 साल से तैयार है, इस में पाठकों की सहायता करने के लिए निश्चित गाइड खुद के लिए लक्ष्य को हासिल क्या महारानी एलिजाबेथ, हेनरी किसिंजर, लुई XIV और मैकियावेली मुश्किल तरीके से सीखा है। शक्ति के 48 नियम एक से दस (1-10) नियम के लिये भाग 1 पढ़िये।  शक्ति के 48 नियम: 1-10 | Book Summary Of The 48 Laws Of Power In Hindi By Robert Greene

शक्ति के 48 नियम: 11-21 | Book Summary Of The 48 Laws Of Power In Hindi By Robert Greene
शक्ति के 48 नियम: 11-21 | Book Summary Of The 48 Laws Of Power In Hindi By Robert Greene.

शक्ति का नियम 11- लोगों को अपने ऊपर निर्भर करना सीखें,

  • लोगों को अपने ऊपर निर्भर करके आप लोगों में अपने बजूद व अहमियत को ताकतवर बनायें ।
    LAW 11: LEARN TO KEEP PEOPLE DEPENDENT ON YOU अपनी आज़ादी को बनाए रखने के लिए आपको हमेशा चाहिए और चाहिए।
  • जितना अधिक आप पर निर्भर होते हैं, उतनी अधिक स्वतंत्रता आपके पास होती है।
  • लोगों को अपनी खुशी और समृद्धि के लिए आप पर निर्भर करें और आपको डरने की कोई बात नहीं है।
  • उन्हें कभी इतना न सिखाएं कि वे आपके बिना कर सकें।

उदाहरण-

  • जर्मनी के एक राजनीतिज्ञ और नेता Von Bismark ने एक Federick William नाम का एक कमजोर राजा खोजा जो Prussia का राजा था ।
  • Bismark ने राजा को पूरी तरह अपने ऊपर निर्भर कर लिया, उसने राज्य में अपनी स्थिति को इतना मजबूत बना लिया कि राज्य में उसकी तरह कोई और निर्णय नहीं ले सकता था ।
  • राजा की मृत्यु के बाद राजा का भाई उसकी जगह गद्दी पर बैठा, वह भी अपने सभी मुख्य कार्यो के लिए Bismark पर निर्भर हुआ ।
  • जब आप लोगों को अपने ऊपर निर्भर करना सीख जाते हैं, तो उनके बीच आपकी स्थिति इतनी मजबूत हो जाती है कि लोग आपको नजरअंदाज नहीं कर सकते, आप उनका इस्तेमाल अपने हिसाब से कर सकते हैं|

शक्ति का नियम 12- अपनी ईमानदारी और उदारता से अपने शिकार को बस में करें,

  • अपनी ईमानदारी से लोगों के सुरक्षा कवच को भेदे |
  • LAW 12: अपने चयन की ईमानदार और उदारता का उपयोग करने के लिए अपनी ईमानदारी का उपयोग करें,
  • एक ईमानदार और ईमानदार कदम दर्जनों बेईमानों को कवर करेगा।
  • ईमानदारी और उदारता के खुले दिल के इशारे यहां तक ​​कि सबसे संदिग्ध लोगों के पहरेदार को नीचे लाते हैं।एक बार जब आपकी चयनात्मक ईमानदारी उनके कवच में छेद खोल देती है, तो आप उन्हें धोखा दे सकते हैं और उन्हें अपनी इच्छा से छेड़छाड़ कर सकते हैं।
  • एक समय पर उपहार-एक ट्रोजन घोड़ा-एक ही उद्देश्य की सेवा करेगा।
  • लोग जल्दी ही किसी पर यकीन नहीं करते, अगर आप उन्हें अपनी उदारता और ईमानदारी दिखायेंगे तो आप जैसे चाहें उस तरह उनका इस्तेमाल कर सकते हैं|

शक्ति का नियम 13- जब आप किसी से मदद लेने जाएँ तो उनकी रूचि को ध्यान में रखें,

  • आपको उनके intrest के बारे में पता होना चाहिए कि वो आपसे क्या चाहते हैं ।
  • LAW 13: जब लोगों की मदद के लिए चुने जाने का समय हो, तो उन लोगों के बारे में बताएं, जो कभी मुरी या विदेश में रहते हैं, अगर आपको मदद के लिए सहयोगी बनने की जरूरत है, तो उन्हें अपने पिछले सहयोग और अच्छे कामों की याद दिलाने की जहमत न उठाएं।
  • वह आपको नजरअंदाज करने का तरीका खोज लेगा।
  • इसके बजाय, अपने अनुरोध में, या उसके साथ अपने गठबंधन में कुछ को उजागर करें, जो उसे लाभान्वित करेगा, और इसे सभी अनुपात से बाहर जोर देगा।
  • जब वह अपने लिए कुछ हासिल करता है, तो वह उत्साह से जवाब देगा।
  • यदि आप किसी से मदद लेने जाते हैं तो यह ध्यान रखें कि उन्हें किस चीज की जरूरत है,
  • और कुछ एसा ऑफर करें जिसकी उन्हें उस समय जरूरत हो तो निश्चित ही वो आपकी मदद के लिए तैयार हो जायेंगे,
  • लोग स्वार्थी होते हैं उन्हें मदद के बदले कुछ ना कुछ चाहिए खासकर जब आपको किसी चीज की जरूरत हो |

शक्ति का नियम 14- दोस्त की तरह दिखें और जासूस की तरह काम करें ।

  • LAW 14: एक दोस्त के रूप में, एक प्रतिद्वंद्वी के रूप में काम करता है अपने प्रतिद्वंद्वी के बारे में जानना महत्वपूर्ण है।
  • बहुमूल्य जानकारी इकट्ठा करने के लिए जासूसों का उपयोग करें जो आपको एक कदम आगे रखेगा।
  • बेहतर अभी भी: अपने आप को जासूस खेलते हैं।
  • विनम्र सामाजिक मुठभेड़ों में, जांच के लिए लीक।
  • लोगों से उनकी कमजोरियों और इरादों को प्रकट करने के लिए अप्रत्यक्ष प्रश्न पूछें।
  • ऐसा कोई अवसर नहीं है जो कला जुल जासूसी का अवसर नहीं है।

उदाहरण-

  • Charies Maurice जो कि फ्रांस के महान राजनीतिज्ञ और कूटनीतिज्ञ थे, वे अपने विचार कभी भी किसी को नहीं बताते थे ।
  • वो सभी को अपने विचार प्रकट करने का मौका हमेशा देते थे, जिससे कि वो लोगों की योजनाओं के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकें, वो अपने विचार और योजनाओं को छुपाने में माहिर थे ।
  • Charies Maurice दूसरों से जानकारी प्राप्त करने के लिए लोगों से इस तरह से बातें करते थे, जिससे लोगों को लगता था कि वो उन्हें कोई राज बता रहे हैं, इस तरकीब से लोग उन्हें अपनी जानकारी बताने के लिए उत्सुक हो जाते थे |

शक्ति का नियम 15- अपने दुश्मन को पूरी तरह से खत्म कर दें,

  • कौटिल्य से अनुसार अपने दुश्मन को कभी कमजोर समझकर नजरंदाज मत करें, दुश्मन के अवशेष बीमारी और आग की तरह होते हैं जो समय के साथ साथ और भी खतरनाक बन जाता है|
  • LAW 15 अपने देश को पूरी तरह से तैयार करें, क्योंकि सभी महान नेता मूसा को जानते हैं कि एक भयभीत दुश्मन को पूरी तरह से कुचल दिया जाना चाहिए।
  • कभी-कभी उन्होंने इसे कठिन तरीके से सीखा है।
  • अगर एक अंगारे को छोड़ दिया जाता है, तो चाहे वह कितना भी मंद क्यों न हो, आग अंततः नष्ट हो जाएगी।
  • कुल विनाश से आधे रास्ते को रोकने के माध्यम से अधिक खो गया है: दुश्मन ठीक हो जाएगा, और बदला लेना चाहेगा।
  • न केवल शरीर में बल्कि आत्मा में भी उसे कुचल दें।
  • यहाँ पर आपका असली दुश्मन आपकी परिस्थितियों से है, आपकी परिस्थितियां चाहे कैसी भी हो आप हमेशा उन पर हावी रहें|
  • आप चाहे कहीं भी काम करते हों, अपने कार्यक्षेत्र में हमेशा हमेशा अपनी परिस्थितियों से आगे रहें, जिससे कि आप अपने साथ काम करने वाले लोगों को मात दे सकें |
शक्ति के 48 नियम: 11-21 | Book Summary Of The 48 Laws Of Power In Hindi By Robert Greene.
शक्ति के 48 नियम: 11-21 | Book Summary Of The 48 Laws Of Power In Hindi By Robert Greene.

शक्ति का नियम 16- अपना आदर और प्रतिष्ठा बढ़ाने के लिए अपनी अनुपस्थि का प्रयोग करें ।

  • अगर आप आसानी से हर जगह लोगों के लिए उपलब्ध हो जाते हैं तो यह लोगों में आपके प्रति सम्मान कम करता है,
  • और उन्हें आपकी कमी महसूस नहीं होती ।
  • LAW 16 USE ABSENCE TO INCREASE RESPECT AND HONOR बहुत ज्यादा सर्कुलेशन के कारण कीमत में गिरावट आती है:
  • जितना अधिक आप देखे और सुने जाते हैं, उतने ही सामान्य दिखाई देते हैं।
  • यदि आप पहले से ही एक समूह में स्थापित हैं,
  • तो इससे अस्थाई निकासी आपको अधिक चर्चा में लाएगी, यहां तक ​​कि अधिक प्रशंसा भी।
  • आपको सीखना चाहिए कि कब छोड़ना है। कमी के माध्यम से मूल्य बनाएँ।

उदहारण-

  • जब Mademe Guillelma जितना अधिक अपने प्रेमी के लिए उपलब्ध रहती,
  • और आगे बढती तो उतनी ही अधिक साधारण लगती,
  • जब उसने अपने प्रेमी से मिलने के लिए मना कर दिया, तब उसके प्रेमी को उसकी कमी का अहसास हुआ,
  • उसके बाद वह उसकी दिल से प्रशंसा करने लगा और उसे बापस लाने के बारे में सोचने लगा ।
  • इसलिए लोगों के बीच अपनी प्रतिष्ठा बढाने के लिए अपनी अनुपस्थि का प्रयोग कीजिये |

Optimal Health

शक्ति के 48 नियम | Book Summary Of The 48 Laws Of Power In Hindi By Robert Greene

शक्ति का नियम 17- अपने आप को अप्रत्याशित बनाएं जिससे कि लोग आपके व्यवहार का फायदा ना उठा पायें,

  • जब लोग आपके व्यवहार से परिचित होते हैं और उन्हें पता होता है कि आप क्या करने वाले हैं तो वे अपनी चाल चल देते हैं ।
  • LAW 17 यात्रियों की संख्या में वृद्धि हुई है: मनुष्यों का निजी एयर इंडिया एक आदत है,
  • जिसे एक अतुलनीय आवश्यकता के साथ अन्य लोगों के धर्मों में परिचित देखने की आवश्यकता है।
  • आपकी पूर्व आहार क्षमता उन्हें नियंत्रण की भावना देती है।
  • तालिकाओं को जूम करें: जानबूझकर अप्रत्याशित हो। ऐसा लगता है कि व्यवहार में कोई निरंतरता या उद्देश्य नहीं है, जो उन्हें संतुलन बनाए रखेगा, और वे आपकी चालों को समझाने का प्रयास करेंगे। एक चरम पर ले जाया गया, यह रणनीति भयभीत और आतंकित कर सकती है।

उदाहरण-

  • जब Picaso एक मशहूर आर्टिस्ट बन गए थे, तब वो एक अमेरिकन संगीतकार Paul के साथ काम कर रहे थे।
  • जब एक दिन अचानक उन्होंने Paul के साथ काम करने से मना कर दिया जिसे Paul को जरा सा भी अंदाजा नहीं था, तो Paul ने Picaso को ज्यादा पैसे देने का फैसला किया |
  • जब लोग आपकी आदतों और व्यवहार से परिचित हो जाते हैं तो वे उसका फायदा उठाते हैं, और आपके खिलाफ षड़यंत्र बना सकते हैं, लेकिन जब आप अपने आपको अप्रत्याशित बना लेते हैं, कभी भी अप्रत्याशित कदम उठाते हैं, जिसकी लोगों को उम्मीद नहीं होती तो लोग आपके खिलाफ कोई षड़यंत्र नहीं बना सकते क्यों कि वो उसके लिए तैयार नहीं होते |

शक्ति का नियम 18- अपने बचाव के लिए अलगाव खतरनाक है,

  • जब आप दोस्तों और घर परिवार से अलग होते हैं तो आपको धोका देना उतना ही आसान है इसलिए अपने बचाव के लिए किले ना बनाएं ।
  • LAW 18 अपने आप को साबित करने के लिए निर्माण न करें- अलगाव खतरनाक है दुनिया खतरनाक है, और दुश्मन हर जगह हैं-हर किसी को अपनी रक्षा करनी होगी।
  • एक किला सबसे सुरक्षित लगता है। लेकिन अलगाव आपको अधिक खतरों से बचाता है क्योंकि यह आपकी रक्षा करता है, यह आपको निर्माण में मूल्यवान से काट देता है, यह आपको विशिष्ट और आसान लक्ष्य बनाता है।
  • लोगों के बीच घूमना, सहयोगियों को ढूंढना बेहतर है। आपको भीड़ द्वारा अपने दुश्मनों से बचा लिया जाता है।

Optimal Health

शक्ति के 48 नियम | Book Summary Of The 48 Laws Of Power In Hindi By Robert Greene

शक्ति का नियम 19 जब आप दोस्त और परिवार के साथ रहते हैं तो आप अपने दुश्मन से बचे रहते हैं,

  • और आपको सभी जरूरी आवश्यक सूचनाएं मिलती रहती हैं,
  • आपके अलग रहने से आपके लिए खतरा और भी बढ़ जाता है, दुश्मन की उपस्थिति हर जगह है ।
  • LAW 19 पता है कि आप गलत लोगों के साथ व्यवहार नहीं करते हैं, दुनिया में कई अलग-अलग प्रकार के लोग हैं, और आप कभी भी यह नहीं मान सकते हैं कि हर कोई आपकी रणनीतियों पर उसी तरह से प्रतिक्रिया देगा।
  • कुछ लोगों को धोखा देना या उन्हें छोड़ देना और वे अपना शेष जीवन बदला लेने के लिए बिताएंगे।
  • वे भेड़ के बच्चे के कपड़ों में भेड़िये हैं।
  • अपने पीड़ितों और विरोधियों को सावधानी से चुनें, फिर कभी गलत व्यक्ति को अपमानित या धोखा न दें।

शक्ति का नियम 20- कभी भी किसी से पक्का वायदा या कमिटमेंट ना करें,

  • यदि आप एसा करते हैं तो आपका नियंत्रण किसी और के हाथ में चला जाता है और आप उस कार्य को करने के लिए प्रतिवद्ध हो जाते हैं, इससे आपकी छवि हल्की होती है।
  • आपको अपनी छवि इस तरह बनानी चाहिए कि लोग आपसे संपर्क करने की कोशिस करें ।
    LAW 20 किसी की भी अवमानना ​​न करें यह वह जूल है जो हमेशा पक्ष लेने के लिए भागता है।
  • किसी भी पक्ष या कारण के लिए प्रतिबद्ध न हों बल्कि स्वयं।अपनी स्वतंत्रता को बनाए रखते हुए, आप एक-दूसरे के खिलाफ खेलने वाले लोगों के स्वामी बन जाते हैं, जिससे वे आपका पीछा करते हैं।

उदाहारण –

  • Alcibiades जो एक ग्रीक का प्रभावी योद्धा और राजनेता था, लोग उससे बहुत प्रभावित थे, उसने किसी को कमिटमेंट ना देकर सभी को प्रभावित किया हुआ था, इसलिए Athenians और Spartans उसका ख़ास ध्यान रखते थे क्यों कि सभी Persianians उससे बहुत ही प्रभावित थे तथा उसका आदर करते थे।
  • किसी से कमिटमेंट का मतलब है खुद को दूसरे के हवाले कर देना, इस तरह से आपका खुद पर नियंत्रण कम हो जाता है और आपका कर्तव्य बढ़ जाता है, इसलिए मजबूत छवि बनाने के लिए आपको जरूरी है कि आप किसी से पक्का वायदा ना करें, और खुद की एक मजबूत छबि बनाएं।

Optimal Health

शक्ति के 48 नियम | Book Summary Of The 48 Laws Of Power In Hindi By Robert Greene

शक्ति का नियम 21- अपने प्रतियोगी को हमेशा अपने से अधिक होशियार समझने का मौका दें,

  • और उसके सामने मूर्ख दिखने का ढोंग रचाएं, यदि एक बार उसे यकीन हो गया कि वो आपसे अधिक बुद्धिमान और शक्तिशाली है तो उसे कभी नहीं लगेगा कि आपके कोई उद्देश्य भी हो सकते हैं ।
  • LAW 21 PLAY A SUCKER TO CATCH A SUCKER-SEEM DUMBER THAN YOUR MARK
  • किसी को भी अगले व्यक्ति की तुलना में Jeeling stupider पसंद नहीं है।
  • चाल, तो, अपने पीड़ितों को स्मार्ट बनाने के लिए है-और सिर्फ स्मार्ट नहीं है, लेकिन आप की तुलना में होशियार हैं।
  • एक बार ओजे को यह समझाने के बाद, उन्हें कभी संदेह नहीं होगा कि आपके पास उल्टे उद्देश्य हो सकते हैं।
  • उसे हमेशा ये दिखाएँ कि आप कुछ नहीं जानते, उनके सामने वेबकूफ बनकर रहने से लोग आपको अपने बारे में खुद बताएँगे, और उन्हें आपकी शक्ति और उद्देश्य के बारे में पता नहीं चलेगा |
  • जब आप लोगों को महशूस करायेगें कि वो आपसे अधिक शक्तिशाली हैं तो इससे आप आसानी से उनके सुरक्षा कवच को तोड़ सकेंगे, और आपको जरूरी जानकारी हांसिल हो सकेगी |

48 कानूनों को अतीत की महान हस्तियों की रणनीति, विजय और विफलताओं के माध्यम से चित्रित किया गया है, जिन्होंने सत्ता का शिकार किया है – या सत्ता के शिकार हुए हैं। सत्ता के 3,000 वर्षों के इतिहास से तैयार, पाठकों को अपने लिए क्या हासिल करने में मदद करने के लिए यह निश्चित मार्गदर्शिका है। 

The 48 Laws Of Power (The Modern Machiavellian Robert Greene) Buy on amazon https://amzn.to/2OF5sve

https://www.youtube.com/watch?v=u1p4o96Xzak

https://yeshuafoundation.in/

60 Plus Amazing Good Morning Inspirational Quotes

Featured

60 Plus Amazing Good Morning Inspirational Quotes

60 Plus Amazing Good Morning Inspirational Quotes. In the morning the first half of the day; it is also referred to as the time from sunrise to noon. It can also be described in detail as the time period between midnight and noon. If you look at this time or the time when the morning comes in, you will see that usually, everyone’s body system is at its beginning.

60 Plus Good Morning Inspirational Quotes
60 Plus Amazing Good Morning Inspirational Quotes

This is one of the best times in the world to reach out to our loved ones.

  • Now is the time to start writing these wonderful messages to our loved ones to show them how much they mean to us. Has the story of our article entitled “What are the meaning of love and love quotes” reached you? What about 60 plus good morning texts prepared for her? Hello Please enjoy the latest.
60 Plus Good Morning Inspirational Quotes
Good morning spiritual wishes

Good morning encouraging quotes

  • Every day is a new opportunity to achieve what we have missed in the past. It is a great pleasure to wake up so early in the morning to see the light of a new morning.
  • You will not gain great things in life until you begin to realize that it takes your determination for God to bless your bustle.
  • Always remember that God is not a supporter of the lazy. Hello!
  • Hello, friend. I hope you had a wonderful dream yesterday? This is the beginning of a new day for every successful person. Do your best to be the best at everything you do. Hello!
60 Plus Good Morning Inspirational Quotes

The most successful people are the ones whose lives bleed.

  • The best people are those who believe in what they can do and who never give up on bad people.
  • They work very well on what they believe in because they work hard to become better people.
  • Always find a reason to put a smile on your face, the light on your face means you are not angry with anyone. Have a blessed morning!
  • It is a good idea to always rely on ourselves. The smartest person in the world has one thing in common with you; the ability to think and to act wisely.
  • Hi, my dear friend, I just want to greet you with this advice; be flexible, do not despair and stay focused.
  • I hope you had a good night’s rest? Get up and go out and do what is needed, every good person has a lot to say about patience. Hello!
  • It makes me happy to tell you that those who ignore me are the poorest people I have ever met in life; try and love yourself by doing the right thing at the right time.
60 Plus Good Morning Inspirational Quotes
Spiritual good morning text messages

Good morning quotes

  • I hope you took your breakfast? It is a stomach ache for adults. It empowers you to do the things you need to do at work.
  • Whenever you intend to be smart at work, always take your breakfast with you so that you have the energy to bring out the best in your work.
  • I really like breakfast because it gives me a reason to love myself and good morning. I recommend not playing with your breakfast because it is healthy.
  • Love by filling your body with lean tissue with rich foods. Breakfast has never been the last option. Hello!
60 Plus Good Morning Inspirational Quotes

Divine good morning quotes

  • Feel good about yourself and plan for whatever you are doing. Never forget one thing — breakfast, it is very important to start your day with it. Hello!
  • Regularly fill your stomach with the best-recommended food in the morning – it brings energy to your body to function properly at work.
  • I smile a lot in the morning and the reason is because I never play with my breakfast. Don’t forget your breakfast.
  • The reason I shine is that I eat breakfast early, I never delay it because it is good for the next day. Hello!
  • Who else can compete with you at work if it is not a smiley face? Remember that a hungry man is an angry man. Put a smile on your face by eating your breakfast.
  • Breakfast before going to work is good because it calms your head and makes your body humble to do the work.
60 Plus Good Morning Inspirational Quotes
60 Plus Good Morning Inspirational Quotes

Morning health quotes

  • Life is a treasure; always take care of yourself and your family to avoid getting sick. Keep your space clean at all times. Hello!
  • A happy home is a home that stays clean and free of germs. Encourage cleaning your area regularly to save extra money. Hello!
  • A disease-free home is often miserable; always find a way to prevent air pollution in the environment. Hello!
  • The best and wisest people in the world are always healthy; they are taking their medication as prescribed and doing some aerobic exercise to improve their immune system.

Good morning spiritual quotes and images

60 Plus Good Morning Inspirational Quotes
60 Plus Amazing Good Morning Inspirational Quotes
  • Always stay in a clean area free from disease and germs. The rich always avoid pollution.
  • I am healthy and fresh today because I listen to what my Doctor says. I have shiny skin because I can hear what my dermatologist is saying.
  • Hello to you, I hope you slept well at night? Please keep pouring your water and sleeping with a mosquito net. Remember, malaria kills?
  • Be careful how you share sharp objects — or at least avoid sharing sharp objects to protect yourself and your family from HIV-AIDS.
  • Always go to the doctor for a check-up as prescribed by your family doctor. Sometimes, small stories about our state of health can grow into unbearable problems.
  • Take your drugs as prescribed by your Doctor, never engage in drug abuse. Those who take care of their health are healthy.
60 Plus Good Morning Inspirational Quotes

Good morning prayer for a friend

  • This morning is a special time for prayer. I beg God at this time to bless you with eternal grace. Hello!
  • Every day comes with a special opportunity for us to receive; I ask the Lord to bring the grace of opportunity in your way.
  • The sun rises and sets in the power of the Lord, I pray that the Lord will raise you up this year and keep you from falling forever.
  • It is my pleasure to show you how much you talk to me. I pray that all your desires in life will be well resolved. May your day always be with everlasting happiness.
  • You are a great person and so may the Lord give you amazing success in life; I ask the Lord to bless you.
60 Plus Good Morning Inspirational Quotes
Spiritual good morning quotes for her
  • It is not always easy to move on with life and poverty, the Lord enriches your pocket from this time until the end of time. Hello!
  • I ask the Lord to give you all that your heart desires and to bless you with everlasting joy. May the Lord fill your home with light and continue to bless you with good children. Hello!
  • Every day is an opportunity to do great things in life, may the Lord open the way for your success in this blessed month. Hello!
  • No one understands how the coconut got its water, may the Lord keep your secret from the wrong people and give you the highest protection for the rest of your life.
  • Love yourself and always find a reason to put a smile on your face all the time. I pray that the Lord will deliver you in life – hello morning!
60 Plus Good Morning Inspirational Quotes

Nice and delicious breakfast quotes

  • The first bird does not disappoint at all, because it takes its time to arrive early and check out more food than the lazy birds, hello!
  • The light of day shines so you have a reason to put a smile on your face. You are a special star so always put a smile on your face.
  • Have a good morning because it gives you a special reason to do the right things that are important. Take care of yourself. Hello!
  • Life is a wonderful place to live and the morning is a time to praise Jehovah by waking you up in the light of day. I just want to say, Good morning!