परमेश्वर की बुद्धि और राज्य का ज्ञान (Parmeshwar Ki Buddhi Aur Rajya Ka Gyan)। राज्य का ज्ञान ले हे मेरे पुत्र, यदि तू मेरे वचनों को ग्रहण करे, और मेरी आज्ञाओं को अपने साथ छिपाए, तो तूताकि तू बुद्धि की ओर कान लगाए, और समझ की बात मन लगाकर लगाए; वरन यदि तू ज्ञान की दोहाई दे, और समझ के लिथे अपना शब्द बढ़ाए; यदि तू उसे चान्दी के समान ढूंढ़ता, और छिपा हुआ धन मान कर उसकी खोज करता है; तब तुम यहोवा के भय को समझोगे, और परमेश्वर का ज्ञान पाओगे। नीतिवचन 2:1-5 

परमेश्वर की बुद्धि और राज्य का ज्ञान (Parmeshwar Ki Buddhi Aur Rajya Ka Gyan) 

परमेश्वर की बुद्धि और राज्य का ज्ञान (Parmeshwar Ki Buddhi Aur Rajya Ka Gyan)। राज्य का ज्ञान ले हे मेरे पुत्र, यदि तू मेरे वचनों को ग्रहण करे, और मेरी आज्ञाओं को अपने साथ छिपाए, तो तूताकि तू बुद्धि की ओर कान लगाए, और समझ की बात मन लगाकर लगाए; वरन यदि तू ज्ञान की दोहाई दे, और समझ के लिथे अपना शब्द बढ़ाए; यदि तू उसे चान्दी के समान ढूंढ़ता, और छिपा हुआ धन मान कर उसकी खोज करता है; तब तुम यहोवा के भय को समझोगे, और परमेश्वर का ज्ञान पाओगे। नीतिवचन 2:1-5 

Continue reading
MY HEART'S FAVORITE BOOK"BIBLE" मेरी प्रिय पुस्तक-“बाइबिल”

MY HEART’S FAVORITE BOOK”BIBLE” मेरी प्रिय पुस्तक-“बाइबिल”

  MY HEART’S FAVORITE BOOK”BIBLE” मेरी प्रिय पुस्तक-“बाइबिल” MY HEART’S FAVORITE BOOK”BIBLE” मेरी प्रिय पुस्तक-“बाइबिल”। सृष्टि की रचना का वर्णन:-

Continue reading